सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

प्राचीन मिस्त्र में मरणोत्तर जीवन की अवधारणा

प्राचीन मिस्त्र में मरणोत्तर जीवन की अवधारणा 

 प्राचीन मिस्त्र में मरणोत्तर जीवन की अवधारणा -  प्राचीन मिलवासियों को धार्मिक मरणोपरान्त जीवन में विश्वास था। इनकी पारलौकिक जीवन की कल्पना बहुत लौकिक जीवन के अनुरूप थी। इनका विश्वास था कि 'क' नामक एक शक्ति मनुष्य के जन्म से ही उसके साथ आती है और जीवन भर उसके साथ रहती है। मृत्यु के बाद भी इसका नाश नहीं होता और यह शरीर से चिपकी रहती है। 

इनकी कल्पना में क का स्वरूप पार्थिव शरीर की ही भाँति था। अतएव मृत्यु के बाद शरीर नष्ट हो जाने पर भी इसे भोजन, पेय इत्यादि की आवश्यकता पड़ती थी। इसीलिए प्रवासी मृतकों की समाथियों में खाद्य एवं पेय सामग्री रखते थे। इनका विश्वास था कि यदि ये ऐसा नहीं करेंगे तो खाद्य के अभाव में 'क मल-मूत्र का भक्षण करने लगेगी 'क' के अतिरिक्त मिसवासी शरीर में आत्मा का निवास भी मानते थे। इसका स्वरूप ऐसे पक्षी के समान था जो वृक्षों पर फुदकती रहती थी। 'क' सम्बन्धित मान्यता के विकास का प्रभाव इनकी समाधियों तथा मृतक संस्कार विधियों पर पड़ा। क' की रक्षा के लिए ये शवों की सुरक्षा के उपाय भी करने लगे। प्रागराजवंशीय काल में बालू में गड्ढा खोद कर बनायी गयी समाधियों के स्थान पर विशाल पिरामिड बनने लगे। मृतक संस्कार में सत्तर दिन लगते थे। 

प्राचीन राज्य काल में मृतक के शरीर पर ऐसा लेप लगा दिया जाता था जिससे वह दीर्घकाल ते सुरक्षित रहता था इस लेपयुक्त शव को काष्ठ की एक पेटिका में रख कर फिर उस पेटी को एक पाषाण की पेटी में रखकर समाधि के साथ एक कमरे में बन्द कर दिया जाता था। मृतक के साथ उसके उपयोग के लिए आश्वयक खाद्य-पदार्थ, पेय, प्रसाधनोपकरण इत्यादि भी रख दिये जाते थे।इसके पश्चात् कक्ष के मार्ग को पूर्णतया बन्द कर दिया जाता था। प्राचीन राज्यकालीन मिसवासी इतने से ही सन्तुष्ट नहीं थे। 

ये मानते थे कि इस संस्कार के बाद भी मृतक बराबर खाद्य, पेय इत्यादि की आवश्यकता का अनुभव करता है। अतः समृद्ध लोग मृत्यु के पूर्व ही किसी पुजारी की नियुक्ति कर देते थे जो उनकी समाधि पर समय-समय पर मृतक संस्कार की पुनरावृति करता रहता था तथा उसे खाद्य-पेयादि समर्पित करता रहता था। सिद्धान्ततः यह व्यवस्था सदैव के लिए की जाती थी लेकिन चार-पांच पीढ़ियों के अनन्तर इससे ये उदास हो जाते थे और नई समाधियों की ओर अधिक ध्यान देने लगते थे। 


प्राचीन राज्यकालीन सिमवासी परलोक को 'मृतकों का लोक', 'अधोलोक', 'यारूभूमि' अथवा 'खाद्य-भूमि' के नाम से पुकारते थे। मृतकों के लोक' का संकेत पिरामिड-ग्रन्थों में मिलता है। यह लोक पश्चिम में स्थित था। यहाँ प्रतिदिन सूर्यदेवता रात्रि में जाते थे। इसीलिए मित्रमवासी मृतकों को पश्चिमी कह कर भी सम्बोधित करते थें। अधोलोक में मृतात्माएँ प्रतिदिन सूर्यदेव की अलौकिक नौका की प्रतीक्षा करती रहती थीं। यारूभूमि आकाश के उत्तरपूर्व स्थित था। यह लोक धन धान्य से समृद्ध था। अतः यहाँ मृतात्माएँ आनन्दित जीवन-यापन करती थीं। यारुभूमि के चारों ओर जल भरा रहता था अतः यहाँ तक पहुंचना कठिन कार्य था। 

मृतकों को यहाँ जाने के लिए एक नौका का सहारा लेना पढ़ता था। इसका परिचालन दैवी नाविक करते थे वे उन्हीं आत्माओं को पार करते थे जो पुण्य कर्मा होती थीं। पुण्यकर्मा का तात्पर्य धार्मिक अनुष्ठानों एवं कृत्यों के सम्यक सम्पादन से था। कुछ समाधियों पर यह लिखवाया गया था कि उन्होंने दीन-दुःखियों की सहायता तथा सदाचारपूर्ण जीवन व्यतीत करके पुण्य प्राप्त किया है। किन्तु यह स्पष्ट नहीं हो पाता कि सदाचार से उनका क्या मन्तव्य था? उनकी सदाचार विषयक मान्यता पर ओसिरिस आख्यान से कुछ प्रकाश पड़ता है। सम्भवतः जिन गुणों के कारण ओसिरिस पुनर्जीवित हुआ था. आइसिस ने स्वामी के प्रति जो प्रीति प्रदर्शित की थी नथा होनस ने जिस पितृभक्ति भाव से दुष्ट सेत से बदला लिया था, वही मिसवासियों के सदाचार विषयक आदर्श थे। इस प्रकार प्राचीन सिम के लोग पारलौकिक जीवन में विश्वास करते थे और उनके मृतक शरीर की सुरक्षा रखते थे। उनके अनेक मृतक शरीर आज तक सुरक्षित रखे हुए हैं जिन्हें मेमी कहा जाता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण  जान लॉक का प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त सत्रहवीं व अठारहवीं शताब्दी में प्राकृतिक अधिकारों का सिद्धांत अत्यन्त प्रचलित था। सामाजिक संविदा सिद्धान्त के प्रवर्तकों ने यह विचार प्रस्तुत किया कुछ अधिकार राज्य के उद्भव अर्थात् उत्पत्ति के पहले विद्यमान थे अर्थात् ये मानव के पास प्राकृतिक अवस्था में भी मौजूद थे। इसी अधिकार को राजनीतिशास्त्र में प्राकृतिक अधिकार के नाम से सम्बोधित किया जाता है। इन प्राकृतिक अधिकारों का सृजनकर्ता राज्य नहीं था वरन् राज्य का जन्म इन अधिकारों के रक्षा के लिए हुआ है। राज्य का यह दायित्त्व है इन अधिकारों को मान्यता प्रदान कर विधि अथवा कानून के रूप में परिवर्तित कर दे। लॉक ने अपने सामाजिक सम्विदा सिद्धान्त के अन्तर्गत जीवन स्वतंत्रता एवं सम्पत्ति सम्बन्धी अधिकार की श्रेणी में रखा है। ये अधिकार व्यक्ति के व्यक्तित्व में निहित होते हैं, ये सर्वव्यापक एवं असीम होते हैं। प्राकृतिक अधिकारों के प्रवल पोषक लॉक के अनुसार यदि राज्य की प्रकृति प्रदत्त अर्थात् प्रकृति के अधिकारों की रक्षा करने में सफल नहीं होता तो ऐसे