सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

प्राचीन मिस्र की धार्मिक स्थिति

प्राचीन मिस्र की धार्मिक स्थिति 

आदिम आस्था और भौतिक प्रभाव सामाजिक दशाओं का मुखपेड़ी मिली धर्म तीन सहस्राब्दियों के अपने प्राचीन इतिहास में सदा गतिमान रहा और उसने कई परिवर्तनों का साक्षात्कार किया। इस धर्म में एक सर्वमान्य धार्मिक पद्धति की सार्वभौम धारा कभी नहीं रही। मिस्री धर्म की संरचना का मौलिक और अपरिहार्य आधार, स्थानीय जीवन के भौतिक स्तरों से विकसित आदिम आस्था बनी रही । आदिम समुदायों में मिली जीवन की धार्मिक संकल्पना में जिन कुलचिन्हों और पशुओं की महत्ता स्थापित हो चुकी थी उन्हीं में संशोधन, परिवर्द्धन करके उसे नये समाज की भौतिक आवश्यकताओं के अनुरूप बनाया गया। नये ऐतिहासिक युग में 'मिस्त्रियों ने अलौकिक शक्तियों से सम्पर्क का मार्ग तलाशते हुये द्रष्टव्य ठोस रूपाकारों को देवत्व-मण्डित किया। देवताओं की परिकल्पना में मनुष्यों की तरह उन्हें भी ईर्ष्यालु, क्रूर, प्रेमी, कामुक, न्याय परायण ओर वीर बताया गया। धीरे-धीरे स्थानीय सरदारों और कुलीनों के अनुरूप देवताओं के आदर्शीकृत, गौरवशाली रूप का प्रस्तुतीकरण हुआ। प्रकृति की गोद में सांस ले रहे मित्री मनुष्य के लिये चारों तरफ यह प्राकृतिक परिदृश्य विद्यमान था जिस पर उसका सम्पूर्ण अस्तित्व अवलम्बित था-अतः दैवी संकल्पना में पृथ्वी, आकाश, वायु, सूर्य, चन्द्रमा नील की बाद आदि का महत्वोन्नयन हुआ, धार्मिक आस्था के इस विकास में मछली और पानी की तरह मिली लोग प्रतीकात्मकता के प्रति आसक्त रहे तथा उनके जीवन के सभी पहलू धर्म से अनुप्राणित रहे। 

मिस्त्री धर्म के विवेचन के सन्दर्भ में उल्लेखनीय है कि प्राचीन मिस छोटे-छोटे राज्यों (नोम्स) के समुच्चय से विकसित हुआ जिसमें प्रत्येक राज्य का एक प्रधान सरदार और एक प्रधान देवता था। मातृसत्तात्मक समुदाय की अवशिष्टरूपा मातृदेवी के प्रभाव से प्राचीन पशुदेवताओं के साथ देवियों की अत्यधिक महत्ता थी। अपने अपने क्षेत्रों में इन देवी देवताओं की सर्वोच्चता बनी हुई थी। कालान्तर में राजवंशीय काल में राजनीतिक एकीकरण हुआ जिससे छोटे राज्यों का विलयन हुआ। इसका प्रत्यक्ष प्रभाव धर्म पर पड़ा। शान्तिपूर्ण तरीकों से मिलाये गये राज्यों के देवी-देवता, लिंग और आयु के आधार पर सत्ताधारी क्षेत्र के देवताओं के पति, पत्नी, पिता या पुत्र रूप में समायोजित कर लिये गये लेकिन विजेता राज्यों ने पराजितों के देवताओं का अवमूल्यन करके उन्हें विरोधी और अशुभ मान लिया। जे0 एम० राबर्टस की यह मान्यता प्रमाणिक लगती है कि मिस्ती' धर्म ने उसके राजनीतिक रूप को अतिजीवन दिया और राजनीति ने धर्म को शरण देकर उसे कायम रक्खा) 

देवमण्डल -बहुदेववादी मिल में एमन, री, होरुस, सेख, अनुनिस, टॉच, हापी और ओसिरिस तथा अन्यअनेक देवताओं की कल्पना की गई थी। इसमें विजयदाता एमन प्रत्येक फराओं का पिता समझा जाता था उसकी पत्नी, 'मत' तथा पुत्र 'खोंसू था। मिसी देवताओं की कल्पना में पारिवारिक वीय महत्व स्वीकृत था। एमन प्रायः कामविहीन माना जाता था। 

एमन -देवताओं में महानतम एमन प्रारम्भ में थिविस का स्थानीय देवता था जो विधिस के राजनीतिक उत्थान की लहरों के साथ ज्ञात विश्व का सर्वोच्च देवता बना। जय बिबिस मात्र एक छोटा प्रान्तीय नगर था तो बतख या भेड़े के रूप में कल्पित एमन साधारण हैसियत का था लेकिन विकास के भाग्य सितारे की चमक से एमन का प्रभामण्डल भी गौरवान्विम हुआ। इधर छठे राजवंश के समय थिविस राजधानी बनी और कथाओ और नाटकों के विषय-वस्तु होकर अत्यन्त लोकप्रिय हुये। ये दोनों आकाश देवी के शिशु समझे जाते थे। नूब्त नगर में पूजित सेतेख को रहस्मय जानवर के रूप में परिकल्पित किया गया था। कबीलाई संघर्षों में होरुस के भक्तो ने सेतेख के पूजकों को परास्त कर दिया जिससे देवता होरूस की प्रतिष्ठा बढ़ गई। पिरामिड पाठ में फराओं के शिरोवेष्ठन पर स्थित नाग की पहचान सेतेख से की गई है और गरूड, होरूस का प्रतीक था जो मिल के दोनों क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व करते थे। 

ओसिरिस और फराओ -सामाजिक विकास के साथ धार्मिक आस्था के परिवर्तन का विशिष्ट उदाहरण ओसिरिस के सम्बन्ध में स्पष्टतः दिखलाई पड़ता है। गर्जेन काल में इसकी उपासना पर बाह्य प्रभाव पड़ा। फराओं को ओसिरिस का सजीव रूप माना गया। प्रजनन और पैदावार से सम्बन्धित आख्यानों का ताना-बाना ओसिरिस के व्यक्तित्व के इर्द-गिर्द चुना गया और फराओं की पूजा, जीवित तथा मृत दोनों रूपों में सक्रिय रही। फराओ को दैवी प्रतिनिधि और देवात्मा का अंश भागी माना गया था और जनता उसे पृथ्वी पर देवता सताती थीं। इस प्रकार ओसिरिस के समरूप फराओ अर्थात् सजीव ओसिरिस से जुड़े देवता आकाश देवी के बच्चे समझे जाते थे। ये थे-मत, आइसिस, नेपथीस, होरुस और सेतेख। पहले, आख्यान की भावना बनाये रखने के लिये आदित स्तर पर राजा का बलिदान किया जाता था लेकिन बाद में उसके स्थानापन्न व्यक्ति की बलि चढ़ाई जाती थी। वन्य जीवन की इस उपासना पद्धति में ओसिरिस को वराह की बलि दी जाती थी जिसके प्रमुख केन्द्र एवाइडस और बुसिरिस थे। 

परलोक (अधोलोक, मृतकों की भूमि या यारूभूमि) की अवधारणा में महत्वपूर्ण ओसिरिस, प्राकृतिक सत्ता का प्रतीक था जो नीलघाटी की उर्वरता के लिये पूज्यमान था। उसे प्रकृति की रहस्मय प्रक्रिया का व्याख्याता और मिसी सभ्यता का जन्मदाता स्वीकार किया था। इस प्रकार हम देखते हैं कि प्रत्येक मिथकीय परिकल्पना का एक सुनिश्चित भौतिक आधार था जिसे मिस्स में शायद सर्वाधिक स्पष्ट तरीके से अभिव्यक्त किया गया था। मिली धर्म का यह पहलू स्वाभाविक रूप से समाजार्थिक विकास की आदिम अवस्था से जुड़ा हुआ था क्योंकि 'मानव मस्तिष्क में बनने वाले छायाभास भी अनिवार्यतः उस भीतिक जीवन प्रक्रिया के पदार्थ हैं, जो अनुभव द्वारा परखी जा सकती है और जो भौतिक पूर्वाधारों से सम्बद्ध है। 

प्रसिद्ध देवियाँ -मानव समाज के विकास में प्रागैतिहासिक काल से ही मातृ देवी की पूजा का महत्व रहा है, प्राचीन मिल भी इसका अपवाद नहीं था। आइसिस नामक देवी उपजाऊ नील-घाटी की काली मिट्टी के रूप में रहस्यमय सृजनशक्ति का प्रतीक समझी "जाती थी। उसे ओसिरिस की पत्नी माना गया था। मिल में श्रद्धा और भक्ति के साथ झांकियां निकालकर आइसिस की पूजा की जाती थी होरुस को उसका अलौकिक पुत्र मानते थे। यह विश्वास था कि वही 'री' का रहस्यमय नाम जानती थी। चिकित्सा में भी इस महादेवी का आवाहन किया जाता था। वह सर्वोच्च मां समझी जाती थी।आइसिस को स्वर्ग की देवी, देवमाता, देवियों में महानतम, महा-मायाविनी, जादू की रानी और मंत्रज्ञा समझा था। 

मृतकों की संरक्षिका नेपथीस, घर की स्वामिनी और बहन आइसिस के साथ ओसिरिस के क्रिये शोक मनाने वाली मानी जाती थी। गिद्ध देवी नेखेल को राजा की रक्षिका माना जाता था और यही कल्पना आक्रांता नागदेवी वक्त के लिये भी की गई थी। मंदिरों की स्थापना में सेशत नामक देवी का महत्व था। आदिम समुदाय की पशुचारक अवस्था से मान्यता प्राप्त हेथर देवी का महत्व ऐतिहासिक काल में भी बना रहा। उन्हें परलोक में का स्वागत करने वाली देवी माना जाता था जिनका पवित्र रूप गाय का था। महारानी से मृतकों लेकर महागरीव औरत तक सर्वपूज्य तऊरी देवी का महत्व प्रजनन के सम्बन्ध में था। विवों में उन्हें दो पैरों पर खड़ी दरियाई घोड़ी के रूप में दिखाया गया है जो गर्भिणी का आभासी सच लगता है। बस्त नामक बबेस्तिस की देवी बिल्ली के सिर से युक्त कल्पित की गई थी। यह स्थानीय, उपेक्षिता देवी भी अपने स्थान के राजनीतिक महत्व के साथ अधिक लोकप्रय हुई। वस्त देवी के मंदिर में कई व्यभिचारपूर्ण समारोह होते थे निका प्रभाव यूरोप पर पड़ा था।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam 1857 के महान विद्रोह (1857 के भारतीय विद्रोह, 1857 के महान विद्रोह, महान विद्रोह, भारतीय सेप्पी विद्रोह) को ब्रिटिश शासन के खिलाफ भारत का स्वतंत्रता संग्राम माना जाता है। 1857 आंदोलन एक राष्ट्रीय उभर रहा था, जो भारतीयों के दिल में एक मजबूत आग्रह से प्रेरित था, जिससे देश मुक्त हो गया। यह ब्रिटिश शासन की स्थापना के बाद भारत के इतिहास में सबसे उल्लेखनीय एकल घटना थी। यह भारत में सदी के पुराने ब्रिटिश शासन का नतीजा था। भारतीयों के पिछले विद्रोहों की तुलना में, 1857 का महान विद्रोह एक बड़ा आयाम था और यह समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों की भागीदारी के साथ लगभग अखिल भारतीय चरित्र ग्रहण करता था। यह विद्रोह कंपनी के सिपाही द्वारा शुरू किया गया था। इसलिए इसे आमतौर पर 'सेप्पी विद्रोह' कहा जाता है। लेकिन यह सिर्फ सिपाही का विद्रोह नहीं था। इतिहासकारों ने महसूस किया है कि यह एक महान विद्रोह था और इसे सिर्फ एक सिपाही विद्रोह कहने के लिए अनुचित होगा। हमारे इतिहासकार अब इसे विभिन्न ना