यहां आप राजनीतिक विज्ञान, इतिहास, भूगोल और वर्तमान मामलों और नौकरियों के समाचार से संबंधित उच्च गुणवत्ता वाली सामग्री प्राप्त कर सकते हैं.

शनिवार, 4 जुलाई 2020

उत्तरी अमेरिका के उच्चावच का विवरण

कोई टिप्पणी नहीं :

उत्तरी अमेरिका के उच्चावच का विवरण 

.भूगर्भिक संरचना (Geological Structure)- भूगर्भिक संरचना की दृष्टि से आंग्ल अमेरिका के चार प्रमुख विभागों में बाँटा जा सकता है।


 लॉरेन्शिन शील्ड भूगर्भिक दृष्टि से यह समस्त उत्तरी अमेरिका महाद्वीप का प्राचीनतम स्थिर भू-भाग है। यह शील्ड (दृढ़ भूखंड) प्राचीन रवेदार (आग्नेय) शैलों से निर्मित है, जो खनिज सम्पन्न है। सुदीर्घ भूवैज्ञानिक इतिहास के दौरान इस प्रदेश के अनेक भू-संचलन हुए। यह प्रदेश दक्षिणी तथा पूर्वी भाग (क्रमशः दक्षिणी क्यूबा तथा लैब्राडोर) में ऊपर की ओर उठा हुआ है, क्रमशः यह हडसन की खाड़ी की निम्न भूमियों की ओर नीचा होता जाता है, जहाँ नवीन अवसाद मिलते हैं। दक्षिण की ओर इस शील्ड का विस्तार कनाडा के ऊपरी झील प्रदेश तथा संयुक्त राज्य के एडिरोन्डॉक पर्वतों तक है। दीर्घकाल तक अनाच्छादन की क्रिया से इस प्रदेश की ऊँचाई बहुत घट गई है (औसत 300 मी0)। यह हिमनद से अत्यधिक प्रभावित हुआ है।

1. अपलेशियन पर्वत लॉरेन्शियन शील्ड के दक्षिण में अपलेशियन पर्वत विस्तृत है, जो भूगर्भिक रूप से एक अस्थिर प्रदेश है। ये पर्वत पैल्योजोइक काल में वलित तथा भ्रंशित हुए। न्यूफाउण्डटलैण्ड (कनाडा), न्यू इंग्लैण्ड तथा न्यूयार्क के दक्षिण (संयुक्त राज्य) में स्थित भू-भाग अधिक प्राचीन है,जबकि इसका पश्चिमी भाग नवीन तथा अत्यधिक वलित है। अप्लेशियन पर्वत अत्यधिक अपरदित हो गया है। इसकी उच्चतम शिखरें समुद्र तल से 2100 मी0 से भी कम ऊँची हैं। ये पर्वत प्राचीन वलित पर्वत कहलाते हैं।

3. मध्यवर्ती मैदान उत्तरी अमेरिका के विशाल मैदान आर्कटिक महासागर से लेकर मैक्सिको की खाड़ी तक विस्तृत है। इनका अधिकांश भाग मंद वलित अवसादी शैलों से निर्मित है। मैक्सिको की खाड़ी का तटीय मैदान तथा अटलांटिक तटीय मैदान नवीनतम अवसादों से निर्मित हैं। मिसीसिपी के पश्चिम में मध्यवर्ती मैदान क्रमशः 1500 मी0 तक ऊँचे होकर अन्ततः रॉकी पर्वत-पदीय पहाड़ियों में विलीन हो जाते हैं।

4-पश्चिमी कॉर्डिलेरा- ये उच्च भूमियाँ उत्तरी अमेरिका के लगभग एक-तिहाई भाग पर विस्तृत है। यह नवीन वलित पर्वतों का अत्यन्त जटिल क्रम है, जिनकी उत्पत्ति अल्पाइन पर्वतीकरण से सम्बन्धित है। इनका निर्माण मेसोजोइक तथा श्री युगों में वलन क्रिया तथा आग्नेय क्रिया द्वारा हुआ। प्रशान्त तट के सहारे पश्चिमी श्रेणियाँ तथा पूर्वी श्रेणियाँ अधिक ऊँची हैं (जहाँ रॉकी पर्वत स्थित है। स्थलरूप प्रदेश (Landform Regions)- आंग्ल अमेरिका को नौ स्थलाकृतिक प्रदेशों में बाँटा जा सकता है- (1) तटीय मैदान, (2) अपलेशियन उच्च भूमियाँ, (3) आन्तरिक उच्च भूमियाँ, (4) आन्तरिक मैदान, (5) उत्तरी अमेरिका कॉर्डिलए. (6) प्रशान्त तटीय खाड़ी तटीय निम्न भूमि। मियाँ, (7) आन्तरिक पठार. (8) कैनेडियन शील्ड तथा (9) हडसन की

1. तटीय मैदान- इनका विस्तार कैप कॉड से लेकर टैस्सास तक है। मैदान की उत्पत्ति नवीन है तथा यह अवसादी पदर्थों से निर्मित है तटीय भाग अत्यधिक दलदली हैं, यहाँ डिसमल दलदल, ओकेफेनोकी दलदल तथा एवरग्लेड्स दलदल स्थित है। शेष मैदान जलोढ़ मिट्टियों से निर्मित एक उर्वर मैदान है।

2. अपलेशियन उच्च भूमियाँ- इनका विस्तार अलाबामा से न्यूफाउण्डलैण्ड तक एक विस्तृत क्षेत्र पर है समान भूगर्भिक इतिहास के बावजूद इन उच्च भूमियों का अनेक विशिष्ट स्थलाकृतिक उप-प्रदेशों में बाँटा जा सकता है-
 (क) पीडमोन्ट, (ख) ब्लू रिज पर्वत, (ग) कटक एवं घाटी, (घ) अपलेशियन पठार तथा (इ) न्यू इंग्लैण्ड।


 पीडमोन्ट एक लहरदार (rolling) उच्च मैदान है, जो अपलेशियन की पूर्वी सीमा बनाते हैं। ब्लूरिज पर्वतों की कुछ शिखरें दक्षिणी भाग में 1830 मी0 से अधिक ऊँची हैं। रिज (कटक) एवं घाटी प्रदेश समान्तर नाटकों एवं घाटियों का प्रदेश है, जो अलाबामा से न्यूजर्सी तक विस्तृत है। ग्रेट वैली (महान घाटी) अलाबामा से उत्तरी न्यूयार्क तक विस्तृत है। अलाबामा में कूसा, पूर्वी टैनेसी की घाटी, शेननडोह घाटी, कम्बरलैण्ड घाटी तथा हडसन घाटी इस विशाल घाटी के कुछ स्थानीय नाम हैं। अपलेशियन उच्च भूमियों का पश्चिमी भाग यद्यपि पठार कहलाता है, तथापि पश्चिम वर्जीनिया में यह एक अपरदित पहाड़ी एवं पर्वतीय प्रदेश है। अन्य क्षेत्रों में (जैसे टैनेसी में) कम्बरलैण्ड पर्वत वस्तुतः पठार ही हैं। दक्षिण अपलेशियन उच्च भूमियों में संयुक्त राज्य के सामाजिक एवं आर्थिक भूगोल में विशिष्ट भूमिका अदा की है। यद्यपि ये उच्च भूमियाँ प्रारम्भिक उप-निवेशी बसावों के निकट स्थित हैं, किन्तु अनेक भाग सांस्कृतिक रूप से एकान्त तथा पिछड़े रहे हैं।

3. आन्तरिक उच्च भूमियाँ इनका भूगर्भिक इतिहास, संरचना तथा भू-आकृतिक अपलेशियन के पठार तथा कटक एवं घाटी प्रदेश जैसी है। अरकन्यास नदी-घाटी उत्तरी ओजार्क पठार को दक्षिण के औचित पर्वतों से पृथक
करती हैं। इस प्रदेश की संस्कृति एवं समस्याएं भी दक्षिण अपलेशियन जैसी हैं।

4. आन्तरिक मैदान -यह विश्व के विशालतम अविच्छिन्न मैदानों में से एक है इसका विस्तार दक्षिण-पूर्व में मध्यवर्ती टैक्सास तथा केन्द्रक एवं दक्षिण-पश्चिम में टैक्सास तथा ओकलाहामा से उत्तर की ओर उत्तरी कनाडा की मैकेन्जी घाटी तक है। ओहायो तथा मिसीसिपी नदियों के उत्तर में अधिकांश क्षेत्र में, महाद्वीपीय हिमनद से प्रभावित होने के कारण, हिमानीकृत स्थलाकृति (मारने, टिल मैदान, पूर्ववर्ती हिमानीकृत झीलें आदि) मिलती हैं। आंतरिक मैदान अधिकांशतः नीचा प्रदेश है, किन्तु इसका पश्चिमी भाग (वृहत्त मैदान) एक अपवाद है, जिसका पूर्वी छोर समुद्र तल से 610 मी0 ऊँचा हैं पश्चिम की ओर इसकी ऊंचाई बढ़ते हुए रॉकी पर्वत तक 1525 मी0 तक हो जाती है। यह विशाल आन्तरिक मैदान कृषि के लिए अत्यधिक अनुकूल है, किन्तु जलवायवीय अन्तर पश्चिमी शुष्क तथा शीतल उत्तरी भाग में बाधक होते हैं।

5. उत्तरी अमेरिकी कार्डिलए- इनका निर्माण नवीन (हाल के) भूगर्भिक काल में पर्वत निर्माण क्रिया द्वारा हुआ। रॉकी पर्वत के कुछ भागों (जैसे-कोलोराडो की फ्रन्टरेंज) में आन्तरिक आग्नेय शैलें धरातलीय अवसादी शैलों के ऊपर उभर आई है। कैनेडियन रॉकी वलित तथा भ्रंशित अवसादी शैलों से निर्मित है। रॉकी के उत्तरी तथा उत्तर-पश्चिम में मैकेन्जी, रिचर्डसन तथा ब्रिक्स श्रेणियाँ स्थित हैं ये सभी श्रणियाँ दक्षिण-पश्चिमी संयुक्त राज्य से लेकर अलास्का तक विस्तृत है।

6. प्रशान्त तटीय श्रेणियाँ -इनका विस्तार दक्षिणी कैलिफोर्निया से उत्तर की ओर कनाडियन तट तथा पश्चिम में अलास्का प्रायद्वीप तक है। कनाडा के तटवर्ती पर्वत तथा अलास्का श्रेणी इसका अंग है। इसका पश्चिमी भाग कैलिफोर्निया की तटीय श्रेणियों द्वारा निर्मित है. जिसमें अनेक समानान्तर पर्वत श्रेणियाँ एवं घाटियाँ स्थित हैं। वाशिंगटन राज्य में ओलंपिक पर्वत स्थित है तटीय श्रेणियों तथा सियरा नेवादा तथा कास्केड श्रेणियों के मध्य अनेक निम्न भूमियाँ स्थित है। कैलिफोर्निया की घाटी संयुक्त राज्य की एक उर्वर जलोढ़ द्रोण है.जो कृषि के लिए अत्यधिक उत्पादक है। कास्केड तथा तटाय श्रेणियाँ विलामेट घाटी तथा प्युगेट साउण्डट को घेरते हुए स्थित हैं। कनाडा के तट पर तटीय पर्वत अनेक द्वीपों तथा निम्न निम्न भूमियों के रूप में विस्तृत है।

7. आन्तरिक पठार- प्रशान्त श्रेणियों तथा रॉकी पर्वतों के मध्य आन्तरिक पठार स्थित है। यह एक समतल उच्च भूमि है, जिसकी ऊँचाई 915 मी0 से अधिक है। अलास्का के यूकान का मैदान तथा कैलिफोर्निया की मृत घाटी इसके अपवाद हैं, जो समुद्र तल से 86 मी0 नीची है। नेवादा कैलिफोर्निया तथा उटाह का बेसिन रेज प्रभाग भ्रंशित पर्वत श्रेणियों का है। एरीजोना तथा कोलोरेडो में विस्तृत कोलोरेडो का पठार कोलोरेडो नदी द्वारा अत्यधिक अपरदित हो गया है, जिसने ग्राण्ड केनियन का निर्माण किया है। वाशिंगटन, ओरेगन तथा इदाही राज्यों में विस्तृत कोलम्बिया का पठार सक्रिय ज्वालामुखियों के लावा के उदगारों से निर्मित है, जिसके ऊपर लेक नदी के ग्राण्ड केनियन जैसी स्थलाकृति का निर्माण किया है।

8. कैनेडियन शील्ड- इसका विस्तार उत्तरी तथा उत्तर-पूर्वी कनाडा पर है। यह हडसन की खाड़ी को घेरते हुए दक्षिण में संयुक्त राज्य तक विस्तृत है। यहाँ व्यापक हिमनद क्रिया से उत्पन्न स्थलाकृतियों, झीले. दलदल आदि मिलते हैं। यहाँ कृषि तो सम्भव नहीं है, किन्तु समूर. खनिज तथा टिम्बर प्रचुरता से मिलते हैं।
9. हडसन की खाड़ी तटीय निम्न भूमि -खाड़ी के दक्षिणी सिरे पर यह एक अपवाह (Drainage) अमेरिका की नदियाँ सामान्य मध्यवर्ती उच्च भूमियों से निकल कर ढालानुसार बहते हुए अटलांटिक, प्रशान्त तथा आर्कटिक महासागरों में गिरती हैं। कुछ नदियाँ अन्तःप्रवाही भी हैं उत्तरी अमेरिका के अपवाह को तीन वर्गों में बाँटा जा सकता है

अवसादी शैलों से निर्मित भूमि है, जो सघन वनों से की है।

1.अटलांटिक महासागरीय अपवाह (Atlantic Ocean drainage)- इसके अन्तर्गत सेंट लॉरेस, मिसीसिपी, मिसौरी तथा रियोग्राण्डे प्रमुख नदियों हैं। (क) सेंट लॉरेन्स नदी - यह ओण्टारियो झील से निकलकर उत्तर-पूर्व की ओर बहते हुए सेंट लॉरेंस की खाड़ी में गिरती है। ओटावा इसकी प्रमुख सहायक है। (ख) मिसीसिपी नदी - यह सुपीरियर झील के पश्चिम से निकलकर दक्षिण की ओर बहते हुए मैक्सिको को खाड़ी में गिरती है। यह 3751 किमी लम्बी है इसकी सहायक मिसौरी (2360 किमी0) है, जो मिसीसिपी में दाई ओर मिलती है बाई ओर से मिलने वाली नदियों में ओहायो तथा टेनेसी प्रमुख हैं। मिसिसिपी पंजाकार डेल्टा बनाती है। (ग) रियोग्राण्डे नदी - यह कोलोरेडो (संयुक्त राज्य) के सेन जुआन पर्वत से निकलकर दक्षिण-पश्चिम की ओर बहते हुए मेक्सिको की खाड़ी में गिरती है। इसकी लम्बाई 3040 किमी0 है। यह बिगवेन्ड नेशनल पार्क के केनियन से होकर बहती यह नदी संयुक्त राज्य तथा मैक्सिको की प्राकृतिक सीमा बनाती है।

2. प्रशान्त महानगरीय अपवाह (Pacific Ocean drainage)- इसके अन्तर्गत थूकना, फ्रिज, कोलम्बिया, सैन जोक्विक तथा कोलोरेडो प्रमुख नदियाँ हैं। (क)यूकान नदी- यह अलास्का की प्रमुख नदी (2040 किमी0) है, जो कोलम्बिया राज्य के रॉकी कितानी से निकलकर पश्चिम की ओर बेरिंग सागर में गिरती है। (खा) फ्रेजर नदी - यह ब्रिटिश कोलम्बिया राज्य में प्रवाहित होने वाली नदी (1360 किमी0) है,जो रॉकी पर्वत से निकलकर वैंकुवर के निकट प्रशान्त महासागर में गिरती है। (ग) कोलम्बिया नदी- यह रॉकी पर्वत से निकलकर पश्चिम में प्रशान्त महासागर में गिरती है। इसके ऊपरी भाग को स्नेक नदी कहते हैं। (घ) सैन जोक्विन नदी- यह कैलिफोर्निया राज्य में सियरा नेवादा से निकलती है। यह 565 किमी लम्बी है। (ड) आर्कटिक महासागर अपवाह (Arctic Ocean drainage)- यह रॉकी पर्वत से निकलकर कोलोराडो पठार पर बहते हुए कैलिफोर्निया की खाड़ी में गिरती है यह नदी अपने मार्ग में गहरे खड्डों से होकर बहती है, जिनमें ग्राण्ड केनियन विख्यात है। यह नदी 2320 किमी लम्बी है।

3.आर्कटिक महासागर अपवाह (Arctic Ocean drainage)-आर्कटिक महासागरोन्मुख नदियों में मैकेन्जी, चर्चा तथा नेल्सन प्रमुख हैं मैकेन्जी नदी (1806 किमी0) ग्रेट स्लेव झील से निकलकर उत्तर की ओर ब्यूफोर्ट सागर में गिरती है।चर्चिल, नेल्सन तथा अल्चनी नदियों कनाडा की हिमानीकृत झीलों से निकलती है तथा उत्तर की ओर हडसन की खाड़ी में गिरती हैं।

कोई टिप्पणी नहीं :

टिप्पणी पोस्ट करें