सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

भारतीय शिक्षा पर पश्चिमी प्रभाव

भारतीय शिक्षा पर पश्चिमी प्रभाव 

अठारहवीं शताब्दी में भारत में हिन्दू-मुस्लिम शिक्षा केन्द्र प्रायः लुप्त हो गये थे। इसका कारण राजनीतिक उथल-पुथल थी। 784 ई० में हेस्टिंगस ने बोर्ड आफ डारेक्टर्स का ध्यान इस ओर खींचा। प्रारम्भ में तो अंग्रेजों इंग्लैण्ड की परम्पर के अनुसार शिक्षा का भारत निजी हाथों में रहने दिया। कुछ समय पश्चात् 1781 ई० में हेस्टिंगस ने कलकत्ता में एक मदरसा स्थापित किया जिसमें फारसी और अरवी की शिक्षा दी जाती थी। 1791 ई० में बनारस में ब्रिटिश रेजीडेन्ट डंकन ने बनारस में ही संस्कृत कॉलेज खोला जिसका उद्देश्य हिन्दुओं के धर्म साहित्य और कानून का अध्ययन और प्रसार करना था। 

लेकिन इसमें असफलता मिली और कॉलेज में विद्यार्थियों की अपेक्षा शिक्षक अधिक थे। ईसाई धर्म प्रचारकों ने इसकी निन्दा की और इस बात पर जोर दिया कि पाश्चात्य साहित्य और ईसाई मत अंग्रेजी माध्यम द्वारा स्थापित किया जाना चाहिए। 1813 ई० के चार्टर एक्ट द्वारा भारत में शिक्षा प्रसार पर एक लाख रुपये व्यय करने का निर्णय किया गया। ब्रिटिश कम्पनी को ऐसे व्यक्तियों की आवश्यकता थी जो स्थानीय एवं अंग्रेजी भाषा दोनों जानते हों जिससे प्रशासनिक कार्यों में आसानी हो। 

भारतीय समाज सुधारक राजा राममोहन राय के प्रयत्नों के परिणामस्वरूप ब्रिटिश सरकार ने कलकत्ता में हिन्दू कालेज बनाने के लिए अनुदान दिया। इस कॉलेज में पाश्चात्य विज्ञान एवं मानविकी आदि पढ़ाई जाती थी। लार्ड विलियम बैंटिक ने मैकाले का दृष्टिकोण अपनाया जो विप्रेवशन सिद्धान्त में विश्वास रखता था। 1854 ई० में शिक्षा पर चार्ल्स वुड का डिस्पैच आया जिसे भारतीय शिक्षा का मैग्नाकार्टा कहा जाता है। इस डिस्पैच में पाश्चात्य विद्या के प्रसार पर बल दिया गया तथा कलकत्ता, बम्बई एवं मद्रास में विश्वविद्यालय स्थापित किया गया। इस डिस्पैच का 50 वर्ष तक बोलवाला रहा एवं इसने बहुत ही तेजी से भारतीय शिक्षा का पाश्चात्यीकरण कर दिया। हण्टर शिक्षा आयोग। (1882-83) के सुझावों के परिणामस्वरूप आनेवाले 20 वर्षों में माध्यमिक और कॉलेज शिक्षा का अभूतपूर्व विस्तार हुआ।

कर्जन के शासन काल में भारतीय विश्वविद्यालय अधिनियम पारित हुआ। जिसके इसी अधिनियम के नियमों के कारण विधान परिषद् के बाह्य और अन्दर राष्ट्रवादी तत्त्वों ने कड़ी आलोचना की। 21 फरवरी 1913 ई० को शिक्षा नीति पर सरकारी प्रस्ताव आया जिसने अनिवार्य शिक्षा के सिद्धान्त को स्वीकार तो नहीं किया लेकिन निरक्षरता समाप्त करने की नीति को अवश्य स्वीकार किया। 19171919 ई० में कलकत्ता विश्वविद्यालय के सम्भावनाओं के अध्ययन तथा रिपोर्ट के लिए सैडलर आयोग गठित किया गया। सैडलर आयोग ने विश्वविद्यालयी शिक्षा में सुधार के लिए माध्यमिक शिक्षा सुधार पर जोर दिया। इस आयोग द्वारा कर्जन के अधिनियम की आलोचना की गयी। हाटा समिति 1929 ई० ने भी अपनी योजनाएँ प्रस्तुत की। 

इसने प्राथमिक शिक्षा के राष्ट्रीय महत्त्व पर बल दिया एवं सुझाव दिया कि उन्हीं लोगों को उच्च शिक्षा दी जाय जो इसके योग्य हैं। इन सभी एवं अन्य पाश्चात्य योजनाओं के परिणामस्वरूप भारतीयों का ज्ञानवर्धन हुआ परिणामस्वरूप भारतीयों में दादाभाई नौरोजी, गोखले, रानाडे, तिलक जैसे प्रबुद्ध लोग उत्पन्न हुए तथा भारतीयों का शिक्षा सम्बन्धी अंधविश्वास को समाप्त हो गया। पाश्चात्य प्रभाव के परिणामस्वरूप भारतीय शिक्षा द्वारा समाज में जो जातिप्रथा, अस्पृश्यता आदि बुराई फैली थी दूर हुई। बुरे परिणाम भी सामने आये नवयुवकों ने अन्धानुकरण भी किया जिसका भारतीय शिक्षा एवं जनमानस तथा धर्म पर बुरा प्रभाव पड़ा। वैसे भारतीय शिक्षा का पश्चिमीकरण करके पाश्चात्य निवासियों की नीति क्लर्क पैदा करना एवं भारत की गुलामी की मानसिकता बनाये रखना था। लेकिन इसका विपरीत असर हुआ तथा शिक्षित व्यक्ति वास्तविक स्वतंत्रता का अर्थ जान गये एवं वे शेष जनमानस को शिक्षा के माध्यम से ही जागृत करने लगे। अत: इस प्रकार भारतीय शिक्षा का पाश्चात्यीकरण तो हुआ परन्तु परिणाम अंग्रेजों के विपरीत रहा।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना  रूसो का सामान्य इच्छा सिद्धान्त अवधारणा रूसो की 'सामान्य इच्छा सम्बन्धी सिद्धान्त अथवा अवधारणा आधुनिक राजनीतिक चिन्तन में एक महत्त्वपूर्ण देन है। कुछ विद्वानों के अनुसार वह लोकतन्त्र की आधारशिला है। रूसो के राजनीतिक विचारों में सामान्य इच्छा' का विचार सबसे मौलिक है यद्यपि उसके सम्बन्ध में वह स्वयम् स्पष्ट नहीं है। रूसों के अनुसार प्रारम्भिक समझौते के लिए समाज के समस्त सदस्यों का एक मत होना आवश्यक है, किन्तु बाद में सामान्य इच्छा के अनुसार ही शासन का कार्य होता है। रूसो की सामान्य इच्छा के सन्दर्भ में जोन्स महोदय का कथन उल्लेखनीय है-सामान्य इच्छा का विचार रूसों के सिद्धान्त का न केवल सबसे अधिक केन्द्रिय विचार है, अपितु यह उसका सबसे अधिक और मौलिक व रोचक विचार है। ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह राजनीतिक सिद्धान्त के क्षेत्र में सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण देन है। इसकी उपयोगिता का आधार इसी आधार पर लगाया जा सकता है कांट, हीगल, ग्रीन और बोसांके आदि अंग्रेजी दार्शनिकों की विचारधारा भी इसी पर आधारित थी। रूसो ने अपने सामन्य इच्छा के सन्दर्भ

तुलनात्मक राजनीति का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth

तुलनात्मक राजनीति  का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth परिचय  राजनीति एक सर्वव्यापी गतिविधि है जो हमारे चारो तरफ हमको देखने को मिल जाती है। प्रारंभ से ही एक  राजनीति व्यवस्था की तुलना दूसरे राजनीति व्यवस्था से की जाती रही है।किसी एक राजनीतिक व्यवस्था की अन्य राजनीतिक व्यवस्था से तुलना करने  के तरीके को सामान्य तुलनात्मक पद्धति कहते है। वास्तव में तुलनात्मक राजनीति का अर्थ और लक्ष्य विभिन्न देशों के मध्य एक राजनीति समस्याओं विषमताओं समानताओं की जानकारी का अध्ययन करना है। इसे हम तुलनात्मक राजनीति कहते हैं। यह समस्या या वह विभिन्नताओं के मिश्रण का परिपेक्ष से विकास करने का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति हमारे समानताओं और विभिन्नताओं का अध्ययन करता है  और उसके द्वारा राज्य के विकास का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति सिद्धांत यह स्पष्ट करता है कि विश्व की सरकार और उनकी क्या परिस्थितियां हैं किस प्रकार से उनका प्रचलन हो रहा है किस प्रकार से सरकारें चल रही हैं। इसके अंतर्गत जो अध्ययन करते हैं पहला राज्य के कार्य दूसरा संगठन, नीति, दबाव समूह का अध्ययन होता है।  अर्थ और

राज्य की उत्पत्ति के विकासवादी सिद्धांत

राज्य की उत्पत्ति के विकासवादी सिद्धांत  राज्य की उत्पत्ति के ऐतिहासिक विकासवादी सिद्धांत राज्य की उत्पत्ति के सम्बन्ध में अनेक सिद्धान्त प्रचलित हैं। परन्तु गंभीर विवेचना से स्पष्ट होता है कि अन्य सभी सिद्धान्त गलत हैं और उन्होंने राज्य की उत्पत्ति की सही व्याख्या नहीं की है। इस सम्बन्ध में गार्नर का कहना ठीक है कि, "राज्य न तो ईश्वर की कृति है, न किसी उच्च शक्ति का परिणाम, न किसी प्रस्ताव या समझौते की सृष्टि है, न परिवार का विस्तारमात्र" अतः यह प्रश्न उठना स्वाभाविक है कि राज्य की उत्पत्ति का सबसे अच्छा सिद्धान्त कौन है। इस सम्बन्ध में यही कहा जा सकता है कि राज्य विकास का परिणाम है। इसका निर्माण मनुष्य की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए हुआ था और अच्छे जीवन के लिए अब भी चल रहा है। राज्य की उत्पत्ति का सबसे सही और वैज्ञानिक सिद्धान्त विकासवादी या ऐतिहासिक सिद्धान्त को ही कहा जा सकता है। इस सिद्धान्त के अनुसार राज्य की उत्पत्ति एक विकास का परिणाम है। यह विकास धीरे-धीरे क्रम: चलता रहता है। इसी विकास के परिणामस्वरूप राज्य ने वर्तमान का रूप धारण किया है। राज्य की उत्पत्ति और व