सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

रोमन साम्राज्य कला पर प्रकाश

 रोमन साम्राज्य कला पर प्रकाश 


 कला - आगस्टस युग की कला के क्षेत्र में स्वर्णयुग के नाम से पुकारा जाता इस युग में वास्तुकला, तक्षण कला और चित्रकला का विकास हुआ। विभिन्न कलाओं के विकास की चर्चा नीचे की जा रही है। 

वास्तुकला - रोमन साम्राज्य की सुव्यवस्था के फलस्वरूप रोम में वास्तुकला की विशेष उन्नति हुई। आगस्टस ने रोम को विश्व के सुन्दरतम नगरों में अग्रणी बनाने का प्रयास किया था। उसने रोम में अनेक भवनों का निर्माण करवाया। बत्कालीन भवन निर्माण में संगमरमर का प्रयोग अधिक मात्रा में होता था। रोम के अतिरिक्त आगस्टस ने ट्यूरिन तथा आगस्टोहनम नामक नगरों को भी सुन्दर बनाने का प्रयास किया। इस युग मे राजमार्ग बनाने की एक नवीन प्रणाली को अपनाया गया था। 

इस काल में रोम के नागरिकों की साम्राज्य-भक्ति, स्वाभिमान तथा दृष्टिकोण एवं आगस्टस-कालीन सुख एवं ऐश्वर्य के रूप का प्रतिबिम्ब मिलता है। इस काल के रोम के कलाकार स्वदेशी थे न कि विदेशी। उदाहरणार्थ यहाँ पर बिदुवियस विशेष रूप से उल्लेखनीय है। उसने 'ऑन दि आर्किटेक्चर' नामक ग्रन्थ में वास्तुकला के सिद्धान्तों का प्रतिपादन किया। इसमें भवन के प्रकार, निर्माण के उपकरण तथा गृह-निर्माण-सम्बन्धी सिद्धान्तों का विवेचन सुन्दर ढंग से मिलता है। इस ग्रंथ की उत्कृष्टता से पुनर्जागृति काल के सुप्रसिद्ध कलाकार लियोनादों माईकलैंजिल प्रभावित थे। आगस्टस नवनिर्माण के द्वारा रोम को कलात्मक स्वरूप प्रदान करना चाहता था। उसने वास्तुकला के विकास में पर्याप्त अभिरुचि ली थी। उसने भवन निर्माण में संगमरमर का प्रचुर प्रयोग कराया। आगस्टस ने इसी कारण कहा था कि मैंने रोम की ईंटां का नगर पाया, पर उसे संगमरमर का नगर बना दिया।" उसने राजमार्गों के विन्यास का एक नवीन पद्धति को जन्म दिया जिसका अनुकरण अफ्रीका में भी किया गया था। 


आगस्टस के काल में मन्दिरों का निर्माण भी प्रचुर संख्या में किया गया। इस समय प्राचीन मन्दिर का जीर्णोद्धार भी हुआ। यही कारण है कि लिवी ने आगस्टस को 'रोम के देवालयों का निर्माता एवं पुनरुद्धारक कहा है। आगस्टसकालीन मन्दिरों में कादकाड, सैटर्न, कैस्टर डिजाइन जूलियस जेनस, जूपिटर कैपिटोलिनस तथा मार्स अल्टोर के मन्दिर उल्लेखनीय है। 28 ई. पू. में उसने एपोलो के मन्दिर का निर्माण किया। यह मन्दिर संगमरमर का बना हुआ था। इसमें एक पुस्तकालय भी था, जिसमें धार्मिक ग्रंथ रखे गये थे। आगस्टस-कालीन मन्दिरों में मार्स के मन्दिर की भी गणना की जाती है। इसका निर्माण एक अंचे चबूतरे पर किया गया था। इस मन्दिर में खम्भों का निर्माण कोरिन्थ शैली में किया गया था। आगस्टस ने कतिपय प्रेक्षागृहों का निर्माण कराया। यहां पर बेलवस का नाट्यगृह विशेष रूप से उल्लेखनीय है। इसका निर्माण 13 ई. पू. में हुआ था। इसमें 7.700 दर्शक बैठ सकते थे। उसने पाम्पी के द्वारा बनवाये हुए नाट्यगृह का जीर्णोद्धार किया। इसमें 17.500 व्यक्ति बैठ सकते थे। इसी समय में मासेलस में एक प्रेक्षागृह का निर्माण कराया गया। इसमें 20,500 व्यक्तियों के बैठने की व्यवस्था की गई थी। इसमें सम्मानित दर्शकों के बैठने के लिए विशेष प्रबन्ध किया गया था। इसके समय में स्थान-स्थान पर जनता-स्नानगृह, सार्वजनिक गृह तथा व्यायामगृह बनवाए गए। आगस्टस का अपना राजप्रासाद बहुत ही सुन्दर था। ओविड ने इसकी बहुत ही प्रशंसा की है। उसका कहना है कि अपने विलक्षण सौन्दर्य के कारण यह भवन देवता के निवास के योग्य सुन्दर था। 


मूर्तिकला - आगस्टस-काल में मूर्तिकला का नवीन विकास हुआ। इस काल की मूर्तियों का वर्गीकरण दो भागों में किया जा सकता है - (1) पहले भाग में वे मूर्तियाँ आती हैं, जो कि विशेष का प्रतिनिधित्व मात्र करती हैं अथवा पीटेचर। (2) दूसरे वर्ग की मूर्तियाँ - घटना विशेष के स्मारक के रूप में बनवाई गई यथा मानुमेन्टल रिलीफ। प्रथम वर्ग की कई मूर्तियाँ उपलब्ध हुई है। इसमें सबसे प्रसिद्ध प्राइमा पोट्टा स्टेच ऑफ आगस्टस नामक है। यह बैटिकन के संग्रहालय में सुरक्षित है। इसमें आगस्टस अपने सैनिक वेष में प्रदर्शित किया गया है। द्वितीय वर्ग की मूर्तियों में 'आल्टर ऑफ दी आगस्टस पीस' (एरा पेसीज) सबसे प्रसिद्ध है। इसका निर्माण 9 ई.पू. में हुआ था। इसमें आगस्टस अपनी विजय-यात्ा के उपरान्त गाल तथा जर्मनी से लौटता हुआ अंकित किया गया है इसमें वेदी के चतुर्दिक एक चौकोर संगमरमर की दीवाल का निर्माण किया गया था आगस्टस की मूर्ति के अतिरिक्त उसमें एक तरुणी की मूर्ति भी अंकित की गई है, जो कि अपने दोनों हाथों में से शिशुओं को लिये हुए हैं। इसमें बलिदान के लिए जाते हुये एक जलूस का दृश्य भी अंकित किया गया है। इस जलूस में आगस्टस, उसके पुरोहित, राजकुल के सदस्य तथा सभासद आदि सम्मिलित हैं। यूनानी प्रभाव के होते हुये भी इसमें मौलिकता पर्याप्त मात्रा में दृष्टिगोचर होती है। 


चित्रकला - आगस्टस-काल में चित्रकला का कोई विशेष विकास नहीं हुआ। इस समय के कुछ ही चित्रों के उदाहरण उपलब्ध हुये हैं, जिनके ऊपर यूनानी प्रभाव परिलक्षित होता है। भित्तिचित्र के उदाहरण पाम्पी तथा प्राइमा पोर्टी से उपलब्ध हुए हैं। अन्य कलाओं की भाति चित्रकला का भी विकास राजकीय संरक्षण में ही सम्पन्न हुआ था।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam 1857 के महान विद्रोह (1857 के भारतीय विद्रोह, 1857 के महान विद्रोह, महान विद्रोह, भारतीय सेप्पी विद्रोह) को ब्रिटिश शासन के खिलाफ भारत का स्वतंत्रता संग्राम माना जाता है। 1857 आंदोलन एक राष्ट्रीय उभर रहा था, जो भारतीयों के दिल में एक मजबूत आग्रह से प्रेरित था, जिससे देश मुक्त हो गया। यह ब्रिटिश शासन की स्थापना के बाद भारत के इतिहास में सबसे उल्लेखनीय एकल घटना थी। यह भारत में सदी के पुराने ब्रिटिश शासन का नतीजा था। भारतीयों के पिछले विद्रोहों की तुलना में, 1857 का महान विद्रोह एक बड़ा आयाम था और यह समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों की भागीदारी के साथ लगभग अखिल भारतीय चरित्र ग्रहण करता था। यह विद्रोह कंपनी के सिपाही द्वारा शुरू किया गया था। इसलिए इसे आमतौर पर 'सेप्पी विद्रोह' कहा जाता है। लेकिन यह सिर्फ सिपाही का विद्रोह नहीं था। इतिहासकारों ने महसूस किया है कि यह एक महान विद्रोह था और इसे सिर्फ एक सिपाही विद्रोह कहने के लिए अनुचित होगा। हमारे इतिहासकार अब इसे विभिन्न ना