सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आतंकवाद का अर्थ, स्वरूप, तकनीक, दुष्परिणाम एवं कारण

आतंकवाद का अर्थ, स्वरूप, तकनीक, दुष्परिणाम एवं कारण


आतंकवाद का अर्थ - आतंकवाद एक ऐसी प्रक्रिया है, जिसमें समाज के ही कुछ व्यक्ति या समूह हथियारों के सहायता से जन सामान्य में डर का वातावरण पैदा करते हैं। इनका उद्देश्य हिंसा के द्वारा लोगों में भय उत्पन्न करना होता है जिससे कि सम्बन्धित. क्षेत्र, समस्त व्यवस्था जातिहीन हो जाये और वे अपने उद्देश्यों की पूर्ति आसानी से कर सकें। 


इस प्रकार हम कह सकते हैं कि आतंकवाद का आधार अपने उद्देश्यों की पूर्ति के लिए बल प्रयोग में निहित है। जब कोई छोटा समूह या कुछ व्यक्ति यह अनुभव करने लगते हैं कि अपने उद्देश्यों की पूर्ति शान्तिपूर्वक तथा संवैधानिक तरीकों से नहीं कर पायेगे तब वह अपने उद्देश्यों की पूर्ति के लिए बल प्रयोग, शक्ति तथा हिंसा का सहारा लेते हैं। संगठित शक्ति का प्रयोग करने में वह व्यक्ति अथवा व्यक्ति समूह अनेक कारणों से अक्षम होते हैं। ऐसी स्थिति में वह व्यक्तिगत स्तर पुर अथवा छोटे गुट के रूप में अपने उद्देश्यों की पूर्ति के लिए शक्ति का प्रयोग करने लगते हैं और इस प्रकार आतंकवाद का जन्म होता है। 


लॉगमैन माडर्न इंग्लिश डिक्शनरी के अनुसार, "शासन करने या राजनीतिक विरोध प्रकट करने के लिए भय को एक विधि के रूप में उपयोग करने की नीति को प्रेरित करना आतंकवाद कहलाता है। 


आतंकवाद का स्वरूप - 


स्वतन्त्रता के पूर्व भी भारत में आतंकवाद उपस्थित था परन्तु तब इसका उद्देश्य भारत से ब्रिटिश शासन को समाप्त करना था। आतंकवाद अपने वर्तमान स्वरूप में भारत में स्वतन्त्रता की प्राप्ति के साथ ही उपस्थित हो गया था इसके प्रथम लक्षण स्वतन्त्रता की प्राप्ति के साथ ही तब उजागर हुए जब तेलंगाना में साम्यवादियों ने हिंसक विद्रोह कर दिया। बाद में तेलंगाना आन्दोलन असफल हो गया लेकिन देश के अन्य भागों में और विशेषकर भारत के उत्तर-पूर्वी क्षेत्रों में आतंकवाद उभरने लगा। संगठित रूप से आतंकवाद नागालैण्ड में सामने आया जब फिजो ने 'नागा राष्ट्रीय परिषद का गठन किया और अपने उद्देश्यों की पूर्ति के लिए प्रशिक्षित गुरिल्ला दस्तों का गठन किया। अपने इस कार्य में नागाओं को अनेक सीमावर्ती विदेशी राज्यों, से सुविधायें तथा साधन प्राप्त हुए। इसी प्रकार बाद में मिजोरम में लालडेगा ने 'मिजो नेशनल फ्रंट' तथा विश्वेसर सिंह ने मणिपुर में पीपुल्स लेबरेशन आर्मी के रूप में आतंकवादी संगठनों की स्थापना की। हाल के वर्षों में मिजोरम को भारत का अंग माना तथा भारतीय संविधान के अन्तर्गत कार्य करने का निश्चय किया। 


भारत में आतंकवाद का सबसे भयावह स्वरूप पंजाब में खालिस्तान के समर्थकों प्रस्तुत किया। सिख आतंकवाद प्रारम्भ करने का श्रेय जरनैल सिंह भिंडरवाले को दिया जा सकता है। भिंडरवाले की गतिविधियों के कारण सिखों का प्रसिद्ध तीर्थस्थल अमृतसर का स्वर्ण मंदिर उग्रवादियों का गढ़ बन गया और वहाँ से हिंसा की कार्यवाहियों का संचालन होने लगा। इसे नियंत्रित करने के लिए जून, 1984 में भारत सरकार को बाध्य होकर सेना का उपयोग करना पड़ा। 'ऑपरेशन ब्लू स्टार' नामक इस कार्यवाही में उग्रवादियों की संगठित शक्ति को समाप्त कर दिया गया परन्तु उसके बाद उग्रवादी छोटे-छोटे गुटों में बँट गये और उन्होंने अनेक व्यक्तियों की हत्यायें की। यहाँ तक कि प्रधानमंत्री इन्दिरा गाँधी की हत्या भी उग्रवादियों के समर्थकों ने 30 अक्टूबर 1984 को कर दी। इन्दिरा गाँधी की हत्या के विरोध में अनेक स्थानों पर हुए दंगों में सिखों को जन-धन की हानि उठानी पड़ी जिसके कारण हिन्दू सिख सम्प्रदाय के मध्य विद्वेष की भावना बढ़ गयी। मई 1985 को दिल्ली तथा कुछ अन्य स्थानों पर 'ट्रांजिस्टेर बम काण्ड' हुए जिनके कारण अनेक व्यक्ति मारे गये तथा घायल हुए। इन्हीं परिस्थितियों में शांति तथा सद्भावना की स्थापना के उद्देश्य से प्रधानमंत्री राजीव गाँधी तथा अकाली दल के नेता संत हरचन्द सिंह लोगोंवाल का एक समझौता 24 जुलाई, 1985 को हुआ लेकिन 20 अगस्त, 1985 को सन्त लोगोंवाल की हत्या कर दी गयी और इस प्रकार 'राजीव लोगोंवाल' समझौते को प्रथम आघात लगा। अकाली दल की नवगठित सरकार मुख्यमंत्री सुरजीत सिंह बरनाला के नेतृत्व में आतंकवादियों से निपटने के पूर्ण प्रयत्न करती रही और केन्द्र से उसे पूर्ण सहयोग तथा सहायता प्राप्त होती रही। लेकिन सिख आतंकवाद सीमित भले ही हुआ हों, इसके पूर्णरूपेण समाप्त होने के आसार भविष्य में नजर नहीं आते। 


भारत में आतंकवाद की चर्चा नक्सलवादी आन्दोलन की चर्चा किए बिना समाप्त नहीं हो सकती। छठे दशक में नक्सलवाद एक शक्ति बनने लगा था और इसका प्रभाव बढ़ने लगा था परन्तु अपनी फूट और मतभेदों तथा जनसमर्थन के अभाव में नक्सलवादी आन्दोलन धीरे-धीरे बिखर गया। 


आतंकवाद की तकनीक - 


आतंकवाद वह विचारधारा अथवा कार्य पद्धति है जो बल प्रयोग द्वारा आतंक कर सरकारों को अपनी मांगों की पूर्ति के लिए बाध्य करते हैं। इस दृष्टि से आतंकवाद में अग्रलिखित तकनीकं पायी जाती है 


1. आतंकवाद अपने उद्देश्यों की पूर्ति के लिए हिंसा और बल प्रयोग में विश्वास रखता है। 


2. आतंकवाद का उद्देश्य हिंसा के द्वारा सामान्य जनता में भय और असुरक्षा की भावना उत्पन्न करना है। 


3. असुरक्षा की भावना के द्वारा आतंकवाद समाज में अस्थिरता उत्पन्न करनाचाहता है। जिससे शासन के प्रति अविश्वास की भावना उत्पन्न हो सके। 


4. सरकार के प्रति असन्तोष उत्पन्न कर आतंकवाद ऐसी स्थिति उत्पन्न कर देता है जिसमें वह स्वयं ही अपने उद्देश्यों की पूर्ति कर सके अथवा सरकार कमजोर होकर उसकी मांगों को स्वीकार कर ले। 


आतंकवाद के कारण - 


भारत में आतंकवाद की उत्पत्ति और विकास के अनेक कारण हैं। इस पर हम नीचे विस्तार से वर्णन करेंगे - 


1. भारत में आतंकवाद के बीज ब्रिटिश शासन की विरासत हैं अंग्रेजों की 'विभाजन करो और शासन करो' की नीति ने भारत में अनेक असंतुष्ट गुटों को जन्म दिया। स्वतन्त्रता के पश्चात् जब यह असंतुष्ट गुट शान्तिपूर्ण संवैधानिक तरीकों से अपने उद्देश्यों में सफल नहीं हुए और उन्हें जन समर्थन प्राप्त नहीं हुआ तो इन्होंने अपने उद्देश्यों की पूर्ति के लिए आतंकवाद का सहारा लिया। 


2. विदेशी शक्तियों के प्रोत्साहन के कारण भी भारत में आतंकवाद को पनपने और विकसित होने में सहायता प्राप्त हुई। उत्तर पूर्वी अंचलों में चीन ने आतंकवादियों को न केवल सहायता पहुँचाई। अपितु इन्हें साधन भी उपलब्ध कराये हैं। इसी प्रकार पंजाब में पाकिस्तान द्वारा आतंकवादियों को प्रशिक्षण देने तथा साधन उपलब्ध कराने के प्रमाण भी स्पष्ट हैं। अमेरिका और कुछ अन्य पश्चिमी देशों ने पंजाब के आंतकवादियों के प्रति न केवल सहानुभूतिपूर्ण रूपं अपनाया है अपितु प्रत्यक्ष अथवा परोक्ष रूप से उन्हें प्रोत्साहित किया है। 


3. समाज के विभिन्न वर्गों में व्याप्त आर्थिक तथा सामाजिक असंतोष भी भारत में आतंकवाद का एक कारण है। स्वतन्त्रता के पश्चात् भारत ने प्रगति की है इस सम्बन्ध में दो राय नहीं हो सकती। लेकिन इस तथ्य को भी अस्वीकार नहीं किया जा सकता कि इस प्रगति का लाभ आम जनता तक नहीं पहुंच पाया है। इसी प्रकार सामाजिक क्षेत्र में भी न्याय की स्थापना में सफलता प्राप्त नहीं हुई हैं। परिणामस्वरूप असंतुष्ट वर्ग यदि आतंकवाद की ओर आकर्षित होता है तो वह स्वाभाविक है। 


4. दलगत राजनीति भी आतंकवाद को प्रोत्साहन प्रदान कर रही है। सत्ता की होड़ में विभिन्न दल और राजनीतिज्ञ कभी-कभी तो आतंकवादियों की सहायता प्राप्त करते हैं इसके साथ ही निर्वाचनों में मतदाताओं का समर्थन प्राप्त करने के लिए भी राजनीतिक दल और राजनीतिज्ञ हितों की उपेक्षा कर आतंकवाद के प्रति कठोर रुख नहीं अपनाते। 


5. धार्मिक संकीर्णता भी भारत में आतंकवाद की उत्पत्ति तथा विकास में एक सहायक तत्व रहा है। धर्म के नाम पर आतंकवादी जनता की सहानुभूति तथा समर्थन प्राप्त करने में सफल हो जाते हैं। पंजाब में तो आतंकवाद का मुख्य आधार ही सिख धर्म से सम्बन्धित भावनाओं को गलत ढंग से उभारा जाना है। 


दुष्परिणाम - 


उपरोक्त बातों को ध्यान में रखते हुए हम कह सकते हैं कि आतंकवादी वह विचारधारा अथवा कार्यपद्धति है जो बल प्रयोग द्वारा आतंक उत्पन्न कर सरकारों को अपनी माँगों की पूर्ति के लिए बाध्य करते हैं जिससे जनता को अनेक दुष्परिणाम सहन करने पड़ते हैं जो निम्न हैं, जैसे 


1. आतंकवाद अपने उद्देश्यों की पूर्ति के लिए हिंसा और बल प्रयोग में विश्वास रखता है। जिससे लाखों निर्दोषों की जाने जाती हैं। 


2. आतंकवाद का उद्देश्य हिंसा के द्वारा सामान्य जनता में भय और असुरक्षा की भावना उत्पन्न करना है। इससे आम जनता में असुरक्षा की भावना रहती है तथा वह अपने किसी भी कार्य को सुचारुरूप से नहीं कर पाते हैं। इस कारण पूरे राष्ट्र के विकास की गति धीमी पड़ जाती है। 


3. असुरक्षा की भावना के द्वारा आतंकवाद समाज में अस्थिरता उत्पन्न करना चाहता है। जिससे शासन के प्रति अविश्वास की भावना उत्पन्न हो सके इस उद्देश्य में काफी हद तक आतंकवादी सफल हो जाते हैं क्योंकि सरकारें आतंकवाद का पूर्ण रूप से निराकरण नहीं कर पाती हैं। 

निवारण -

 आतंकवाद का निवारण कोई सरल कार्य नहीं है। यह तो निश्चित है कि केवल सैन्य शक्ति अथवा बल प्रयोग के द्वारा आतंकवाद को समाप्त नहीं किया जा सकता, यह भी स्पष्ट है कि आतंकवाद को थोड़े समय में ही समाप्त नहीं किया जा सुकता। इसके लिए लम्बी अवधि में एक साथ ही अनेक क्षेत्रों में प्रयत्न करने पड़ेंगे। राष्ट्रीय चेतना को जागृत कर ऐसी स्थिति उत्पन्न करनी पड़ेगी जिसमें आतंकवादियों को सहानुभूति प्राप्त नहीं हो सके। यह निश्चित है कि आतंकवाद के विरुद्ध बनाई गयी कोई भी योजना तब तक सफल नहीं हो सकती जब तक उसे जनसमर्थन प्राप्त नहीं, केवल सरकारी आधार पर शक्ति प्रयोग द्वारा ही आतंकवाद समाप्त नहीं हो सकता। आर्थिक असंतोष, सामाजिक अन्याय, धार्मिक असुरक्षा आदि को दूर करने के लिए ठोस कदम उठाने पड़ेंगे। सबसे महत्वपूर्ण बात यह. हैं कि आतंकवाद के विरुद्ध प्रबल जनशक्ति संगठित करनी पड़ेगी और तभी इसके समाप्त होने की आशा बंधेगी।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

तुलनात्मक राजनीति का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth

तुलनात्मक राजनीति  का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth परिचय  राजनीति एक सर्वव्यापी गतिविधि है जो हमारे चारो तरफ हमको देखने को मिल जाती है। प्रारंभ से ही एक  राजनीति व्यवस्था की तुलना दूसरे राजनीति व्यवस्था से की जाती रही है।किसी एक राजनीतिक व्यवस्था की अन्य राजनीतिक व्यवस्था से तुलना करने  के तरीके को सामान्य तुलनात्मक पद्धति कहते है। वास्तव में तुलनात्मक राजनीति का अर्थ और लक्ष्य विभिन्न देशों के मध्य एक राजनीति समस्याओं विषमताओं समानताओं की जानकारी का अध्ययन करना है। इसे हम तुलनात्मक राजनीति कहते हैं। यह समस्या या वह विभिन्नताओं के मिश्रण का परिपेक्ष से विकास करने का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति हमारे समानताओं और विभिन्नताओं का अध्ययन करता है  और उसके द्वारा राज्य के विकास का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति सिद्धांत यह स्पष्ट करता है कि विश्व की सरकार और उनकी क्या परिस्थितियां हैं किस प्रकार से उनका प्रचलन हो रहा है किस प्रकार से सरकारें चल रही हैं। इसके अंतर्गत जो अध्ययन करते हैं पहला राज्य के कार्य दूसरा संगठन, नीति, दबाव समूह का अध्ययन होता है।  अर्थ और

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना  रूसो का सामान्य इच्छा सिद्धान्त अवधारणा रूसो की 'सामान्य इच्छा सम्बन्धी सिद्धान्त अथवा अवधारणा आधुनिक राजनीतिक चिन्तन में एक महत्त्वपूर्ण देन है। कुछ विद्वानों के अनुसार वह लोकतन्त्र की आधारशिला है। रूसो के राजनीतिक विचारों में सामान्य इच्छा' का विचार सबसे मौलिक है यद्यपि उसके सम्बन्ध में वह स्वयम् स्पष्ट नहीं है। रूसों के अनुसार प्रारम्भिक समझौते के लिए समाज के समस्त सदस्यों का एक मत होना आवश्यक है, किन्तु बाद में सामान्य इच्छा के अनुसार ही शासन का कार्य होता है। रूसो की सामान्य इच्छा के सन्दर्भ में जोन्स महोदय का कथन उल्लेखनीय है-सामान्य इच्छा का विचार रूसों के सिद्धान्त का न केवल सबसे अधिक केन्द्रिय विचार है, अपितु यह उसका सबसे अधिक और मौलिक व रोचक विचार है। ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह राजनीतिक सिद्धान्त के क्षेत्र में सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण देन है। इसकी उपयोगिता का आधार इसी आधार पर लगाया जा सकता है कांट, हीगल, ग्रीन और बोसांके आदि अंग्रेजी दार्शनिकों की विचारधारा भी इसी पर आधारित थी। रूसो ने अपने सामन्य इच्छा के सन्दर्भ

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam 1857 के महान विद्रोह (1857 के भारतीय विद्रोह, 1857 के महान विद्रोह, महान विद्रोह, भारतीय सेप्पी विद्रोह) को ब्रिटिश शासन के खिलाफ भारत का स्वतंत्रता संग्राम माना जाता है। 1857 आंदोलन एक राष्ट्रीय उभर रहा था, जो भारतीयों के दिल में एक मजबूत आग्रह से प्रेरित था, जिससे देश मुक्त हो गया। यह ब्रिटिश शासन की स्थापना के बाद भारत के इतिहास में सबसे उल्लेखनीय एकल घटना थी। यह भारत में सदी के पुराने ब्रिटिश शासन का नतीजा था। भारतीयों के पिछले विद्रोहों की तुलना में, 1857 का महान विद्रोह एक बड़ा आयाम था और यह समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों की भागीदारी के साथ लगभग अखिल भारतीय चरित्र ग्रहण करता था। यह विद्रोह कंपनी के सिपाही द्वारा शुरू किया गया था। इसलिए इसे आमतौर पर 'सेप्पी विद्रोह' कहा जाता है। लेकिन यह सिर्फ सिपाही का विद्रोह नहीं था। इतिहासकारों ने महसूस किया है कि यह एक महान विद्रोह था और इसे सिर्फ एक सिपाही विद्रोह कहने के लिए अनुचित होगा। हमारे इतिहासकार अब इसे विभिन्न ना