सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मुस्लिम समाज सुधार आन्दोलन में सर सैयद अहमद खाँ के योगदान

मुस्लिम समाज सुधार आन्दोलन में सर सैयद अहमद खाँ के योगदान


मुस्लिम सुधार आन्दोलन

यदि पश्चिम के प्रति प्रारम्भिक हिन्दू प्रतिक्रिया जिज्ञासा की थी तो मुसलमानों की प्रथम प्रतिक्रिया अपने आप को एक संकीर्ण ढकने में बन्द करने और पश्चिमी प्रभाव से बचाने की थी। उन्नीसवीं शताब्दी के मध्य तक कोई भी मुसलमान इस अकेलेपन को छोड़ने को उद्यत नहीं था।

वहाबी आन्दोलन-मुसलमानों की पाश्चात्य प्रभावों के विरुद्ध सर्वप्रथम प्रतिक्रिया जो हुई उसे वहाबी आन्दोलन अथवा वलीउल्लाह आन्दोलन के नाम से स्मरण किया जाता है। वास्तव में यह पुनर्जागरण वाला आन्दोलन था। शाह वलीउल्लाह (1702-62) अठारहवीं शताब्दी में भारतीय मुसलमानों के वह प्रथम नेता थे जिन्होंने भारतीय मुसलमानों में हुई गिरावट पर चिन्ता प्रकट की थी। उन्होंने मुसलमानों के रीति-रिवाजों तथा मान्यताओं में आई कुरीतियों की ओर ध्यान दिलाया। उनके योगदान के मुख्य दो अंग थे: 

(1) उन्होंने इस बात पर बल दिया कि इस्लाम धर्म के 4 प्रमुख न्याय शास्त्रों में सामंजस्य स्थापित होना चाहिए जिसके कारण भारतीय मुसलमान आपस में बंटे हुए ही (2) उन्होंने धर्म में वैयक्तिक अन्तश्चेतना पर भी बल दिया। उन्होंने कहा कि जहाँ कुरान और हदीस के शब्दों की कभी-कभी विरोधात्मक व्याख्या हो सकती हो तो व्यक्ति को अपनी विवेचना तथा अन्तश्चेतना के अनुसार निर्णय लेना चाहिए।

अब्दुल अजीज तथा सैयद अहमद बरेलवी 1786-1831 ने वलीउल्लाह के विचारों को लोकप्रिय बनाने का प्रयत्न किया। उन्होंने इसे राजनीतिक रंग भी दिया। इस विचार का आरम्भ तब हुआ जब एक मौलवी अब्दुल अजीज ने यह फतवा (धार्मिक आज्ञा) दिया कि भारत एक दार-उल-हर्ब (काफिरों का देश) है और इसे दार-उल-इस्लाम बनाने की आवश्यकता है। प्रारम्भ में यह अभियान पंजाब में सिक्ख सरकार के विरुद्ध था। परन्तु 1849 में अंग्रेजों द्वारा पंजाब के विलय के उपरान्त यह अभियान अंग्रेजों के विरुद्ध बदल दिया गया। यह आन्दोलन 1870 तक चलता रहा जब इसे वरिष्ठ सैनिक बल द्वारा समाप्त कर दिया गया। अलीगढ़ आन्दोलन-1857 के महान विद्रोह का एक सबसे बड़ा रिक्य (कारण) यह था कि सरकार की यह धारणा बन गई कि (1857-58) के षड्यन्त्र के लिए मुसलमान ही उत्तरदायी हैं और वे एक अत्यन्त षड्यंत्रकारी लोग हैं। 1860 तथा के आसपास हुई वहावी षड्यन्त्रों ने यह धारणा और दृढ़ कर दी। 

इसके उपरान्त डब्ल्यू डब्ल्यू हण्टर को 'इण्डियन मुसलमान नाम की पुस्तक में एक सुझाव दिया गया कि मुसलमानों से समझौता करना चाहिए और निश्चित रियासतों द्वारा अंग्रेजी सरकार की ओर मिलाना चाहिए। मुसलमानों का एक वर्ग जिसके नेता सैयद अहमद खां थे, सरकार के इस संरक्षण भरे रुख को स्वीकार करने को उद्यत थे। वह कम्पनी के प्रति पूर्ण राजभक्त रहे। उन्होंने मुसलमानों के दृष्टिकोण को आधुनिक बनाने का प्रयत्न किया। उन्होंने चाहा कि मुसलमान अंग्रेजी सरकार के तथ्य को स्वीकार करें और उसके अधीन सेवा करना आरम्भ कर दें। वह अपने प्रयत्न में बहुत सफल रहे। उन्होंने इस्लाम में सामाजिक कुरीतियों को दूर करने का प्रयत्न भी किया। उन्होंने पीरी मुरीदी की प्रथा को समाप्त करने का प्रयत्न किया। पीर लोग अपने आप को सूफी मानते थे और अपने मुरीदों को कुछ रहस्यमय शब्द देकर गुरु बन जाते थे। उन्होंने दास प्रथा को भी इस्लाम के विरुद्ध बतलाया। उन्होंने अपने विचारों का प्रसार एक पत्रिका 'तहजीव-उल-अखलाक परन्तु उनका सबसे महत्त्वपूर्ण कार्य कुरान पर टीका थी। उन्होंने कुरान के अध्ययन पर बल दिया और कहा कि ईश्वरीय ज्ञान की व्याख्या ईश्वरीय कार्य द्वारा, जो सबके सम्मुख है,(सभ्यता और नैतिकता) द्वारा किया।

 उन्होंने 1875 में अलीगढ़ में एक मुस्लिम एंग्लो ओरिएंटल स्कूल आरम्भ किया जहाँ पाश्चात्य विषय तथा विज्ञान और मुस्लिम धर्म दोनों ही पढ़ाए जाते थे। शीघ्र ही अलीगढ़ मुस्लिम सम्प्रदाय के धार्मिक तथा सांस्कृतिक पुनर्जागरण का केन्द्र बन गया। यही पौधा आगे चलकर 120 में अलीगढ़ विश्वविद्यालय के वृक्ष के रूप में सामने आया।

अहमदिया आन्दोलन-इस आन्दोलन के प्रवर्तक मिर्जा गुलाम अहमद थे। वे अपने आपकों हिन्दुओं का अवतार, मुसलमानों को पैगम्बर तथा ईसाइयों का ईसा मसीह मानते थे। अधिकांश

मुसलमान उन्हें पैगम्बर स्वीकार नहीं करते थे लेकिन फाहियानी उन्हें पैगम्बर स्वीकार करते थे। वे कहते थे सभी धर्मों में सुधार आवश्यक है। वे समस्त एमों को सुमार्ग पर ले जाने वाला तथा इस्लाम को सर्वश्रेष्ठ मानते थे। मिर्जा गुलाम अहमद ने पर्दा प्रथा, तलाक तथा बहु विवाह का समर्थन किया। देवबन्द शाखा-मुसलमान उलमा ने, जो प्राचीन मुस्लिम विद्या के अग्रणी थे, देवबन्द आन्दोलन चलाया। यह एक पुनर्जागरण वाला आन्दोलन था, जिसके दो मुख्य उद्देश्य थे: (1) मुसलमानों में कुरान तथा हदीस की शुद्ध शिक्षा का प्रसार करना और (2) विदेशी शासकों के विरुद्ध जिहाद' की भावना को जीवित रखना।

उल्मा ने मुहम्मद कासिम बनौती (1832-80) तथा रशीद अहमद गंगोही 18281905 के नेतृत्व में देवबन्द, उत्तर प्रदेश के जिला सहारनपुर में एक विद्यालय खोला (1866) उद्देश्य यह था कि मुस्लिम सम्प्रदाय के लिए धार्मिक नेता प्रशिक्षित किए जाय। पाठशाला के पाठ्यक्रम में अंग्रेजी शिक्षा तथा पाश्चात्य संस्कृति पूर्णरूप से वर्जित थी।

राजनीति में देवबन्द शाखा ने 1885 ई० को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का स्वागत किया 1888 में देवबन्द के उलमा ने सैयद अहमद खां की वनाई संयुक्त भारतीय राजभक्त सभा तथा मुस्लिम एंग्लो ओरिएन्टल सभा के विरुद्ध फतवा (धार्मिक आदेश) दे दिया। कुछ आलोचकों की यह धारणा है कि देवबन्द टेल्मा का समर्थन किन्हीं निश्चित राजनीतिक विश्वासों के कारण अथवा अंग्रेजों के कारण नहीं अपितु सर सैयद अहमद खां के क्रियाकलापों के विरोध में किया गया था। महमूद-उल-हसन 18511920 जो देवबन्द शाखा के नये नेता थे, ने इस शाखा के धार्मिक विचारों को राजनीतिक तथा बौद्धिक रंग देने का प्रयत्न किया।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

तुलनात्मक राजनीति का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth

तुलनात्मक राजनीति  का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth परिचय  राजनीति एक सर्वव्यापी गतिविधि है जो हमारे चारो तरफ हमको देखने को मिल जाती है। प्रारंभ से ही एक  राजनीति व्यवस्था की तुलना दूसरे राजनीति व्यवस्था से की जाती रही है।किसी एक राजनीतिक व्यवस्था की अन्य राजनीतिक व्यवस्था से तुलना करने  के तरीके को सामान्य तुलनात्मक पद्धति कहते है। वास्तव में तुलनात्मक राजनीति का अर्थ और लक्ष्य विभिन्न देशों के मध्य एक राजनीति समस्याओं विषमताओं समानताओं की जानकारी का अध्ययन करना है। इसे हम तुलनात्मक राजनीति कहते हैं। यह समस्या या वह विभिन्नताओं के मिश्रण का परिपेक्ष से विकास करने का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति हमारे समानताओं और विभिन्नताओं का अध्ययन करता है  और उसके द्वारा राज्य के विकास का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति सिद्धांत यह स्पष्ट करता है कि विश्व की सरकार और उनकी क्या परिस्थितियां हैं किस प्रकार से उनका प्रचलन हो रहा है किस प्रकार से सरकारें चल रही हैं। इसके अंतर्गत जो अध्ययन करते हैं पहला राज्य के कार्य दूसरा संगठन, नीति, दबाव समूह का अध्ययन होता है।  अर्थ और

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना  रूसो का सामान्य इच्छा सिद्धान्त अवधारणा रूसो की 'सामान्य इच्छा सम्बन्धी सिद्धान्त अथवा अवधारणा आधुनिक राजनीतिक चिन्तन में एक महत्त्वपूर्ण देन है। कुछ विद्वानों के अनुसार वह लोकतन्त्र की आधारशिला है। रूसो के राजनीतिक विचारों में सामान्य इच्छा' का विचार सबसे मौलिक है यद्यपि उसके सम्बन्ध में वह स्वयम् स्पष्ट नहीं है। रूसों के अनुसार प्रारम्भिक समझौते के लिए समाज के समस्त सदस्यों का एक मत होना आवश्यक है, किन्तु बाद में सामान्य इच्छा के अनुसार ही शासन का कार्य होता है। रूसो की सामान्य इच्छा के सन्दर्भ में जोन्स महोदय का कथन उल्लेखनीय है-सामान्य इच्छा का विचार रूसों के सिद्धान्त का न केवल सबसे अधिक केन्द्रिय विचार है, अपितु यह उसका सबसे अधिक और मौलिक व रोचक विचार है। ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह राजनीतिक सिद्धान्त के क्षेत्र में सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण देन है। इसकी उपयोगिता का आधार इसी आधार पर लगाया जा सकता है कांट, हीगल, ग्रीन और बोसांके आदि अंग्रेजी दार्शनिकों की विचारधारा भी इसी पर आधारित थी। रूसो ने अपने सामन्य इच्छा के सन्दर्भ

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam 1857 के महान विद्रोह (1857 के भारतीय विद्रोह, 1857 के महान विद्रोह, महान विद्रोह, भारतीय सेप्पी विद्रोह) को ब्रिटिश शासन के खिलाफ भारत का स्वतंत्रता संग्राम माना जाता है। 1857 आंदोलन एक राष्ट्रीय उभर रहा था, जो भारतीयों के दिल में एक मजबूत आग्रह से प्रेरित था, जिससे देश मुक्त हो गया। यह ब्रिटिश शासन की स्थापना के बाद भारत के इतिहास में सबसे उल्लेखनीय एकल घटना थी। यह भारत में सदी के पुराने ब्रिटिश शासन का नतीजा था। भारतीयों के पिछले विद्रोहों की तुलना में, 1857 का महान विद्रोह एक बड़ा आयाम था और यह समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों की भागीदारी के साथ लगभग अखिल भारतीय चरित्र ग्रहण करता था। यह विद्रोह कंपनी के सिपाही द्वारा शुरू किया गया था। इसलिए इसे आमतौर पर 'सेप्पी विद्रोह' कहा जाता है। लेकिन यह सिर्फ सिपाही का विद्रोह नहीं था। इतिहासकारों ने महसूस किया है कि यह एक महान विद्रोह था और इसे सिर्फ एक सिपाही विद्रोह कहने के लिए अनुचित होगा। हमारे इतिहासकार अब इसे विभिन्न ना