सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

भारत में सामाजिक विघटन के कारण

 भारत में सामाजिक विघटन के कारण


भारत में सामाजिक विघटन की समस्या को विभिन्न विद्वानों ने भिन्न-भिन्न आधारों पर स्पष्ट किया है। डॉ. राधाकमल मुकर्जी ने औद्योगीकरण के असन्तुलित विकास को सामाजिक विघटन का कारण मानते हुए कहा है कि भारत में औद्योगीकरण हमारे सम्बन्धी के सम्पूर्ण प्रतिमान को परिवर्तित कर रहा है जबकि जाति और संयुक्त परिवारों के सम्बन्ध औद्योगिक जीवन के अनुकूल नहीं है। इसके फलस्वरूप आज अस्समंजरव तथा उत्पीड़न समाज-विरोधी मनोवृत्तियों का आधार बन गया है। इसका तात्पर्य है कि औद्योगीकरण ने विवाह, परिवार तथा जाति जैसी सामाजिक संस्थाओं में परिवर्तन उत्पन्न करके सांस्कृतिक मूल्यों तथा मनोवृत्तियों को नया स्वरूप देकर, प्रथाओं. एवं परम्पराओं के प्रभाव को कम करके तथा सांस्कृतिक मूल्यों के स्थान पर हितवादी सम्बन्धी में वृद्धि करके भारत में सामाजिक विघटन की समस्या उत्पन्न की है। केवल मोटवानी (K. Morwani) का कथन कि जनसंख्या का विस्फोट: जनसंख्या का असन्तुलन, सांप्रदायिक, राजनीतिक क्षेत्रीय तथा धार्मिक ननाव: आधुनिक वैज्ञानिक प्रविधियां तथा अति औद्योगीकरण, इन सभी के संयुक्त प्रभाव से एक गम्भीर स्थिति उत्पन्न हो गई है। भारत की आत्मा आज पूर्णतया बन्दी है और इसके निकट भविष्य में नष्ट हो जाने का खतरा बना हुआ है।" डॉ. गोविन्दस्वामी (M. V. Govinda--Swamy) ने भी पाश्चात्य विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी को भारतीय सामाजिक विघटन के मूल कारण के रूप में स्पष्ट किया है। 


भारत में सामाजिक विघटन के कारण - इसके प्रमुख कारण निम्न है - 


(1) जाति-व्यवस्था तथा अस्पृश्यता (Caste System and Casteism) - भारत में जाति-व्यवस्था एक लम्बे समय से सामाजिक विघटन का कारण रही है। जाति व्यवस्था विभिन्न जातीय समूहों के बीच खान-पान, विवाह, सामाजिक सम्बन्धों और व्यवसाय की दूरी पर बल देती हैं और विभिन्न जातियों को परस्पर विरोधी समूहों में विभाजित करती है। इसके फलस्वरूप व्यक्ति अपने सम्पूर्ण समाज के लिए उतना बफादार नहीं रहता जितना कि अपनी जाति के लिए। जाति-व्यवस्था विभिन्न जातियों के बीच सामाजिक अधिकारों को लेकर तनाव की स्थिति भी उत्पन्न करती है। सामाजिक भेदभाव, कुछ जातियों के विशेषाधिकारों और असमानता की नीति पर आधारित होने के कारण भी जाति-व्यवस्था ने सामाजिक संगठन को अपार क्षति पहुँचाई है। अस्पृश्यता भी जाति-व्यवस्था की ही उपज है इसने भारतीय समाज के करोड़ों लोगों को सभी प्रकार के सामाजिक, आर्थिक, धार्मिक तथा राजनीतिक अधिकारों से वंचित करके समाज के सामने अनेक गम्भीर समस्याएं उत्पन्न की हैं। ये सभी परिस्थितियां घृणा, फूट और शोषण के बीज बोकर भारतीय समाज को विघटित कर रही हैं। 


(2) सामाजिक कुरीतियाँ (Social Evils)- भारत में आज सामाजिक कुरीतियों की संख्या इतनी अधिक है कि समाज का पूरा सन्तुलन लगभग नष्ट हो चुका है। ऐसी कुरीतियों में दहेज-प्रथा, स्त्रियों का शोषण, बाल-विवाह, धार्मिक कर्मकाण्डौं की बहुलता, अन्धविश्वासों का प्रचलन, अन्तर्विवाह, कुलीन विवाह तथा विवाह विच्छेद पर नियन्त्रण आदि हमारी प्रमुख समस्याएँ हैं। इनमें से प्रत्येक समस्या व्यक्तिगत और पारिवारिक जीवन को विघटित करके सामाजिक विघटन में वृद्धि करती है। दहेज प्रथा के कारण समाज की संरचना को बहुत क्षति पहुंची है क्योंकि प्रत्येक व्यक्ति आर्थिक रूप से धन की बचत करता रहता है। इसके अतिरिक्त धार्मिक कर्मकाण्डों तथा अन्धविश्वासों के कारण भी हमारे समाज में ऋणग्रस्तता की समस्या बहुत उग्र रूप धारण कर चुकी है। बाल-विवाह के कारण पति और पत्नी के बीच असमंजस्य और तनाव की स्थिति उत्पन्न होती है। अन्तर्विवाह और कुलीन विवाह ने समाज में व्यक्ति के सम्बन्धों का क्षेत्र इतना सीमित कर दिया है कि एक स्वस्थ राष्ट्रीय जीवन का विकास ही नहीं हो पाता। विधवाओं की निम्न स्थति तथा विवाह विच्छेद पर सामाजिक नियन्वषा होने के कारण पुरुषों को स्त्रियों का मनमाना शोषण करने की खुली छूट मिल गई है। इसके फलस्वरूप समाज में वेश्यावृत्ति तथा अनैतिकता में भी वृद्धि होती है। ये सभी परिस्थितियों सामाजिक विघटन का कारण और परिणाम दोनों ही हैं। 


(3) सांस्कृतिक असन्तुलन (Cultural Ambivalence)- सामाजिक संगठन के लिए भौतिक और अभौतिक संस्कृति में सन्तुलन बने रहना आवश्यक होता है। भारत में आज अभौतिक संस्कृति अपने परम्परागत रूप में ही है जबकि भौतिक संस्कृति में बहुत तेजी से परिवर्तन हो रहे हैं। एक ओर हमारा समाज भौतिक उपलब्धियों और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में बहुत आगे बढ़ गया है लेकिन दूसरी ओर तरह-तरह के अन्धविश्वास, सामाजिक कुरीतियाँ, धार्मिक कर्मकाण्डा, छुआछूत की भावना और शकुन-अपशकुन के विचार हमारी सामाजिक प्रगति में गम्भीर बाधा उत्पन्न कर रहे हैं। 


(4) परस्पर-विरोधी सामाजिक मनोवृत्तियाँ (Conflicting Social Attitudes)-भारत में आज अनेक ऐसे नए मूल्यों का विकास हुआ है जो हमारी संस्कृति से मेल नहीं खाते। उदाहरण के लिए, समाज के बड़े वर्ग द्वारा अपनी सामाजिक और आर्थिक स्थिति के प्रति सन्तुष्ट न रहना, अष्ट साधनों के द्वारा आर्थिक साधन एकत्रित करने को महत्व देना, श्रमिकों द्वारा हड़ताल को ही अपनी सफलता का एकमात्र साधन समझना, अपने व्यक्तिगत स्वार्थी के लिए सार्वजनिक सम्पत्ति का कुछ व्यक्तियों द्वारा दुरुपयोग करना, युवकों द्वारा सामाजिक व्यवस्था में अधिक से अधिक अधिकारों की मांग करना, आदि कुछ ऐसी मनोवृत्तियां है ज हमारी सामाजिक व्यवस्था को गम्मीर रूप से हानि पहुँचा रही हैं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना  रूसो का सामान्य इच्छा सिद्धान्त अवधारणा रूसो की 'सामान्य इच्छा सम्बन्धी सिद्धान्त अथवा अवधारणा आधुनिक राजनीतिक चिन्तन में एक महत्त्वपूर्ण देन है। कुछ विद्वानों के अनुसार वह लोकतन्त्र की आधारशिला है। रूसो के राजनीतिक विचारों में सामान्य इच्छा' का विचार सबसे मौलिक है यद्यपि उसके सम्बन्ध में वह स्वयम् स्पष्ट नहीं है। रूसों के अनुसार प्रारम्भिक समझौते के लिए समाज के समस्त सदस्यों का एक मत होना आवश्यक है, किन्तु बाद में सामान्य इच्छा के अनुसार ही शासन का कार्य होता है। रूसो की सामान्य इच्छा के सन्दर्भ में जोन्स महोदय का कथन उल्लेखनीय है-सामान्य इच्छा का विचार रूसों के सिद्धान्त का न केवल सबसे अधिक केन्द्रिय विचार है, अपितु यह उसका सबसे अधिक और मौलिक व रोचक विचार है। ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह राजनीतिक सिद्धान्त के क्षेत्र में सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण देन है। इसकी उपयोगिता का आधार इसी आधार पर लगाया जा सकता है कांट, हीगल, ग्रीन और बोसांके आदि अंग्रेजी दार्शनिकों की विचारधारा भी इसी पर आधारित थी। रूसो ने अपने सामन्य इच्छा के सन्दर्भ

राज्य की उत्पत्ति के विकासवादी सिद्धांत

राज्य की उत्पत्ति के विकासवादी सिद्धांत  राज्य की उत्पत्ति के ऐतिहासिक विकासवादी सिद्धांत राज्य की उत्पत्ति के सम्बन्ध में अनेक सिद्धान्त प्रचलित हैं। परन्तु गंभीर विवेचना से स्पष्ट होता है कि अन्य सभी सिद्धान्त गलत हैं और उन्होंने राज्य की उत्पत्ति की सही व्याख्या नहीं की है। इस सम्बन्ध में गार्नर का कहना ठीक है कि, "राज्य न तो ईश्वर की कृति है, न किसी उच्च शक्ति का परिणाम, न किसी प्रस्ताव या समझौते की सृष्टि है, न परिवार का विस्तारमात्र" अतः यह प्रश्न उठना स्वाभाविक है कि राज्य की उत्पत्ति का सबसे अच्छा सिद्धान्त कौन है। इस सम्बन्ध में यही कहा जा सकता है कि राज्य विकास का परिणाम है। इसका निर्माण मनुष्य की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए हुआ था और अच्छे जीवन के लिए अब भी चल रहा है। राज्य की उत्पत्ति का सबसे सही और वैज्ञानिक सिद्धान्त विकासवादी या ऐतिहासिक सिद्धान्त को ही कहा जा सकता है। इस सिद्धान्त के अनुसार राज्य की उत्पत्ति एक विकास का परिणाम है। यह विकास धीरे-धीरे क्रम: चलता रहता है। इसी विकास के परिणामस्वरूप राज्य ने वर्तमान का रूप धारण किया है। राज्य की उत्पत्ति और व

तुलनात्मक राजनीति का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth

तुलनात्मक राजनीति  का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth परिचय  राजनीति एक सर्वव्यापी गतिविधि है जो हमारे चारो तरफ हमको देखने को मिल जाती है। प्रारंभ से ही एक  राजनीति व्यवस्था की तुलना दूसरे राजनीति व्यवस्था से की जाती रही है।किसी एक राजनीतिक व्यवस्था की अन्य राजनीतिक व्यवस्था से तुलना करने  के तरीके को सामान्य तुलनात्मक पद्धति कहते है। वास्तव में तुलनात्मक राजनीति का अर्थ और लक्ष्य विभिन्न देशों के मध्य एक राजनीति समस्याओं विषमताओं समानताओं की जानकारी का अध्ययन करना है। इसे हम तुलनात्मक राजनीति कहते हैं। यह समस्या या वह विभिन्नताओं के मिश्रण का परिपेक्ष से विकास करने का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति हमारे समानताओं और विभिन्नताओं का अध्ययन करता है  और उसके द्वारा राज्य के विकास का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति सिद्धांत यह स्पष्ट करता है कि विश्व की सरकार और उनकी क्या परिस्थितियां हैं किस प्रकार से उनका प्रचलन हो रहा है किस प्रकार से सरकारें चल रही हैं। इसके अंतर्गत जो अध्ययन करते हैं पहला राज्य के कार्य दूसरा संगठन, नीति, दबाव समूह का अध्ययन होता है।  अर्थ और