सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

उत्तरी अमेरिका में जनसंख्या के विषम वितरण के कारणों तथा विशेषताए

उत्तरी अमेरिका में जनसंख्या के विषम वितरण के कारणों तथा विशेषताए 

जनसंख्या (Population) उत्तरी अमेरिका एक अत्यंत नया बसा हुआ महाद्वीप है जिसकी अधिकांश जनसंख्या यूरोपीय मूल की है। उत्तरी अमेरिकी की कुल जनसंख्या लगभग 52 करोड़ है कोलम्बस द्वारा नयी दुनिया का पता लगाने के बाद 17वीं से 20वीं शताब्दी के आरंभिक दशक तक पश्चिमी यूरोपीय देशों से बड़ी संख्या में यूरोप प्रवासी यहाँ आते रहे और स्थायी रूप से यही बस गये सम्पूर्ण उत्तरी अमेरिका पर यूरोपीय मूल के लोगों का ही आधिपत्य है। संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा में अधिकांश अंग्रेजी भाषी (अंग्रेजी) लोग रहते हैं अतः इन दोनों देशों को सम्मिलित रूप से आंग्ल अमेरिका (Anglo-America) कहते हैं मैक्सिको तथा मध्य अमेरिका देशों की अधिकारिक भाषा स्पेनी (लैटिन) है अतः इस भूभाग को लैटिन अमेरिका के अंतर्गत सम्मिलित किया जाता है उल्लेखनीय है कि लैटिन अमेरिकन का विस्तार मैक्सिको तथा मध्य अमेरिका सहित सम्पूर्ण दक्षिणी अमेरिका में हैं। लैटिन अमेरिकी देशों में स्पेनी, पुर्तगाली, फ्रांसीसी आदि लैटिन समूह की भाषाओं की प्रमुखता है क्योंकि ये देश लैटिन भाषा यूरोपियों द्वारा आवासित हैं। वितरण एवं घनत्व की। संयुक्त राज्य की कुल जनसंख्या 31.8 करोड़ है जिसके लगभग 85 प्रतिशत का निवास 100° पश्चिमी देशांतर के पूर्व में है। संयुक्त राज्य में सर्वाधिक सघन जनसंख्या वाले क्षेत्र का विस्तार अटलांटिक महासागर के तटवर्ती राज्यों में हैं जो मेन राज्य से लेकर मेरीलैण्ड तक है। उत्तरी अमेरिका की जनसंख्या का सर्वाधिक संकेन्द्रण हडसन नदी के मुहाने पर हुआ है जहाँ न्यूयार्क महानगर स्थित है। संयुक्त राज्य का जनसंख्या घनत्व 32 व्यक्ति प्रति वर्ग किमी0 है किन्तु इसके पूर्वी तटीय राज्यों में जनसंख्या घनत्व 300 व्यक्ति प्रति वर्ग किमी से अधिक है। जनसंख्या का दूसरा सघन क्षेत्र पश्चिमी समुद्र तटीय भाग (कैलिफोर्निया) में स्थित है। कनाडा की जनसंख्या लगभग 3.6 करोड़ है। इसका औसत जनसंख्या घनत्व 4 व्यक्ति प्रति वर्ग किमी है। कनाडा की लगभग आधी जनसंख्या इसके पूर्वी भाग में स्थित सेंटलारेंस के निम्न प्रदेश तथा ।अटलांटिक तटीय प्रदेश में रहती है जो कनाडा की प्रमुख औद्योगिक पेटी है। इस देश के बड़े नगर ओटावा, ट्रायल, क्यूबा, टोरन्टो आदि इसी भाग में स्थित हैं। कनाडा में जननिवास का दूसरा महत्वपूर्ण क्षेत्र न्यारी का मैदान है जहाँ बिनीपेग, रेजीना, केलगेरी, एडमंटन आदि बड़े नगर स्थित हैं। प्रशान्त महासागर तटीय क्षेत्र में जनसंख्या का लघु पंज ब्रिटिश कोलम्बिया में पाया जाता है जहाँ बैंकूव प्रमुख नगर है। उत्तरी अमेरिका के प्रमुख देशों की जनसंख्या (2014)


 मेक्सिको की जनसंख्या 12 करोड और जनसंख्या का धनी व्यक्ति प्रति वर्ग किमी है।यहां की अधिकांश यूरोपीय (स्पेनी) मूल की है देश की अधिकार जनसंख्या उच्च पठारी क्षेत्री में केंद्रित है। मैक्सिको की 78 प्रतिशत जनसंख्या नगरों और बृहत्तम नगर है। में रहती है। मैक्सिको सिटी देश की राज्धानी उपर्युक्त तीन बड़े देशों के अतिरिक्त केवल ग्वाटेमाला और क्यूबा की जनसंख्या 1 करोड़ से कुछ अधिक है और अन्य लघु देशों की जनसंख्या एक करोड़ रो कम है। जनसंख्या का स्वधिक घनत्व एल सल्वाडोर में पाया जाता है जो 303 व्यक्ति प्रति वर्ग किमी है। जनसंख्या वृद्धि-

जनसंख्या वृद्धि दर विकसित आग्ल अमेरिकी देशों में निम्न तथा विकासशील लैटिन अमेरिकी देशों में उच्च है। संयुक्त राज्य अमेरिका तथा कनाडा की औसत वार्षिक दृद्धि दर 0.4 प्रतिशत है जबकि मैक्सिको की वार्षिक वृद्धि दर 1.4 प्रतिशत तथा निकारागुआ की 1.9 प्रतिशत है। संयुक्त राज्य और कनाडा में अभी सीमित रूप से विदेशी प्रवासियों को नागरिकता प्रदान की जाती है और विदेशों से कुशल एवं प्रशिक्षित व्यक्तियों जैसे डॉक्टर, इंजीनियर, तकनीशियन आदिको आमंत्रित किया जाता है। यही कारण है कि इन देशों में जनसंख्या वृद्धि दर अन्य विकसित देशों की तुलना में अधिक है। विकसित देशों की औसत वार्षिक वृद्धि दर 0.8 प्रतिशत है। दोनों आम्ल अमेरिकी देश जनांकिकीय संक्रमण की चतुर्थ अवस्था में हैं जहाँ जन्मदर और मृत्युदर 15 प्रति हजार से नीचे है। मैक्सिको तथा मध्य अमेरिकी देश विकासशील देशों की श्रेणी में आते हैं ये देश जनांकिकीय संक्रमण की तृतीय अवस्था में हैं जहाँ जन्म दर 15 प्रति हजार से ऊपर होने तथा मृत्युदर 10 प्रति हजार से कम होने के कारण जनसंख्या में तीव्रगति से वृद्धि हो रही है निकारागुआ और मैक्सिको में जन्म दर क्रमशः 40 और 27 प्रति हजार है। इन्हीं देशों में मृत्युदर क्रमशः 6 और 5 प्रति हजार है। जन्मदर और मृत्युदर में भारी अंतर के कारण जनसंख्या की वृद्धि दर तीव्र है और ये देश जनसंख्या विस्फोट की अवस्था से गुजर रहे हैं। नगरीकरण-

आंग्ल अमेरिका में सर्वाधिक नगरीकरण हुआ है जहाँ 80 प्रतिशत से अधिक जनसंख्या नगरों में रहती है। संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा के पूर्वी भागों में विशाल औद्योगिक पटी है जिसमें अनेक बडे बडे नगर संकेन्द्रित हैं। संयुक्त राज्य में बोस्टन के का उत्तर से लेकर दक्षिण पश्चिम में फिलोडेल्फिया तक 1000 किमी से अधिक लम्बे क्षेत्र में विश्व के विशालतम सत्रगर (Conurbation) का विकास हुआ है जिसके अंतर्गत अनेक नगर बाह्य विस्तार द्वारा भौतिक रूप से परस्पर मिल गये हैं और सम्पूर्ण क्षेत्र सतत नगरीकृत क्षेत्र बन गया है। इसे जीन गॉटमैन ने मेगालोपोलिस (Megalopolis) की संज्ञा दी है। इस सत्र में बोस्टन, न्यूयार्क, वाशिंगटन डी0 सी0. बाल्टीमोर,फिलाडेल्यिा आदि अनेक महानगर सम्मिलित हैं। महान झीलें के समीप शिकागो, गारी, डेट्रायट, टालेडो, क्लीवलैंड, बफेलो आदि महानगर स्थित है। संयुक्त राज्य के अन्य प्रमुख नगर हैं-अटलांटा,न्यूआर्लियन्स, पिटसबर्ग, सेन्टलुई, लासएंजिल्स, सैनफ्रांसिस्को आदि। मैक्सिको और क्यूबा की क्रमशः 78 और 7 प्रतिशत जनसंख्या नगरों में रहती है। मैक्सिको सिटी मैक्सिको का सबसे बड़ा नगर और देश की राजधानी है। अन्य मध्य अमेरिकी देशों में नगरीकरण का स्तर सामान्यतः 60 प्रतिशत से नीचे है और नगरों के आकार भी लघु हैं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण  जान लॉक का प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त सत्रहवीं व अठारहवीं शताब्दी में प्राकृतिक अधिकारों का सिद्धांत अत्यन्त प्रचलित था। सामाजिक संविदा सिद्धान्त के प्रवर्तकों ने यह विचार प्रस्तुत किया कुछ अधिकार राज्य के उद्भव अर्थात् उत्पत्ति के पहले विद्यमान थे अर्थात् ये मानव के पास प्राकृतिक अवस्था में भी मौजूद थे। इसी अधिकार को राजनीतिशास्त्र में प्राकृतिक अधिकार के नाम से सम्बोधित किया जाता है। इन प्राकृतिक अधिकारों का सृजनकर्ता राज्य नहीं था वरन् राज्य का जन्म इन अधिकारों के रक्षा के लिए हुआ है। राज्य का यह दायित्त्व है इन अधिकारों को मान्यता प्रदान कर विधि अथवा कानून के रूप में परिवर्तित कर दे। लॉक ने अपने सामाजिक सम्विदा सिद्धान्त के अन्तर्गत जीवन स्वतंत्रता एवं सम्पत्ति सम्बन्धी अधिकार की श्रेणी में रखा है। ये अधिकार व्यक्ति के व्यक्तित्व में निहित होते हैं, ये सर्वव्यापक एवं असीम होते हैं। प्राकृतिक अधिकारों के प्रवल पोषक लॉक के अनुसार यदि राज्य की प्रकृति प्रदत्त अर्थात् प्रकृति के अधिकारों की रक्षा करने में सफल नहीं होता तो ऐसे