सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संगम युगीन धर्म की चर्चा

संगम युगीन धर्म की चर्चा 

संगम युगीन धर्म-संगम युगीन धर्म पर उत्तर भारतीय धर्म का प्रभाव स्पष्टतः दिखाई पड़ता है। इस धर्म को उत्तर से दक्षिण भारत में फैलाने का श्रेय अगस्त्य तथा कौण्डिन्य ऋषि को है। दक्षिण भारत का सबसे प्रमुख देवता मुरुगन या सुब्रह्मण्यम् था। उत्तर भारत के स्कन्द-कार्तिकेय से इसका तादात्म्य स्थापित किया जाता है। मुरुगन का दूसरा नाम बेलन है। बेलन का सम्बन्ध बेल से है जिसका अर्थ ब है, यह इस देवता का प्रमुख अस्व है। मुरुगन का प्रतीक मुर्गा (कुक्कुट) है और इन्हें पर्वत शिखर पर क्रीड़ा करना अत्यन्त प्रिय है। इनकी पत्नियों में एक कुरवस नामक पर्वतीय जनजाति की स्त्री भी है। आदिच्चनलूर से. प्राप्त शव-कलश के साथ कांसे का मुरुगन भी प्राप्त हुआ है। मुरुगन की उपासना में वेलनाडल नामक नृत्य किया जाता था। 

संगम युग में इन्द्र का भी स्थान महत्वपूर्ण था। पुहार के वार्षिक उत्सव में इन्द्र की विशेष प्रकार की पूजा होती थी। इन्द्र के मन्दिर को बजक्कोट्टम कहा जाता था पशुचारण जाति के लोग कृष्ण की उपासना करते थे इसके अतिरिक्त विष्णु, शिव, बलराम, सरस्वती आदि देवताओं का भी उल्लेख मिलता है । संगम साहित्य में विष्णु का तमिल रूपान्तर तिरुमल' मिलता है। पवित्रुपत्तु से ज्ञात होता है कि विष्णु की पूजा में तुलसी तथा घण्टे का उपयोग किया जाता था। लोग मन्दिर में उपासना करते थे। अभिलेखों में विष्णु के मन्दिर को विनागर कहा गया है। अनेक लोग सन्यासी का जीवन व्यतीत करते थे जीववाद, टोटमवाद, बलि-प्रथा भी इस युग में प्रचलन में आई। कोर्रवल बिजय की देवी थी। लोग मरियम्मा (परशुराम की मां) की पूजा में बकरे की बलि चढ़ाते थे। मणिमेखले में कापालिक शैव सन्यासियों की चर्चा है। इस युग के लोग कर्म, पुनर्जन्म, भाग्यवाद पर विश्वास करते थे। शवों को दफनाने तथा जलाने की प्रथा प्रचलित थी।

 संगम युग में बौद्ध धर्म एवं जैन धर्म का भी प्रसार दिखाई पड़ता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना  रूसो का सामान्य इच्छा सिद्धान्त अवधारणा रूसो की 'सामान्य इच्छा सम्बन्धी सिद्धान्त अथवा अवधारणा आधुनिक राजनीतिक चिन्तन में एक महत्त्वपूर्ण देन है। कुछ विद्वानों के अनुसार वह लोकतन्त्र की आधारशिला है। रूसो के राजनीतिक विचारों में सामान्य इच्छा' का विचार सबसे मौलिक है यद्यपि उसके सम्बन्ध में वह स्वयम् स्पष्ट नहीं है। रूसों के अनुसार प्रारम्भिक समझौते के लिए समाज के समस्त सदस्यों का एक मत होना आवश्यक है, किन्तु बाद में सामान्य इच्छा के अनुसार ही शासन का कार्य होता है। रूसो की सामान्य इच्छा के सन्दर्भ में जोन्स महोदय का कथन उल्लेखनीय है-सामान्य इच्छा का विचार रूसों के सिद्धान्त का न केवल सबसे अधिक केन्द्रिय विचार है, अपितु यह उसका सबसे अधिक और मौलिक व रोचक विचार है। ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह राजनीतिक सिद्धान्त के क्षेत्र में सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण देन है। इसकी उपयोगिता का आधार इसी आधार पर लगाया जा सकता है कांट, हीगल, ग्रीन और बोसांके आदि अंग्रेजी दार्शनिकों की विचारधारा भी इसी पर आधारित थी। रूसो ने अपने सामन्य इच्छा के सन्दर्भ

राज्य की उत्पत्ति के विकासवादी सिद्धांत

राज्य की उत्पत्ति के विकासवादी सिद्धांत  राज्य की उत्पत्ति के ऐतिहासिक विकासवादी सिद्धांत राज्य की उत्पत्ति के सम्बन्ध में अनेक सिद्धान्त प्रचलित हैं। परन्तु गंभीर विवेचना से स्पष्ट होता है कि अन्य सभी सिद्धान्त गलत हैं और उन्होंने राज्य की उत्पत्ति की सही व्याख्या नहीं की है। इस सम्बन्ध में गार्नर का कहना ठीक है कि, "राज्य न तो ईश्वर की कृति है, न किसी उच्च शक्ति का परिणाम, न किसी प्रस्ताव या समझौते की सृष्टि है, न परिवार का विस्तारमात्र" अतः यह प्रश्न उठना स्वाभाविक है कि राज्य की उत्पत्ति का सबसे अच्छा सिद्धान्त कौन है। इस सम्बन्ध में यही कहा जा सकता है कि राज्य विकास का परिणाम है। इसका निर्माण मनुष्य की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए हुआ था और अच्छे जीवन के लिए अब भी चल रहा है। राज्य की उत्पत्ति का सबसे सही और वैज्ञानिक सिद्धान्त विकासवादी या ऐतिहासिक सिद्धान्त को ही कहा जा सकता है। इस सिद्धान्त के अनुसार राज्य की उत्पत्ति एक विकास का परिणाम है। यह विकास धीरे-धीरे क्रम: चलता रहता है। इसी विकास के परिणामस्वरूप राज्य ने वर्तमान का रूप धारण किया है। राज्य की उत्पत्ति और व

तुलनात्मक राजनीति का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth

तुलनात्मक राजनीति  का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth परिचय  राजनीति एक सर्वव्यापी गतिविधि है जो हमारे चारो तरफ हमको देखने को मिल जाती है। प्रारंभ से ही एक  राजनीति व्यवस्था की तुलना दूसरे राजनीति व्यवस्था से की जाती रही है।किसी एक राजनीतिक व्यवस्था की अन्य राजनीतिक व्यवस्था से तुलना करने  के तरीके को सामान्य तुलनात्मक पद्धति कहते है। वास्तव में तुलनात्मक राजनीति का अर्थ और लक्ष्य विभिन्न देशों के मध्य एक राजनीति समस्याओं विषमताओं समानताओं की जानकारी का अध्ययन करना है। इसे हम तुलनात्मक राजनीति कहते हैं। यह समस्या या वह विभिन्नताओं के मिश्रण का परिपेक्ष से विकास करने का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति हमारे समानताओं और विभिन्नताओं का अध्ययन करता है  और उसके द्वारा राज्य के विकास का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति सिद्धांत यह स्पष्ट करता है कि विश्व की सरकार और उनकी क्या परिस्थितियां हैं किस प्रकार से उनका प्रचलन हो रहा है किस प्रकार से सरकारें चल रही हैं। इसके अंतर्गत जो अध्ययन करते हैं पहला राज्य के कार्य दूसरा संगठन, नीति, दबाव समूह का अध्ययन होता है।  अर्थ और