सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

शराब के दुष्परिणाम

 शराब के दुष्परिणाम 


नशाखोरी समाज एवं व्यक्ति दोनों को बर्बादी के कगार पर पहुँचा देता है। नशा का ही परिणाम था कि 24 वें ओलम्पिक खेल में बेन जानसन को स्वर्णपदक से हाथ धोना पड़ा और समाज में अपमानित होना पड़ता है। नशाखोरी व्यक्तिगत जीवन को विघटित करती है। श्रमिकों की औसत कार्य कुशलता घट जाती है पारिवारिक जीवन छित्र-भिन्न व घुटन युक्त हो जाता है। शराब के कुप्रभाव के बारे में भारतीय संस्कृति में निम्न प्रकार के विचार हैं - 


1. शारीरिक प्रभाव - लम्बे समय तक नशा करने से लीवर खराब होना, गठिया, त्वचा रोग आदि बीमारियां पनपती हैं और अन्तिम दशा में मस्तिष्क के तन्तु निज्जीव हो जाते हैं जिस कारण चक्कर आने लगते हैं। व्यक्ति की रोग से मुकाबला करने की क्षमता समाप्त हो जाती हैं और अन्ततः गले का कैंसर, हृदय रोग, आँखों के रोग, क्षय आदि रोग उसे आ घेरते हैं। 


2. मानसिक प्रभाव - नशा करने वाले व्यक्ति को मानसिक क्षमता क्षीण हो जाती है। उसकी बौद्धिक शक्ति समाप्त हो जाती हैं । वह अत्यन्त क्रोधी और उत्तेजक हो जाता हैं। मानसिक दुर्बलता, सन्देह, उत्तेजना, स्मृतिनाश आदि रोग नशाखोरी से पनपते हैं। 3. दुर्घटना-अध्ययनकर्ताओं का विश्वास है कि दुर्घटना का सर्वप्रमुख कारण शराब आदि की नशाखोरी है। औद्योगिक एवं यातायात सम्बन्धी दुर्घटनाओं के लिए शराब को ही मुख्यतः दोषी ठहराया जाता है। 


4. कार्य क्षमता में कमी - नशाखोरी औद्योगिक कार्य क्षमता में कमी लाती है। नशे में व्यक्ति का अपने शरीर एवं मन पर कोई नियन्त्रण नहीं रहता इस कारण वह कोई भी कार्य करने में असमर्थ होता है, और उसकी कार्य क्षमता घट जाती है। 


5. गरीबी - शराब पीने से बीमारी पनपती हैं, जो गरीबी का मुख्य कारण हैं। कई शरावी तो अपनी आय का आधे से अधिक भाग शराब पीने में खर्च कर देते हैं। 


6. बेकारी - शराब वित्तीय बेकारी को बढ़ावा देती है और बेकारी की स्थिति शराब पीने की आदत को बढ़ावा देती है। अधिक शराब पीने से व्यक्ति की कार्य क्षमता घट जाती है और उसे नौकरी से निकाल दिया जाता है, और इस निराशा से मुक्ति के लिए फिर शराब का सहारा लेता है। 


7. पारिवारिक विघटन – शराब एक व्यक्ति को ही नहीं बल्कि उसके पूरे परिवार का नाश कर देती है। उसका परिवार विघटित हो जाता है। व्यक्ति अपने परिवार से अधिक शराब को महत्व देता है और परिवार की आवश्यकताओं की उपेक्षा करता है। अपनी आय का अधिकांश भाग वह शराब पर व्यय कर देता है। इससे आर्थिक संकट होने के साथ परिवार में तनाव बढ़ने लगता है। वह परिवार में अपने उत्तरदायित्व को पूर्ण करने में असमर्थ रहता है और अतंतः पारिवारिक संघर्ष, तलाक, आत्महत्या आदि का जन्म होता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण  जान लॉक का प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त सत्रहवीं व अठारहवीं शताब्दी में प्राकृतिक अधिकारों का सिद्धांत अत्यन्त प्रचलित था। सामाजिक संविदा सिद्धान्त के प्रवर्तकों ने यह विचार प्रस्तुत किया कुछ अधिकार राज्य के उद्भव अर्थात् उत्पत्ति के पहले विद्यमान थे अर्थात् ये मानव के पास प्राकृतिक अवस्था में भी मौजूद थे। इसी अधिकार को राजनीतिशास्त्र में प्राकृतिक अधिकार के नाम से सम्बोधित किया जाता है। इन प्राकृतिक अधिकारों का सृजनकर्ता राज्य नहीं था वरन् राज्य का जन्म इन अधिकारों के रक्षा के लिए हुआ है। राज्य का यह दायित्त्व है इन अधिकारों को मान्यता प्रदान कर विधि अथवा कानून के रूप में परिवर्तित कर दे। लॉक ने अपने सामाजिक सम्विदा सिद्धान्त के अन्तर्गत जीवन स्वतंत्रता एवं सम्पत्ति सम्बन्धी अधिकार की श्रेणी में रखा है। ये अधिकार व्यक्ति के व्यक्तित्व में निहित होते हैं, ये सर्वव्यापक एवं असीम होते हैं। प्राकृतिक अधिकारों के प्रवल पोषक लॉक के अनुसार यदि राज्य की प्रकृति प्रदत्त अर्थात् प्रकृति के अधिकारों की रक्षा करने में सफल नहीं होता तो ऐसे