सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सुमेरियन सभ्यता के आर्थिक एवं सामाजिक जीवन

 सुमेरियन सभ्यता के आर्थिक एवं सामाजिक जीवन 


अर्थ व्यवस्था -सुमेर की सभ्यता का आधार कृषि-कार्य था। सुमेरियन श्रमिकों - ने दलदली भूमि को सुखाकर खेती योग्य बनाने में महारत हासिल की थी। कृषि के साथ पशुपालन का भी महत्व था। उनके पालतू पशुओं में गाय, भेड़, बकरी, सुअर, गधा, खच्चर और बैल उल्लेखनीय हैं। कृत्रि योग्य जमीन अधिकांश भाग अभिजात वर्ग और राजपरिवार के लोगों के अधिकार में था जिसमें उच्चाधिकारी और पुरोहित शामिल थे। शेष भूमि राज्य के सामान्य स्वतंत्र नागरिकों के पास थी। कुछ धनी और प्रभावशाली परिवारों के पास बड़ी भूसम्पदा थी लेकिन साधारण लोगों के पास भी छोटे खेत, बगीचे, घर और पशु थे। राज्य में किसानों, पशुपालकों और दासों की संख्या अधिक थी। पितृसत्तात्मक संयुक्त परिवारों में संगठित लोगों की खेती योग्य जमीन बेचने पर कुछ प्रतिबन्ध धे किन्तु व्यक्तिगत सम्पत्ति की अवधारणा के विकसित स्तर पर जमीन की बिक्री होने लगी थी। मन्दिरों के लिये निश्चित भूमि निगेनिया. कुर्रा और उरुलल तीन कोटियों की थी।

जमीन का लगान प्रायः वस्तुओं के रूप में वसूल किया जाता था इसी राजस्व से अधिकारियों और कर्मचारियों को वेतन दिया जाता था युद्धों में विजय के बाद अपनी वीर सरदारों को राजा करमुक्त जमीन देता था।

सुमेर की कृषि व्यवस्था का विवेचन करने के प्रसंग में सिंचाई व्यवस्था के विशेष महत्व की ओर ध्यान देना आवश्यक प्रतीत होता है। सुमेर के निवासियों ने बाँधों, जनाशयों और नहरों की एक जटिल प्रणाली का विकास कर लिया था जो उनके वैज्ञानिक ज्ञान और उत्कृष्ट अभियन्त्रण क्षमता का परिचायक है। इस महान कार्य में सर्वेक्षण, समतलीकरण, योजना निर्माण और मानचित्र निर्माण से संबंधित यन्बों और मापकों का विकास किया गया एवं कृषि संहिता की भी रचना की गई थी। इस कार्य में बड़े पैमाने पर श्रम का सहयोग और संगठन हुआ तथा दास प्रथा की वृद्धि हुई। इस सिलसिले में जनता से बेगार भी ली जाती थी। नगर-राज्यों की गतिविधियों में मात्रात्मक और गुणात्मक विकास के जो प्रमाण मिलते हैं उसे अन्तिम विश्लेषण में सिंचाई व्यव्या का ही परिणाम समझा जा सकता है। सुमेर के मन्दिरों, कुलीनतन्त्र और व्यापारी समुदाय के रख-रखाव में इसकी भूमिका निर्विवाद थी। कई प्राचीन आख्यानों में (जैसे तुमुजि) सिंचाई की प्रतिवनि भी गूंजती है। डॉ. आर, जे. फोर्स ने सुमेर की अर्थव्यवस्था में सिंचाई के महत्व का मूल्यांकन करते हुए लिखा है कि "सुमेर के नगर-राज्य वास्तव में सिंचाई की इकाई (क्षेत्र) थे और उनके बीच होने वाले अधिकांश युद्धों का कारण सिंचाई से सम्बद्ध समस्याओं में द्रष्टव्य है। कृषि का अनुरक्षण और असल में पूरा सामाजिक ढांचा जल के नियन्त्रण पर आधारित था। सुमेर की अर्थव्यवस्था में अपनी भूमिका के कारण व्यापारी, मल्लाह, मछुआरे, लिपिकर, वैद्य, स्थपति, बढ़ई, सुनार, लुहार और कुम्हार भी उल्लेखनीय है । यतायात एवं परिवहन में बैलगाड़ी एवं नौकाचालन का महत्व था। आन्तरिक व्यापार के अतिरिक्त विदेशी व्यापार भी विकसित था। व्यापारिक श्रेणियों (करूम) का उदय हो रहा था। ये स्वायत्तशासी संगठन के रूप में विकसित हो रही थी। भारत और मित्र तक व्यापार विस्तृत था। अनाज और वस्त्र के बदले में दूसरे देशों से इमारती सामानों और खनिज पदार्थों का व्यापार करते थे। शिल्पी अपने हस्तकौशल से निर्मित वस्तुओं को मुक्त बाजारों में बेचते थे वस्तु विनिमय के अतिरिक्त चांदी का भार मानक (शेकिल) प्रचलित था। जल और स्थल मार्ग से कुछ व्यापारी घूम-घूमकर वस्तुयें बेचते थे इनमें मन्दिरों और राजमहलों के प्रतिनिधियों की भूमिका भी उल्लेखनीय थी। ब्याज की दर लगभग 2.0 प्रतिशत थी।

श्रमिक जन प्रधानतः कृषि कार्य में लगे हुये थे। सभी कठोर श्रम साध्य कार्यों में दासी के श्रम को नियोजित किया जाता था। ज्यादातर मजदूर मन्दिरों और राजकीय जमीन पर काम करते थे, जो अलग थे उनसे भी बेगार ली जाती थी गरीब स्वतंत्र नागरिक भी उत्पादने के संसाधनों से वंचित होने की हालत में दासों की तरह होते जा रहे थे। 


सुमेरियन सामाजिक व्यवस्था :- सुमेरियन सभ्यता की सामाजिक व्यवस्था का संक्षिप्त वर्णन इस प्रकार है

समाज का स्वरूप -सुमेर की सभ्यता के बारे में विद्वान गवेधक आई0 एम० दिकोनोफ लिखते हैं कि समाज में चार प्रधान वर्ग थे पहला अभिजातवर्ग था जिसमें राजसत्ता से प्रत्यक्षतः सम्बन्धित लोग और प्रमुख पुरोहितगण शामिल कथे यें सार्वजनिक और व्यक्तिगत दोनों प्रकार की भूसम्पदा से लाभान्वित होते थे। वृद्ध जनों की परिषद इसी वर्ग की थी। दूसरा वर्ग स्वतन्त्र नागरिकों और सैनिकों का या। इस वर्ग के लोग सामान्य सभा के सदस्य थे और इनके पास सामुदायिक जमीन का पारिवारिक स्वामित्व था। तीसरा व्ग अनुयायी जन का था-जो सामान्यतया उच्चवर्ग पर आश्रित थे। मन्दिरों और शिल्प कार्य से सम्बन्धित छोटे लोग भी इसी श्रेणी में आते थे चौथा वर्ग दासों और दासियों का था जो मन्दिरों तथा राजमहलों की जमीन पर श्रम करते थे और अन्य उद्योगों से भी जड़े थे। व्यक्तिगत रूप से भी कुछ सम्पन्न लोग दास रखते थे समाज में धनी और गरीब के बीच काफी अन्तर था। सुमेरियन समाज में दासों के श्रम का शोषण किया जाता था दासों में, दूसरे देशों के युद्धबन्दी और सुमेरवासी दोनों सम्मिलित थे। भयंकर अपराध कर्ज और विवशता जैसे तध्य दास-प्रथा की वृद्धि में सहायक हो रहे थे दास लोग अपने स्वामी की चल सम्पत्ति थे- पशुओं की तरह दासों से अमानुषिक व्यवहार किया जाता था और भागने की कोशिश करने पर क्र दण्ड के लिये उनके चमड़े को (पहचान के लिये भी) दागा जाता था धन की व्यवस्था करके वे दासता से मुक्त हो सकते थे, व्यापार करने की छूट थी और सक्षम हो सकते पर अपनी 'मुक्ति' खरीद सकते थे। यदि दास का विवाह स्वतंत्र नागरिक से हो जाय तो उनके बच्चे दासता से आजाद हो जाते थे। विभिन्न नगरों में दासों का विक्रय मूल्य अलग-अलग था। औसतन एक दास की कीमत् 20 शेकिल थी, और विडम्बना यह थी कि उस समाज में एक गधे को मूल्य भी इससे अधिक था।

परिवार को, समाज की आधारभूत इकाई के रूप में मान्यता प्राप्त थी परिवार के सदस्य प्रेम, आदर और पारस्परिक कर्तव्य के धागे में गुंथे हुए थे। विवाह, मां-बाप तय करते थे जिसे मिट्टी की पट्टिका पर अनुबन्धित किया जाता था। विवाह से पहले का गुप्त प्रेम अज्ञात नहीं था। सिद्धान्ततः एक पत्नी प्रथा के कारण महिलाओं की सामाजिक हैसियत पुरूष के बराबर थी। मन्दिरों की वेश्याओं (देवदासियों की तरह) के पास गमन होता था। रखैल प्रथा थी और कुछ दासियाँ भी भोग्या थीं। कुछ महिलायें शिक्षित होती थीं। समाज में नैतिका का मानदण्ड दुहरा था। सामान्य कारणों पर भी पत्नी को, पति तलाक दे सकता था अथवा सन्तान के अभाव में दूसरा विवाह कर सकता था गोद लेने की प्रथा प्रचलित थी सन्तान को सम्पत्ति का पूर्ण उत्तराधिकार प्राप्त था। उच्चवर्ग की महिलाओं को भी कुछ साम्पत्तिक और न्यायिक अधिकार प्राप्त थे समाज, मन्दिरों और राजमहलों के लोगों द्वारा किये जाने वाले अन्याय, अत्याचार और भ्रष्टाचार से अज्ञात नहीं था। महिलायें आभूषण और श्रृंगार के प्रति भी सजग थीं।

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण  जान लॉक का प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त सत्रहवीं व अठारहवीं शताब्दी में प्राकृतिक अधिकारों का सिद्धांत अत्यन्त प्रचलित था। सामाजिक संविदा सिद्धान्त के प्रवर्तकों ने यह विचार प्रस्तुत किया कुछ अधिकार राज्य के उद्भव अर्थात् उत्पत्ति के पहले विद्यमान थे अर्थात् ये मानव के पास प्राकृतिक अवस्था में भी मौजूद थे। इसी अधिकार को राजनीतिशास्त्र में प्राकृतिक अधिकार के नाम से सम्बोधित किया जाता है। इन प्राकृतिक अधिकारों का सृजनकर्ता राज्य नहीं था वरन् राज्य का जन्म इन अधिकारों के रक्षा के लिए हुआ है। राज्य का यह दायित्त्व है इन अधिकारों को मान्यता प्रदान कर विधि अथवा कानून के रूप में परिवर्तित कर दे। लॉक ने अपने सामाजिक सम्विदा सिद्धान्त के अन्तर्गत जीवन स्वतंत्रता एवं सम्पत्ति सम्बन्धी अधिकार की श्रेणी में रखा है। ये अधिकार व्यक्ति के व्यक्तित्व में निहित होते हैं, ये सर्वव्यापक एवं असीम होते हैं। प्राकृतिक अधिकारों के प्रवल पोषक लॉक के अनुसार यदि राज्य की प्रकृति प्रदत्त अर्थात् प्रकृति के अधिकारों की रक्षा करने में सफल नहीं होता तो ऐसे