सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

तलाक का अर्थ एवं परिभाषा, कारण

तलाक का अर्थ एवं परिभाषा, कारण


तलाक का अर्थ एवं परिभाषा कानूनी रूप से वैवाहिक सम्बन्धों का टूट जाना ही तलाक कहलाता है। यह एक ऐसा विधान है जो समाज द्वारा स्वीकृत है तथा वैवाहिक असफलता से सम्बन्धित है। 'तलाक' को पारिवारिक विघटन का सूचक माना जाता है क्योंकि यह पारिवारिक संगठन में दरार का द्योतक होता है। वैवाहिक सम्बन्धों से सम्बन्धित होने के कारण इसे व्यक्तिगत घटना भी माना जाता है परन्तु यह मान्यता प्रत्येक दृष्टिकोण से उचित नहीं लगती है। इसका कारण यह है कि अत्यधिक तलाक की दर सामाजिक समस्या का रूप धारण कर लेती है। इसीलिए तलाक को पारिवारिक विघटन। का ही एक रूप स्वीकार किया जाता है। 


सामान्य अर्थों में यदि देखा जाय तो अंग्रेजी शब्द 'Divorce' का ही हिन्दी रूपान्तर "तलाक है। 'Divorce' शब्द लैटिन भाषा के 'Divortiom' (Dis + Vertere) शब्द से बना है जिसका तात्पर्य है 'अलग हो जाना'। यह विवाह-साथियों का एक दूसरे से अलग हो जाना है। इनसाइक्लोपीडिया बिटानिका में इसका अर्थ 'विवाह सम्बन्धों का टूट जाना' बताया गया है। यह उस जीवन का अन्त है जो विवाहित दम्पति अब तक व्यतीत कर रहे थे। शब्द के विशिष्ट अर्थ की दृष्टि से तलाक वैवाहिक (दाम्पत्य) बन्धन का पूरी तरह से सम्बन्ध-भंग है जिसमें तलाकशुदा व्यक्ति पुनः अपनी पहली वाली स्थिति में आ जाता है और विवाह के लिए स्वतन्त्र होता है। कानूनी भाषा में यह विवाह की कानूनी समाप्ति है तथा एक सरल घटना लगती है परन्तु व्यावहारिक जीवन में इसके परिणाम अत्यन्त विशाल होते हैं। सन्कचूरी एवं वाईटहड के शब्दों में, 'तलाक उन आशाओं की समाप्ति है जो दम्पति एक दूसरे के प्रति रखते थे, यह प्रमाण पत्र है कि उनका सम्बन्ध समाप्त हो गया है। 


हिन्दू विवाह अधिनियम, 1955 (1976 तक संशोधित) के अनुसार, "काई भी विवाह, जो चाहे इस अधिनियम के लागू होने से पहले या बाद में हुआ हो, पति या पत्नी द्वारा किए गए आवेदन के आधार पर तलाक के एक आदेश द्वारा तोड़ा जा सकता है।" तथा इसके लिए आधार अधिनियम में ही दिए गए हैं। 


तलाक की अवधारणा को और अधिक स्पष्ट करने के लिए इसे इससे मिलते-जुलते तीन शब्दों से पृथक् किया जाना जरूरी है। तीन ऐसे शब्द है जिनका प्रयोग कई बार तलाक के साथ ही किया जाता है। ये शब्द है-वियोजन ( पृथक्करण), परित्याग तथा रह करना (विलोपन) वियोजन शब्द का अर्थ तलाक की दिशा पहला चरण है जिसका लक्ष्य तत्कालीन संघर्ष को तुरन्त समाप्त करना है। अथवा यह बिना तलाक के अलग रहने सम्बन्धी कानूनी निर्णय है। हिन्दू विवाह अधिनियम, 1955 की धारा 13 (1) व (2) में परगमन, क्रूरता, परित्याग, धर्म परिर्वतन, लाइलाज बीमारी तथा संसार को त्याग देने के आधार पर न्यायिक वियोजन का प्रावधान रखा गया है। परित्याग का अर्थ एक पक्ष को बिना तलाक दिए त्याग कर देना है। यह एक प्रकार से वैवाहिक दायित्वों से भाग जाना है। सामान्यतः अध्ययनों से पता चलता है कि निम्न वर्गों के लोगों में पनि अपनी पत्नी का परित्याग कर हैं। परन्तु यह केवल मात्र पति द्वारा पत्नी को त्याग देना नहीं है, अपितु इसमें पनी पनि को त्याग देना भी सम्मिलित किया जाता है। इलियट एवं मैरिल के शब परित्याग का अर्थ पति या पत्नी द्वारा गैर जिम्मेदार तरीके से घर को छोड़ देना है जिसके बाद शेष परिवार अपना अलग प्रबन्ध करता है। इसमें भी त्याग बिना तलाक के कर दिया जाता है। 


इस प्रकार, तलाक वियोजन, परित्याग तथा बिलोपन से अलग शब्द है तथा इसका अर्थ वैध विवाह सम्बन्धों को तोड़कर एक दूसरे को एकल स्थिति में लाना है ताकि वे अगर चाहें तो पुनः विवाह कर सकें। 


तलाक के कारण-तलाक के प्रमुख कारण अधोलिखित हैं - 


(1) स्त्रियों को समानता के अधिकार का ज्ञान - वर्तमान समय में स्वियों को पुरुषों के समान अधिकार प्राप्त हैं, किन्तु उन्हें अपने अधिकारों का ज्ञान नहीं है। अतने अपने अधिकारों के प्रति सजग रहकर अपने दाम्पत्य जीवन की कटताओं से मुक्ति पाने के लिए तलाक का सहारा लेना सीख चुकी हैं। 


(2) शिक्षा का प्रसार - ज्ञान के अभाव में किसी वस्तु या लाभ को प्रा नहीं किया जा सकता है। वर्तमान समय में देश में शिक्षा का प्रचार एवें प्रसार बड़ी ही सीव गति से हो रहा है। जिसके कारण स्त्री एवं पुरुषों के मन में और मस्तिष्क में परिपक्वटा आयी है। वे अच्छे और बुरे का ज्ञान कर सकती है तथा अपनी कटता को ममाप्त करने के लिए तलाक को अपनाना इन्होंने सीख लिया है क्योंकि शिक्षा से उन्हें अपने अधिकारी को भी शान हो गया है। 


(3) वैवाहिक सम्बन्धों की दृढ़ता का अन्त - हिन्दू समाज में विवाह को एक धार्मिक कृत्य माना जाता है और इसका अपना एक विशेष महत्चव है। जिसके कारम वि को तोड़ना एक गलत एवं दुष्कर कार्य माना जाता है। लेकिन आज किमी के मन में विवाह के प्रति दृढ़ता नहीं रह गयी है। पति-पत्नी में जरा सा विवाद होने पर लोग तलाक का रास्टा अपना लेते हैं। (4) पाश्चात्य सभ्यता का प्रभाव-तलाक के कारणों में पाश्चात्य सभ्यता विशेष महत्व रखती है। जब से हमारे देश में ब्रिटिश राज्य की स्थापना हुई तब से यहां पर उनकी नई सभ्यता का उदय हुआ जो धीरे-धीरे समस्त देश के जन-जीवन पर छाने लगी। इस पश्वात्य सभ्यता ने हमारे अन्दर से तलाक को गलत मानने वाली विचारधारा को निकाल फेंका। 


(5) कानूनी प्रोत्साहन - भारत सरकार द्वारा तलाक के लिए अनेकों अधिनियम पारित कर दिए गए हैं जिनके माध्यम से पति-पत्नी आपस में तलाक ते सकते हैं। इस प्रकार कानूनी सहारा पाकर तलाक की सम्भावनाओं में वृद्धि हुई है। 


(6) महिलाओं के आन्दोलन - पुरुषों द्वारा महिलाओं पर अनैतिक अत्याचार क्रिया जाता है। इस आन्दोलन के माध्यम से महिलाओं को पुरुषों के विरुद्ध आवाज उठाने का पूर्ण अवसर प्राप्त हुआ। इसके साथ ही साथ उन्होंने समाज के सामने अपने अधिकारों की भी मांग की। पुरुषों की भांति महिलाओं ने भी आवश्यकता पड़ने पर तलाक लेने का अधिकार प्राप्त कर लिया। 


(7) औद्योगीकरण का प्रभाव - भारतीय समाज को निरन्तर बढ़ने औद्योगीकरण ने भी प्रभावित किया है। लोगों के विचारों में परिवर्तन होने लगा है । स्त्रियाँ पुरुषों की भांति बाहर निकलकर कार्य करने लगी हैं, जिसके कारण वे आत्मनिर्भर हो गयी है। अतः आपसी मतभेद के कारण तलाक को आसानी से प्रोत्साहन देती थी कोंकि तलाक के बाद पुराने समय की तरह उनके सामने जीविका चलने का अब प्रश्न नहीं उठता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam 1857 के महान विद्रोह (1857 के भारतीय विद्रोह, 1857 के महान विद्रोह, महान विद्रोह, भारतीय सेप्पी विद्रोह) को ब्रिटिश शासन के खिलाफ भारत का स्वतंत्रता संग्राम माना जाता है। 1857 आंदोलन एक राष्ट्रीय उभर रहा था, जो भारतीयों के दिल में एक मजबूत आग्रह से प्रेरित था, जिससे देश मुक्त हो गया। यह ब्रिटिश शासन की स्थापना के बाद भारत के इतिहास में सबसे उल्लेखनीय एकल घटना थी। यह भारत में सदी के पुराने ब्रिटिश शासन का नतीजा था। भारतीयों के पिछले विद्रोहों की तुलना में, 1857 का महान विद्रोह एक बड़ा आयाम था और यह समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों की भागीदारी के साथ लगभग अखिल भारतीय चरित्र ग्रहण करता था। यह विद्रोह कंपनी के सिपाही द्वारा शुरू किया गया था। इसलिए इसे आमतौर पर 'सेप्पी विद्रोह' कहा जाता है। लेकिन यह सिर्फ सिपाही का विद्रोह नहीं था। इतिहासकारों ने महसूस किया है कि यह एक महान विद्रोह था और इसे सिर्फ एक सिपाही विद्रोह कहने के लिए अनुचित होगा। हमारे इतिहासकार अब इसे विभिन्न ना