सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संगम युगीन प्रशासनिक व्यवस्था

संगम युगीन प्रशासनिक व्यवस्था 

संगम युगीन प्रशासन 

संगम युगीन राज्य कुल संघ प्रतीत होते हैं। इस प्रकार के राज्य उत्तरी भारत में भी थे जिन्हें कौटिल्य ने कुल संघ कहा है। ऐसे राज्य में कुल के विभिन्न परिवारों के बयस्क पुरुष राज्य कार्य में भाग लेते हैं।

इस युग में वंशानुगत राजतंत्र का प्रचलन था। राजा बहुत सी उपाधियां धारण करते थे, जैसे-को, मलम, वन्दन, कारवेन, इरैयन, अधिराज, आदि। 'की उपाधि देवताओं एवं राजा दोनों के लिए प्रयुक्त की जाती थी। राजा का जन्म दिवस प्रतिवर्ष मनाया जाता था और इस दिन को पेरूनल (महान दिवस) कहा जाता था। राजा के बाद युवराज का स्थान था। तमिल ग्रंथों में युवराज को कोमहन तथा अन्य पुत्रों को इलैंगो कहा गया है।

पुरूनानरू नामक ग्रंथ में चक्रवर्ती राजा की चर्चा की गई है राजा प्रतिदिन अपनी सभा (नालय) में प्रजा के कष्टों को सुनता था और न्याय कार्य सम्पन्न करता था। राज्य का सर्वोच्च न्यायालय, राजा की सभा (मरम) थी। सभा के लिए मन्रम् के साथ पोडियाल शब्द का भी उल्लेख मिलता है। मन्रम का शाब्दिक अर्थ है नगर जबकि पोडियाल का शाब्दिक अर्थ है-सार्वजनिक स्थल।

राजा की शक्ति पर पाँच परिषदों का नियंत्रण होता था, जिन्हें पांच महासभाओं के नाम से जाना जाता था। इनमें शामिल थे 

1. मंत्री (अमैच्चार)

2. पुरोहित (पुरोहितार) 

3. सेनापति (सेनापतियार)

4. दूत या राजदूत (दूतार)

5. गुप्तचर (ओर्र) 

नगर प्रशासन 

सम्पूर्ण राज्य की मण्डलम् कहा जाता था, जैसे-चोल मण्डलम्, चेरमण्डलम् आदि। मण्डलम् के बाद नाडु, नाडु के बाद उर होता था। उर नगर होता था जिसमें एक बड़ा ग्राम (पेरूर) एक छोटा ग्राम (शिरूर) अथवा एक प्राचीन ग्राम (मुदूर) आदि का विभिन्न रुपी में वर्णन मिलता है। पत्तिनम् तटीय नगर का नाम था और पुहार बन्दरगाह क्षेत्र था। चेरि किसी नगर का उपनगर या गाँव का नाम होता था जबकि पड़ोसी क्षेत्र को पक्कम् कहा जाता था। सलाई मुख्य मार्ग था और तेरू किसी नगर की एक गली होती थी। 

राजस्व प्रशासन 

राजस्व का सबसे प्रमुख लोत भूमिकर था। इसे कुडमै या इसय कहा जाता था। भूमि की माप की इकाइयाँ मा तथा बेलि थी। पथकर और सीमा शुल्क को उल्गू या शुंगम कहा जाता था। सामान्यतया राजा को दिया जाने वाला शुल्क कुंड में या पादु या पादबाडु के नाम से जाना जाता था। बलपूर्वक प्राप्त किए जाने वाले उपहार को ईरादू कहा जाता था।

कर अदा करने वाला क्षेत्र बरियमवारि नाम से जाना जाता था इस क्षेत्र से कर वसूलने वाला अधिकारी वरियार कहलाता था। भू-राजस्व कृषि उत्पादन का 6ठा भाग होता था। प्रो. नीलकण्ठ शास्त्री ने कुम्बकोनम में चोलों के कोषागार का भी वर्णन किया है। 

न्याय प्रशासन 

संगम युग में राजा ही न्याय का सर्वोच्च अधिकारी था। राजा के न्यायालय के मन्रम कहा जाता था। दण्ड विधान अत्यन्त कठोर थे। चोरों के हाथ तथा झूठी गवाही देने वालों की जीभ काट ली जाती थी । 

सैन्य प्रशासन 

संगम युग में चतुरंगिणी सेना-पैदल, हस्ति, अश्व एवं रथ का उल्लेख है। लेकिन रथ में घोड़े की जगह बैल जाते जाते थे। नौ-सेना का भी उल्लेख मिलता है। सेनापति की उपाधि एनाडि थी। युद्ध भूमि में वीरगति को प्राप्त सैनिकों के सम्मान में एक स्तम्भ बनाया जाता था जिसमें उनके नाम एवं उनकी उपलब्धियों लिखी जाती थीं। इन स्तम्भों को बीरगल या वीरकाल कहा जाता था। सैनिक माम की अनेक दिलचस्प सूचनों कल्लिबल्लि नामक ग्रंथ में मिलती हैं। मरवा नामक जनजाति अपनी लड़ाकू प्राप्ति  के कारण सेना में विशेष स्थान पाती थी।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

तुलनात्मक राजनीति का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth

तुलनात्मक राजनीति  का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth परिचय  राजनीति एक सर्वव्यापी गतिविधि है जो हमारे चारो तरफ हमको देखने को मिल जाती है। प्रारंभ से ही एक  राजनीति व्यवस्था की तुलना दूसरे राजनीति व्यवस्था से की जाती रही है।किसी एक राजनीतिक व्यवस्था की अन्य राजनीतिक व्यवस्था से तुलना करने  के तरीके को सामान्य तुलनात्मक पद्धति कहते है। वास्तव में तुलनात्मक राजनीति का अर्थ और लक्ष्य विभिन्न देशों के मध्य एक राजनीति समस्याओं विषमताओं समानताओं की जानकारी का अध्ययन करना है। इसे हम तुलनात्मक राजनीति कहते हैं। यह समस्या या वह विभिन्नताओं के मिश्रण का परिपेक्ष से विकास करने का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति हमारे समानताओं और विभिन्नताओं का अध्ययन करता है  और उसके द्वारा राज्य के विकास का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति सिद्धांत यह स्पष्ट करता है कि विश्व की सरकार और उनकी क्या परिस्थितियां हैं किस प्रकार से उनका प्रचलन हो रहा है किस प्रकार से सरकारें चल रही हैं। इसके अंतर्गत जो अध्ययन करते हैं पहला राज्य के कार्य दूसरा संगठन, नीति, दबाव समूह का अध्ययन होता है।  अर्थ और

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना  रूसो का सामान्य इच्छा सिद्धान्त अवधारणा रूसो की 'सामान्य इच्छा सम्बन्धी सिद्धान्त अथवा अवधारणा आधुनिक राजनीतिक चिन्तन में एक महत्त्वपूर्ण देन है। कुछ विद्वानों के अनुसार वह लोकतन्त्र की आधारशिला है। रूसो के राजनीतिक विचारों में सामान्य इच्छा' का विचार सबसे मौलिक है यद्यपि उसके सम्बन्ध में वह स्वयम् स्पष्ट नहीं है। रूसों के अनुसार प्रारम्भिक समझौते के लिए समाज के समस्त सदस्यों का एक मत होना आवश्यक है, किन्तु बाद में सामान्य इच्छा के अनुसार ही शासन का कार्य होता है। रूसो की सामान्य इच्छा के सन्दर्भ में जोन्स महोदय का कथन उल्लेखनीय है-सामान्य इच्छा का विचार रूसों के सिद्धान्त का न केवल सबसे अधिक केन्द्रिय विचार है, अपितु यह उसका सबसे अधिक और मौलिक व रोचक विचार है। ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह राजनीतिक सिद्धान्त के क्षेत्र में सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण देन है। इसकी उपयोगिता का आधार इसी आधार पर लगाया जा सकता है कांट, हीगल, ग्रीन और बोसांके आदि अंग्रेजी दार्शनिकों की विचारधारा भी इसी पर आधारित थी। रूसो ने अपने सामन्य इच्छा के सन्दर्भ

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam 1857 के महान विद्रोह (1857 के भारतीय विद्रोह, 1857 के महान विद्रोह, महान विद्रोह, भारतीय सेप्पी विद्रोह) को ब्रिटिश शासन के खिलाफ भारत का स्वतंत्रता संग्राम माना जाता है। 1857 आंदोलन एक राष्ट्रीय उभर रहा था, जो भारतीयों के दिल में एक मजबूत आग्रह से प्रेरित था, जिससे देश मुक्त हो गया। यह ब्रिटिश शासन की स्थापना के बाद भारत के इतिहास में सबसे उल्लेखनीय एकल घटना थी। यह भारत में सदी के पुराने ब्रिटिश शासन का नतीजा था। भारतीयों के पिछले विद्रोहों की तुलना में, 1857 का महान विद्रोह एक बड़ा आयाम था और यह समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों की भागीदारी के साथ लगभग अखिल भारतीय चरित्र ग्रहण करता था। यह विद्रोह कंपनी के सिपाही द्वारा शुरू किया गया था। इसलिए इसे आमतौर पर 'सेप्पी विद्रोह' कहा जाता है। लेकिन यह सिर्फ सिपाही का विद्रोह नहीं था। इतिहासकारों ने महसूस किया है कि यह एक महान विद्रोह था और इसे सिर्फ एक सिपाही विद्रोह कहने के लिए अनुचित होगा। हमारे इतिहासकार अब इसे विभिन्न ना