सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सामाजिक विघटन के कारण

 सामाजिक विघटन के कारण


सामाजिक विघटन के कारण (General Causes of Social Disorganization)- समाजशास्वियों ने सामाजिक विघटन के विशिष्ट कारणों की चर्चा की है। चूंकि सामाजिक विघटन एक प्रक्रिया है और इस प्रक्रिया को संचालित करने में अनेक कारणों और परिस्थितियों का महत्वपूर्ण स्थान है। अतः सामाजिक विघटन के सामान्य कारणों को अग्रलिखित भागों में विभाजित किया जा सकता है - 


(1) सामाजिक परिवर्तन (Social Change)-समाज में निरन्तर परिवर्तन होते रहते हैं। ये निरन्तर सामाजिक परिवर्तन समाज में विघटन को उत्पन्न करते हैं। इलियट और मैरिल ने तो सामाजिक परिवर्तनों को सामाजिक विघटन का महत्वपूर्ण अंग माना है। इन विद्वानों ने लिखा है कि, 'सामाजिक विघटन तो उस कीमत का एक अग है. जो सामाजिक परिवर्तन के लिए समाज की चुकानी पड़ती है।" इलियट और मेरिल ने सामाजिक परिवर्तन और सामाजिक विघटन के सम्बन्धों को इस प्रकार समझाया है 


(1). सामाजिक परिवर्तन सांस्कृतिक परिवर्तन को जन्म देते हैं, इसका कारण यह है कि व्यक्ति नए सांस्कृतिक मूल्यों को अपनाता जाता है। 

(2). नए सांस्कृतिक मूल्यों के आ जाने से व्यक्ति की आदतों, रहन सहन के दंग और उसकी भविष्यगत योजनाओं में परिवर्तन आ जाता है। 

(3). इससे प्राचीन मूल्य और मान्यताओं में परिवर्तन होता है।

(4). परिवर्तन की यह स्थिति सामाजिक विघटन को जन्म देती हैं । 


आर्गबर्न और निमकॉफ का विचार है कि सांस्कृतिक परिवर्तन (Cultural Change) सामाजिक विघटन का आधार हैं। उन्होंने इस तथ्य को सिद्ध करने के लिए सांस्कृतिक विलम्बना (Cultural Lag) सिद्धान्त का प्रतिपादन किया है उनका कहना है कि सामाजिक परिवर्तन के कारण संस्कृति में परिवर्तन होता है। संस्कृति दो प्रकार की होती है -

(1) भौतिक (Material) तथा (2) अभौतिकी (Non-material)। 


आर्गबर्न और निमकॉफ का विचार है कि सामाजिक परिवर्तन के कारण संस्कृति का भौतिक पक्ष शीध्र परिवर्तित हो जाता है, जबकि अभौतिक संस्कृति में परिवर्तन तुलनात्मक रूप से विलम्ब से होता है। इसका परिणाम यह होता है कि सांस्कृतिक विलम्ब की स्थिति का जन्म और विकास होता है। सांस्कृतिक विलम्ब की यह स्थिति सामाजिक विघटन को जन्म देती हैं। 


मावरर का भी विचार है कि सामाजिक परिवर्तन स्वभावतः सामाजिक विघटन को जन्म देता है। उसने लिखा है कि सामाजिक विघटन इसलिए सामाजिक परिवर्तन का स्वाभाविक परिणाम है। 


(2) धार्मिक दशाएँ (Religious Conditions) -धार्मिक दशा भी सामाजिक विघटन को प्रोत्साहित करती है। धर्म दो प्रकार रो सामाजिक विण्टन को प्रोत्साहित करता है -

1॰ धर्म पुरानी मान्यताओं को प्रोत्साहित करता है तथा नई विचारधारा और मूल्यों की अवहेलना करता है इसका परिणाम यह होता है कि समाज में नवीनता और प्राचीनता की स्थिति निर्मित हो जाती है जो संघर्ष को प्रोत्साहित करती है और इस प्रकार सामाजिक विघटन का जन्म होता है।

2॰ धर्म समाज को परिवर्तित करने में भी महत्वपूर्ण कार्य करता है। प्रसिद्ध समाजशास्त्री मैक्स बेबर ने संसार के छ: प्रमों का अध्ययन किया था और यह निष्कर्ष निकाला था कि समाज को परिवर्तित करने में धर्म की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। बेबर का विचार है कि यूरोप में सामाजिक और आर्थिक परिवर्तन लाने में प्रोटेस्टेण्ट धर्म का महत्वपूर्ण स्थान है। 


इस प्रकार धर्म सामाजिक परिवर्तन को प्रोत्साहित करता है। यह सामाजिक परिवर्तन विघटन के लिए उत्तरदायी होता है।

(3) आर्थिक कारण - निम्नलिखित आर्थिक कारण सामाजिक विघटन को प्रोत्साहित करते हैं - 


(i) औद्योगीकरण - औद्योगीकरण ने आर्थिक दशाओं में क्रान्तिकारी परिवर्तन किये हैं। औद्योगीकरण ने जहां एक ओर बड़े पैमाने पर उत्पादन को बढ़ाया है, वहीं दूसरी ओर सामुदायिक भावना में ह्रास को भी प्रोत्साहित किया है। इसके साथ ही व्यक्तिवादी आदर्शों का विकास हुआ है। औद्योगीकरण ने अनेक समस्याओं को जन्म दिया है इन समस्याओं में से कुछ प्रमुख इस प्रकार है नगरीकरण, आवास समस्या तथा गन्दी बस्तियों का विकास, पारिवारिक विघटन, स्त्रियों द्वारा नौकरी तथा उनकी आर्थिक निर्भरता, पूंजीवाद का विकास, प्रामीण उद्योगों का नाश, अपराध, मद्यपान, जुआ, भ्रष्टाचार, आदि। इन समस्याओं के कारण भी सामाजिक विघटन को प्रोत्साहन मिलता है। 


(ii) औद्योगिक बीमारियाँ - औद्योगिक क्षेत्रों ने अनेक बीमारियों को जन्म दिया है। इन बीमारियों में दमा, यक्ष्मा, तपेदिक, दिल की बीमारी, आदि प्रमुख हैं। मशीनीकरण और व्यस्त जीवन ने अनेक मानसिक बीमारियों को प्रोत्साहित किया हैं। जिससे व्यक्तिगत विघटन फिर पारिवारिक विघटन और फिर सामाजिक विघटन को बल मिलता है। 

(iii) व्यापारिक मनोरंजन-औद्योगीकरण ने व्यापारिक मनोरंजन को प्रोत्साहित किया है। व्यापारिक मनोरंजन में सिनेमा, क्लब, नाटक आदि को सम्मिलित किया जा सकता है। व्यापारिक मनोरंजन के साधन उत्तेजक परिस्थितियों पैदा करते हैं, जिससे व्यक्तियों के मस्तिष्क पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। यह प्रतिकूल प्रभाव भी सामाजिक विघटन को प्रोत्साहित करता है। 


(iv) बेरोजगारी - औद्योगीकरण ने बेरोजगारी को बढ़ावा दिया है। वास्तव में बेरोजगारी संसार की सबसे बड़ी बर्बादी हैं। बेरोजगारी से जहाँ आर्थिक विकास में बाधा उत्पन्न होती है, वहीं दूसरी ओर व्यक्ति अपनी मौलिक आवश्यकताओं की भी पूर्ति नहीं कर पाता है। ये परिस्थितियों सामाजिक विघटन को प्रोत्साहित करती हैं। 


(v) निर्धनता - निर्धनता व्यक्ति को अपनी आवश्यकताओं की पूर्ति में बाधा उत्पन्न करती है। आर्थिक अभाव व्यक्ति में मानसिक असन्तुलन को जन्म देता है। यह मानसिक असन्तुलन अनेक सामाजिक समस्याओं का कारण होता है, जिससे सामाजिक विघटन को प्रोत्साहन मिलता है। 

(4) भावात्मक कारण - वर्तमान सामाजिक जीवन में व्यक्तियों के बीच भावात्मक एकता समाप्त होती जा रही है। भावात्मक एकता के समाप्त होने के कारण भावात्मक संघर्षों को प्रोत्साहन मिलता है तथा अनेक समस्याओं का जन्म होता है इन समस्याओं में क्षेत्रवाद, संस्कृतिवाद, सम्प्रदायवाद, भाषावाद आदि प्रमुख हैं। इस प्रकार की समस्याएं संघर्षों को जन्म देती हैं। यह संघर्ष भी सामाजिक विघटन का कारण बनता।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण  जान लॉक का प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त सत्रहवीं व अठारहवीं शताब्दी में प्राकृतिक अधिकारों का सिद्धांत अत्यन्त प्रचलित था। सामाजिक संविदा सिद्धान्त के प्रवर्तकों ने यह विचार प्रस्तुत किया कुछ अधिकार राज्य के उद्भव अर्थात् उत्पत्ति के पहले विद्यमान थे अर्थात् ये मानव के पास प्राकृतिक अवस्था में भी मौजूद थे। इसी अधिकार को राजनीतिशास्त्र में प्राकृतिक अधिकार के नाम से सम्बोधित किया जाता है। इन प्राकृतिक अधिकारों का सृजनकर्ता राज्य नहीं था वरन् राज्य का जन्म इन अधिकारों के रक्षा के लिए हुआ है। राज्य का यह दायित्त्व है इन अधिकारों को मान्यता प्रदान कर विधि अथवा कानून के रूप में परिवर्तित कर दे। लॉक ने अपने सामाजिक सम्विदा सिद्धान्त के अन्तर्गत जीवन स्वतंत्रता एवं सम्पत्ति सम्बन्धी अधिकार की श्रेणी में रखा है। ये अधिकार व्यक्ति के व्यक्तित्व में निहित होते हैं, ये सर्वव्यापक एवं असीम होते हैं। प्राकृतिक अधिकारों के प्रवल पोषक लॉक के अनुसार यदि राज्य की प्रकृति प्रदत्त अर्थात् प्रकृति के अधिकारों की रक्षा करने में सफल नहीं होता तो ऐसे