सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

प्राचीन मिस्र की कला एवं निर्माण

प्राचीन मिस्र की कला एवं निर्माण

प्राचीन मिस्त्र में कला -मिस्र के इतिहास का प्राचीन राज्य-युग कलात्मक सृजनात्मकता और विराट उपलब्धियों का काल था इसी युग के मिली समाज-व्यवस्थापकों और कला रूपों के प्रवर्तकों ने उन विचारों और प्रतिमानों का विकास किया जो मूलतः तो अपरिवर्तित रहे लेकिन दो सहस्राब्दियों तक उनमें संशोधन परिवर्तन होते रहे। कहना न होगा कि विश्व सभ्यता के प्राचीन इतिहास में मिल जैसी सर्वोत्कृष्ट शैली का विकास कहीं नहीं हुआ जिसमें शिल्पियों और मजदूरों के आत्मविश्वास तथा तेजस्विता का महत्तर योगदान था। कला के मिस्त्री शैली और चित्रलिपि का सहसम्बन्धित विकास अकारण नहीं हुआ था। मिस्त्री कला के प्ररम्भिक चरण में एक सौन्दर्यमयी सरलता थी जिसने आगे चलकर अद्वितीय आकर्षका रूप ग्रहण किया। प्राचीन मिस के दैनन्दिन जीवन में धर्म की भूमिका महत्वपूर्ण थी अतः कलात्मक रूपी पर धर्म का सर्थातिशायी प्रभाव दृष्टिगोचर होता है, लेकिन धर्म ने दैनिक जीवन के रूपों को कला के क्षेत्र में प्रस्तुत करने से प्रतिबन्धित नहीं किया। धार्मिक विचारतंत्र के प्रभाव के कारण ही मिल की कला में परम्पराओं का दवाव सक्रिय था लेकिन नवराज्ययुग के कलाकारों ने रूढ़िवादी योजना को शिथिल करके अभिव्यक्ति की सापेक्षिक स्वतंत्रता का दामन पकड़ लिया था। यह विवेचन वास्तुकला, चित्रकला और मूर्तिकला में क्षेत्रों में सही प्रतीत होता है। मिस्री कला की पृष्ठभूमि का वैचारिक मंथन करते समय हमें मिली सभ्यता के मर्मश् पलाइण्डर्स पेट्री की युक्तिसंगत मान्यता को ध्यान में रखना चाहिए। उनके मतानुसार- "नागरिकों के चरित्र की भाँति किसी देश की कला भी उसकी भूमि की प्रकृति से सम्बन्धित होती है कलाकार के मस्तिष्क को समझने के लिये हमें उसके साहित्य में विवेचित, जीवन के आदर्शों के रूप में प्रतिष्ठि गुणों को दखना चाहिये।" 

वास्तुकला -मिस्री कला के ऐतिहासिक विवरण में सर्वप्रथम वास्तुकला का उल्लेख समीचीन लगता है। मिस्र की वास्तुकला में राजनीतिक स्थायित्व, विजेता भाव, धार्मिक आस्था और लौकिक आवश्यकताओं का समवेत प्रभाव दिखलाई पड़ता है। उल्लेखनीय है कि मिस का वास्तुशिल्पी कार्यगत विशेषीकरण के बावजूद राजकीय अनुजीवी के रूप में अन्य कार्य भी करता था। परम्पराओं के संरक्षकों और व्याख्याताओं अर्थात् फराओ और पुरोहितों की इच्छाओं के अनुसार शिल्पी कार्य करते थे फिर भी मिस्र के वास्तुकारों ने ठोस और इतने विशाल निर्माण कार्यों को सम्भव किया जैसा सभ्यता के इतिहास में पहले कहीं नहीं सम्भव हुआ था। इसके साथ ही सफलतापूर्वक उन कुशल कारीगरों ने सौन्दर्य भावना को प्रतिष्ठापित करने के लिय उपयोगी वस्तुओं की सौन्दर्ययुक्त बनाया। वास्तुकला के उदात उदाहरणों को प्रस्तुत करने में नीलघाटी की उर्वरता, अमिकजनों के परिश्रम और एशिया तथा नूबिया से लूटी गई अपार धन सम्पदा का योगदान भुलाया नहीं जा सकता। मिस्त्री वास्तुकला का परिचय भवनों, पिरामिडों और मन्दिरों के विवरण द्वारा प्राप्त किया जा सकता है 

भवन निर्माण - प्रारम्भ में मिट्टी तथा सरकंडे की सहायता से आवास का निर्माण किया जाता था। इमारती लकड़ी एशिया के तटीय क्षेत्रों से मंगाई जाती थी। प्रारम्भिक भवनों का आकार-प्रकार प्रायः परिवार की सदस्य संख्या पर आधारित होता था। दीवारों पर छतें बनाने में लकड़ी का इस्तेमाल किया जाता था। मकानों में कमरों के अतिरिक्त आंगन तथा सीढ़ियाँ बने होते थे। उच्चवर्गीय घरों से लगे रमणीक उद्यान बने होते थे और सामान्य जन के लिये सार्वजनिक उपवन होते थे लोगों को मनमोहक फूलों के पौधे लगाने का शौक था। प्राचीन राज्ययुग में भवन निर्माण हेतु पत्थरों का उपयोग होने लगा। यह पत्थर मोकलाम की पहाड़ियों में सूरा से जलमार्ग द्वारा लाया जाता था अतः फराओ और अभिजातवर्ग के सम्पन्न लोगों से सम्बन्धित भवनों में ही प्रायः पत्थरों का उपयोग हुआ। 

प्रारम्भि राजमहलों के बारे में प्रत्यक्ष प्रमाणों का अभाव है लेकिन समाधिभवनों (मस्तवा) के आधार पर मिस्त्री कला समीक्षकों ने उनकी रूपरेखा प्रस्तुत की है। प्रमुख नगरों को बहारदीवारी से सुरक्षित करते थे और प्राचीन मिस के वास्तुशिल्पी गढ़नुमा राजभवन बनाते थे जिनका गुम्बद द्वार आकर्षक होता था। एमनहोतेपण और उसके पुत्र इख्नाटन के भव्य राजभवन अल्लेखनीय रहे हैं। राजवंश युग के प्रारम्भ होने पर समाधि-भवनों (मसतवा) का निर्माण प्रारम्भ हो गया था। चौथे राजवंश से इनके निर्माण में पत्थरों का इस्तेमाल होने लगा था। मस्तवा का अर्थ है-घर के बाहर बैठने का स्थान (बैंच)। इस समाधि-भवन में एक से अधिक कमरे होते थे और इन्हें आयताकार योजना में निर्मित किया जाता था। नवराज्य युग के वास्तुशिल्प में एक प्रभावशाली अध्याय जुड़ा था। समाधि भवनों पर अन्य भवनों की तरह अलंकरण भी किया गया था इन का चरम विकास पिरामिडो के रूप में हुआ था। 

मंदिर -  प्राचीन मिस्र में वैसे तो प्राचीन राज्ययुग से ही मंदिर निर्माण का प्रारम्भ हो चुका था लेकिन थुत्मोस ने जब दृश्यमान अधिरचना के बगैर समाधि बनवाने का फैसला किया तो उससे मंदिरों के निर्माण की स्वतंत्र परम्परा पर दूरगामी प्रभाव पड़ा। यही कारण है कि नवराज्ययुग में मंदिरवास्तु का चरमोत्कर्ष हुआ था। कारनाक, लवसर एवं अन्य मंदिरो तथा भवनों के निर्माण में मिस्र के कलाकारों ने स्तम्भ योजना और अलंकृत स्तम्भशीर्षों के निर्माण में विशेष दक्षता का उदाहरण प्रस्तुत किया था। उल्लेखनीय है कि वास्तुकता के क्षेत्र में विश्वइतिहास में पहली बार मित्र ने ही स्तम्भों का निर्माण किया था जिसका व्यापक प्रभाव पाश्चात्य वास्तुशिल्प पर पड़ा था। मिस्र वासियों के लिये स्थायित्व का विशेष महत्व था अतः मंदिरों और उनमें स्थापित मूर्तियों के निर्माण में भी इस दृष्टि का प्रभाव विशेष रूप से पड़ा था। ये दर्पयुक्त मूर्तियाँ शाश्वतभाव को अभिव्यक्त करती हैं। प्रसिद्ध मंदिरों में हदशेपसुत का अलबाहरी का मंदिर, थिविस स्थित बुमोस ८ का मंदिर, मेदिनेतहाबू स्थित रैमिसिस III का मंदिर, लक्सर और कारनाक के एमनरी के मंदिर, अबू शिम्बेल का शिलामंदिर तथा अल-अमना का इख् मटन द्वारा निर्मित एटन का मंदिर-विशेष प्रसिद्ध हैं। मंदिरों की रंगीन मूर्तियां और दीवारें अलंकृत थीं जिन पर आनुष्ठानिक तथा दैवी दृश्य चित्रित थे। इख्नाटन के धार्मिक विप्लव का प्रभाव कलात्मक यथार्थवाद पर पड़ा था और वास्तव में नवराज्य युग के जीवन के अन्य पक्षों की तरह, निर्माण कार्य भी इससे प्रभावित हुये थे।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

तुलनात्मक राजनीति का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth

तुलनात्मक राजनीति  का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth परिचय  राजनीति एक सर्वव्यापी गतिविधि है जो हमारे चारो तरफ हमको देखने को मिल जाती है। प्रारंभ से ही एक  राजनीति व्यवस्था की तुलना दूसरे राजनीति व्यवस्था से की जाती रही है।किसी एक राजनीतिक व्यवस्था की अन्य राजनीतिक व्यवस्था से तुलना करने  के तरीके को सामान्य तुलनात्मक पद्धति कहते है। वास्तव में तुलनात्मक राजनीति का अर्थ और लक्ष्य विभिन्न देशों के मध्य एक राजनीति समस्याओं विषमताओं समानताओं की जानकारी का अध्ययन करना है। इसे हम तुलनात्मक राजनीति कहते हैं। यह समस्या या वह विभिन्नताओं के मिश्रण का परिपेक्ष से विकास करने का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति हमारे समानताओं और विभिन्नताओं का अध्ययन करता है  और उसके द्वारा राज्य के विकास का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति सिद्धांत यह स्पष्ट करता है कि विश्व की सरकार और उनकी क्या परिस्थितियां हैं किस प्रकार से उनका प्रचलन हो रहा है किस प्रकार से सरकारें चल रही हैं। इसके अंतर्गत जो अध्ययन करते हैं पहला राज्य के कार्य दूसरा संगठन, नीति, दबाव समूह का अध्ययन होता है।  अर्थ और

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना  रूसो का सामान्य इच्छा सिद्धान्त अवधारणा रूसो की 'सामान्य इच्छा सम्बन्धी सिद्धान्त अथवा अवधारणा आधुनिक राजनीतिक चिन्तन में एक महत्त्वपूर्ण देन है। कुछ विद्वानों के अनुसार वह लोकतन्त्र की आधारशिला है। रूसो के राजनीतिक विचारों में सामान्य इच्छा' का विचार सबसे मौलिक है यद्यपि उसके सम्बन्ध में वह स्वयम् स्पष्ट नहीं है। रूसों के अनुसार प्रारम्भिक समझौते के लिए समाज के समस्त सदस्यों का एक मत होना आवश्यक है, किन्तु बाद में सामान्य इच्छा के अनुसार ही शासन का कार्य होता है। रूसो की सामान्य इच्छा के सन्दर्भ में जोन्स महोदय का कथन उल्लेखनीय है-सामान्य इच्छा का विचार रूसों के सिद्धान्त का न केवल सबसे अधिक केन्द्रिय विचार है, अपितु यह उसका सबसे अधिक और मौलिक व रोचक विचार है। ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह राजनीतिक सिद्धान्त के क्षेत्र में सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण देन है। इसकी उपयोगिता का आधार इसी आधार पर लगाया जा सकता है कांट, हीगल, ग्रीन और बोसांके आदि अंग्रेजी दार्शनिकों की विचारधारा भी इसी पर आधारित थी। रूसो ने अपने सामन्य इच्छा के सन्दर्भ

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam 1857 के महान विद्रोह (1857 के भारतीय विद्रोह, 1857 के महान विद्रोह, महान विद्रोह, भारतीय सेप्पी विद्रोह) को ब्रिटिश शासन के खिलाफ भारत का स्वतंत्रता संग्राम माना जाता है। 1857 आंदोलन एक राष्ट्रीय उभर रहा था, जो भारतीयों के दिल में एक मजबूत आग्रह से प्रेरित था, जिससे देश मुक्त हो गया। यह ब्रिटिश शासन की स्थापना के बाद भारत के इतिहास में सबसे उल्लेखनीय एकल घटना थी। यह भारत में सदी के पुराने ब्रिटिश शासन का नतीजा था। भारतीयों के पिछले विद्रोहों की तुलना में, 1857 का महान विद्रोह एक बड़ा आयाम था और यह समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों की भागीदारी के साथ लगभग अखिल भारतीय चरित्र ग्रहण करता था। यह विद्रोह कंपनी के सिपाही द्वारा शुरू किया गया था। इसलिए इसे आमतौर पर 'सेप्पी विद्रोह' कहा जाता है। लेकिन यह सिर्फ सिपाही का विद्रोह नहीं था। इतिहासकारों ने महसूस किया है कि यह एक महान विद्रोह था और इसे सिर्फ एक सिपाही विद्रोह कहने के लिए अनुचित होगा। हमारे इतिहासकार अब इसे विभिन्न ना