सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

भारत में सामाजिक विघटन

भारत में सामाजिक विघटन

 क्या भारतीय समाज आज विघटन की स्थिति में हैं? यह एक ऐसा प्रश्न है जिसका उत्तर देना कठिन है। अधिकांश विद्वानों का यह मत है कि आज भारत सामाजिक विघटन के सभी लक्षण देखे जा सकते हैं। भारतीय समाज में मतैक्य का अभाव पाया जाता है। राष्ट्रीय महत्त्व के प्रमुख मुद्दों पर सरकार एवं विरोधी दलों में स्पष्ट मतभेद हैं तथा समाज के संस्थागत आधारों एवं मूल संस्थाओं में नैतिक पतन के कारण काफी डास हुआ है। सार्वजनिक जीवन में अष्टाचार का बोलबाला है तथा साम्प्रदायिकता अशिक्षा, अपोषण, अपराध बे बालापराच, अन्धविश्वास,वेरोजगारी, निर्धनता, जातिवाद, मद्यपान व मादक इला व्यसन वेश्यावृत्ति, भिक्षावृत्ति, आत्महत्या, अस्पृश्यता तथा अनेक अन्य समस्याओं में निरन्तर वृद्धि आदि समाज में विघटन के स्पष्ट लक्षण हैं। जाति व्यवस्था जातिवाद का रूप धारण कर चुकी है तथा आज भी अनेक राज्यों में जातीय आधार पर दंगों के उदाहरण मिलते हैं। सरकारी प्रयासों के बावजूद निम्न जातियों का तथा जनजातियों का शोषण आज भी हो रहा हैं। संयुक्त परिवार पर परिवर्तन की प्रक्रियाओं का स्पष्ट प्रभाव पड़ा है जिसके कारण यह एकाकी परिवारों का रूप ग्रहण करता जा रहा है, परिवार के प्रति लगाव कम होता जा रहा तथा परिवार टूटने लगे हैं जोकि बच्चों पर प्रभाव की दृष्टि से उचित नहीं है। टूटे तका भगन परिवार विविध प्रकार की समस्याओं को पैदा करके विघटन की प्रक्रिया को प्रोत्साहन देते हैं। 


परिवर्तन की सभी प्रमुख प्रक्रियाओं - संस्कृतिकरण (Sanskritization), नगरीकरण व औद्योगीकरण (Urbanization and Industrialization), पश्चिमीकरण व आधुनिकीकरण (Westernization and Modernization), सार्वभौमिकरण व स्थानीयकरण (Universalization and Parochialization), तथा लौकिकीकरण (Secularization)-ने परम्परागत तथा आधुनिक मूल्यों में संघर्ष की स्थिति पैदा कर दी है जिससे समाज के परम्परागत मूल आधारों को आघात पहुंचा है। व्यक्तियों में असामंजस्य की वृद्धि हुई है तथा विविध प्रकार की समस्याएं पैदा हुई है एम. एन. श्रीनिवास, मैकिम मैरियट, एस. सी. दुबे, बजराज चौहान, एम० एस. ए. राव, योगेन्द्र सिंह, आन्द्रे बेतेई, कैथलीन गफ, ए, आर. देसाई, आई. पी. देसाई, एम. एम. गोरे तथा अनेक अन्य विद्वानों ने जो अध्ययन किए हैं उनसे हमें ग्रामीण एवं नगरीय समाज में होने वाले परिवर्तनों तथा परम्परा व आधुनिकता में संघर्ष की स्थिति के बारे में पता चलता है। डॉ. राधाकमल मुकर्जी ने औद्योगीकरण को सामाजिक विघटन का प्रमुख कारण बताया है क्योंकि एक ओर औद्योगीकरण जाति व्यवस्था एवं संयुक्त परिवारों में परिवर्तन द्वारा असामंजस्य की स्थिति पैदा कर रहा है ओर औद्योगीकरण का असन्तुलित विकास स्वयं में विघटन उत्पन्न करने वाला है। प्रो॰ केवल मोटवानी ने जनसंख्या को विस्फोट साम्प्रदायिक तनाव, राजनीतिक व क्षेत्रीय तनाव, औद्योगीकरण आदि के संयुक्त प्रभावों को सामाजिक विघटन लाने के लिए उत्तरदायी माना है। इन्होंने तो भारत की आत्मा के बन्दी होने तथा निकट भविष्य में इसके नष्ट होने के खतरे के प्रति सभी को सचेत भी किया है। 


कुछ विद्वानों का कहना है कि भारत में सामाजिक समस्याओं में वृद्धि, परम्परागत तथा आधुनिक मूल्यों में द्वैतता व संघर्ष, समाज के परम्परागत आधारों में परिवर्तन वस्तुतः विघटन न होकर परिवर्तनशील समाज में होने वाले स्वाभाविक परिवर्तन हैं। जैसे-जैसे हमारे समाज ने नवीन मूल्यों को अपनाया है- नवीन मिश्रित अर्थव्यवस्था का विकास हुआ है,प्रजातान्व्रिक प्रणाली को स्वतन्त्रता प्राप्ति के पश्चात् अपनाया गया है तथा भारतीय संविधान द्वारा भारत को धर्मनिरपेक्ष (लौकिक) राज्य घोषित किया गया है, सब को बिना किसी लिंग, जाति, प्रजाति, रंग, सम्प्रदाय के भेद के समान अधिकार दिए गए हैं - वैसे-वैसे कुछ मूलभूत परम्परागत संस्थाओं की प्रकृति में परिवर्तन हुए हैं ये परिवर्तन इन सभी प्रक्रियाओं के स्वाभाविक परिणामी के रूप में हुए हैं, न किं संगठन से विघटन की ओर। यह तो वह कीमत है जो प्रत्येक प्रगतिशील समाज देता है और फिर भला भारतीय समाज इसमें अपवाद कैसे हो सकता है। आज भारतीय समाज के तीनी स्तम्भ-गांव, जाति व्यवस्था तथा संयुक्त परिवार प्रणाली-अपना महत्त्व बनाए हुए हैं। 


कुछ भी हो, यह तो स्वीकार करना ही पड़ेगा कि आज भारतीय समाज में विघटित समाज के लगभग सभी लक्षण विद्यमान हैं। अगर इन्हें रोकने तथा बनी हुई समस्याओं पर काबू पाने का कोई प्रभावशाली प्रयास नहीं किया गया नो निश्चित रूप से हमें विघटन के परिणामों को भुगतना होगा।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण  जान लॉक का प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त सत्रहवीं व अठारहवीं शताब्दी में प्राकृतिक अधिकारों का सिद्धांत अत्यन्त प्रचलित था। सामाजिक संविदा सिद्धान्त के प्रवर्तकों ने यह विचार प्रस्तुत किया कुछ अधिकार राज्य के उद्भव अर्थात् उत्पत्ति के पहले विद्यमान थे अर्थात् ये मानव के पास प्राकृतिक अवस्था में भी मौजूद थे। इसी अधिकार को राजनीतिशास्त्र में प्राकृतिक अधिकार के नाम से सम्बोधित किया जाता है। इन प्राकृतिक अधिकारों का सृजनकर्ता राज्य नहीं था वरन् राज्य का जन्म इन अधिकारों के रक्षा के लिए हुआ है। राज्य का यह दायित्त्व है इन अधिकारों को मान्यता प्रदान कर विधि अथवा कानून के रूप में परिवर्तित कर दे। लॉक ने अपने सामाजिक सम्विदा सिद्धान्त के अन्तर्गत जीवन स्वतंत्रता एवं सम्पत्ति सम्बन्धी अधिकार की श्रेणी में रखा है। ये अधिकार व्यक्ति के व्यक्तित्व में निहित होते हैं, ये सर्वव्यापक एवं असीम होते हैं। प्राकृतिक अधिकारों के प्रवल पोषक लॉक के अनुसार यदि राज्य की प्रकृति प्रदत्त अर्थात् प्रकृति के अधिकारों की रक्षा करने में सफल नहीं होता तो ऐसे