सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सामाजिक परिवर्तन की परिभाषा और विशेषताएँ

सामाजिक परिवर्तन की परिभाषा और विशेषताएँ

समाजिक परिवर्तन से आशय - सामाजिक परिवर्तन से तात्पर्य सामाजिक सम्बन्धों में परिवर्तन से हैं। अतः मैकाइवर और पेज ने भी माना है कि उस परिवर्तन को ही सामाजिक परिवर्तन कहा जायेगा जो सामाजिक सम्बन्धों में मनुष्य समाज की इकाई है। अत. उसमें होने वाले परिवर्तनों का प्रभाव समाज पर भी पड़ता है। दूसरे शब्दों में मानव जीवन में होने वाले परिवर्तन समाज में भी परिवर्तन लाते हैं। इस कारण ही आज जो समाज का रूप है युगों पूर्व उसका यह रूप नही था। संक्षेप में परिवर्तन एक सर्वव्यापी नियम है। मानव समाज का कोई ऐसा अंग नहीं जिसमें सदा कुछ न कुछ परिवर्तन न होता रहता हो। कोई भी समाज जड़ या स्थिर नहीं कहा जा सकता है। इतना अवश्य है कि किसी समाज में यह परिवर्तन बड़ी तीव्रता के साथ होता है तो किसी समाज में मन्द गति से। हम किसी भी ऐसे समाज की कल्पना नहीं कर सकते जिसमें न तो कोई परिवर्तन होता हो और न ही उनमें कोई गतिशीलता हो। वास्तव में संसार की प्रकृति परिवर्तनशील है। समाज का जो ढाँचा सी वर्ष पहले था वह आज नही है और जो आज है वह कल नही होगा दूसरे शब्दों में, समाज में सभी संस्थाएँ संस्कृति, सभ्यता, परम्पराएँ, रूढ़ियाँ समीतियाँ आदि परिवर्तन की प्रक्रिया से प्रभावित होती है। उदाहरण के लिए भारत की वैदिक कालीन सामाजिक व्यवस्था और आज की व्यव में पर्याप्त अन्तर मिलेगा। सामाजिक परिवर्तन की परिभाषाएँ- इसकी प्रमुख परिभाषाएं निम्नलिखित है - 


गिलिन एवं गिलिन के अनुसार - "सामाजिक परिवर्तन जीवन के स्वीकृत प्रतिमानों में परिवर्तन है।" 


किंग्सले एवं डेविस की परिभाषा - "सामाजिक परिवर्तन उन विकल्पों से सम्बन्धित है, जो सामाजिक संगठन में होते हैं अर्थात समाज की संरचना एवं कार्यों में होने वाले परिवर्तन ही सामाजिक परिवर्तन कहलाते हैं।" 


स्पेन्सर की परिभाषा - "सामाजिक परिवर्तन सामाजिक उद्विकास हैं।" 


मैकाइवर एवं पेज के अनुसार- "ऐसे परिवर्तन को ही सामाजिक परिवर्तन मानेंगे जो कि सामाजिक सम्बन्धों में हो।" 


सामाजिक परिवर्तन की विशेषताएँ सामाजिक परिवर्तन की प्रमुख विशेषताएँ निम्नलिखित है - 


1. सामाजिक परिवर्तन एक आवश्यक घटना है। यह परिवर्तन प्रत्येक समाज में होता रहा है और होता रहेगा। 


2. सामाजिक परिवर्तन का प्रभाव सम्पूर्ण समाज पर पड़ता है केवल किसी व्यक्ति या समूह पर नही। 


3. सामाजिक परिवर्तन की गति असमान होती है। किसी समाज में इस परिवर्तन की गति बहुत तीव्र और किसी में मंद होती है। 


4. सामाजिक परिवर्तन एक जटिल तथ्य है और इसकी माप नहीं की जा सकती है। 


5. सामाजिक परिवर्तन की भविष्यवाणी नहीं की जा सकती है और न ही इसके स्वरूप को निर्धारित किया जा सकता है। 


6. सामाजिक परिवर्तन एक सार्वभौमिक घटना है। यह सम्पूर्ण संसार में चलती रहती है। इसका सम्बन्ध किसी स्थान अथवा देश से नही होता है। 


7. सामाजिक परिवर्तन कभी-कभी किन्ह घटनाओं जैसे- बाढ़, भूकम्प, विद्रोह अथवा क्रान्ति आदि से भी प्रभावित होते हैं।



सामाजिक परिवर्तन हेतु शिक्षा का महत्व - 


शिक्षा को समाजिक परिवर्तन का एक सशक्त माध्यम माना गया है समाज ने शिक्षा की व्यवस्था को इसलिए सुदृढ बनाया है ताकि अपेक्षित परिवर्तन लाये जा सकें इन परिवर्तनों हेतु शिक्षा के कई उपाय अग्रलिखित रूप में प्रयोग किये जाते हैं - 


(1) शिक्षा मानव के व्यवहार, जीवन शैली, विचार तथा आदतों से एवं चिन्तन शक्ति में परिवर्तन लाती है एवं उन्हें वांछित दिशा में मोड़कर सामाजिक परिवर्तन का मार्ग प्रशस्त करती है। 


(2) शिक्षा समाज की संस्कृति का हस्तान्तरण, परिवर्तन तथा चयन करके सांस्कृतिक परिवर्तन लाती है। सांस्कृतिक परिवर्तन के फलस्वरूप ही सामाजिक परिवर्तन होता है। 


(3) शिक्षा समाज में व्याप्त बुराइयों तथा कुरीतियों के बारे में जन साधारण को अवगत कराकर उनके विरुद्ध जनमत का निर्माण करती है। उस जनमत के द्वारा ही व्याप्त कुरीतियों तथा बुराइयाँ दूर होती है। 


(4) शिक्षा व्यक्तियों के दृष्टिकोणों को व्यापक एवं उदार बनाती है ताकि वे नवीनताओं को निःसंकोच स्वीकार कर सकें। 


(5) अन्धविश्वासों तथा धार्मिक रूढ़ियों का अन्धानुशरण करने से शिक्षा बचाती हैं। उसे सही दिशा में सोचने एवं वैज्ञानिक ढंग से चिन्तन व विश्लेषण करने हेतु प्रेरित करती है। 


(6) शिक्षा द्वारा वैज्ञानिक प्रगति होती है। नये आविष्कार होते हैं, फलस्वरूप सामाजिक परिवर्तन दृष्टिगोचर होता है। 


(7) शिक्षा समाज की आर्थिक स्थिति को प्रभावित करती है। इस आर्थिक प्रगति के फलस्वरूप सामाजिक परिवर्तन दृष्टिगोचर होते हैं। 


(8) सामाजिक परिवर्तन के मार्ग में जो बाधाएं है शिक्षा उन बाधाओं को दूर कर परिवर्तन की गति को तीव्रता प्रदान करती है। 


(9) सामाजिक परिवर्तनों हेतु सामाजिक कार्यकर्ताओं का निर्माण कर सामाजिक नव चेतना, समाज सेवा एवं जन जागरण का उत्तरदायित्व सौंपती है। 


(10) शिक्षा द्वारा जन मानव का दृष्टिकोण ज्ञान भण्डार द्वारा विकसित होता है तथा आचार-विचार बदलते हैं। 


(11) शिक्षा द्वारा व्यक्तियों की संकीर्ण भावनाएं दूर होती है। वे परस्पर सहयोग की भावना से रहना सीखते हैं तथा व्यापक राष्ट्रीय व सामाजिक कल्याण की भावना को दृष्टिगत रखते हुए कार्य करते हैं। उदाहरणार्थ जातिवाद, प्रान्तीयता तथा क्षेत्रीयता या विवाद के सम्बन्ध में राष्ट्रीय एकता का पाठ पढ़ाया जा सकता है। 


(12) शिक्षा समाज के शाश्वत मूल्यों की रक्षा कर समाज को अवनति के पक्ष पर जाने से रोकती है। 


(13) शिक्षा समाज में हो रहे परिवर्तनों की समीक्षा मूल्यांकन तथा समालोचना कर परिवर्तनों की गति को तीव्र करती है तथा इन्हें अपेक्षित दिशा प्रदान करती है। 


इस प्रकार हम देखते हैं कि परिवर्तन लाने के लिए शिक्षा प्रणाली में परिवर्तन करना पड़ेगा ताकि आधुनिकीकरण की प्रक्रिया तीव्र गति से हो सके।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण  जान लॉक का प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त सत्रहवीं व अठारहवीं शताब्दी में प्राकृतिक अधिकारों का सिद्धांत अत्यन्त प्रचलित था। सामाजिक संविदा सिद्धान्त के प्रवर्तकों ने यह विचार प्रस्तुत किया कुछ अधिकार राज्य के उद्भव अर्थात् उत्पत्ति के पहले विद्यमान थे अर्थात् ये मानव के पास प्राकृतिक अवस्था में भी मौजूद थे। इसी अधिकार को राजनीतिशास्त्र में प्राकृतिक अधिकार के नाम से सम्बोधित किया जाता है। इन प्राकृतिक अधिकारों का सृजनकर्ता राज्य नहीं था वरन् राज्य का जन्म इन अधिकारों के रक्षा के लिए हुआ है। राज्य का यह दायित्त्व है इन अधिकारों को मान्यता प्रदान कर विधि अथवा कानून के रूप में परिवर्तित कर दे। लॉक ने अपने सामाजिक सम्विदा सिद्धान्त के अन्तर्गत जीवन स्वतंत्रता एवं सम्पत्ति सम्बन्धी अधिकार की श्रेणी में रखा है। ये अधिकार व्यक्ति के व्यक्तित्व में निहित होते हैं, ये सर्वव्यापक एवं असीम होते हैं। प्राकृतिक अधिकारों के प्रवल पोषक लॉक के अनुसार यदि राज्य की प्रकृति प्रदत्त अर्थात् प्रकृति के अधिकारों की रक्षा करने में सफल नहीं होता तो ऐसे