सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

प्राचीन मिस्त्र के सामाजिक जीवन पर प्रकाश

प्राचीन मिस्त्र के सामाजिक जीवन पर प्रकाश 

 मिस्त्री सामाजिक व्यवस्था-प्राचीन मिस्री समाज मुख्यतः दो वर्गों -शोधक और शोषित में विभक्त था, परन्तु आधुनिक इतिहासकारों ने मिस्त्री सभ्यता को चार वर्गों में विभाजित बताया है-अभिजात वर्ग, मध्य वर्ग, निम्न वर्ग और दास वर्ग (कृषि दास भी)। अभिजात वर्ग के उच्चस्तरीय तबके में राजा और उसका परिवार उच्चापदस्य शासकीय अधिकारी, प्रान्तीय शासक और कुलीन, उच्च पुरोहित और उच्च सैन्य अधिकारी आते थे। यह भूस्वामी वर्ग बड़े भवनों में ऐश्वर्य का जीवन व्यतीत करता था। यही लोग मुख्यतः दासस्वामी थे जो मजदूरों और दासों के श्रम द्वारा उत्पादित धन से जिन्दगी के ऐशो-आराम की सुविधाएं भोगते थे। भव्य परिधान, सामन्ती रोव और विलासिता की किश्मी में सवार ये उच्च लोग दासों और कृषि दासों के साथ अमानुषिक व्यवहार करते थे। उन्हें कोड़े लगाना और बेंच देना तो साधारण काम था. कभी-कभी उनकी हत्या भी कर देते थे । 

उच्च वर्ग-शासकीय सेवा कार्य करने वाले उच्चवर्गीय लोगों ने अपने-अपने क्षेत्रों में कठोरता से शासन किया। नोमाकों ने प्रायः वंशानुगत उत्तराधिकार की प्रतिष्ठा में विशेष दिलचस्पी दिखाई जो व्यक्तिगत सम्पलि के कारण सहज उपक्रम था। उन्होंने प्रायः फराओ को कमजोर बनाया। मिस्र की परम्पराओं के एकमात्र संरक्षक होने का दावा करने वाले पुरोहित समुदाय के हाथों में धन और लौकिक सत्ता का विशिष्ट केन्द्रीकरण हुआ और वे कभी-कभी फराओ पर अंकुश लगाने में भी नहीं चूकते थे लोगों की धार्मिक भावना का शोषण करके पुरोहितों ने अपार धन सम्पदा एकत्र की। अभिजातवर्ग के पास इतना अधिक अवकाश था कि वे परिवार और मित्रों के साथ अपने बगीचे के मनोरम वातावरण में खेलकूद तथा संगीत का आनन्द लेते थे. अपनी औरतों और नर्तकियों को संगीत की लय पर थिरकते-झूमते देखते थे, लघु जलाशय में अपने बच्चों को पानी से खिलवाड़ करते तथा बन्दरों को चिढ़ाते हुए देखकर आनन्दित होते थे। उच्चवर्ग के लोग रोटी, मांस, फल, अंडे, केक और शराब का उपयोग करते थे। कुलीन लोग शिकार, कुश्ती, रथदीड़, युद्ध, नृत्य और व्यायाम से भी मनोरंजन करते थे। संगीत में तुरही, बाँसुरी और देवी-पूजन में झाँझ का उपयोग होता था। 

उच्च वर्ग के लोगों की मृत्यु भी दासों के लिये अभिशाप तुल्य थी क्योंकि दास स्वामी की मृत्यु के बाद उसकी समाधियों में दास-दासियों को भी जीवित दफनाया जाता था कालान्तर में इस बळूर प्रथा को बन्द करके दासों की मूर्तियों को दफनाया जाने लगा। घोड़े और रथ का स्वामी होना उच्चवर्ग में विशेष सामाजिक प्रतिष्ठा और शानशौकत का प्रतीक बन गया । 

मध्यवर्ग -मध्यवर्ग के अंतर्गत छोटे अधिकारी, लिपिक, अन्यकर्मचारी, अधिकांश पुजारी, छोटे सैन्य अधिकारी और सैनिक, धनी किसान, व्यापारी, कारीगर और शिल्पी आते थे जो सामान्य सुख-सुविधा और साधनों से युक्त थे। इस वर्ग के बढ़ते प्रभाव को नियंत्रित करने के लिये मिस के कुछ शासकों ने बौद्धिक वर्ग को विशेष सुविधायें प्रदान की जिससे कुछ वर्ग विरोध बढ़ा। प्रथम मध्यवर्ती काल में कुछ किसानों और शिल्पियों ने कुछ अधिकार और सम्मान अर्जित किया था और कई बार तो वे नोमाकों से टकराने की असाधारण स्थिति में आ गये थे। 

निम्नवर्ग -निम्नवर्ग में छोटे किसान, भूमिहीन मजदूर और बटाईदार थे, जिनका जीवन अभावों और कठोरता की लक्ष्मणरेखा से घिरा हुआ था। इन लोगों से राजकीय निर्माण कार्यों तथा कृषि एवं सिंचाई में बेगार ली जाती थी। यह वर्ग वस्तुतः शोषितवर्ग था क्योंकि सम्पूर्ण उत्पादन इन्हीं के परिश्रम का मोहतान था और ये अभिक अपने अन्नदाताश्री के टुकड़ों के मोहताज थे। 

दास वर्ग -दास वर्ग का जीवन कठोर श्रम, दास स्वामी की छरता और केधत जीने मात्र का खाना पाने जैसे यथार्थ को समेटे हुये धा। कृषिदासं की स्थिति तो और भी भयावह थी। ये बंधुआ मजदूर जमीन को छोड़ने पर अपने प्राणों से हाथ धोने पर मजबूर । कठोर श्रम से सम्बर भी कार्य इसी समुदाय को करने पड़ते थे-पितामिड निर्माण, बाँध, जलाशय, नहं बनाना, दलदली जमीन को सुखाना, शङ्कफ से सिंचाई करना इत्यादि । विशेष परिस्थिति में कभी कभी मालिक की कृपा पाकर कुछ गुलाम व्यापार और सरकारी सेवा में भी बले जाते थे, लेकिन इन अपवादों का सामान्यीकरण हमें निश्चय ही भामक निष्कर्ष की ओर ले जा सकता है। 

परिवार -प्राचीन मिस्र में परिवार का महत्व था किन्तु मिस्रवासियों के लिये परिवार नामक संस्था जीवितों और मृतकों के एक निगम के समतुल्य थी। सामान्यतः परिवार का आधार एक विवाह प्रणाली थी लेकिन उच्चवर्ग में रखैलों की प्रथा भी चल रही थी। विवाह, एक व्यक्तिगत मामला था क्योंकि कानून को उसमें कोई दिलचस्पी नहीं थी। तलाक में एक पक्ष दूसरे का परित्याग कर देता था लेकिन व्यवहार में सामाजिक दबाव अवश्य ही सक्रिय रहा होगा। पिता-पुत्र का सम्बन्ध कानून द्वारा नियंत्रित पा। गोद लेने की प्रथा भी किन्तु मूल पिता का साम्पत्तिक उत्तराधिकार भी सुरक्षित रहता था पुत्रोधित-आज्ञाकारिता समाज में प्रभावी थीं। 

वंशानुगत सम्पत्तिक उत्तराधिकार मां से सीधे कन्या के पास हस्तान्तरित होता था, अतः मिल के समाज में माँ, बेटी और पत्नी के रूप में महिलाओं की एक विशेष आदरणीय हैसियत थी, जो तत्कालीन विश्व के किसी भी प्राचीन समाज से बेहतर थी। इस विशेषता का गम्भीर प्रभाव समाज पर पड़ा। मिल के फराओ सगोजता की परवाह किये बिना उन सभी महिलाओं और कम्याओं से विवाह कर लेते थे जो सम्भावित उत्तराधिकारिणी हो सकती थी। इससे उनकी प्रभुसत्ता सुरक्षित रहती थी। इसमें कन्या की आयु या स्कत- मम्बन्य उपेद्िल थे। उच्च अधिकारियों और कुलीन वर्ग में भी यही प्रथा जड़े जमाये हुये थी। इसका निहितार्थ यह हुआ कि रानी, अपने जन्म के अधिकार से रानी थी जबकि फराओ (राजा) उस विशिष्ट महिला से विवाह करने के कारण फरामो था। 

आर्थिक स्वतंत्रता के कारण उच्च मीया महिलाओं की स्थिति अच्छी थी। युद्ध के अलावे वे अन्य क्षेत्रों में स्वतंत्रतापूर्वक विचरण करती थीं और भूसम्पदा, कारीगरों, फसलो और पशुओं का निरीक्षण करती रहती थी। पति के साथ आनन्दव्धक यात्राओं में भी वे जाती थीं। साधारण औरतों के लिये पूजा, प्रतिविद्या, नृत्य और मातम के कार्यो में सक्रिय होने की गुंजाइश थी। सामान्य औरतें और दासियों अनाज पीसने, खेती में फसल काटने बाजार करने तथा कसाई-बुनाई जैसे काम भी करती थीं। 

मिस्त्र के समाज में भाई और बहन के सम्बना प्रेमी-प्रेमिका जैसी असामान्य सरहद में सिमट आये थे। उच्चवर्ग में प्रायः बहनों से विवाह होता था। इसका मुलकारण भी वहीं साम्यतिक अधिकारों की सुरक्षा था। पश्चिमी एशिया की पितृसत्तात्मक व्यवस्था से परिचय होने पर कालान्तर में मालवंशाधिकार की परम्परा धीर-धीरे कमजोर हुई और स्त्रियों के अधिकार धीरे-धीरे घटने लगे। प्रेम सम्बन्ध में प्राय: प्रियतमा ही पहल करती थी और निःसंकोच होकर वह प्रेमी से प्रणय निवेदन करती थी। इस स्वच्छंदता में कुछ अश्लीलता झलकती है लेकिन यह एक सामान्य परम्परा थी। भार्मिक वेश्याओं के यथार्थ से पता चलता है कि धर्म और काम के समीकरण में देवता का कोई अवांछित हस्तक्षेप नहीं था। ऐसी महिलायें बाद में गृहस्थी बसा लेती थी पुरुषों की तरह महिलाये भी आभूषण प्रेमी थी। अंगठी, भाली, कुढल. कंगन, कंठहार जैसे गहनों का प्रचलन था। सुगन्धित द्रव्य, काजल, तेल, मी, दर्पण, लाली. रंग आदि सोन्चर्य प्रसाधनों का इस्तेमाल किया जाता था। महिलायें बाल कटाने का फैशन भी करती थीं। कुछ महिलायें पुरूषों के साथ शतरंज और चौसर भी खेलती थीं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना  रूसो का सामान्य इच्छा सिद्धान्त अवधारणा रूसो की 'सामान्य इच्छा सम्बन्धी सिद्धान्त अथवा अवधारणा आधुनिक राजनीतिक चिन्तन में एक महत्त्वपूर्ण देन है। कुछ विद्वानों के अनुसार वह लोकतन्त्र की आधारशिला है। रूसो के राजनीतिक विचारों में सामान्य इच्छा' का विचार सबसे मौलिक है यद्यपि उसके सम्बन्ध में वह स्वयम् स्पष्ट नहीं है। रूसों के अनुसार प्रारम्भिक समझौते के लिए समाज के समस्त सदस्यों का एक मत होना आवश्यक है, किन्तु बाद में सामान्य इच्छा के अनुसार ही शासन का कार्य होता है। रूसो की सामान्य इच्छा के सन्दर्भ में जोन्स महोदय का कथन उल्लेखनीय है-सामान्य इच्छा का विचार रूसों के सिद्धान्त का न केवल सबसे अधिक केन्द्रिय विचार है, अपितु यह उसका सबसे अधिक और मौलिक व रोचक विचार है। ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह राजनीतिक सिद्धान्त के क्षेत्र में सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण देन है। इसकी उपयोगिता का आधार इसी आधार पर लगाया जा सकता है कांट, हीगल, ग्रीन और बोसांके आदि अंग्रेजी दार्शनिकों की विचारधारा भी इसी पर आधारित थी। रूसो ने अपने सामन्य इच्छा के सन्दर्भ

राज्य की उत्पत्ति के विकासवादी सिद्धांत

राज्य की उत्पत्ति के विकासवादी सिद्धांत  राज्य की उत्पत्ति के ऐतिहासिक विकासवादी सिद्धांत राज्य की उत्पत्ति के सम्बन्ध में अनेक सिद्धान्त प्रचलित हैं। परन्तु गंभीर विवेचना से स्पष्ट होता है कि अन्य सभी सिद्धान्त गलत हैं और उन्होंने राज्य की उत्पत्ति की सही व्याख्या नहीं की है। इस सम्बन्ध में गार्नर का कहना ठीक है कि, "राज्य न तो ईश्वर की कृति है, न किसी उच्च शक्ति का परिणाम, न किसी प्रस्ताव या समझौते की सृष्टि है, न परिवार का विस्तारमात्र" अतः यह प्रश्न उठना स्वाभाविक है कि राज्य की उत्पत्ति का सबसे अच्छा सिद्धान्त कौन है। इस सम्बन्ध में यही कहा जा सकता है कि राज्य विकास का परिणाम है। इसका निर्माण मनुष्य की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए हुआ था और अच्छे जीवन के लिए अब भी चल रहा है। राज्य की उत्पत्ति का सबसे सही और वैज्ञानिक सिद्धान्त विकासवादी या ऐतिहासिक सिद्धान्त को ही कहा जा सकता है। इस सिद्धान्त के अनुसार राज्य की उत्पत्ति एक विकास का परिणाम है। यह विकास धीरे-धीरे क्रम: चलता रहता है। इसी विकास के परिणामस्वरूप राज्य ने वर्तमान का रूप धारण किया है। राज्य की उत्पत्ति और व

तुलनात्मक राजनीति का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth

तुलनात्मक राजनीति  का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth परिचय  राजनीति एक सर्वव्यापी गतिविधि है जो हमारे चारो तरफ हमको देखने को मिल जाती है। प्रारंभ से ही एक  राजनीति व्यवस्था की तुलना दूसरे राजनीति व्यवस्था से की जाती रही है।किसी एक राजनीतिक व्यवस्था की अन्य राजनीतिक व्यवस्था से तुलना करने  के तरीके को सामान्य तुलनात्मक पद्धति कहते है। वास्तव में तुलनात्मक राजनीति का अर्थ और लक्ष्य विभिन्न देशों के मध्य एक राजनीति समस्याओं विषमताओं समानताओं की जानकारी का अध्ययन करना है। इसे हम तुलनात्मक राजनीति कहते हैं। यह समस्या या वह विभिन्नताओं के मिश्रण का परिपेक्ष से विकास करने का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति हमारे समानताओं और विभिन्नताओं का अध्ययन करता है  और उसके द्वारा राज्य के विकास का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति सिद्धांत यह स्पष्ट करता है कि विश्व की सरकार और उनकी क्या परिस्थितियां हैं किस प्रकार से उनका प्रचलन हो रहा है किस प्रकार से सरकारें चल रही हैं। इसके अंतर्गत जो अध्ययन करते हैं पहला राज्य के कार्य दूसरा संगठन, नीति, दबाव समूह का अध्ययन होता है।  अर्थ और