सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जातिवाद का अर्थ,परिभाषा, कारण, दुष्परिणाम

जातिवाद का अर्थ,परिभाषा, कारण, दुष्परिणाम


जातिवाद का अर्थ - सामान्य शब्दों में जातिवाद से हमारा अभिप्राय उस मानसिकता, भावना व व्यवहार से हैं जिसमें कोई व्यक्ति विशेष या जाति समूह विशेष अपने ही जाति के सदस्यों को अन्य जातियों की तुलना में पूर्व धारणा के अनुसार ज्यादा महत्व देता है। 

जातिवाद की परिभाषा - 


डॉ. आर. एन. शर्मा के अनुसार -"जातिवाद जाति अथवा उपजाति के प्रति एक अंध समूह भक्ति है जो कि अन्य जातियों के हितों की चिन्ता नहीं करती है और अपने समूह के सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक एवं अन्य हितों को प्राप्त करने की चेष्टा करती है। श्री के. एम. पाणिकर के अनुसार-"राजनीति की भाषा में उपजाति के प्रति निष्ठा की भावना ही जातिवाद है।" 


काका केलकर के अनुसार -"जातिवाद एक अवाधित अन्ध और सर्वोच्च समूह भक्ति है, जो कि न्याय, औचित्य, समानतः और विश्व बन्धुत्व की उपेक्षा करती है।" डॉ. एन. प्रसाद के अनुसार-“जातिवाद राजनीति में परिणित जाति के प्रति निष्ठा है ।" 


जातिवाद के विकास के कारण - 


(1) जाति व्यवस्था - जाति की परम्परा स्वयं जातिवाद का सबसे बड़ा, मुख्य वआधारभूत कारण रहा है। जाति व्यवस्था समाज की व्यवस्था व आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए बनाई गई थीं, परन्तु इसके दुष्प्रभावों का ध्यान नहीं रखा गया। ऐसी व्यवस्था से क्या लाभ जो बाद में स्वयं ही जहर बन जाये । भारतीय समाज की विशिष्ट संस्था जाति एवं स्वयं जातिवाद की जननी कही जा सकती है। वैसे जातिवाद आधुनिक भारत की देन है। 


(2 ) मानव प्रकृति - जाति प्रथा का विकास मानव प्रकृति के अनुरूप घटना है। मानव स्वाभावतः स्वार्थी वे अहंकारी जानवर है और इसी प्रवृत्ति की वजह से यह अपनी ही. जाति के अन्य लोगों के ऊपर शासन करने व शोषण करने से बाज नहीं आता है। अपने स्वार्थों की पूर्ति के लिए अपने जातिगत समूह की मदद लेता हैं और जातिवाद को बढ़ावा देता हैं। 


( 3 ) विवाह सम्बन्धी प्रतिबन्ध - भारतीय समाज में विवाह सम्बन्ध केवल स्वजाति' में स्थापित करना अनुमोदित है इससे विभिन्न जातियों के बीच सामाजिक व सांस्कृतिक दूरी बढ़ जाती है। इस कारण अतःक्रिया का अवसर कम मिल पाता है। प्रत्येक जाति की एक उप संस्कृति विकसित हो जाती है और अतंतः यह परिस्थितियां जातिवाद को बढ़ावा देती है। 


(4) राजनीतिक कारण - भारत में आज प्रजातन्त्र के बजाय जातितन्त्र का वातावरण बना हुआ है। भारत की प्रजातन्त्रात्मक व्यवस्था व आधुनिक राजनीति ने जातिवाद को बढ़ावा दिया है। आधुनिक राजनीतिज्ञों ने विभिन्न जातियों को वोट बैंक बना रखा है। अनुसूचित जाति तथा जनजाति की संरक्षण नीति के पीछे इसी बोट बैंक की भावना नि्हित है। 


( 5) यातायात व संचार की सुविधाएँ - आधुनिक समय में यातायात व संचार के साधनों में वृद्धि होने से जातिवाद को बढ़ावा मिला है। बिखरे हुई जातिगत समूहों के मध्य सम्पर्क स्थापित हो, गया है, जाति परिषद का दायरा विकसित हुआ है। इसके अतिरिक्त पत्र पत्रिकाओं के माध्यम से जातियों ने अपनी विचारधारा को फैलाने का प्रयास किया है। 


जातिवाद के दुष्परिणाम - 


(1) जातिवाद से अन्य समस्याएँ जैसे सम्प्रदायवाद, सामाजिक विघटन, सामाजिक तनाव, भ्रष्टाचार, पक्षपात, अस्पृश्यता को बढ़ावा मिलता है। 

(2) जातिवाद कट्टरवाद व पिछड़ेपन का परिचायक होने के साथ-साथ देश की प्रगति व विकास में बाधक तत्व है।

(3) जातिवाद देश की एकता व अखण्डता के लिए खतरा उत्पन्न करता है। 

(4) जातिवाद औद्योगिक व प्रशासनिक कुशलता में भी बाधा डालता है।

(5) जातिवाद के बन्धन से व्यवसायों का खुलकर विकास नहीं हो पाता और प्रायः व्यवसाय के चयन में लोगों को पूर्ण आजादी नहीं मिल पाती है।

(6) जातिवाद से सामाजिक गतिशीलता में रुकावट आती है। 

(7) जातिवाद व्यक्तित्व के विकास में बाधक है।

(8) विदेशी कूटनीतिज्ञ जातिवाद व सम्प्रदायवाद के सहारे देश को प्रगति के मार्ग से हटाने का प्रयास करते हैं। 

(9) जातिवाद विभिन्न संस्कृतियों के आदान-प्रदान में बाधक है। 


जातिवाद को दूर करने के उपाय - 


(1) नैतिक एवं राष्ट्रीय शिक्षा - जातिवाद की समस्या के समाधान हेतु सबसे उचित उपाय यह है कि लोगों की मानसिकता ही बदल दी जाय। इसके लिए नैतिक शिक्षा का प्रचार-प्रसार किया जाना चाहिए। शिक्षा इस प्रकार की होनी चाहिए कि लोगों में राष्ट्रीय चरित्र का विकास हो सके। राष्ट्रीय भावना का विकास इस प्रकार का होना चाहिए कि जाति जैसे समूह को लोग द्वैतीयक और राष्ट्र को प्राथमिक मानने लगे। 


(2) अन्तर्जातीय विवाह को प्रोत्साहन - विडम्बना की बात है कि आज भी भारत में एक प्रतिशत अन्तर्जातीय विवाह नहीं होते हैं। जो होते भी है वह प्रेम विवाह होते हैं। लोग अन्य जातियों में विवाह इसलिए नहीं करते हैं कि वे जातिगत बन्धन को दूर करना चाहते हैं बल्कि इसलिए करते हैं। क्योंकि वे शारीरिक व अन्य पक्षों से आकर्षित होकर विवाह करते हैं और ये झूठा स्वांग रचाते हैं कि मैंने तो अन्तर्जातीय विवाह सम्बन्ध स्थापित किया है । आज इतना जरूर है कि प्रेम के सामने जाति के बन्धन को तोड़ने में लोग अब उतनी हिचकिचाहट व विरोध नहीं महसूस करते जितना कि आज से एक दशक पहले हुआ करता था। सही अर्थों में अन्तर्जातीय विवाह की प्रथा व पद्धति जातिवाद व जाति प्रथा को समूल नष्ट कर सकता है। सहशिक्षा इस प्रकार के विवाह के लिए सहायक पद्धति है। 


( 3 ) जाति संगठनों पर रोक - जाति संगठनों पर रोक लगना चाहिए, क्योंकि ये संगठन जाति की प्रथा एवं परम्परा को अनावश्यक रूप से तीव्रता के साथ क्रियान्वित करवाने का प्रयास करते हैं और जातिवाद को बढ़ावा देते हैं। 


(4) औद्योगीकरण व नगरीकरण - इन प्रक्रियाओं के कारण जातिगत दूरी, खाने पीने की पावन्दी, वैवाहिक प्रतिबन्धों में शिथिलता आयेगी और जातिवाद को रोका जा सकता हैं। 


(5) कानूनी उपाय-जातिवाद को रोकने के लिए उचित सामाजिक अधिनियमों को प्रतिपादित किया जाना चाहिए। जाति के आधार पर भेदभाव नहीं किया जाना चाहिए। अनुसूचित जाति व जनजाति का आरक्षण जाति के आधार पर न करके आर्थिक स्थिति के आधार पर किया जाना चाहिए। अस्पृश्यता निवारण अधिनियम इस दिशा में सराहनीय कदम हैं। नौकरी के आवेदन पत्रों, विद्यालयों में प्रवेश आवेदन पत्रों में जाति का कालम समाप्त कर दिया जाना चाहिए। 


( 6) प्रचार - जातिवाद की बुराई से सामान्य जनता को अवगत कराया जाना चाहिए। मनोवैज्ञानिक व समाजशास्त्रियों की मदद से जातिवाद की कमियों तथा इसके निराकरण के लिए प्रचार किया जाना चाहिए। इसके लिए स्वस्थ्य जनमत का निर्माण किया जाना चाहिए। 


(7) शुद्ध राजनीति - आधुनिक भारत में राजनीति को अगर जातिवाद का एक मात्र निर्णायक कारण माना जाए तो कोई अतिशोक्ति नहीं होगी। भ्रष्टं व मूल्यविहीन राजनेताओं ने जातिगत भावनाओं को शोषित कर अपनी कुर्सी को सुनिश्चित करने का प्रयास किया हैं। जब तक देश की राजनीति में नैतिकता की भावना नहीं आयेगी, जातिवाद जैसी समस्याएँ हमारे लिए सिरदर्द बनी रहेंगी।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण  जान लॉक का प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त सत्रहवीं व अठारहवीं शताब्दी में प्राकृतिक अधिकारों का सिद्धांत अत्यन्त प्रचलित था। सामाजिक संविदा सिद्धान्त के प्रवर्तकों ने यह विचार प्रस्तुत किया कुछ अधिकार राज्य के उद्भव अर्थात् उत्पत्ति के पहले विद्यमान थे अर्थात् ये मानव के पास प्राकृतिक अवस्था में भी मौजूद थे। इसी अधिकार को राजनीतिशास्त्र में प्राकृतिक अधिकार के नाम से सम्बोधित किया जाता है। इन प्राकृतिक अधिकारों का सृजनकर्ता राज्य नहीं था वरन् राज्य का जन्म इन अधिकारों के रक्षा के लिए हुआ है। राज्य का यह दायित्त्व है इन अधिकारों को मान्यता प्रदान कर विधि अथवा कानून के रूप में परिवर्तित कर दे। लॉक ने अपने सामाजिक सम्विदा सिद्धान्त के अन्तर्गत जीवन स्वतंत्रता एवं सम्पत्ति सम्बन्धी अधिकार की श्रेणी में रखा है। ये अधिकार व्यक्ति के व्यक्तित्व में निहित होते हैं, ये सर्वव्यापक एवं असीम होते हैं। प्राकृतिक अधिकारों के प्रवल पोषक लॉक के अनुसार यदि राज्य की प्रकृति प्रदत्त अर्थात् प्रकृति के अधिकारों की रक्षा करने में सफल नहीं होता तो ऐसे