सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मिस्त्र की पिरामिड कला

 मिस्त्र की पिरामिड कला 

प्राचीन मिस्र की सभ्यता का सर्वोच्च तत्व कला है। इतिहास के प्रवेश द्वार पर ही हमें एक ऐसी महान् और परिपक्व कला की प्राप्ति होती हैं जो किसी भी वर्तमान देश की कला से श्रेष्ठ है और केवल यूनानी कला से ही तुलनीय हैं। स्वेन के अनुसार बेबीलोन की सभ्यता की सपळलता का राज है जहाँ का मन्दिर और मिस की महत्ता के कारण है पिरामिड और राजकीय समाधियाँ मिरासी महान् निर्माता थे। मिल की सांस्कृतिक प्रसिद्धि के कारण उसके प्राचीन समाट नहीं अपितु उसके कलाकार हैं। कहा जाता है कि मिली कलाकार संसार के सर्वश्रेष्ठ वास्तुकार थे। उन्होंने ईटों और पत्थरों के ऐसे भवन, मन्दिर एवं समाधियाँ निर्मित किया जो संसार में अद्वितीय थे। वैसी इंजीनियरिंग तो ईसा के पश्चात् अठारहवीं शती ई. तक यूरोप में भी नहीं दृष्टिगत होती। उनकी लम्बी नहरे, विशाल बाँध और बड़े बड़े सरोवर उसकी कला-कुशलता के परिचायक हैं। इतना ही नहीं उन्होंने जिन पिरामिडों का निर्माण किया वे संसार के वस्तुओं को चुनौती देते हैं तथा काल की करालता का मजाक उड़ाते हैं। इतना होते हुए भी मिसी कला का भावार्थ समझने के लिये कोई भी एक व्यवस्था सही नहीं होगी। इसके अभिप्राय विभिन्न थे और जिन आदर्शों से प्रेरित थे वे राजनीतिक और सामाजिक इतिहास के बदलने के साथ परिवर्तित होते रहे। सामान्य रूप से वे राष्ट्रीय भावनाओं की समग्रता को व्यक्त करते थे। यह कला मात्र कला के लिये  नहीं और न तो व्यक्ति की निजी समस्याओं को व्यक्त करने का माध्यम थी। किन्तु समय के बदलाव के साथ कलाकार ने रूढ़िवादिता का त्याग कर दिया ठसने कला की प्राकृतिक सौन्दर्य से जोड़ दिया। स्तम्भों को ताड़ के तने का आकार दिया तथा उनके सिर की चौकी खिले हुए कमल के सदृशा बनाई जाने लगी। मिली कला की एक और विशेषता उनकी अनश्वरता है। सभी कला कृतियाँ पत्थरों की होने के कारण स्थायी हैं। 


पिरामिड कला -प्राचीन काल की मिस की प्रधान कला कृतियाँ पिरामिड है इसलिए इस युग का ही नाम पिरामिड युग रखा गया है । इस काल में लगभग 70 पिरामिड निर्मित किये गये। सबसे विशालकाय पिरामिड गीजा के 13 एकड़ के मैदान में खूफू का है। इसमें 32 लाख पत्थर लगे हैं जिनमें डेढ़ सौ पत्थर ढाई टन वजन के भी हैं। इसकी ऊंचाई 480 फीट से अधिक है तथा प्रत्येक ओर 755 फीट लम्बा है। गीजा के पिरामिड पर 160 फीट लम्बी एक पत्थर की प्रतिमा है जिसका सिर सतीस फीट लम्बा और मुख की चौड़ाई 13 फीट 8 इंच है। हेरोडोटस के मत से इस पिरामिड के निर्माण में एक लाख आदमी बीस वर्ष तक लगे रहे। भारी-भारी पत्थरों को सुदूर स्थानों से लाकर इतनी ऊँचाई पर बढ़ा ले जाना आश्चर्य है। इसी कारण पिरामिड संसार की आश्चर्यजनक कृति माने जाते हैं। इतिहास के विद्वान ब्रेस्टेड महोदय का कथन है कि इस तथ्य में विश्वास नहीं होता कि पिरामिड उन्हीं मानवों द्वारा निर्मित हैं जिनके पूर्वज कुछ पीढ़ी पहले मरूस्थल में गड्ढे बनाकर समाधिस्थ किये जाते थे। 


पिरामिड निर्माण के उद्देश्य - पिरामिड के निर्माण के विभिन्न उद्देश्य बताये जाते हैं। (1) एक सामान्य मत के अनुसार फेराओं द्वारा आर्थिक संकट काल में जनता की जीविका निर्वाह के लिए निर्मित ये निरर्थक कृतियाँ हैं परन्तु उपर्युक्त मत तो केवल इसी आधार पर तर्कहीन हो जाता है कि पिरामिडों का निर्माण मिरुतर की उन्नत अवस्था में हुआ था (2) उक्त मत के विपरीत ट्रेवर महोदय (हि. आफ. ए. सि. पृ. 47) का मत है कि मिल की कला अधिकांशतः धर्म से अनुप्राणित है। धर्म ने ही उसका उद्देश्य निर्धारित किया, उसका स्वरूप निश्चित किया और उसे प्रतीकात्मक महत्व प्रदान किया। (3) प्रो. वर्नस के अनुसार पिरामिडों का प्रमुख महत्व धार्मिक और राजनीतिक था ये धार्मिक कृतियाँ हैं और साथ ही सम्राटों की महत्वाकांक्षा की प्रतिमूर्तियाँ भी है जिनमें राज्य का स्थायित्व प्रकाशित है (4) इसके साथ ही मिसवासी सूर्यपूजक था अतः उसने उक्त पिरामिडों का निर्माण सूर्य की प्रथम किरणों के स्वागतार्थ किया। (5) परन्तु वास्तविक बात तो यह है कि ये पिरामिड मृत सम्राटों की समाधियाँ हैं। मिस्त्री लोगों का ऐसा विश्वास था कि यदि मृतक के स्थूल शरीर को सुरक्षित रखा जाय तो उसी के साथ उसका सूक्ष्म शरीर भी रहकर अपनी आवश्यकताओं की पूर्ति चाहता है। उनके अनुसार आत्मा अमर है और मृत शरीर में पुनः प्रवेश करना है। इसलिए दीर्घ काल तक शव की सुरक्षा के लिए इन विशाल और चिरस्थायी पिरामिडों का निर्माण हुआ। इस प्रकार इन विशाल समाधियों का निर्माण कर फेराओं ने प्रजा में आत्मा को अमरता और एकता का सन्देश दिया।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण  जान लॉक का प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त सत्रहवीं व अठारहवीं शताब्दी में प्राकृतिक अधिकारों का सिद्धांत अत्यन्त प्रचलित था। सामाजिक संविदा सिद्धान्त के प्रवर्तकों ने यह विचार प्रस्तुत किया कुछ अधिकार राज्य के उद्भव अर्थात् उत्पत्ति के पहले विद्यमान थे अर्थात् ये मानव के पास प्राकृतिक अवस्था में भी मौजूद थे। इसी अधिकार को राजनीतिशास्त्र में प्राकृतिक अधिकार के नाम से सम्बोधित किया जाता है। इन प्राकृतिक अधिकारों का सृजनकर्ता राज्य नहीं था वरन् राज्य का जन्म इन अधिकारों के रक्षा के लिए हुआ है। राज्य का यह दायित्त्व है इन अधिकारों को मान्यता प्रदान कर विधि अथवा कानून के रूप में परिवर्तित कर दे। लॉक ने अपने सामाजिक सम्विदा सिद्धान्त के अन्तर्गत जीवन स्वतंत्रता एवं सम्पत्ति सम्बन्धी अधिकार की श्रेणी में रखा है। ये अधिकार व्यक्ति के व्यक्तित्व में निहित होते हैं, ये सर्वव्यापक एवं असीम होते हैं। प्राकृतिक अधिकारों के प्रवल पोषक लॉक के अनुसार यदि राज्य की प्रकृति प्रदत्त अर्थात् प्रकृति के अधिकारों की रक्षा करने में सफल नहीं होता तो ऐसे