सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संस्था और समिति में अंतर

संस्था और समिति में अंतर  


 संस्था और समिति में निम्नलिखित अन्तर पाये जाते हैं-

(1) संस्था स्थायी एवं समिति अस्थायी होता है- संस्था की अपेक्षा समिति का जीवन अल्पकालिक होता है। हमारे देश में मंडल कमीशन बना और उसने पिछड़े वर्गों के लिये आरक्षण की व्यवस्था की सिफारिश की। इसके बाद यह कमीशन भंग हो गया। इसी भांति मुम्बई में बम विस्फोट के लिये कृष्णन समिति या कमीशन बना और सरकार को अपनी सिफारिशें देने के बाद समाप्त हो गया। समितियाँ बनती हैं, अपने उद्देश्य पूरे करती है और केवल अतीत की घटना होकर ओझल हो जाती है। समिति की तुलना में संस्था का जीवन लम्बा होता है आज भी यद्यपि परम्परागत पंचायतें हाशिये पर आ गयी है, पर इनका स्थान वैधानिक पंचायतों ने ले लिया है। स्थायी होते हुए भी संस्थाएँ बदलती ही न हों, ऐसा नहीं है। परिस्थति के दबाव में इनमें थोड़ा बहुत परिवर्तन तो आता ही है।

(2) व्यक्ति समिति का सदस्य हो सकता है, संस्था का नहीं-मैकाइवर ने संस्था और समिति में अंतर स्पष्ट करते हुए कहा है कि व्यक्ति समितियों का सदस्य होता है, संस्था का नहीं। इसका मतलब यह हुआ कि हम यानी व्यक्ति समिति के सदस्य बन सकते हैं। आखिर समिति व्यक्तियों का एक समूह ही तो है, लेकिन हम संस्था के सदस्य नहीं हो सकते। यह इसलिए कि संस्था मनुष्य नहीं है। यह तो नियम-उपनियों, परम्परा और ऐसे ही अमूर्त साधन हैं जिनकी सदस्यता नहीं हो सकती। इन नियम-उपनियम को तो जो बेजान और अमूर्त है, समझा जा सकता है, व्यवहार में लाया जा सकता है। लेकिन कोई भी व्यक्ति इनका सदस्य नहीं बन सकता। हम परिवार के सदस्य हैं, भारतीय गणराज्य के सदस्य हैं, पर विवाह या भारतीय संविधान के सदस्य नहीं हैं।

(3) समिति का निर्माण आसान तथा संस्था का कठिन होता है-व्यक्ति समितियों को जन्म देने वाला होता है। जब एक समान उद्देश्य को लेकर व्यक्ति एकत्रित हो जाते हैं, तो समिति बनने में देर नहीं लगती है। आर्थिक सहायता के इच्छुक कृषक जब निर्णय लेते हैं, तो कृषक सहकारी समिति का निर्माण हो जाता है। इस भाँति समिति की स्थापना में अधिक देर नहीं लगती,पर उससे जुड़ी हुई संस्थाओं, और परम्पराओं का निर्माण लम्बी अवधि में जाकर होता है। पहले कुछ व्यक्तियों के मन में किसी व्यवहार के विषय में विचार आते हैं। ये विचार धीरे-धीरे दोहराए जाते हैं, सुदृढ़ होते जाते हैं और इस भाँति ये समिति की पद्धति बन जाते हैं। जनजातियों का निर्माण भी कुछ इसी तरह होता है। आगे चलकर जनरीतियों, प्रथाओं का रूप ले लेती हैं। प्रथाएँ लोगों में अपना घर बना लेती हैं और इससे रूढ़ियाँ बन जाती है। ये रूढ़ियाँ हो कालान्तर में चलकर संस्था बन जाती हैं।

(4) संस्था समिति की एक पद्धति है- प्रत्येक समिति अपने हेतुओं और लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिये कुछ पद्धतियाँ निर्धारित करती है। इस अर्थ में लक्ष्य साध्य है और पद्धतियाँ साधन। पद्धतियाँ लिखित और अलिखित दोनों स्वरूपों में होती है। अलिखित पद्धतियाँ रीति-रीवाजों , परम्पराओं,प्रथाओं आदि के रूप में भी देखी जाती है। यह कहना अनुचित नहीं होगा कि संस्था तो और कुछ न होकर रीति-रिवाजों और नियमों की एक गठरी है। परिवार की संस्था विवाह है। प्रजातंत्र की संस्थाएँ शासन की पद्धति,न्यायालय,राजनीतिक दल, धार्मिक सम्प्रदाय,मंदिर-चर्च इत्यादि हैं।

(5) समिति में सदस्यता होती है, संस्था में पद्धति-समिति या संस्था के अन्तर को करना,बहुत सरल है। हम कहते हैं कि परिवार एक समिति है तो इससे हमारा यह आशय है कि परिवार पति-पत्नी, दादा-दादी, पोता-पोती का संगठन है। यदि हम कहे कि परिवार एक संस्था है, तो हमारे कहने का आशय यह है कि इसमें यौन सम्बन्ध, विवाह पद्धति की एक व्यवस्था और परम्परा है। इसी तरह यदि हम कहे कि अस्पताल एक समिति है तो इससे हमारा मतलब है कि इसमें डॉक्टर, नर्स, मरीज आदि एक जैसे हेतुओं की पूर्ति के लिये सम्मिलित है। इसी अस्पताल को हम जब संस्था कहते हैं तो हमारा तात्पर्य है कि इसमें डॉक्टर, नर्स, मरीज आदि के काम करने की एक पद्धति है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam 1857 के महान विद्रोह (1857 के भारतीय विद्रोह, 1857 के महान विद्रोह, महान विद्रोह, भारतीय सेप्पी विद्रोह) को ब्रिटिश शासन के खिलाफ भारत का स्वतंत्रता संग्राम माना जाता है। 1857 आंदोलन एक राष्ट्रीय उभर रहा था, जो भारतीयों के दिल में एक मजबूत आग्रह से प्रेरित था, जिससे देश मुक्त हो गया। यह ब्रिटिश शासन की स्थापना के बाद भारत के इतिहास में सबसे उल्लेखनीय एकल घटना थी। यह भारत में सदी के पुराने ब्रिटिश शासन का नतीजा था। भारतीयों के पिछले विद्रोहों की तुलना में, 1857 का महान विद्रोह एक बड़ा आयाम था और यह समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों की भागीदारी के साथ लगभग अखिल भारतीय चरित्र ग्रहण करता था। यह विद्रोह कंपनी के सिपाही द्वारा शुरू किया गया था। इसलिए इसे आमतौर पर 'सेप्पी विद्रोह' कहा जाता है। लेकिन यह सिर्फ सिपाही का विद्रोह नहीं था। इतिहासकारों ने महसूस किया है कि यह एक महान विद्रोह था और इसे सिर्फ एक सिपाही विद्रोह कहने के लिए अनुचित होगा। हमारे इतिहासकार अब इसे विभिन्न ना

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने