सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आन्तरिक पीढ़ी संघर्ष की समस्या

 आन्तरिक पीढ़ी संघर्ष की समस्या



आन्तरिक पीढ़ी संघर्ष की समस्या (Problem of Intra-Generation Conflict) - 


कार्ल मानहीन (Karl Mannheim) ने स्पष्ट किया है कि पीढ़ियों से सम्बन्धित समस्या एक विशेष समाजशास्त्रीय घटना है जिसका सम्बन्ध जन्म और मृत्यु के द्वारा समाज में नये समूहों के निर्माण और पुराने समूहों के निरसन (elimination) के रूप में देखने को मिलता है। अभी तक आयु को केवल एक जैविकीय तथ्य, मानकर ठसे समाजशास्त्रीय अध्ययन का विषय नहीं समझा जाता था। धीरे-धीरे जब समाजशास्त्रियों का ध्यान आयु के आधार पर बनने वाली पीढ़ियों और विभिन्न पीढ़ियों से सम्बन्धित सुंधर्षों की और जाना शुरू हुआ तो इसे सामाजिक परिवर्तन और सामाजिक तनावों के एक प्रमुख आधार के रूप में देखा जाने लगा। 


आन्तरिक पीढ़ी संघर्ष समाजशास्त्रीय रूप से एक विवादपूर्ण विषय रहा है साधारणतया यह माना जाता है कि जिन व्यक्तियों से एक पीढ़ी की रचना होती है, उनकी आयु. लगभग समान होने के कारण उनके विचारों, मनोवृत्तियों, मूल्यों और व्यवहारों में किसी तरह का अन्तर नहीं होता। इस कारण एक ही पीढ़ी के सदस्यों के बीच सामाजिक संघर्ष इतने गम्भीर नहीं होते कि उन्हें एक समस्या के रूप में देखा जाय। दसरी ओर, अनेक समाजशास्त्रियों ने पारिवारिक जीवन से सम्बन्धित समस्याओं के अध्ययन में आन्तरिक पीढ़ी संघर्ष की भी एक प्रमुख समस्या के रूप में स्पष्ट किया है। उनका मानना है कि उदाहरण के लिए, विवाह के समय- वर और वधू-पक्ष के माता-पिता एक ही पीढ़ी से सम्बन्धित होने के बाद भी भिन्न मूल्यों और मनोवृत्तियों से प्रभावित होते हैं जिसके कारण दहेज से सम्बन्धित समस्याएं पैदा होती हैं। इसी तरह घरेलू हिंसा का सम्बन्ध भी आन्तरिक पीढी संघर्ष से ही सम्बन्धित हैं। यदि समान पीढ़ी के लोग विभिन्न आर्थिक वर्गों, भिन्न-भिन्न व्यवसायों, एक-दूसरे से भिन्न संस्कृतियों और भिन्न शैक्षणिक पृष्ठभूमि से सम्बन्धित होते हैं तो उनके बीच भी सामाजिक सम्बन्धों में एक स्पष्ट अन्तर और अक्सर संघर्ष देखने को मिलता है। इसी दशा को हम आन्तरिक पीढी संघर्ष कहते हैं। 


आन्तरिक पीढ़ी संघर्ष की अवधारणा को समझने के लिए संघर्ष के अर्थ को समझना भी आवश्यक है। संघर्ष को परिभाषित करते हुए ग्रीन (Green) ने लिखा है, 'संघर्ष किसी दूसरे व्यक्ति अथवा व्यक्तियों की इच्छाओं का जान-बूझकर विरोध करने, उन्हें दबाने या उत्पीड़ित करने के लिए किया जाने बाला प्रयत्न है।' मैकाइवर तथा पेज (Maclver and Page) ने भी लगभग इसी रूप में संघर्ष को परिभाषित करते हुए लिखा है, संघर्ष में उन सभी गतिविधियों का समावेश होता है जिनके द्वारा व्यक्ति किसी विशेष उद्देश्य को पूरा करने के लिए एक-दूसरे का विरोध करते हैं । इससे कुछ भिन्न, गिलिन और गिलिन (Gillin and Gillin) ने हिंसा अथवा हिंसा की धमकी को संघर्ष का प्रमुख तत्व माना है। एक अवधारणा के रूप में संघर्ष की प्रकृति प्रत्यक्ष भी हो सकती हैं और अप्रत्यक्ष भी परिवार में स्त्रियों के साथ हिंसक व्यवहार करना अथवा पति या सास द्वारा वहू को प्रताड़ित करना प्रत्यक्ष संघर्ष का उदाहरण हैं, जबकि एक पक्ष द्वारा किसी दूसरे पक्ष पर बलपूर्वक अपने निर्णय को लादना या दूसरे पक्ष को अपनी इच्छा के अनुसार व्यवहार करने के लिए बाध्य करना अप्रत्यक्ष संघर्ष है। स्पष्ट है कि जब यह प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्षे संघर्ष एक ही पीढी से सम्बन्धित लोगों की बीच बढ़ने लगता है, तब हम इसे आन्तरिक पीढ़ी संघर्ष के नाम से सम्बोधित करते हैं। यह ध्यान रखना भी जरूरी है कि आन्तरिक पीढ़ी संघर्ष एक सार्वभौमिक घटना है क्योंकि किसी न किसी रूप में यह प्रत्येक समाज में पाया जाता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam 1857 के महान विद्रोह (1857 के भारतीय विद्रोह, 1857 के महान विद्रोह, महान विद्रोह, भारतीय सेप्पी विद्रोह) को ब्रिटिश शासन के खिलाफ भारत का स्वतंत्रता संग्राम माना जाता है। 1857 आंदोलन एक राष्ट्रीय उभर रहा था, जो भारतीयों के दिल में एक मजबूत आग्रह से प्रेरित था, जिससे देश मुक्त हो गया। यह ब्रिटिश शासन की स्थापना के बाद भारत के इतिहास में सबसे उल्लेखनीय एकल घटना थी। यह भारत में सदी के पुराने ब्रिटिश शासन का नतीजा था। भारतीयों के पिछले विद्रोहों की तुलना में, 1857 का महान विद्रोह एक बड़ा आयाम था और यह समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों की भागीदारी के साथ लगभग अखिल भारतीय चरित्र ग्रहण करता था। यह विद्रोह कंपनी के सिपाही द्वारा शुरू किया गया था। इसलिए इसे आमतौर पर 'सेप्पी विद्रोह' कहा जाता है। लेकिन यह सिर्फ सिपाही का विद्रोह नहीं था। इतिहासकारों ने महसूस किया है कि यह एक महान विद्रोह था और इसे सिर्फ एक सिपाही विद्रोह कहने के लिए अनुचित होगा। हमारे इतिहासकार अब इसे विभिन्न ना