सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सामाजिक विघटन

 सामाजिक विघटन 

"सामाजिक विघटन एक जटिल प्रक्रिया है। प्रक्रिया का अर्थ परिवर्तन और निरन्तरता से हैं। पूर्ण संगठन या पूर्ण विघटन जैसी किसी चीज का कोई अर्थ नहीं होता। हर समाज हर समय किसी न किसी अंश में संगठित होता है और किसी न किसी अंश में विघटित भी। यह पूर्णता सामाजिक संगठन की ही भांति एक सामान्य प्रक्रिया (Normal Process) है। सामाजिक परिवर्तन (Social Change) निरन्तर प्रक्रिया है और सामाजिक विघटन परिवर्तन की ही देन है। अतः सामाजिक विघटन भी एक निरन्तर प्रक्रिया है। जब संस्थाए व्यक्ति के व्यवहार पर नियंत्रण रख पाने में असमर्थ होती हैं तो परिणामस्वरूप, सामाजिक विघटन जन्म लेता है। उदाहरण के लिए, यदि परिवार की संस्था अपने सदस्यों के व्यवहारों को उचित दिशा में निर्देशित करने के लिए उन पर नियंत्रण नहीं रख पाती तो सामाजिक विघटन स्वतः ही गति प्राप्त करेगा। 


सामाजिक विघटन एक दशा (Condition) ही नहीं अपितु एक प्रक्रिया भी है। समाज कभी भी स्थिर नहीं रहता, सदैव उसमें कुछ न कुछ परिवर्तन होते रहते हैं, घटनाओं का क्रम बंधा रहता है। सामाजिक संगठन तथा सामाजिक विघटन वास्तव में एक सापेक्षिक (Relative) विषय है और यह पूर्ण (Absolute) नहीं है। सभी समाज किसी न किसी मात्रा में संगठित और विघटित रहते हैं, चाहे वह समाज कितना ही संगठित हो, कन्दराओं में रहता हो, सारे आधुनिक परिवर्तनों से परे हो, उस पर भी उसमें कुछ न कुछ परिवर्तन होता रहता है और अति परिवर्तनशील समाज में भी कुछ न कुछ संगठन होता है। घटनाओं का क्रम बंधा रहता है और उनमें संघर्ष होता रहता है अत्यधिक स्पर्धा, सामाजिक विभेद (Social differentiation) और विवारण (Disruption) तथा पृथक् करने वाली (Centrifugal) आदि उप-प्रतिक्रियाएँ सामाजिक स्थिति में कार्यरत रहती हैं। जब परिवर्तन बहुत तीव्र गति से होता है तो सामाजिक दाँचा (Social Structure) विदीर्ण हो जाता है और सामाजिक मूल्य बदलते जाते हैं तथा संगठन विघटन में परिवर्तित हो जाता है। 


भारतवर्ष में संयुक्त परिवार (Joint Family का मूल्य (Value) परिवर्तन के साथ साथ बदलता जा रहा है। यही नहीं, आज के परिवार में पंद (Status) और कार्य (Role) के बारे में अति तीव्र परिवर्तन हुआ। है। सारे पुराने मूल्य नष्ट हो गए हैं। आज की पनी गृहस्वामिनी ही नहीं रह गई, केवल बच्चों की देख-रेख की दासी (Maid) ही नहीं रह गईं, बरन आज वह समाज में बराबर हिस्सा पाने वाली बन गई है। एकमत (Consensus) धीरे धीरे नष्ट होता रहता है और इस प्रकार सामाजिक विघटन धीरे-धीरे होता रहता है। विघटन के साथ ही साथ संगठन भी होता रहता है। संयुक्त परिवार के स्थान पर आज का नया परिवार, जो व्यक्तिगत विचारधारा का पोषक है, स्थान ले रहा है, पर संगठन का निखरा रूए आने में देर लगती है और जबकि परिवर्तन अति तीव्र गति से होता है तो संगठन का होना अति कठिन हो जाता है। धामस और जेनिकी ने लिखा है - "सामाजिक विघटन कोई एक असामान्य घटना नहीं है जो किन्हीं कालों या समाजों तक सीमित हो। इसमें से कुछ तो हमेशा और हर जगह पाया जाता है; क्योंकि हर जगह सामाजिक नियम भंग करने की व्यक्तिगत घटनाएं होती हैं, जो सामाजिक संस्थाओं पर विघटन करने वाला प्रभाव डालती हैं। यदि उनका प्रतिकार न किया जाय तो बढ़ सकती है और सामाजिक समस्याओं का पूर्ण नाश कर सकती है।"

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam 1857 के महान विद्रोह (1857 के भारतीय विद्रोह, 1857 के महान विद्रोह, महान विद्रोह, भारतीय सेप्पी विद्रोह) को ब्रिटिश शासन के खिलाफ भारत का स्वतंत्रता संग्राम माना जाता है। 1857 आंदोलन एक राष्ट्रीय उभर रहा था, जो भारतीयों के दिल में एक मजबूत आग्रह से प्रेरित था, जिससे देश मुक्त हो गया। यह ब्रिटिश शासन की स्थापना के बाद भारत के इतिहास में सबसे उल्लेखनीय एकल घटना थी। यह भारत में सदी के पुराने ब्रिटिश शासन का नतीजा था। भारतीयों के पिछले विद्रोहों की तुलना में, 1857 का महान विद्रोह एक बड़ा आयाम था और यह समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों की भागीदारी के साथ लगभग अखिल भारतीय चरित्र ग्रहण करता था। यह विद्रोह कंपनी के सिपाही द्वारा शुरू किया गया था। इसलिए इसे आमतौर पर 'सेप्पी विद्रोह' कहा जाता है। लेकिन यह सिर्फ सिपाही का विद्रोह नहीं था। इतिहासकारों ने महसूस किया है कि यह एक महान विद्रोह था और इसे सिर्फ एक सिपाही विद्रोह कहने के लिए अनुचित होगा। हमारे इतिहासकार अब इसे विभिन्न ना