सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

वैदिक साहित्यों पर प्रकाश

वैदिक साहित्यों पर प्रकाश  

वैदिक साहित्य से हमारा तात्पर्य चारों वेद, विभिन्न ब्राह्मण ग्रन्थ, आरण्यक एवं उपनिषदों से है। उपवेद अत्यन्त परवर्ती होने के कारण वैदिक साहित्य के अंग नहीं माने जाते। इन्हें वैदिकोत्तर साहित्य के अन्तर्गत रखा जाता है। वैदिक साहित्य श्रुति नाम से विख्यात है। श्रुति का अर्थ है सुनकर लिखा हुआ साहित्य। यह वह साहित्य है जो मनुष्यों द्वारा लिखा नहीं गया अपितु जिन्हें ईश्वर ने ऋषियों को आत्म ज्ञान देकर उनकी सृष्टि की है तथा ऋषियों द्वारा यह कई पीढ़ियों तक अन्य ऋषियों को मिलता रहा। इसी कारण वैदिक साहित्य को अपौरुषेय और नित्य कहा जाता है, पहले के तीन वेदों ऋग्वेद, सामवेद एवं यजुर्वेद को वेदत्रयी कहा जाता है। अथर्ववेद इसमें सम्मिलित नहीं है क्योंकि इसमें यज्ञ से भिन्न लौकिक विषयों का वर्णन है। 

1. ऋग्वेद - यह आर्यों का सबसे प्राचीन ग्रन्थ है। ऋक् का अर्थ होता है छन्दोबद्ध रचना या श्लोक। ऋग्वेद के सूक्त विविध देवताओं की स्तुति करने वाले भाव भरे गीत है, इनमें भक्ति-भाव की प्रधानता है। यद्यपि ऋग्वेद में अन्य प्रकार के सूक्त भी है, परन्तु देवताओं की स्तुति करने वाले स्रोतों की प्रधानता है। ऋग्वेद की रचना सम्भवतः सप्तसैंधव प्रदेश में हुई है। इसमें कुल 10 मण्डल, 1028 सूक्त या (1017 सूक्त) एवं 10580 मंत्र हैं। मंत्रों को बचा भी कहा जाता है। सूक्त का अर्थ है 'अचछी उत्ति। प्रत्येक सूक्त में तीन से सौ तक मंत्र या ऋचों हो सकती हैं। वेदों का संकलन महर्षि कृष्ण द्वैपायन ने किया। इसीलिए इनका एक नाम 'वेदव्यास' भी है।

ऋग्वेद के ज्यादातर मन्त्र देव आहवान से सम्बन्धित हैं। ऋग्वेद के मन्त्रों का उच्चारण करके जो पुरोहित यज्ञ सम्पन्न कराता था उसे 'होता' कहा जाता था।

ऋग्वेद के तीन पाठ मिलते हैं - 

1. साकल - 1017 सूक्त हैं

2. बालखिल्य इसे आठवें मण्डल का परिशिष्ट माना जाता है। इसमें कुल 11 सूक्त हैं।

3. वाष्कल - इसमें कुल 56 सूक्त हैं परन्तु यह उपलब्ध नहीं हैं। 

ऋग्वेद के 2 से 7 तक के मण्डल सबसे पुराने माने जाते हैं। पहला, आठवाँ, नवाँ और दसवाँ मण्डल परवर्ती काल का है। दसवाँ मण्डल, जिसमें पुरुष सूक्त भी है, सबसे बाद का है। प्रत्येक मण्डल और उससे सम्बन्धित ऋषि निम्नलिखित हैं - 


मण्डल                सम्बन्धित ऋषि 


प्रथम                   मधुच्छन्दा, दीर्घतमा और अंगिरा।

द्वितीय                 गृत्समद

तृतीय                  विश्वामित्र (गायत्री मंत्र का उल्लेख है)

चौथा                   वामदेव (कृषि सम्बन्धित प्रक्रिया) 

पाँचौं                   अत्रि

छठवा                  भारद्वाज

सातवा                 वशिष्ठ

आठवाँ                 कण्व ऋषि

नौवा                   पवमान अंगिरा (सोम का वर्णन)

दसवां                  क्षुद्रसक्तीय, महासूक्तीय, 


ऋग्वेद के रचना काल के सम्बन्ध में विद्वानों में मतभेद है। बाल गंगाधर तिलक ज्योतिष गणना के आधार पर ईसा पूर्व 6000 से इस सभ्यता का प्रारम्भ मानते हैं। याकोबी यह समय ई. पू. 4500 से ई.पू. 2500 निश्चित किया है। मैक्स मूलर ने ऋक संहिताओं का काल ई.पू. 1200 से ई.पू. 1000 निश्चित किया है। आधुनिकतम विवेचक डा. विन्टरनिट्स की कथन है कि वैदिक काल का प्रारम्भ ईसा पूर्व 3000 तक माना जा सकता है, उनकी मान्यता है कि भारत का ऋग्वेद और ईरान की अवेस्ता लगभग एक ही काल की रचना है। जिस समय वेदों का सृजन हुआ उस समय कोई लेखन प्रणाली प्रचलित नहीं थी, अपने गुरुओं से मन्त्रों का श्रवण कर कंठस्थ किया हुआ यह साहित्य लगभग पिछले तीन हजार वर्षों से यथावत विद्यमान है। इसे आलेखित बहुत बाद में किया गया है।

ब्राह्मण ग्रंथ - ये वेदों के गद्य भाग हैं जिनके द्वारा बेदी को समझने में सहायता मिलती है। वाग्वेद के दो ब्राह्मण है- ऐतरेय तथा कौधीतकी। ऐतरेय ब्राह्मण के संकलनकर्ता महिदास थे। उनकी माँ का नाम 'इतरा' था। इतरा का पुत्र होने के कारण वे महिदास ऐतरेय कहलाए और उनके द्वारा रचित ब्राह्मण ऐतरेय ब्राह्मण के नाम से प्रसिद्ध हुआ। इसमें राज्याभिषेक के विभिन्न यज्ञ विधानों का विवेचन मिलता है। इसमें सोमयज्ञ का विस्तृत वर्णन तथा शुनः शेप आख्यान है। ऐतरेय ब्राह्मण में अथाह, अनन्त जलधि और पृथ्वी को घेरने वाले समुद्र का उल्लेख है।

कौषीतकी ब्राह्मण के संकलनकती कुृषितक ऋषि थे। कौषीतकी अथवा शंखायन ब्राह्मण में विभिन्न यज्ञों का वर्णन मिलता है।

आरण्यक - आरण्यक शब्द का अर्थ बन में लिखा जाने वाला और इन्हें बन-पुस्तक कहा जाता है। यह जो मुख्यतः जंगलों में रहने वाले सन्यासियों और छात्रीं के लिए लिखी गई थी। ये ब्राह्मणों के उपसंहारात्मक अंश अथवा उनके परिशिष्ट हैं। इनमें दार्शनिक सिद्धान्तों और रहस्यवाद का वर्णन है। आरण्यक कर्मयोग (जो ब्राह्मणों का मुख्य प्रतिपाद्य) तथा ज्ञानमार्ग (जिसका उपनिषदों में प्रतिपादन किया गया है) के बीच सेतु का कार्य करते हैं।

ऋग्वेद के दो आरण्यक हैं - ऐतरेय व काँधीतकी।

उपनिषद् - उपनिषद् शब्द 'उप' और निष' धातु से बना है। उप का अर्थ है समीप और निष का अर्थ है बैठना। अर्थात् इसमें छात्र, गुरु के पास बैठकर ज्ञान सीखता था। ये वेदों के अन्तिम भाग हैं। अतः इन्हें वेदान्त भी कहा जाता है। कुल उपनिषदों की संख्या 108 है परन्तु दस उपनिषद ही विशेष महत्व के हैं और इन्हीं पर आदिगुरु शंकराचार्य ने भाष्य लिखा है। ये दस उपनिषद-ईश, केन, कठ प्रश्न, मुण्डक, माण्डूक्य, छांदोग्य, वृहदारण्यक, ऐतरेय एवं तैत्तिरीय हैं। इनमें मुख्यतया आत्मा और ब्रह्म का वर्णन है।

ऋग्वेद वेद के दो उपनिषद् ऐतरेय और कौषीतकी हैं।

2. सामवेद - 'साम का अर्थ है गायन। इसमें कुल मंत्रों की मौलिक संख्या 1549 है। इन मंत्रों में इसके मात्र 75 मंत्र ही हैं, शेष ऋ्वेद से लिए गए हैं। अतः इसे ऋग्वेद से अभिन्न माना जाता है।

सामवेद के मंत्रों का गायन करने वाला उद्गाता कहलाता है सप्तस्वरों का उल्लेख सामवेद में मिलता है 'सा......रे ......गा....... मा' सामवेद की मुख्यतः तीन शाखाएं हैं - कौथुम, राणायनीय एवं जैमिनीय।

ब्राहमण ग्रन्थ - सामदेव के मूलतः दो ब्राह्मण हैं -

ब्राह्मण बहुत बड़ा है। इसीलिए इसे महाब्राह्मण भी कहते हैं, यह 25 अध्यायों में विभक्त हैं, इसीलिए इसे पंचविश भी कहा जाता है। पड़विश ब्राह्मण, ताण्ड्य ब्राह्मण के परिशिष्ट के रूप में है, इसे 'अदभुत' ब्राह्मण भी कहते हैं।

जैमिनीय ब्राह्मण में याज्ञिक कर्मकाण्ड का वर्णन है।

आरण्यक - इसके दो आरण्यक हैं-जैमिनीय आरण्यक व छांदोग्यारण्यक।

उपनिषद - सामवेद के दो उपनिषद् हैं - छांदोग्य उपनिषद् एवं जैमिनीय उपनिषद। छांदोग्य उपनिषद सबसे प्राचीन उपनिषद् माना जाता है। देवकी पुत्र कुष्ण का सर्वप्रथम उल्लेख इसी में है। इसमें प्रथम तीन आश्रमों तथा ब्रह्म एवं आत्मा की अभिन्नता के विषय में उहालक आरुणि एवं उनके पुत्र श्वेतकेतु के बीच विख्यात संवाद का वर्णन है।

3. यजुर्वेद - यह एक कर्मकाण्डीय वेद है। इसमें विभिन्न यशों से सम्बन्धित अनुष्ठान विधियों का उल्लेख है। यह वेद गद्य एवं पद्य दोनों में रचित है। यह 40 अध्यायों में विभाजित है। इसमें कुल 1990 मंत्र संकलित हैं। यजुर्वेद के कर्मकाण्डों को सम्पन्न कराने बाले पुरोहित को 'अध्वर्यु' कहा जाता है। यजुर्वेद की दो शाखाएँ हैं शुक्ल यजुर्वेद और कृष्ण यजुर्वेद।

शुक्ल यजुर्वेद को वाजसनेयी संहिता भी कहते हैं। इसकी दो शाखाएँ काण्य और माध्यदिन हैं। अधिकांश विद्वान शुक्ल यजुर्वेद को ही वास्तविक वेद मानते हैं। कृष्ण यजुर्वेद की चार शाखाएँ हैं - काठक संहिता कपिष्ठल संहिता, मैत्रेयी संहिता और ततिरीय संहिता कृष्ण यजुर्वेद में मंत्रों की व्याख्या गद्य रूप में मिलती है। ब्राह्मण ग्रन्थ-शुक्ल यजुर्वेद का केवल एक ब्राह्मण ग्रंथ. शतपथ ब्राह्मण है। यह सबसे प्राचीन तथा सबसे बड़ा ब्राह्मण माना जाता है। इसके लेखक महर्षि याज्ञवल्क्य हैं। तर्जन्म का सिद्धान्त पुरुरवा-उर्वशी आख्यान, रामकथा तथा आश्विन कुमार द्वारा च्यवन ऋषि को यौवन दान का वर्णन है।

कृष्ण यजुर्वेद के ब्राह्मण का नाम तैत्तिरीय ब्राह्मण है।

आरण्यक - यजुर्वेद के आरण्यक बृहदारण्यक, तैत्तिरीय और शतपथ हैं। 

उपनिषद् - यजुर्वेद के उपनिषद् बृहदारण्यक उपनिषद, कठोपनिषद्, ईशोपनिषद्, श्वेताश्वतर उपनिषद, मैत्रायण उपनिषद् एवं महानारायण उपनिषद् हैं।

वृहदारण्यक उपनिषद् में याज्ञवल्क्य-गार्गी का प्रसिद्ध संवाद तैत्तिरीय उपनिषद् में अधिक अन्न उपजाओ' एवं कठोपनिषद में 'यम और नचिकेता के बीच प्रसिद्ध संवाद का नर्णन है। इस उपनिषद में आत्मा को पुरुष कहा गया है।

4. अथर्ववेद -अथर्वा ऋषि के नाम पर इस वेद का नाम अथर्वेद पड़ा। अंगिरस ऋषि के नाम पर इसका एक नाम 'अथर्वागिरस' भी पड़ गया। अथर्व शब्द 'अथर एवं वाणि शब्दों के संयोजन से बना है। इसका तात्पर्य हैं जादू टोना कुछ विद्वान अथर्वन का वास्तविक अभिप्राय अग्नि उद्बोधन करने वाला पुरोहित मानते हैं। किसी यज्ञ में कोई बाधा आने पर उसका निराकरण अथर्ववेद ही करता था। अतः इसे बह्मवेद या श्रेष्ठवेद कहा गया। अथर्ववेद के मंत्रों का उच्चारण करने वाले पुरोहित को तहमा कहा जाता था। चारों वेदों में यही वेद सर्वाधिक लोकप्रिय था। अथर्ववेद में भी पद्य के साथ-साथ गद्य के अंश भी प्राप्त होते हैं। अथर्ववेद में 20 अध्याय, 731 सूक्त और 6000 मंत्र हैं। इस वेद में वशीकरण, जादू-टोना, मरण, भूत-प्रेतों आदि के मंत्र तथा नाना प्रकार की औषधियों का वर्णन है। इसमें जन साधारण के लोकप्रिय विश्वासों और अन्धविश्वासों का वर्णन है। इसकी अधिकांश ऋचाएँ दुरात्माओं या प्रेतात्माओं से मुक्ति का मार्ग बताती हैं।

अथर्ववेद में मगध और अंग का उल्लेख सुदूरवर्ती प्रदेशों के रूप में किया गया है इसी में सभा और समिति को प्रजापत्य की दो पुत्रियां कहा गया है। इसमें परीक्षित का उल्लेख मिलता है।

अथर्ववेद की दो शाखाएं शौनक और पिप्पलाद हैं।

ब्राह्मण - इसका एकमात्र ब्राह्मण, गोपथ ब्राह्मण हैं, जिसे गोपथ ऋषि ने संकलित किया है।

आरण्यक - अथर्ववेद का कोई आरण्यक नहीं है।

उपनिषद् - मुण्डकोपनिषद्, माण्डूक्योपनिषद्, प्रश्नोपनिषद्। 

मुण्डकोपनिषद् में सत्यमेव जयते एवं यज्ञों को टूटी-फूटी नौकाओं के समान कहा गया है, जिसके द्वारा जीवन रूपी भवसागर को पार नहीं किया जा सकता, आदि का उल्लेख मिलता है। माण्डूक्योपनिषद सभी उपनिषदों में छोटा है।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

तुलनात्मक राजनीति का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth

तुलनात्मक राजनीति  का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth परिचय  राजनीति एक सर्वव्यापी गतिविधि है जो हमारे चारो तरफ हमको देखने को मिल जाती है। प्रारंभ से ही एक  राजनीति व्यवस्था की तुलना दूसरे राजनीति व्यवस्था से की जाती रही है।किसी एक राजनीतिक व्यवस्था की अन्य राजनीतिक व्यवस्था से तुलना करने  के तरीके को सामान्य तुलनात्मक पद्धति कहते है। वास्तव में तुलनात्मक राजनीति का अर्थ और लक्ष्य विभिन्न देशों के मध्य एक राजनीति समस्याओं विषमताओं समानताओं की जानकारी का अध्ययन करना है। इसे हम तुलनात्मक राजनीति कहते हैं। यह समस्या या वह विभिन्नताओं के मिश्रण का परिपेक्ष से विकास करने का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति हमारे समानताओं और विभिन्नताओं का अध्ययन करता है  और उसके द्वारा राज्य के विकास का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति सिद्धांत यह स्पष्ट करता है कि विश्व की सरकार और उनकी क्या परिस्थितियां हैं किस प्रकार से उनका प्रचलन हो रहा है किस प्रकार से सरकारें चल रही हैं। इसके अंतर्गत जो अध्ययन करते हैं पहला राज्य के कार्य दूसरा संगठन, नीति, दबाव समूह का अध्ययन होता है।  अर्थ और

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना  रूसो का सामान्य इच्छा सिद्धान्त अवधारणा रूसो की 'सामान्य इच्छा सम्बन्धी सिद्धान्त अथवा अवधारणा आधुनिक राजनीतिक चिन्तन में एक महत्त्वपूर्ण देन है। कुछ विद्वानों के अनुसार वह लोकतन्त्र की आधारशिला है। रूसो के राजनीतिक विचारों में सामान्य इच्छा' का विचार सबसे मौलिक है यद्यपि उसके सम्बन्ध में वह स्वयम् स्पष्ट नहीं है। रूसों के अनुसार प्रारम्भिक समझौते के लिए समाज के समस्त सदस्यों का एक मत होना आवश्यक है, किन्तु बाद में सामान्य इच्छा के अनुसार ही शासन का कार्य होता है। रूसो की सामान्य इच्छा के सन्दर्भ में जोन्स महोदय का कथन उल्लेखनीय है-सामान्य इच्छा का विचार रूसों के सिद्धान्त का न केवल सबसे अधिक केन्द्रिय विचार है, अपितु यह उसका सबसे अधिक और मौलिक व रोचक विचार है। ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह राजनीतिक सिद्धान्त के क्षेत्र में सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण देन है। इसकी उपयोगिता का आधार इसी आधार पर लगाया जा सकता है कांट, हीगल, ग्रीन और बोसांके आदि अंग्रेजी दार्शनिकों की विचारधारा भी इसी पर आधारित थी। रूसो ने अपने सामन्य इच्छा के सन्दर्भ

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam 1857 के महान विद्रोह (1857 के भारतीय विद्रोह, 1857 के महान विद्रोह, महान विद्रोह, भारतीय सेप्पी विद्रोह) को ब्रिटिश शासन के खिलाफ भारत का स्वतंत्रता संग्राम माना जाता है। 1857 आंदोलन एक राष्ट्रीय उभर रहा था, जो भारतीयों के दिल में एक मजबूत आग्रह से प्रेरित था, जिससे देश मुक्त हो गया। यह ब्रिटिश शासन की स्थापना के बाद भारत के इतिहास में सबसे उल्लेखनीय एकल घटना थी। यह भारत में सदी के पुराने ब्रिटिश शासन का नतीजा था। भारतीयों के पिछले विद्रोहों की तुलना में, 1857 का महान विद्रोह एक बड़ा आयाम था और यह समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों की भागीदारी के साथ लगभग अखिल भारतीय चरित्र ग्रहण करता था। यह विद्रोह कंपनी के सिपाही द्वारा शुरू किया गया था। इसलिए इसे आमतौर पर 'सेप्पी विद्रोह' कहा जाता है। लेकिन यह सिर्फ सिपाही का विद्रोह नहीं था। इतिहासकारों ने महसूस किया है कि यह एक महान विद्रोह था और इसे सिर्फ एक सिपाही विद्रोह कहने के लिए अनुचित होगा। हमारे इतिहासकार अब इसे विभिन्न ना