सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बेबीलोन की धार्मिक मान्यताएँ

बेबीलोन की धार्मिक मान्यताएँ 

धार्मिक अवस्था

पुरोहितवाद-

बेबीलोनिया की सभ्यता पुरोहितवाद से सर्वाधिक प्रभावित थी। पुरोहितों का प्रभाव राजा पर भी था। कोई भी राजकुमार तब तक राजा नहीं समझा जाता था जब तक कि वह मर्द की प्रतिमा के पीछे-पीछे नगर में प्रमण नहीं करता था। इन उत्सवों में राजा पुरोहित की पोशाक में होता था। स्वयं हम्मूराबी ने अपने कानूनों को देवता से प्राप्त किया था। युद्ध में विजय मिलने पर देव-पूजन और मन्दिर निर्माण देवताओं के नाम पर कर वसूलना तथा मन्दिरों को पर्याप्त भूमि प्रदान करना आदि बातें राज्य और धर्म के संघात्मक रूप को व्यक्त करती है। पुरोहित अनुदान में अन्न, भूमि, स्वर्ण चाँदी आदि बहुमूल्य वस्तुएं पर्याप्त रूप में पाते थे। वे कालान्तर में प्रभूत धन सम्पत्ति के मालिक हो गये मन्दिरों के पास मीलों को भूमि, अपार धन और जनसम्पत्ति आदि होने से पुरोहित भी कालान्तर में राजा के समस्त अधिकारों से युक्त थे। इससे ज्ञात होता है कि बेबिलोन की पुरोहिती प्रथा वैदिक और परवर्ती भारतीय पुरोहिती प्रथा से कम न थी। वे मुकदमों का फैसला भी करते थे। 

देवमण्डल -

बेबीलोनिया के देवों की संख्या अगणित थी। प्रत्येक नगर का एक प्रमुख देवता था। ये देवगण मनुष्य से परे नहीं थे। बहुत से तो उनके अनुसार इस धरती पर ही मन्दिरों में रहते थे। उन्हें भी बुभुक्षा सताती है सदाचारिणी स्त्री को वे पूत्र प्रदान करते थे। बेबीलोन के देवताओं में मरदुक का नाम अग्रणी है। सुमेरियन साम्राज्य के अन्तर्गत यह एक छोटा देवता था और बेबीलोन नगर का प्रधान देव था। किन्तु जब वेबीलोन साम्राज्य की राजधानी बना तो सम्राट की तरह मदुरक भी बेबीलोन साम्राज्य के देवों का सम्राट हो गया। इश्तर पूर्व की भाँति अब भी सर्वोच्च देवी रही। तम्मुज उसका छोटा भाई था जो उसके प्रेमी के रूप में भी चित्रित हैं ऋग्वेद में भी यम-यमी का भाई बहिन के रूप में वर्णन है किन्तु यमी यम को पति मानती है। मिस्र में तो राज कुल में भाई-बहिन का विवाह अनिवार्य प्रथा थी। तम्मुज का जिसकी सुमेरिया के देवताओं में कोई स्थान नहीं रह गया था, अब तीसरा स्थान हो गया। शरद में उसकी मृत्यु हो जाती थी और बसन्त में पुनर्जन्म। इससे इसका प्राकृतिक स्वरूप ज्ञात होता है। इसके अतिरिक्त लारसा का प्रधान देव शमश, निप्पर का एनलिल, उरूक का इश्तर और उर के नानार थे। आकाश से सम्बन्धित देवताओं में अनु (स्थिर आकाश), शमश (सूर्य), नानार (चन्द्र) एवं बैल या बाल (पृथ्वी देवी) की स्तुति की जाती थी तथा प्रायः और सायं दूध और जल आदि चढ़ाया जाता था। भारतीय इतिहास का कोई भी युग ऐसा नहीं है जिसमें उक्त देवों या इस प्रकार के देवों की पूजा न होती हो। ज्योतिष देवों की पूजा वैदिक है। किन्तु बेबीलोन में देवी की पूजा भौतिक सुखों के लिए ही की जाती थी पारलौकिक सुखों के लिए नहीं। देवताओं को प्रायः कन तक ही याद रखा जाता था। किन्तु मरदुक देव मृतकों को भी जीवित करने वाला समझा जाता था। 

धार्मिक कृत्य - 

जीवन में सुख शान्ति की प्राप्ति के लिए मन्दिरों में देवों के सम्मान में उपहार भी चढ़ाये जाते थे। लोगों का विश्वास था कि बहुत से दुखों के कारण भूत और दानव हैं जो इधर-उधर छिपे रहते हैं। उन्हें भगाने के लिए शरीर पर फरात और दजला नदियों का जल छिड़का जाता था और मन पढ़ा जाता था। अभिचार कृत्य से भूत का भी पीछा किया जा सकता था और उसे पशुओं, पक्षियों सूकर आदि पर भेजा जा सकता था।

इस प्रकार इन्द्रजाल से सम्बन्धित बहुत से लेख बेबिलोन में प्राप्त हुए हैं। कुत्ते की चाल को देखकर राजा का भविष्य घोषित कर दिया जाता था।कर्मकाण्ड पुरोहितों के निर्देशन में कराये जाते थे। उनका विश्वास था कि विधिवत कर्म कराने से सभी कार्य अपने आप हो जायेंगे। देवों के प्रति कर्तव्य निभाने के लिए मन्दिरों के पास यज्ञ किये जाते थे जहाँ पुरोहित विधिवत सभी कार्य कराता था और मन्त्री का उच्चारण करता था। वे देवों को खाद्य और पेय दोनों प्रकार के पदार्थ द्रव्य रूप में प्रदान करते थे। भेड़ के बच्चे के बलिदान की प्रथा थी। 

मरणोत्तर जीवन -

मृतक का शव समाधिस्त किया जाता था या जला दिया जाता था। मृतक के शव को श्मशान के लोग भली-भाँति नहला धुला, वेश-भूषा से सजा-संवार कर ठीक से गाड़ते थे जिससे मृतक लोगों को सता न सकें। उनका विश्वास था कि समाधिस्थ न करने पर प्रेतात्मायें भोजन आदि के लिए घूम सकती थीं और पूरे नगर को कष्ट पहुँचा सकती थीं। बेबिलोन निवासी की केवल यही भावना देवों और पुरोहितों की पूजा के लिए पर्याप्त थी। किन्तु उसका परलोक में वि वास नहीं था। वह पृथ्वी के आनन्दों को ही स्वर्ग समझता था। उसका विश्वास था कि मृतथा हाथ-पवि बंधा हुआ गहन अन्धकार में पड़ा रहता है और वहीं उसकी दुखी आत्माएँ अपने कुल वालों से श्राद्ध पाने की प्रतीक्षा करती थी। एक भयानक देवी वहाँ का शासक है जो सब प्रेतात्माओं को बाँध रखी है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam 1857 के महान विद्रोह (1857 के भारतीय विद्रोह, 1857 के महान विद्रोह, महान विद्रोह, भारतीय सेप्पी विद्रोह) को ब्रिटिश शासन के खिलाफ भारत का स्वतंत्रता संग्राम माना जाता है। 1857 आंदोलन एक राष्ट्रीय उभर रहा था, जो भारतीयों के दिल में एक मजबूत आग्रह से प्रेरित था, जिससे देश मुक्त हो गया। यह ब्रिटिश शासन की स्थापना के बाद भारत के इतिहास में सबसे उल्लेखनीय एकल घटना थी। यह भारत में सदी के पुराने ब्रिटिश शासन का नतीजा था। भारतीयों के पिछले विद्रोहों की तुलना में, 1857 का महान विद्रोह एक बड़ा आयाम था और यह समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों की भागीदारी के साथ लगभग अखिल भारतीय चरित्र ग्रहण करता था। यह विद्रोह कंपनी के सिपाही द्वारा शुरू किया गया था। इसलिए इसे आमतौर पर 'सेप्पी विद्रोह' कहा जाता है। लेकिन यह सिर्फ सिपाही का विद्रोह नहीं था। इतिहासकारों ने महसूस किया है कि यह एक महान विद्रोह था और इसे सिर्फ एक सिपाही विद्रोह कहने के लिए अनुचित होगा। हमारे इतिहासकार अब इसे विभिन्न ना