सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सामाजिक विघटन के प्रभाव, परिणाम

 सामाजिक विघटन के प्रभाव, परिणाम


सामाजिक विघटन का प्रभाव - व्यक्ति सामाजिक ड्रामा का अभिनेता होता है। ड्रामा चाहे दुःखान्त हो या सुखान्त, अभिनेता प्रभावित हुए बिना नहीं रह सकता है। सामाजिक विघटन समाज का दुःखान्त ड्रामा है। अतः सदस्यों पर इसका बुरा प्रभाव स्वाभाविक है। सामाजिक विघटन के व्यक्ति के जीवन पर जो प्रभाव पड़ते हैं, वे इस प्रकार है - 


(1) व्यवहार पर प्रभाव (Impact on Behaviour)- सामाजिक विघटन से व्यक्तिगत जीवन प्रभावित होता है इस प्रभाव के कारण उसके व्यवहार में परिवर्तन होता है। पागलपन, भ्रष्टाचार, अपराध, मद्यपान, आत्महत्या, बाल अपराध आदि ऐसी नई परिस्थितियों हैं जो सामाजिक विघटन का परिणाम होती हैं । 


( 2 ) नैतिकता पर प्रभाव (Impact on Morality) - सामाजिक विघटन का व्यक्ति के व्यवहार पर प्रभाव पड़ता है। इससे उसके व्यवहार का नतिक स्तर गिर जाता है। परिणामतः अनैतिकता का प्रसार होता है। व्यक्ति नैतिकता का गला घंट देता है और अपने स्वार्थों की पूर्ति के लिए उचित-अनुचित के निर्णय को भूल जाता है। इसका परिणाम यह होता है कि समाज में अनेक प्रकार के व्यभिचार पनपते हैं। 


(३) धर्म पर प्रभाव (Impact on Religion)- सामाजिक विघटन से धार्मिक व्यवस्था को सबसे अधिक क्षति पहुँचती हैं इससे धर्म का सही स्वरूप समाप्त हो जाता है। धर्म का स्थान अनेक प्रकार के अन्धविश्वास ले लेते हैं। समाज जैसे जैसे विधटित होता है. धर्म की व्यवस्था अपने आप परिवर्तित होती जाती है। 


(4) आर्थिक व्यवस्था पर प्रभाव (Impact on Economics System) - सामाजिक विघटन के कारण व्यक्ति का आर्थिक जीवन भी प्रभावित होता हैं। व्यक्ति के सामाजिक संगठन, उसके आर्थिक जीवन को प्रभावित करते हैं। जब ये सामाजिक संगठन शिथिल हो जाते हैं या अपना प्रभाव खो देते हैं, तो मानव-समाज की आवश्यकताओं की पूर्ति में बाधा उत्पन्न करते हैं। नियंत्रण के अभाव के कारण आवश्यकताओं की पूर्ति में बाधा उत्पन्न होती है, धन का असन्तुलित वितरण होता है और पूंजीवाद को प्रोत्साहन मिलता है। आर्थिक अशान्ति का जन्म होता है जिससे अभाव, कालाबाजार, वर्ग-संघर्ष, चोरी, लूट, अपराध, बेरोजगारी आदि समस्याओं का जन्म होता है। इन सभी समस्याओं का व्यक्ति के जीवन पर प्रभाव पड़ता है। 


( 5) परिवार पर प्रभाव (Impact on Family)-व्यक्ति परिवार का सदस्य होता है। अतः सामाजिक विघटन के प्रभावों की चर्चा करते समय इसके पारिवारिक प्रभावों की जानकारी प्राप्त करना अनिवार्य है। किसी भी समाज में जब विघटनकारी शक्तियों क्रियाशील हो जाती हैं तो उसका पारिवारिक जीवन इन क्रियाओं से प्रभावित होता है। सामाजिक विघटन का परिवार पर निम्नलिखित प्रभाव पड़ता है। 


(अ) परिवारों का टूटना, (आ) वैवाहिक सम्बन्धों में अशान्ति, (इ) तलाक और परित्याग की मात्रा में वृद्धि, (ई) माता-पिता और सन्तानों के सम्बन्धों में अशान्ति, (उ) पारिवारिक व्यवस्था का अन्त, (ऊ) पारिवारिक कलह का जन्म। 


(6) शिक्षा पर प्रभाव (Impact on Education)-व्यक्ति और समाज की शिक्षा व्यवस्था पर भी सामाजिक विघटन का प्रभाव पड़ता है। शिक्षा व्यवस्था पर जो प्रमुख प्रभाव पड़ते हैं, उनका विवरण इस प्रकार है -

(अ) शिक्षा में निश्चित उद्देश्य का अभाव, (आ) शिक्षक, और विद्यार्थियों द्वारा अपने कर्तव्यों की अवहेलना, (इ) अनुशासनहीनता, (ई) मानसिक तथा नैतिक पतन और, (उ) अंधकारमय भविष्य। 


(7) राज्य पर प्रभाव (Impact on State) - व्यक्ति राज्य का भी सदस्य होता है, इस दृष्टि से सामाजिक विघटन का व्यक्ति के राजनीतिक जीवन पर प्रभाव पड़ना स्वाभाविक है। सामाजिक विघटन का व्यक्ति के राजनीतिक जीवन पर निम्नलिखित प्रभाव पड़ता है -

(अ) सामाजिक अव्यवस्था का जन्म तथा इससे व्यक्तियों में असन्तोष की भावना का विकास।

(आ) सरकारी कर्मचारियों के कर्तव्यहीनता और भ्रष्टाचार का बोलबाला।

(इ) घूसखोरी, लालफीताशाही और भाई-भतीजावाद को प्रोत्साहन। 

(ई) जाति, वर्ग और सम्प्रदायवादी विचारधाराओं का जन्म।

(उ) राज्यक्रान्ति को प्रोत्साहन। 


(8) अपराध - सामाजिक विघटन के कारण सामाजिक व्यवस्था टूट जाती है तथा पूरे समाज की संरचना अस्त-व्यस्त हो जाती है। समाज में अनेक समस्याओं का जन्म हो जाता है। इन सभी परिस्थितियों का व्यक्ति के जीवन पर गहरा प्रभाव पड़ता है। सामाजिक समस्याओं के कारण व्यक्ति अपनी आवश्यकताओं की पूर्ति नहीं कर पाता है। वह समाज और जीवन की परिस्थितियों से परेशान और उदासीन हो जाता है। यह स्थिति व्यक्ति को अपराधिक कार्यों की ओर अग्रसर करती है। 


(9) आत्महत्या - सामाजिक विघटन अनेक समस्याओं को जन्म देता गतिशील समाज में व्यक्ति अपनी आवश्यकताओं की पूर्ति नहीं कर पाता है और इस प्रकार वह सामाजिक समस्याओं से मुक्ति प्राप्त नहीं कर सकता है। इस प्रकार परेशानी और ऊन के कारण अनेक व्यक्ति आत्महत्या की ओर मुड़ जाते हैं। 


(10) मद्यपान - सामाजिक विघटन के कारण व्यक्ति में तनाव, चिन्ताएँ, निराशा, उत्तेजना, गतिरोध, मानसिक अस्थिरता आदि का जन्म होता है। इन समस्याओं से कम से कम थोड़े ही समय के लिए छुटकारा पाने के लिए व्यक्ति मद्यपान का सहारा लेता है। 


(11) वेश्यावृत्ति - विघटित समाज में व्यक्तियों में मानसिक असन्तुलन का विकास होता है। मानसिक असन्तुलन और पारिवारिक कलह के कारण व्यक्ति परिवार में यौन सुख नहीं पाता है। इसका परिणाम यह होता है कि वेश्यावृत्ति को प्रोत्साहन मिलता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण  जान लॉक का प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त सत्रहवीं व अठारहवीं शताब्दी में प्राकृतिक अधिकारों का सिद्धांत अत्यन्त प्रचलित था। सामाजिक संविदा सिद्धान्त के प्रवर्तकों ने यह विचार प्रस्तुत किया कुछ अधिकार राज्य के उद्भव अर्थात् उत्पत्ति के पहले विद्यमान थे अर्थात् ये मानव के पास प्राकृतिक अवस्था में भी मौजूद थे। इसी अधिकार को राजनीतिशास्त्र में प्राकृतिक अधिकार के नाम से सम्बोधित किया जाता है। इन प्राकृतिक अधिकारों का सृजनकर्ता राज्य नहीं था वरन् राज्य का जन्म इन अधिकारों के रक्षा के लिए हुआ है। राज्य का यह दायित्त्व है इन अधिकारों को मान्यता प्रदान कर विधि अथवा कानून के रूप में परिवर्तित कर दे। लॉक ने अपने सामाजिक सम्विदा सिद्धान्त के अन्तर्गत जीवन स्वतंत्रता एवं सम्पत्ति सम्बन्धी अधिकार की श्रेणी में रखा है। ये अधिकार व्यक्ति के व्यक्तित्व में निहित होते हैं, ये सर्वव्यापक एवं असीम होते हैं। प्राकृतिक अधिकारों के प्रवल पोषक लॉक के अनुसार यदि राज्य की प्रकृति प्रदत्त अर्थात् प्रकृति के अधिकारों की रक्षा करने में सफल नहीं होता तो ऐसे