सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पर्यावरण एवं प्रदूषण

पर्यावरण एवं प्रदूषण


पर्यावरण का अर्थ - सामान्य अर्थों में पर्यावरण दो शब्दों 'परि + आवरण से मिलकर बना है। यहाँ 'परि से तात्पर्य है 'चारों ओर' तथा आवरण का तात्पर्य है 'ढँका हुआ। इससे यह स्पष्ट होता है कि पर्यावरण का तात्पर्य उन सभी प्राकृतिक और सामाजिक दशाओं से है जो एक प्राणी के जीवन को चारों ओर से घेरे रहती हैं। उदाहरण के लिए, जल, वायु, भूमि की बनावट, तापमान, ऋतुएँ, खनिज पदार्थ, आर्द्रता, विभिन्न जीव, चारों ओर की ध्वनि, उद्योग-धन्धे, उपयोग में लायी जाने वाली विभिन्न प्रकार की वस्तुएँ तथा हमारा सम्पूर्ण सामाजिक जीवन आदि वे दशाएँ हैं जिनसे मानव का जीवन चारों ओर से घिरा रहता है। इस प्रकार इन सभी दशाओं की संयुक्तता को हम मानव का पर्यावरण कहते हैं। इस आधार पर रॉस ने लिखा है, 'पर्यावरण कोई भी वह बाहरी शक्ति है जो हमें प्रभावित करती है। गिस्बर्ट के अनुसार, पर्यावरण का तात्पर्य प्रत्येक उस दशा से है जो किसी तथ्य (वस्तु अथवा मनुष्य) को चारों ओर से घेरे रहती है तथा उसे प्रत्यक्ष रूप से प्रभावित करती. है। पर्यावरण के प्रभाव को स्पष्ट करते हुए मैकाइवर का कथन है कि, 'पर्यावरण जीवन के आरम्भ से ही, यहाँ तक कि उत्पादक कोष्ठों के समय से ही मानव को प्रभावित करने लगता है। इसका तात्पर्य है कि एक बच्चा जब गर्भ में होता है, उसी समय से उसका पर्यावरण अथवा चारों ओर की दशाएँ उसके जीवन को प्रभावित करना आरम्भ कर देती हैं। 


पर्यावरण यद्यपि एक व्यापक अवधारणा है लेकिन पर्यावरण प्रदूषण के सन्दर्भ में इसका मुख्य सम्बन्ध हमारे वातावरण से है। वातावरण के जिस हिस्से में मिट्टी, चट्टाने तथा रेत आदि हैं, उसे हम स्थलमण्डल कहते हैं। दूसरा हिस्सा वह है जो जल क्षेत्रों अथवा समुद्र के रूप में है, इसे जलमण्डल कहा जाता है। स्थलमण्डल और जलमण्डल के ऊपर लगभग 300 किलोमीटर की ऊंचाई तक एक स्त्रीय वातावरण होता है जिसे हम वायुमण्डल कहत हैं। समुद्र की सतह से लगभग 10 किलोमीटर ऊपर तक तथा लगभग इतने ही नीचे तक के हिस्से को जीवमण्डल कहा जाता है क्योंकि यही वह हिस्सा है जिसमें मनुष्य और विभिन्न प्रकार के जीव-जन्तु रहते हैं। मानव समुदाय का लगभग 90 प्रतिशत भाग समुद्र की सतह से 1.5 किलोमीटर ऊँचाई तक की भूमि पर ही निवास करता है। स्वाभाविक है कि मानव जीवन को स्थलमण्डल,जलमण्डल तथा वायुमण्डल का लगभग 2 किलोमीटर ऊँचाई तक का भाग सबसे अधिक प्रभावित करता है। व्यावहारिक रूप से इसी को हम मनुष्य का पर्यावरण कहते हैं। पर्यावरण प्रदूषण-साधारण अर्थ में पर्यावरण में उत्पन्न गंदगी को 'पर्यावरण प्रदूषण' कहा जाता है। लेकिन व्यापक अर्थ में पर्यावरण प्रदूषण वातावरण में गन्दगी और अपवित्रत का बोध कराता । जब हमारे वातावरण में प्राकृतिक तत्वों के सन्तुलन में परिवर्तन हो जाता हैं तो पर्यावरण उससे प्रभावित होने लगता है। नई प्रौद्योगिकी के उपयोग से वातावरण में हानिकारक रसायनों, गैसों और पदार्थों की बहुतायत हो गयी जिससे पर्यावरण के प्राकृतिक रूप को तो हानि पहुँची ही है साथ ही साथ पेड़-पौधों, जीव-जन्तुओं और मानव पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ने लगा। ऐसी स्थिति ही पर्यावरण प्रदूषण कहलाती है। पर्यावरण प्रदूषण के प्रकार-पर्यावरण प्रदूषण मुख्यताः निम्न प्रकार के होते हैं - 


(1) वायु प्रदूषण (2) जल प्रदूषण (3) ध्वनि प्रदूषण (4) मृद्रा प्रदूषण तथा (5) रेडियोधर्मी प्रदूषण। पर्यावरण का मानव जीवन पर प्रभाव-पर्यावरण के मानव जीवन पर निम्नलिखित' प्रभाव दृष्टिगोचर होते हैं, जैसे - 


(1) घातक बीमारियों में वृद्धि - अनेक अध्ययनों से स्पष्ट हुआ है कि पर्यावरण प्रदूषण से अनेक घातक बीमारियों में वृद्धि होती है। इनमें से अधिकांश बीमारियों का सम्बन्ध हृदय, पेट, आँख और त्वचा से है। रक्तविकार, दमें और साँस की बीमारियां, सिर दर्द, अपच, तपेदिक, डायरिया, मानसिक विकार, अनिद्रा तथा एलर्जी आदि पर्यावरण प्रदूषण से उत्पन्न होने वाली बीमारियों हैं। 


(2) अनिद्रा तथा मानसिक रोग - ध्वनि प्रदूषण के कारण औद्योगिक नगरों में मशीनों के बीच काम करने वाले लाखों श्रमिकों में अनिंद्रा और विभिन्न प्रकार के मानसिक रोग उत्पन्न हो जाते हैं। शोर के कारण निरन्तर मानसिक तनाव बने रहने से धीरे-धीरे ऐसे लोगों का वैयक्तिक विघटन होने की सम्भावना बढ़ जाती है। यही वैयक्तिक विघटन बाद में परिवार को विघटित करने लगता है। 


(3) तापमान में वृद्धि - भौगोलिकवादियों का कथन है कि पृथ्वी के तापक्रम में होने वाला कोई भी परिवर्तन सामाजिक अनुकूलन की नयी समस्याएँ उत्पन्न करता है। वैज्ञानिकों का मानना है कि पृथ्वी से लगभग 3,000 किलोमीटर ऊपर ओजोन गैस की परत सूर्य की अल्ट्रावायलेट किरणों को पृथ्वी पर आने से रोकती है। पर्यावरण प्रदूषण के कारण ओजोन गैस की इस परत में बड़े-बड़े छेद हो जाने के कारण पृथ्वी पर सूर्य की अल्ट्रावायलेट किरणों की मात्रा बढ़ गयीं। इसी के फलस्वरूप पृथ्वी का तापमान भी बढ़ने लगा। यदि शीघ्र ही इस समस्या का समाधान नहीं हुआ तो इसका न केवल सम्पूर्ण मानव जाति की। कार्यक्षमता पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा बल्कि अनेक नयी बीमारियां भी उत्पन्न हो जायेंगी। 


(4) वनस्पतियों में कमी - वायु प्रदूषण, जल प्रदूषण तथा मृदा प्रदूषण के फलस्वरूप पृथ्वी पर वनस्पतियों की निरन्तर कर्मी होती जा रही हैं। बढ़ते हुए प्रदूषण से उन वनस्पतियों पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है जो मानव जीवन के लिए बहुत उपयोगी हैं। 


(5) वन्य जीवों का ह्वास - पर्यावरण प्रदूषण का एक प्रमुख प्रभाव वन्य जीवों की घटती हुई संख्या के रूप में देखने को मिलता है। वास्तव में, विभिन्न प्रकार के वन्य जीव जंगलों की स्वच्छता को बनाये रखकर पर्यावरण को स्वच्छ बनाने का काम करते हैं। जंगल में होकर बहने वाली नदियों और नालों का पानी प्रदूषित हो जाने तथा वनों का बुरी तरह कटान होने से जंगली जीव-जन्तुओं की संख्या कम होने लगती है। अन्ततः इससे भी प्रदूषण में वृद्धि होती है। 


(6) अपराधों में वृद्धि - मनोवैज्ञानिकों तथा समाजशास्त्रियों ने विभिन्न सर्वेक्षणों से यह स्पष्ट किया है कि ध्वनि प्रदूषण अपराधों में वृद्धि करने वाला एक प्रमुख कारण हैं। जो व्यक्ति बहुत अधिक शोर के बीचे रहते हैं, उनमें मानसिक तनाव इतने अधिक बढ़ जाते हैं कि वे सरलता से अपराधों की ओर बढ़ने लगते हैं। इसका प्रमाण देते हुए एल्बर्ट ने लिखा है कि गाँवों की अपेक्षा नगरों में तथा नगर की बाहरी बस्तियों की तुलना में कारखानों के आस-पास के क्षेत्रों में रहने वाले लोगों में अपराध की दर अधिक पायी जाती है। 


(7) प्रदूषित फसलों का उत्पादन - मृदा प्रदूषण का एक घातक प्रभाव विषाणुओं से युक्त फसलों का उत्पादन होना है जिसने मानव जीवन को बहुत प्रतिकूल रूप से प्रभावित किया। विभिन्न प्रकार की रासायनिक खादें तथा कीटनाशक दवाइयाँ मिट्टी के अन्दर रहने बाले सूक्ष्म जीवाणुओं को ही नष्ट नहीं करती बल्कि इनके अधिक उपयोग से कृषि उपज में भी विषाणुओं का समावेश हो जाता है। महात्मा गाँधी की अंग्रेज शिष्या सरला बहिन ने लिखा है, विकास के लिए आज रासायनिक खादों और कीटनाशी दवाइयों के उपयोग को बहुत प्रोत्साहन दिया जाता है। अधिक उपज के लिए इनाम और उपाधियाँ भी मिलती हैं। इस लालच से एक किसान ने अपने खेतों में खूब रासायनिक खाद डाली। वह वराबर अपनी फसल में कीटनाशी फुहार करता रहा! उसकी फसल भी इनाम पाने के लायक हुई। पहले दिन जब रसोई में खाना पका तो माँ ने खुशी से अपने छोटे प्यारे बच्चे को भात खिलाया। भात खाते ही उसके प्राण निकल गये। बचे हुए भात को कुत्ते ने खाया तो वह भी मर गया। इस तरह वह सुन्दर फसल मौत की वाहक बन गयीं। सारा का सारा अनाज दफनाना पड़ा।' स्पष्ट है। कि मृदा प्रदूषण अनेक प्रकार से मानव जीवन के लिए अत्यधिक घातक हो सकता है। 


(8) पारिवारिक विघटन – पर्यावरण प्रदूषण अप्रत्यक्ष रूप से हमारे पारिवारिक जीवन को भी विघटित करने वाला एक प्रमुख स्रोत हैं जैसे-जैसे पर्यावरण प्रदूषण में वृद्धि होती है, व्यक्ति की कार्यक्षमता तथा उसके स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ने लगता है। इससे परिवार में आर्थिक समस्याएँ ही उत्पन्न नहीं होतीं बल्कि आजीविका उपार्जित करने वाले सदस्यों में मानसिक तनाव भी बढ़ जाने से सदस्यों के पारस्परिक सम्बन्धों की मधुरता कम होने लगती है। धीरे-धीरे परिवार में बढ़ते हुए तनाव पारिवारिक विघटन की दशा उत्पन्न कर देते हैं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना  रूसो का सामान्य इच्छा सिद्धान्त अवधारणा रूसो की 'सामान्य इच्छा सम्बन्धी सिद्धान्त अथवा अवधारणा आधुनिक राजनीतिक चिन्तन में एक महत्त्वपूर्ण देन है। कुछ विद्वानों के अनुसार वह लोकतन्त्र की आधारशिला है। रूसो के राजनीतिक विचारों में सामान्य इच्छा' का विचार सबसे मौलिक है यद्यपि उसके सम्बन्ध में वह स्वयम् स्पष्ट नहीं है। रूसों के अनुसार प्रारम्भिक समझौते के लिए समाज के समस्त सदस्यों का एक मत होना आवश्यक है, किन्तु बाद में सामान्य इच्छा के अनुसार ही शासन का कार्य होता है। रूसो की सामान्य इच्छा के सन्दर्भ में जोन्स महोदय का कथन उल्लेखनीय है-सामान्य इच्छा का विचार रूसों के सिद्धान्त का न केवल सबसे अधिक केन्द्रिय विचार है, अपितु यह उसका सबसे अधिक और मौलिक व रोचक विचार है। ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह राजनीतिक सिद्धान्त के क्षेत्र में सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण देन है। इसकी उपयोगिता का आधार इसी आधार पर लगाया जा सकता है कांट, हीगल, ग्रीन और बोसांके आदि अंग्रेजी दार्शनिकों की विचारधारा भी इसी पर आधारित थी। रूसो ने अपने सामन्य इच्छा के सन्दर्भ

राज्य की उत्पत्ति के विकासवादी सिद्धांत

राज्य की उत्पत्ति के विकासवादी सिद्धांत  राज्य की उत्पत्ति के ऐतिहासिक विकासवादी सिद्धांत राज्य की उत्पत्ति के सम्बन्ध में अनेक सिद्धान्त प्रचलित हैं। परन्तु गंभीर विवेचना से स्पष्ट होता है कि अन्य सभी सिद्धान्त गलत हैं और उन्होंने राज्य की उत्पत्ति की सही व्याख्या नहीं की है। इस सम्बन्ध में गार्नर का कहना ठीक है कि, "राज्य न तो ईश्वर की कृति है, न किसी उच्च शक्ति का परिणाम, न किसी प्रस्ताव या समझौते की सृष्टि है, न परिवार का विस्तारमात्र" अतः यह प्रश्न उठना स्वाभाविक है कि राज्य की उत्पत्ति का सबसे अच्छा सिद्धान्त कौन है। इस सम्बन्ध में यही कहा जा सकता है कि राज्य विकास का परिणाम है। इसका निर्माण मनुष्य की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए हुआ था और अच्छे जीवन के लिए अब भी चल रहा है। राज्य की उत्पत्ति का सबसे सही और वैज्ञानिक सिद्धान्त विकासवादी या ऐतिहासिक सिद्धान्त को ही कहा जा सकता है। इस सिद्धान्त के अनुसार राज्य की उत्पत्ति एक विकास का परिणाम है। यह विकास धीरे-धीरे क्रम: चलता रहता है। इसी विकास के परिणामस्वरूप राज्य ने वर्तमान का रूप धारण किया है। राज्य की उत्पत्ति और व

तुलनात्मक राजनीति का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth

तुलनात्मक राजनीति  का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth परिचय  राजनीति एक सर्वव्यापी गतिविधि है जो हमारे चारो तरफ हमको देखने को मिल जाती है। प्रारंभ से ही एक  राजनीति व्यवस्था की तुलना दूसरे राजनीति व्यवस्था से की जाती रही है।किसी एक राजनीतिक व्यवस्था की अन्य राजनीतिक व्यवस्था से तुलना करने  के तरीके को सामान्य तुलनात्मक पद्धति कहते है। वास्तव में तुलनात्मक राजनीति का अर्थ और लक्ष्य विभिन्न देशों के मध्य एक राजनीति समस्याओं विषमताओं समानताओं की जानकारी का अध्ययन करना है। इसे हम तुलनात्मक राजनीति कहते हैं। यह समस्या या वह विभिन्नताओं के मिश्रण का परिपेक्ष से विकास करने का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति हमारे समानताओं और विभिन्नताओं का अध्ययन करता है  और उसके द्वारा राज्य के विकास का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति सिद्धांत यह स्पष्ट करता है कि विश्व की सरकार और उनकी क्या परिस्थितियां हैं किस प्रकार से उनका प्रचलन हो रहा है किस प्रकार से सरकारें चल रही हैं। इसके अंतर्गत जो अध्ययन करते हैं पहला राज्य के कार्य दूसरा संगठन, नीति, दबाव समूह का अध्ययन होता है।  अर्थ और