सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

हड़प्पा सभ्यता की नगर योजना

हड़प्पा सभ्यता की नगर योजना

हड़प्पा के नगर जाल की तरह व्यवस्थित थे। तदनुसार सड़क एक दूसरे को समकोण पर काटती थी। प्रत्येक नगर दो भागों में विभक्त थे - पश्चिमी टीले एवं पूर्वी टीले। पश्चिमी टीले अपेक्षाकृत ऊँचे, किन्तु छोटे होते थे। इन टीलों पर किले अथवा दुर्ग स्थित थे। पूर्वी टीले पर नगर या आवास क्षेत्र के साक्ष्य मिले हैं। यह टीला अपेक्षाकृत बड़ा था। इसमें सामान्य नागरिक, व्यापारी, शिल्पकार, कारीगर और श्रमिक रहते थे दुर्ग के अन्दर मुख्यतः महत्वूपर्ण प्रशासनिक और सार्वजनिक भवन तथा अन्नागार स्थित थे।

सामान्यतः पश्चिमी टीला एक रक्षा प्राचीन से घिरा होता था जबकि पूर्वी टीला नहीं। इसके कुछ अपवाद भी है जैसे- कालीबंगा का नगर क्षेत्र भी रक्षा प्राचीर से युक्त था। लोथल और सुरकोटडा में अलग अलग दो टीले नहीं मिले हैं, बल्कि सम्पूर्ण क्षेत्र एक ही रक्षा प्राचीर से घिरे हुए थे, जबकि चन्हूदड़ों एकमात्र ऐसा नगर है कि जो दुर्गीकृत नहीं था। धौलावीरा का नगर तीन इकाइयों में बँटा था। पहले यह समझा जाता था कि हड़प्पा के सभी नगर पश्चिमी और पूर्वी भागों में विभाजित थे। परन्तु यह पूर्णतः सहीं नहीं है क्योंकि बड़े बड़े सार्वजनिक भवन, बाजार, छोटे बड़े रिहायशी मकान और शिल्पकलाएं लगभग सभी इलाकों में पायी गयी है।

प्रत्येक नगर में कई सेक्टर या टीले (माउन्ट) ऊंची दीवार से घिरे हुये थे जो अलग अलग दिशाओं में बंटे हुए थे। मोहन जोदड़ो, हड़प्पा और कालीबंगा से पश्चिम की ओर एक ऊंचा आयताकार टीला है और उत्तर, दक्षिण तथा पूरब की ओर विस्तृत टीला है, लेकिन धौलीवीरा और बनवाली स्थलों पर दीवार से घिरा एक ही टीला है क्योंकि आन्तरिक कप से तीन या चार दीवार से घिरे सेक्टरों में विभाजित है। मोहनजोदड़ों, हड़प्पा, कालीबंगा, सुरकोटडा जैसे हड़प्पाई नगर स्थलों की खुदाई से पता चला है कि नगर में करने के लिए बाहरी चहारदीवारी यानि परकोटे में कई बड़े प्रवेश द्वार होते थे। 

धौलावीरा में एक बड़ा उत्कीर्ण लेख सम्भवतः गिरा हुआ साइनबोर्ड, मुख्य प्रवेश द्वार के पास मिला है। इस लेख वर्य किसी भी हड़ण्पाई नगर से अब तक प्राप्त लिखावट के सबसे बड़े नमूने हैं। यह र एक काठ की तख्ती पर खुदाई करके उसमें सफेद चूना (जिप्सम) भरकर तैयार की दस स संकेताक्षर हैं, जिनमें से प्रत्येक की ऊंचाई 37 सेमी. और चौड़ाई 25 से समी और उनके द्वारा कोई नाम या शीर्ष बताया गया है। जब यह नामपट्ट प्रवेशद्वार पर रंगा होता होगा तो दूर से दिखाई देता रहा होगा। सिन्धु सभ्यता के नगरों में प्रत्येक आवासीय भवन के बीच में एक ऑगन होता था। 

जिसके तीन या चारों ओर चार-पांच कमरे, एक सागर और एक स्नानघर होता था। अधिकांश घरों में कुओं भी होता था। सामान्यतः मकान पक्की ईंटों के बने हुए मिले हैं। कालीबंगा में पकी हुई ईंटों का प्रयोग केवल नालियों, कुओं तथा दहलीजों के निर्माण के लिये किया गया है। मकानों में मिली सीढ़ियों से पता चलता है कि दो मंजिले भवन भी बनते थे। घरों के दरवाजे एवं खिड़कियां मुख्य सड़क में न खुलकर गलियों में खुलते थे, पर्नु लोथल इसका अपवाद है जहाँ के दरवाजे एवं खिड़कियाँ मुख्य सड़कों की ओर खुलते थे। मिट्टी को कूटकर, कच्ची ईंटें या पक्की ईंटें बिछाकर मकानों के फर्श बनाए जाते थे। कुछ भवनों के दीवारों पर प्लास्टर के भी साक्ष्य मिले हैं यद्यपि मकान बनाने में कई प्रकार के इंटों का उपयोग होता था, किन्तु सबसे प्रचलित आकार 4:2:1 का था। घरों का पानी बहकर सड़कों तक आता था, जहाँ इनके नीचे मोरियाँ बनी हुई थी ये मोरियाँ ईंटों और पत्थरों की सिल्लियों से ढ़की रहती थी। इन मोरियों में नरमोखे (मेनहोल) भी बने थे। कांस्य युग की दूसरी किसी सभ्यता ने स्वास्थ्य और सफाई को इतना महत्व नहीं दिया जितना कि हड़प्पा संस्कृति के लोगों ने दिया।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना  रूसो का सामान्य इच्छा सिद्धान्त अवधारणा रूसो की 'सामान्य इच्छा सम्बन्धी सिद्धान्त अथवा अवधारणा आधुनिक राजनीतिक चिन्तन में एक महत्त्वपूर्ण देन है। कुछ विद्वानों के अनुसार वह लोकतन्त्र की आधारशिला है। रूसो के राजनीतिक विचारों में सामान्य इच्छा' का विचार सबसे मौलिक है यद्यपि उसके सम्बन्ध में वह स्वयम् स्पष्ट नहीं है। रूसों के अनुसार प्रारम्भिक समझौते के लिए समाज के समस्त सदस्यों का एक मत होना आवश्यक है, किन्तु बाद में सामान्य इच्छा के अनुसार ही शासन का कार्य होता है। रूसो की सामान्य इच्छा के सन्दर्भ में जोन्स महोदय का कथन उल्लेखनीय है-सामान्य इच्छा का विचार रूसों के सिद्धान्त का न केवल सबसे अधिक केन्द्रिय विचार है, अपितु यह उसका सबसे अधिक और मौलिक व रोचक विचार है। ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह राजनीतिक सिद्धान्त के क्षेत्र में सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण देन है। इसकी उपयोगिता का आधार इसी आधार पर लगाया जा सकता है कांट, हीगल, ग्रीन और बोसांके आदि अंग्रेजी दार्शनिकों की विचारधारा भी इसी पर आधारित थी। रूसो ने अपने सामन्य इच्छा के सन्दर्भ

राज्य की उत्पत्ति के विकासवादी सिद्धांत

राज्य की उत्पत्ति के विकासवादी सिद्धांत  राज्य की उत्पत्ति के ऐतिहासिक विकासवादी सिद्धांत राज्य की उत्पत्ति के सम्बन्ध में अनेक सिद्धान्त प्रचलित हैं। परन्तु गंभीर विवेचना से स्पष्ट होता है कि अन्य सभी सिद्धान्त गलत हैं और उन्होंने राज्य की उत्पत्ति की सही व्याख्या नहीं की है। इस सम्बन्ध में गार्नर का कहना ठीक है कि, "राज्य न तो ईश्वर की कृति है, न किसी उच्च शक्ति का परिणाम, न किसी प्रस्ताव या समझौते की सृष्टि है, न परिवार का विस्तारमात्र" अतः यह प्रश्न उठना स्वाभाविक है कि राज्य की उत्पत्ति का सबसे अच्छा सिद्धान्त कौन है। इस सम्बन्ध में यही कहा जा सकता है कि राज्य विकास का परिणाम है। इसका निर्माण मनुष्य की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए हुआ था और अच्छे जीवन के लिए अब भी चल रहा है। राज्य की उत्पत्ति का सबसे सही और वैज्ञानिक सिद्धान्त विकासवादी या ऐतिहासिक सिद्धान्त को ही कहा जा सकता है। इस सिद्धान्त के अनुसार राज्य की उत्पत्ति एक विकास का परिणाम है। यह विकास धीरे-धीरे क्रम: चलता रहता है। इसी विकास के परिणामस्वरूप राज्य ने वर्तमान का रूप धारण किया है। राज्य की उत्पत्ति और व

तुलनात्मक राजनीति का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth

तुलनात्मक राजनीति  का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth परिचय  राजनीति एक सर्वव्यापी गतिविधि है जो हमारे चारो तरफ हमको देखने को मिल जाती है। प्रारंभ से ही एक  राजनीति व्यवस्था की तुलना दूसरे राजनीति व्यवस्था से की जाती रही है।किसी एक राजनीतिक व्यवस्था की अन्य राजनीतिक व्यवस्था से तुलना करने  के तरीके को सामान्य तुलनात्मक पद्धति कहते है। वास्तव में तुलनात्मक राजनीति का अर्थ और लक्ष्य विभिन्न देशों के मध्य एक राजनीति समस्याओं विषमताओं समानताओं की जानकारी का अध्ययन करना है। इसे हम तुलनात्मक राजनीति कहते हैं। यह समस्या या वह विभिन्नताओं के मिश्रण का परिपेक्ष से विकास करने का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति हमारे समानताओं और विभिन्नताओं का अध्ययन करता है  और उसके द्वारा राज्य के विकास का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति सिद्धांत यह स्पष्ट करता है कि विश्व की सरकार और उनकी क्या परिस्थितियां हैं किस प्रकार से उनका प्रचलन हो रहा है किस प्रकार से सरकारें चल रही हैं। इसके अंतर्गत जो अध्ययन करते हैं पहला राज्य के कार्य दूसरा संगठन, नीति, दबाव समूह का अध्ययन होता है।  अर्थ और