सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

होमरकालीन यूनान के आर्थिक जीवन, धर्म, दर्शन एवं सांस्कृतिक जीवन

होमरकालीन यूनान के आर्थिक जीवन, धर्म, दर्शन एवं सांस्कृतिक जीवन 


 आर्थिक जीवन : होमर कालीन आर्थिक व्यवस्था का संक्षिप्त विवरण इस प्रकार है - 


1. कृषि व पशुपालन -होमर युग में समाज के आर्थिक जीवन का आधार कृषि थी। कृषि भूमि राजा के अधीन होती थी। वह स्वेच्छा से इसे केवल जोतने बोने के लिए किसी को देता था। पर उस व्यक्ति को खरीदने तथा बेचने का अधिकार नहीं होता था। कृषि के साथ पशुपालन और आखेट का भी प्रचलन था कुछ छोटे कुटीर उद्योग भी विकसित हो रहे थे। परन्तु केवल सामान्य जीवन की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए ही कुटीर धन्धों का सृजन होता था। तलवार बनाने वाले, स्वर्णकार, कुम्भकार तथा गाड़ी बनाने वाले शिल्पी कार्य किया करते थे और समाज में उन्हें अच्छी दृष्टि से देखा जाता था। प्रो० बर्स के अनुसार प्रत्येक गृह स्वामी अपनी आवश्यकता के उपकरणों का निर्माण, भोजन तथा वस्त्र- निर्माण इतयादि स्वयं कर लेता था। 


पशुओं में गाय, बैल, भेड़, बकरी, घोड़े इत्यादि पाले जाते थे। व्यापार के क्षेत्र में युनानी लोगों ने अभी कोई विशेष उन्नति नहीं की थी। "मरचेण्ट' नामक कोई भी शब्द उनके कोष में नहीं था। सामान्य व्यवसाय का माध्यम विनिमय प्रथा थी। उस युग में श्रम की महत्ता थी। शारीरिक श्रम करना हेय दृष्टि से नहीं देखा जाता था। सभी वर्ग के लोग परिश्रम करना आदर का कार्य मानते थे। अभिजात वर्ग के लोग निम्न वर्ग के लोगों को काम के लिए नियुक्त तो करते थे किन्तु वे अपना कार्य करने को हमेशा तत्पर रहते थे। राजा, सामन्त तथा उच्च वर्ग की स्वियां भी कार्य करने में हिचकती नहीं थीं। 


2. व्यापार -तत्कालीन यूनानी व्यापार-वाणिज्य से इतने दूर थे कि उनकी भाषा में व्यापार के लिये कोई पर्याय न था। व्यापार होता अवश्य था परन्तु उस पर फीनिशिअन व्यापारियों का एकाधिपत्य था। प्राकृतिक बन्दरगाहों से युक्त होने के कारण यूनान का विदेशी व्यापार पर्याप्त रूपेणा उन्नत था। विनिमय के लिये अदला-बदली की प्रणाली प्रचलित थी। मुद्रा लोहे, कांसे व सोने के पिण्डों के रूप में प्रचलित थी। 57 पाउण्ड के लगभग भार का स्वर्ण-पिण्ड 1 टैलेण्ट कहलाता था। गाय-बैल आदि का भी विनिमय के लिये प्रयोग होता था। जल-दस्युओं का प्राबल्य था। इसे असम्मानकारक नहीं समझा जाता था। राजा स्वयं भी जलदस्यु संगठनों का निर्माण करते थे। 


3. यातायात - अन्तर्देशीय यातायात के लिये घोड़ों, खच्चरो व चार पहिए, वाली गाड़ियों का प्रयोग किया जाता था। नदी-मार्ग उपयोगी न थे, परन्तु समुद्र-मार्ग से यातायात की सुविधा थी फलतः समुद्र यात्रा, औपनिवेशीकरण, जलदस्युता का विशेष प्रचार-प्रसार हुआ। 


4. दास -फिलिस्तीनी जो बेचे जाते थे उन्हें ये स्वरीदते थे। उन्हें दास बनाकर रखते थे। इससे घर में तथा उद्योगों में काम लेते थे बेगार नहीं लेते थे मजदूरी दी जाती थी। 


                             धर्म एवं दर्शन 


होमर के महाकाव्यों के अध्ययनोपरान्त तत्कालीन यूनानी धर्म के बारे में हमें परिज्ञान होता है-(1) तत्कालीन धर्म आध्यात्मवादी होने की अपेक्षा भौतिकवादी था और मनुष्य संसार को शाश्वत मानता था। साथ ही वह आशावदी था (2) मनुष्य समाधि की अपेक्षा सम्भोग में विश्वास रखता था और देवी को भी इसी से संपृक्त मानता था। (३) यद्यपि नैतिक मूल्यों के अनुपालन का कोई कठोर नियम नहीं था तथापि में माता-पिता तथा गुरूजनों के प्रति बड़े विनम्र थे। (4) आत्मा, परमात्मा, यम, नियम, प्राणायाम, लोक, परलोक, पाप और पुण्य के प्रति चिन्तनशील नहीं थे। (5) ये बहुदेववादी थे। इनका धर्म ओलिम्पियन धर्म कहलाता था। इसमें जीयस के नेतृत्व में ओलिम्पस पर्वत पर निवास करने वाले 12 देवताओं व 8 देवियों के देव मण्डल की कल्पना की गई थी। (6) इनका विश्वास था कि देवाराधना से वे प्रसन्न होते हैं और सुख-शान्ति प्रदान करते हैं। (7) पुजारी वर्ग का धर्म में कोई स्थान नहीं था। 


                          सांस्कृतिक जीवन 


1. कला -इलियड' में बेलेरफोन (ठमससमतवचीवदम) की कथा से लेखन-कला के अस्तित्व का ज्ञान होता है। कला के यथार्थ क्षेत्र में इस युग में कोई विशेष प्रगति नहीं हुई। होमर युगीन जीवन कला की दृष्टि से विपन्न एवं सक्रियता की दृष्टि से सम्पन्न था नक्काशी व उत्कीर्ण-कला का प्रचलन अवश्य था परन्तु चित्रकला आदि का कोई विशेष उल्लेख नहीं मिलता। 


2. साहित्य - साहित्य को वे विस्तारपूर्वक पौरूयहीन अधोगति के रूप में देखते थे। साहित्य केवल सामारिक अथवा युद्ध गीती और चारणों के अलिखित गीतों तक सीमित था। 


3. न्याय एवं विधि -होमर काल में भी अन्य प्राचीन सभ्यताओं के आदि-चरण की भाति कोई लिखित विधि व नियम नहीं थी। नियम व विधि जातिगत परम्परावादी थे जिनके अनुसार सामाजिक व वैयक्तिक जीवन निर्वाह करते थे न्यायिक क्षेत्र में पूर्ण निर्णयवाद के स्थान पर समन्वयवाद था जो तत्कालीन समाज के अनुकूल रहा होगा।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam 1857 के महान विद्रोह (1857 के भारतीय विद्रोह, 1857 के महान विद्रोह, महान विद्रोह, भारतीय सेप्पी विद्रोह) को ब्रिटिश शासन के खिलाफ भारत का स्वतंत्रता संग्राम माना जाता है। 1857 आंदोलन एक राष्ट्रीय उभर रहा था, जो भारतीयों के दिल में एक मजबूत आग्रह से प्रेरित था, जिससे देश मुक्त हो गया। यह ब्रिटिश शासन की स्थापना के बाद भारत के इतिहास में सबसे उल्लेखनीय एकल घटना थी। यह भारत में सदी के पुराने ब्रिटिश शासन का नतीजा था। भारतीयों के पिछले विद्रोहों की तुलना में, 1857 का महान विद्रोह एक बड़ा आयाम था और यह समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों की भागीदारी के साथ लगभग अखिल भारतीय चरित्र ग्रहण करता था। यह विद्रोह कंपनी के सिपाही द्वारा शुरू किया गया था। इसलिए इसे आमतौर पर 'सेप्पी विद्रोह' कहा जाता है। लेकिन यह सिर्फ सिपाही का विद्रोह नहीं था। इतिहासकारों ने महसूस किया है कि यह एक महान विद्रोह था और इसे सिर्फ एक सिपाही विद्रोह कहने के लिए अनुचित होगा। हमारे इतिहासकार अब इसे विभिन्न ना