सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पारिवारिक विघटन के कारण

पारिवारिक विघटन के कारण


पारिवारिक विघटन का तात्पर्य है आपसी मतैक्य तथा निष्ठा का भंग होना। सामान्यतः पूर्व के सम्बन्धों का टूट जाना या पारिवारिक चेतना का खात्मा होना पारिवारिक विघटन कहलाता है। पारिवारिक विघटन उस स्थिति में भी होता है जब तलाक के कारण परिवार छिन्न-भिन्न हो गया हो अथवा परिवार के स्वामी के कारण समाप्त हो चुका हो। यद्यपि परिवार के शेष सदस्य फिर भी एक 'गृह' बनाये रखते हैं, परन्तु इसे विघटित परिवार या घर ही कहते हैं। मांवरर ने पारिवारिक विघटन को स्पष्ट करते हुए कहा है, "पारिवारिक विघटन का अभिप्राय पारिवारिक सम्बन्धों में बाधा डालना है। यह संघर्षों के क्रम का बह चरम रूप होता है, जिसने पारिवारिक एकता के लिए खतरा उत्पन्न कर दिया है। यह संघर्ष किसी भी तरह का हो सकता है। संघर्ष के इसी क्रम को उपयुक्त रूप में पारिवारिक विघटन कह सकते हैं। 


पारिवारिक विघटन के कारण -

पारिवारिक विघटन की प्रक्रिया भिन्न-भिन्न समाज में अलग-अलग प्रकार की होती हैं। भारतीय परिवार यद्यपि परिवर्तन के मध्य अवश्य हैं, किन्तु पारिवारिक विधटन की प्रक्रिया उतनी तीव्र और घातक नहीं हैं, जितनी पाश्चात्य समाजों में। भारत में जो भी थोड़ा बहुत पारिवारिक परिवर्तन दिखायी देता है, उसका मूल कारण विदेशी संस्कृति का प्रभाव ही है। यहाँ पर विभिन्न कारणों/कारकों के संयुक्त प्रभाव के फलस्वरूप पारिवारिक विघटन हो रहा है। भारत में पारिवारिक विघटन के लिए निम्नलिखित कारण विशेष रूप से उत्तरदायी हैं। 


1. पाश्चात्य संस्कृति और शिक्षा - पश्चिम की उदारवादी विचारधारा ने भारत में स्त्री-पुरुष की समानता की धारणा को विकसित तथा स्वतन्त्र, स्वाभाविक एवं वैयक्तिक प्रेम की धारणा को भी प्रोत्साहित किया। इसके अन्तर्गत यौन सन्तुष्टि को एक स्वभाविक या सहज आवश्यकता बताया गया तथा विवाह को स्वाभाविक प्रेम पर आधारित एक समझौता माना गया। परिणाम यह हुआ कि समाज में प्रेम विवाह तथा 'सिविल मैरिज की धारणा विकसित हुई। इन वैचारिक परिवर्तनों का स्त्री-पुरुषों के परम्परागत सम्बन्धों पर गहरा प्रभाव पड़ा है, जिससे परिवार विघटित हुए हैं। रोमसि पर आधारित विवाहों में भोग-बिलास तथा विषय-सुख की भावना की प्रधानता होने से विवाह का आधार मजबूत नहीं होता। विवाह की सफलता तथा पारिवारिक जीवन की सुख शान्ति हेतु पारिवारिक सहयोग, त्याग, विश्वास, मैत्री एवं स्नेह भाव अत्यावश्यक है। विवाह को रोमान्सवादी आदर्श जो भोग-विलास तथा विषयसुख की कामना पर अपने आपको आधारित करता है, परिवार को विघटित करने के परवश होता है। 


2. धार्मिक प्रभाव में ह्वास - भारत में ईश्वर तथा धर्म के प्रभाव के घटने तथा नास्तिकता एवं धर्मनिरपेक्षता बढ़ने से भी परिवार का नियन्त्रण शिथिल हुआ है। समकालीन समाज में भौतिकता और वैज्ञानिकता में धर्म के प्रभाव को कम कर दिया है। पहले धर्म का सामाजिक नियन्त्रण के एक साधन के रूप में इतना महत्व था कि व्यक्ति धर्मच्युत होने का विचार नहीं लाता था। 


3. आर्थिक कारण - भारत में हाए औद्योगीकरण के कारण यहाँ स्वियों पुरुषों की व्यावसायिक तथा भौगोलिक गतिशीलता में काफी वृद्धि हुई है। परम्परागत उद्योग लगभग नष्टप्राय हैं। सापेक्षिक दृष्टि से वियों की आर्थिक आत्मनिर्भरता और स्वतंत्रता में पर्याप्त वृद्धि हुई है। इसके अतिरिक्त वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए एक बड़े परिवार के सभी सदस्यों का एक ही स्थान पर संयुक्त रूप से निवास करते रहना भी सम्भव नहीं रहा है। स्त्रियों का बाहरी लोगों के साथ सम्पर्क बढ़ा है। अतः बहुत सी स्त्रियाँ अपनी पारिवारिक जिम्मेदारियों को ठीक से नहीं निभा पाती हैं। फलतः उनके पति, सास-ससुर असन्तुष्ट रहते हैं। यह स्थिति आगे चलकर पहले पारिवारिक तनाव, फिर विघटन में परिवर्तित हो जाती है। 


4. संयुक्त परिवार का ह्वस - वर्तमान समय में परिवार उत्पादन के केन्द्र के स्थान पर उपभोग का केन्द्र रह गया है। आज परिवार के अनेक कार्य विशेषीकृत् समितियों करने लगी हैं। व्यक्ति यह अनुभव करने लगा है कि संयुक्त परिवार से पृथक होकर भी वह अपने जीवन में आगे बढ़ सकता है, अपनी उन्नति एवं प्रगति अपेक्षाकृत अधिक अच्छे ढंग से कर सकता है। स्पष्ट है कि परिवार के परम्परागत कार्यों की घटना भी पारिवारिक विघटन का एक कारण है। 


5. प्रतिकूल परिस्थिति - नौकरी छूट जाना बेरोजगारी, व्यापार में घाटा, आर्थिक दशा का बिगड़ जाना, लम्बी बीमारी, आदि व्यक्ति की मानसिक शक्ति भंग करती है। इन परिस्थितियों में व्यक्ति अपने परिवार का भरण-पोषण ठीक ढंग से नहीं कर पाता। वह आर्थिक समस्याओं में इतना उलझा हुआ होता है कि अपने परिवार के प्रति पर्याप्त ध्यान नहीं दे पाता है। इस दिशा में परिवार के सदस्यों के पारस्परिक सम्बन्ध बिगड़ते हैं, जिससे पारिवारिक विघटन होता है। 


6. नगरीकरण - पाश्चात्य वैज्ञानिक प्रौद्योगिकी औद्योगीकरण तथा संचार और यातायात साधनों के विकास ने भारत में नगरीकरण प्रक्रिया को प्रोत्साहित किया है। देश के करोड़ों ग्रामीण रोजी-रोटी, शिक्षा, स्वास्थ्य सुविधाओं की खोज में, नगरों में रहने लगे हैं। नगरी में उनके परिवार नाभिक या एकाकी होते हैं। नगरवासी बहुधा एकान्तप्रिय होते हैं। नगरों में व्यक्तिवादी भावना की प्रधानता होती है आधुनिकता की ओर झुकाव होता है। यहाँ पर माता-पिता एवं युवाओं के आदर्शों, विचारों, सामाजिक मूल्यों और जीवन शैली सम्बन्धी भिन्नता के कारण तनाव पाया जाता है। स्पष्ट है कि नंगरीय परिस्थिति संयुक्त परिवार में परिवर्तन और एकाकी परिवार की रचना को प्रेरणा देती है। 


7. सामाजिक मूल्यों में मत विभिन्नता - बच्चीं और माता-पिता के आदर्शों मूल्यों एवं विचारों में मतैक्य नहीं हो पा रहा है, जबकि पारिवारिक एकता हेतु मतैक्य का होना आवश्यक है। मतैक्य के अभाव में परिवार में तनाव पैदा होता है। बच्चे नवीन मूल्यों एवं विचारों को प्राथमिकता देते है तो माता-पिता परम्परागत मूल्यों को फलतः बच्चे परिवार से दूर भागते हैं। कभी-कभी मूल्यों एवं विचारों की भिन्नता के कारण पति-पत्नी में भी तनाव हो। जाता है। इस तनाव का अन्त पारिवारिक विघटन के रूप में होता है। 


8. वैधानिक अधिनियम - समय-समय पर सरकार द्वारा पारित कानूनों के कारण भी पारिवारिक विघटन को बल मिला है। वैधानिक दृष्टि से विवाह को सामाजिक समझौता' के रूप में मान्यता प्रदान की गयी है। अब अन्य कारणों के अतिरिक्त पति-पत्नी आपसी सहमति के आधार पर भी विवाह विच्छेद कर सकते हैं। आज व्यक्ति परिवार को सामाजिक जीवन की दृष्टि से उतनी महत्त्वपूर्ण इकाई नहीं मानते, जितनी कि पहले मानते थे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण  जान लॉक का प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त सत्रहवीं व अठारहवीं शताब्दी में प्राकृतिक अधिकारों का सिद्धांत अत्यन्त प्रचलित था। सामाजिक संविदा सिद्धान्त के प्रवर्तकों ने यह विचार प्रस्तुत किया कुछ अधिकार राज्य के उद्भव अर्थात् उत्पत्ति के पहले विद्यमान थे अर्थात् ये मानव के पास प्राकृतिक अवस्था में भी मौजूद थे। इसी अधिकार को राजनीतिशास्त्र में प्राकृतिक अधिकार के नाम से सम्बोधित किया जाता है। इन प्राकृतिक अधिकारों का सृजनकर्ता राज्य नहीं था वरन् राज्य का जन्म इन अधिकारों के रक्षा के लिए हुआ है। राज्य का यह दायित्त्व है इन अधिकारों को मान्यता प्रदान कर विधि अथवा कानून के रूप में परिवर्तित कर दे। लॉक ने अपने सामाजिक सम्विदा सिद्धान्त के अन्तर्गत जीवन स्वतंत्रता एवं सम्पत्ति सम्बन्धी अधिकार की श्रेणी में रखा है। ये अधिकार व्यक्ति के व्यक्तित्व में निहित होते हैं, ये सर्वव्यापक एवं असीम होते हैं। प्राकृतिक अधिकारों के प्रवल पोषक लॉक के अनुसार यदि राज्य की प्रकृति प्रदत्त अर्थात् प्रकृति के अधिकारों की रक्षा करने में सफल नहीं होता तो ऐसे