सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सामाजिक विघटन

 सामाजिक विघटन 

"सामाजिक विघटन एक जटिल प्रक्रिया है। प्रक्रिया का अर्थ परिवर्तन और निरन्तरता से हैं। पूर्ण संगठन या पूर्ण विघटन जैसी किसी चीज का कोई अर्थ नहीं होता। हर समाज हर समय किसी न किसी अंश में संगठित होता है और किसी न किसी अंश में विघटित भी। यह पूर्णता सामाजिक संगठन की ही भांति एक सामान्य प्रक्रिया (Normal Process) है। सामाजिक परिवर्तन (Social Change) निरन्तर प्रक्रिया है और सामाजिक विघटन परिवर्तन की ही देन है। अतः सामाजिक विघटन भी एक निरन्तर प्रक्रिया है। जब संस्थाए व्यक्ति के व्यवहार पर नियंत्रण रख पाने में असमर्थ होती हैं तो परिणामस्वरूप, सामाजिक विघटन जन्म लेता है। उदाहरण के लिए, यदि परिवार की संस्था अपने सदस्यों के व्यवहारों को उचित दिशा में निर्देशित करने के लिए उन पर नियंत्रण नहीं रख पाती तो सामाजिक विघटन स्वतः ही गति प्राप्त करेगा। 


सामाजिक विघटन एक दशा (Condition) ही नहीं अपितु एक प्रक्रिया भी है। समाज कभी भी स्थिर नहीं रहता, सदैव उसमें कुछ न कुछ परिवर्तन होते रहते हैं, घटनाओं का क्रम बंधा रहता है। सामाजिक संगठन तथा सामाजिक विघटन वास्तव में एक सापेक्षिक (Relative) विषय है और यह पूर्ण (Absolute) नहीं है। सभी समाज किसी न किसी मात्रा में संगठित और विघटित रहते हैं, चाहे वह समाज कितना ही संगठित हो, कन्दराओं में रहता हो, सारे आधुनिक परिवर्तनों से परे हो, उस पर भी उसमें कुछ न कुछ परिवर्तन होता रहता है और अति परिवर्तनशील समाज में भी कुछ न कुछ संगठन होता है। घटनाओं का क्रम बंधा रहता है और उनमें संघर्ष होता रहता है अत्यधिक स्पर्धा, सामाजिक विभेद (Social differentiation) और विवारण (Disruption) तथा पृथक् करने वाली (Centrifugal) आदि उप-प्रतिक्रियाएँ सामाजिक स्थिति में कार्यरत रहती हैं। जब परिवर्तन बहुत तीव्र गति से होता है तो सामाजिक दाँचा (Social Structure) विदीर्ण हो जाता है और सामाजिक मूल्य बदलते जाते हैं तथा संगठन विघटन में परिवर्तित हो जाता है। 


भारतवर्ष में संयुक्त परिवार (Joint Family का मूल्य (Value) परिवर्तन के साथ साथ बदलता जा रहा है। यही नहीं, आज के परिवार में पंद (Status) और कार्य (Role) के बारे में अति तीव्र परिवर्तन हुआ। है। सारे पुराने मूल्य नष्ट हो गए हैं। आज की पनी गृहस्वामिनी ही नहीं रह गई, केवल बच्चों की देख-रेख की दासी (Maid) ही नहीं रह गईं, बरन आज वह समाज में बराबर हिस्सा पाने वाली बन गई है। एकमत (Consensus) धीरे धीरे नष्ट होता रहता है और इस प्रकार सामाजिक विघटन धीरे-धीरे होता रहता है। विघटन के साथ ही साथ संगठन भी होता रहता है। संयुक्त परिवार के स्थान पर आज का नया परिवार, जो व्यक्तिगत विचारधारा का पोषक है, स्थान ले रहा है, पर संगठन का निखरा रूए आने में देर लगती है और जबकि परिवर्तन अति तीव्र गति से होता है तो संगठन का होना अति कठिन हो जाता है। धामस और जेनिकी ने लिखा है - "सामाजिक विघटन कोई एक असामान्य घटना नहीं है जो किन्हीं कालों या समाजों तक सीमित हो। इसमें से कुछ तो हमेशा और हर जगह पाया जाता है; क्योंकि हर जगह सामाजिक नियम भंग करने की व्यक्तिगत घटनाएं होती हैं, जो सामाजिक संस्थाओं पर विघटन करने वाला प्रभाव डालती हैं। यदि उनका प्रतिकार न किया जाय तो बढ़ सकती है और सामाजिक समस्याओं का पूर्ण नाश कर सकती है।"

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना  रूसो का सामान्य इच्छा सिद्धान्त अवधारणा रूसो की 'सामान्य इच्छा सम्बन्धी सिद्धान्त अथवा अवधारणा आधुनिक राजनीतिक चिन्तन में एक महत्त्वपूर्ण देन है। कुछ विद्वानों के अनुसार वह लोकतन्त्र की आधारशिला है। रूसो के राजनीतिक विचारों में सामान्य इच्छा' का विचार सबसे मौलिक है यद्यपि उसके सम्बन्ध में वह स्वयम् स्पष्ट नहीं है। रूसों के अनुसार प्रारम्भिक समझौते के लिए समाज के समस्त सदस्यों का एक मत होना आवश्यक है, किन्तु बाद में सामान्य इच्छा के अनुसार ही शासन का कार्य होता है। रूसो की सामान्य इच्छा के सन्दर्भ में जोन्स महोदय का कथन उल्लेखनीय है-सामान्य इच्छा का विचार रूसों के सिद्धान्त का न केवल सबसे अधिक केन्द्रिय विचार है, अपितु यह उसका सबसे अधिक और मौलिक व रोचक विचार है। ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह राजनीतिक सिद्धान्त के क्षेत्र में सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण देन है। इसकी उपयोगिता का आधार इसी आधार पर लगाया जा सकता है कांट, हीगल, ग्रीन और बोसांके आदि अंग्रेजी दार्शनिकों की विचारधारा भी इसी पर आधारित थी। रूसो ने अपने सामन्य इच्छा के सन्दर्भ

राज्य की उत्पत्ति के विकासवादी सिद्धांत

राज्य की उत्पत्ति के विकासवादी सिद्धांत  राज्य की उत्पत्ति के ऐतिहासिक विकासवादी सिद्धांत राज्य की उत्पत्ति के सम्बन्ध में अनेक सिद्धान्त प्रचलित हैं। परन्तु गंभीर विवेचना से स्पष्ट होता है कि अन्य सभी सिद्धान्त गलत हैं और उन्होंने राज्य की उत्पत्ति की सही व्याख्या नहीं की है। इस सम्बन्ध में गार्नर का कहना ठीक है कि, "राज्य न तो ईश्वर की कृति है, न किसी उच्च शक्ति का परिणाम, न किसी प्रस्ताव या समझौते की सृष्टि है, न परिवार का विस्तारमात्र" अतः यह प्रश्न उठना स्वाभाविक है कि राज्य की उत्पत्ति का सबसे अच्छा सिद्धान्त कौन है। इस सम्बन्ध में यही कहा जा सकता है कि राज्य विकास का परिणाम है। इसका निर्माण मनुष्य की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए हुआ था और अच्छे जीवन के लिए अब भी चल रहा है। राज्य की उत्पत्ति का सबसे सही और वैज्ञानिक सिद्धान्त विकासवादी या ऐतिहासिक सिद्धान्त को ही कहा जा सकता है। इस सिद्धान्त के अनुसार राज्य की उत्पत्ति एक विकास का परिणाम है। यह विकास धीरे-धीरे क्रम: चलता रहता है। इसी विकास के परिणामस्वरूप राज्य ने वर्तमान का रूप धारण किया है। राज्य की उत्पत्ति और व

तुलनात्मक राजनीति का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth

तुलनात्मक राजनीति  का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth परिचय  राजनीति एक सर्वव्यापी गतिविधि है जो हमारे चारो तरफ हमको देखने को मिल जाती है। प्रारंभ से ही एक  राजनीति व्यवस्था की तुलना दूसरे राजनीति व्यवस्था से की जाती रही है।किसी एक राजनीतिक व्यवस्था की अन्य राजनीतिक व्यवस्था से तुलना करने  के तरीके को सामान्य तुलनात्मक पद्धति कहते है। वास्तव में तुलनात्मक राजनीति का अर्थ और लक्ष्य विभिन्न देशों के मध्य एक राजनीति समस्याओं विषमताओं समानताओं की जानकारी का अध्ययन करना है। इसे हम तुलनात्मक राजनीति कहते हैं। यह समस्या या वह विभिन्नताओं के मिश्रण का परिपेक्ष से विकास करने का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति हमारे समानताओं और विभिन्नताओं का अध्ययन करता है  और उसके द्वारा राज्य के विकास का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति सिद्धांत यह स्पष्ट करता है कि विश्व की सरकार और उनकी क्या परिस्थितियां हैं किस प्रकार से उनका प्रचलन हो रहा है किस प्रकार से सरकारें चल रही हैं। इसके अंतर्गत जो अध्ययन करते हैं पहला राज्य के कार्य दूसरा संगठन, नीति, दबाव समूह का अध्ययन होता है।  अर्थ और