सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

वर्ग की अवधारणा,आधार, विशेषताए

वर्ग की अवधारणा,आधार, विशेषताए  

सामाजिक वर्ग का तात्पर्य उन व्यक्तियों के समूह से होता है, जिनकी किसी समाज में समान स्थिति होती है। जब समाज में कुछ लोगों में एक सामान्य समानता होने के कारण उनकी स्थिति मेंं समानता होती है तो इन समान स्थिति प्राप्त व्यक्तियों के समूह को वर्ग कहते हैं उदाहरण के लिए हमारे देश में उच्च कोटि के राजनीतिज्ञों, अधिकारियों पूंजीपतियों कलाकारों इत्यादि के उच्च कोटि के कार्यों के परिणामस्वरूप समाज में उनको ऊँची स्थिति समझी जाती है इन सब समान स्थिति वाले लोगों से जो एक सामाजिक समूह बनता है उसे वर्ग कहते हैं चूंकि इस वर्ग के सदस्यों को समाज में ऊँची स्थिति होती है, अत: इस वर्ग को उच्च वर्ग (Upper Class) कहते हैं इस प्रकार सामाजिक स्थिति के लोगों के एक समूह को सामाजिक वर्ग कहते हैं।

1.मैकाइवर तथा पेज-"एक सामाजिक वर्ग एक समुदाय का कोई भी हिस्सा (या भाग) है जो सामाजिक स्थिति के आधार परअन्य लोगों से विभक्त किया जा सके।"

2. ऑगवर्न तथ निमकाफ-"एक सामाजिक वर्ग उन व्यक्तियों का योग है जिसका आवश्यक रूप से एक निश्चित समाज में समान सामाजिक पद है।"

3.लेपियर-"एक सामाजिक वर्ग सुस्पष्ट सांस्कृतिक समूह है जिसे कि सम्पूर्ण जनसंख्या में एक विशेष स्थान अथवा पद प्रदान किया जाता है।

सामाजिक वर्गों के आधार-

(1) परिवार और नातेदारी वर्ग निर्धारण में सहायक है। उच्च वर्गों का निर्माण महत्वपूर्ण पदों पर आसीन रिश्तेदारी पर आधारित है।

2) शिक्षा भी वर्ग का निर्धारण करती है। शिक्षित व्यक्ति को अशिक्षित से ऊँचा माना जाता है।

(3) धर्म भी वर्ग के निर्धारण का आधार है। धर्म को मानने वाले आस्तिक एवं न मानने वाले नास्तिक वर्ग में रखे जाते हैं।

(4) वर्ग निर्धारण का आधार व्यक्ति का निवास स्थान भी है।

(5) उत्पादन साधन भी वर्ग निर्धारण का आधार है। जमीदार, सामन्त, पूँजोपति ठत्पादन साधनों के स्वामी होने से उच्च वर्ग की सदस्यता पाते रहे हैं।

(6) धन सम्पत्ति प्रत्येक समाज वर्ग निर्धारण का प्रमुख आधार है।

(7) वर्ग निर्धारण में आय के स्रोत और प्रकृति का बड़ा महत्व है। वर्ग की विशेषताएँ- वर्ग की विशेषताएँ निम्नलिखित हैं

(i) सोपानक्रम में एक से अधिक वर्ग होते हैं यथा विद्यार्थी वर्ग, अध्यापक वर्ग प्रशासक वर्ग और श्रमिक वर्ग आदि। इनका समाज में एक विशिष्ट स्थान होता है।

(ii) वर्ग के सदस्यों को कुछ निश्चित सुविधाएँ प्राप्त होती हैं।

(iii) एक वर्ग के सदस्य दूसरे वर्ग के सदस्यों के प्रति श्रेष्ठता अथवाहीनता की भावना रखते और प्रदर्शित करते है।
(iv) सभी वर्ग एक दूसरे से एक निश्चित सीमा तक अन्तः सम्बन्धित होते हैं।

(v) वर्ग चेतना में अपने वर्ग के प्रति हम की भावना पायी जाती है।

(vi) समाज सदैव वर्गों में विभाजित रहा है और इन वर्गों में संघर्ष होता रहा है।

(vii) रहन-सहन का स्तर प्रत्येक वर्ग में समान होता है, देश और काल इसके अपवाद है।

(viii) वर्ग के अनेक आधार होते हैं। जैसे राजनैतिक आधार, धार्मिक, आधार, शैक्षणिक आधार आदि वर्ग में विभिन्न लिंग और आयु के व्यक्ति भी हो सकते हैं। सामाजिक वर्गों की विशेषता- एक सामाजिक वर्ग ऐसे व्यक्तियों का योग होता है, जिनको एक दिए हुए समाज में अनिवार्य रूप से समान सामाजिक स्थिति होती है। इनमें जन्म का महत्व नहीं होता है। यह सर्वथा मुक्त व्यवस्था है। वर्ग में चेतना पायी जाती हैं तथा वर्ग की सदस्यता अर्पित की जाती है। यह स्तरीकरण एक प्रकार से संचालित व्यवस्था है, जिसमें एक व्यक्ति को अपनी योग्यता, कार्यकुशलता एवं गुणों के आधार पर एक विशेष सामाजिक स्थिति और उससे सम्बन्धित सभी अधिकार स्वतः प्राप्त हो जाते हैं। गतिशीलता इस स्तरीकरण की प्रमुख विशेषता है, अत: कोई भी व्यक्ति अपनी योग्यता के आधार पर इस सामाजिक स्तरीकरण में उच्च प्रस्थिति अर्जित कर सकता है तथा किसी भी उच्च स्थिति में प्रयत्न करना छोड़ देने पर वर्ण व्यवस्था में नीचे जा सकता है।

जाति एवं वर्ग में अन्तर


1) जाति के सदस्य एक सामान्य परम्परागत व्यवसाय करते हैं, जबकि वर्ग के सदस्यों का कोई परम्परागत व्यवसाय नहीं होता है।

(2) जाति की उत्पत्ति का एक निश्चित आधार होता है, जबकि वर्ग की उत्पत्ति का कोई निश्चित आधार नहीं होता है।

(3) जाति का दायरा संकीर्ण होता है, जबकि वर्ग का दायरा विस्तृत होता है।

(4) जाति व्यवस्था के अंतर्गत अनेक जातियों में विवाह संबंधी प्रतिबंध पाए जाते हैं, जबकि वर्ण व्यवस्था के अंतर्गत विवाह संबंधी प्रतिबंध नहीं पाए जाते हैं।

(5) जाति एक अंतर्विवाही समूह या अंतर्विवाही समूहों का संकलन है जिसका एक सामान्य नाम होता है। जाति को आर्थिक, सामाजिक, सांस्कृतिक, व्यवसाय, शिक्षा आदि के आधार पर नहीं बाँटा जाता है, जबकि जन्म के अतिरिक्त प्रत्येक प्रकार के प्रचलित समूहों को वर्ग कहा जाता है और इन्हें आर्थिक, सामाजिक, सांस्कृतिक, व्यवसाय शिक्षा आदि के आधार पर बाँटा जाता है।

(6) जाति का निर्धारण जन्म के समय हो हो जाता है तथा इसमें कोई परिवर्तन नहीं होता हैं, जबकि समय-समय पर वर्ग का निर्धारण होता रहता है अत: यह परिवर्तनीय है।

(7) जाति की सदस्यता आनुवांशिक है, जबकि वर्ग की सदस्यता आनुवांशिक नहीं है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण  जान लॉक का प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त सत्रहवीं व अठारहवीं शताब्दी में प्राकृतिक अधिकारों का सिद्धांत अत्यन्त प्रचलित था। सामाजिक संविदा सिद्धान्त के प्रवर्तकों ने यह विचार प्रस्तुत किया कुछ अधिकार राज्य के उद्भव अर्थात् उत्पत्ति के पहले विद्यमान थे अर्थात् ये मानव के पास प्राकृतिक अवस्था में भी मौजूद थे। इसी अधिकार को राजनीतिशास्त्र में प्राकृतिक अधिकार के नाम से सम्बोधित किया जाता है। इन प्राकृतिक अधिकारों का सृजनकर्ता राज्य नहीं था वरन् राज्य का जन्म इन अधिकारों के रक्षा के लिए हुआ है। राज्य का यह दायित्त्व है इन अधिकारों को मान्यता प्रदान कर विधि अथवा कानून के रूप में परिवर्तित कर दे। लॉक ने अपने सामाजिक सम्विदा सिद्धान्त के अन्तर्गत जीवन स्वतंत्रता एवं सम्पत्ति सम्बन्धी अधिकार की श्रेणी में रखा है। ये अधिकार व्यक्ति के व्यक्तित्व में निहित होते हैं, ये सर्वव्यापक एवं असीम होते हैं। प्राकृतिक अधिकारों के प्रवल पोषक लॉक के अनुसार यदि राज्य की प्रकृति प्रदत्त अर्थात् प्रकृति के अधिकारों की रक्षा करने में सफल नहीं होता तो ऐसे