सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संस्कृति की परिभाषा भौतिक एवं अभौतिक संस्कृति में अंतर

संस्कृति की परिभाषा भौतिक एवं अभौतिक संस्कृति में अंतर 

संस्कृति का अर्थ एवं परिभाषा-मनुष्य प्राकृतिक वातावरण में अनेक सुविधाओं का उपभोग करता है, तो दूसरी तरफ उसे अनेक असुविधाओं का सामना करना पड़ता है। परंतु मनुष्य ने आदिकाल से प्राकृतिक बाधाओं को दूर करने के लिए व अपनी विभिन्न आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए अनेक समाधनों की खोज की। इन खोजे गये उपायों को मनुष्य ने आगे आने वाली पीढ़ी को भी हस्तान्तरित किया। प्रत्येक पीढ़ी ने अपने पूर्वजों से प्राप्त ज्ञान और कला का और अधिक विकास किया है। अन्य शब्दों में प्रत्येक पीढ़ी ने अपने पूर्वजों के ज्ञान को संचित किया है और इस ज्ञान के आधार पर नवीन ज्ञान और अनुभव का भी अर्जन किया है। इस प्रकार के ज्ञान व अनुभव के अंतर्गत यंत्र, प्रविधियाँ, प्रथाएँ विचार और मल्य आदि आते हैं। ये मूर्त और अमूर्त वस्तुएँ संयुक्त रूप में संस्कृति' कहलाती है। इस प्रकार वर्तमान पीढ़ी ने अपने पूर्वजों तथा स्वयं के प्रयासों से जो अनुभव व व्यवहार सीखा है, वही संस्कृति है।

 प्रमुख विद्वानों ने संस्कृति को निम्नलिखित रूप से परिभाषित किया है

(1) मैकाइवर तथा पेज के अनुसार-"संस्कृति हमारे दैनिक व्यवहार में कला, साहित्य, धर्म मनोरंजन और आनंद में पाए जाने वाले रहन-सहन और विचार के ढंगों में हमारी प्रकृति की अभिव्यक्ति है।

(2) टेलर के अनुसार-"संस्कृति वह जटिल सम्पूर्ण व्यवस्था है, जिसमें समस्त ज्ञान विश्वास, कला,नैतिकता के सिद्धांत, विधि-विधान, प्रवाएँ एवं अन्य समस्त योजनाएं सम्मिलित हैं, जिरें व्यक्ति समाज का सदस्य होने के नाते प्राप्त करता है।

(3) मैलिनोवस्की के अनुसार-"संस्कृति प्राप्त आवश्यकताओं की एक व्यवस्था और उद्देश्यात्मक क्रियाओं की संगठित व्यवस्था है।"

(4) हॉयल के अनुसार-"संस्कृति सम्बन्धित सीखे हुए व्यवहार प्रतिमानों का सम्पूर्ण है, जो कि एक समाज के सदस्यों की विशेषताओं को बतलाता है और जो इसलिए प्राणिशास्त्रीय विरासत का परिणाम नहीं होता

(5) बोगार्डस के अनुसार- "संस्कृति किसी समूह के कार्य करने व सोचने की समस्त विधियाँ है।"

(6) बीरस्टीड के अनुसार-"संस्कृति वह सम्पूर्ण जटिलता है, जिसमें वे सभी बस्तुएँ सम्मिलिह है,जिन पर हम विचार करते हैं, कार्य करते हैं और समाज का सदस्य होने के नाते अपने पास रखते हैं। उपरोक्त परिभाषाओं से यह स्पष्ट हो जाता है कि संस्कृति में दैनिक जीवन में पाई जाने वाली समस्त वस्तुएँ आ जाती है। मनुष्य भौतिक, मानसिक तथा प्राणिशास्त्रीय रूप में जो कुछ पर्यावरण से सीखता है, उसी को संस्कृति कहा जाता है। भौतिक एवं अभौतिक संस्कृति टायलर ने लिखा है कि संस्कृति एक जटिल समग्रता है, जिसमें ज्ञान, विश्वास, कला, नैतिकता, कानून, प्रिया तथा ऐसी ही अन्य किसी भी योग्यता और आदत का समावेश रहता है, जिन्हें मनुष्य समाज का सदस्य होने के नाते अर्जित करता है। ऑगवर्न तथा अन्य प्रमुख विद्वानों ने संस्कृति को दो भागों में विभाजित किया है

(क) भौतिक संस्कृति- मनुष्यों ने अपनी आवश्यकताओं के कारण अनेक आविष्कारों को जन्म दिया है। ये आविष्कार हमारी संस्कृति के भौतिक तत्व माने जाते हैं। इस प्रकार भौतिक संस्कृति उन आविष्कार का नाम है, जिसे मनुष्य ने अपनी आवश्यकताओं के कारण जन्म दिया है। यह भौठिक संस्कृति मानव-जीवन के बाहर रूप से सम्बन्धित है भौतिक संस्कृति को हो सभ्यता कहा जाता है। मोटर, रेलगाड़ी, हवाई-जहाज, मेज-कुर्सी, बिजली का पंखा आदि सभी भौतिक तत्व भौतिक संस्कृति अथवा सभ्यता के ही प्रतीक है। संस्कृति के भौतिक पक्ष को मैथ्यू आरनोल्ड, अल्फर्ड वेबर तथा मैकाइवर और पेज ने सभ्यता कहा है। भौतिक संस्कृति तथा सभ्यता की परिभाषा करते हुए मैकाइवर तथा पेज ने लिखा है कि, "मनुष्य ने अपने जीवन की दशाओं पर नियंत्रण करने के प्रयत्न में जिस सम्पूर्ण कला विन्यास की रचना की है, उसे सम्भयता कहते हैं। क्लाइव बेल के अनुसार, "सभ्यता मूल्यों के ज्ञान के आधार पर स्वीकृत किया गया तर्क और तर्क के आधार पर कठोर एवं भेदनशील बनाया गया मूत्य का ज्ञान है।"

(ख) अभौतिक संस्कृति- मानव जीवन को संगठित करने के लिए मनुष्य ने अनेक रीति-रिवाजों, प्रचाओं, रूढ़ियों आदि को जन्म दिया है ये सभी तत्व मनुष्य की अभौतिक संस्कृति के रूप है। ये तत्व अमूर्त हैं इसलिए संस्कृति मानव-जीवन के उन अमूर्त तत्वों का योग है, जो नियमी उन नियमों, रूढ़ियों, रीति-रिवाजों आदि के रूप में मानव व्यवहार को नियंत्रित करते हैं। इस प्रकार संस्कृति जीवन के अमूर्त तत्वों को कहते हैं। वास्तव में संस्कृति के अंतर्गत वे सभी चीजें सम्मिलित कीए जा सकती है जो व्यक्ति को आंतरिक व्यवस्था को प्रभावित करती हैं। दूसरे शब्दों में,संस्कृति में वे सभी पदाम सम्मिलित किए जा सकते है, जो मनुष्य के व्यवहारों को प्रभावित करतें हैं टायलर ने लिखा है कि

"संस्कृति मिश्रित-पूर्ण व्यवस्था है, जिसमें समस्त ज्ञान, विश्वास, कला, नैतिकता के सिद्धात विधि-विधान, प्रधान एवं अन्य समस्त योग्यता सम्मिलित है, जिन्हें व्यक्ति समाज का सदस्य हाने के नाते प्राप्त करता है।"
भौतिक एवं अभौतिक संस्कृति में अंतर भौतिक तथा अभीतिक संस्कृति में निम्नांकित प्रमुख भेद पाए जाते है-

(1) भौतिक संस्कृति के अंतर्गत मनुष्य द्वारा निर्मित वे सभी वस्तुएं आ जाती हैं, जिनका उनकी उपयोगिता द्वारा मूल्यांकन किया जाता है, जबकि अभौतिक संस्कृति का सम्बन्ध मूल्यों, विचारों विज्ञान से है।

(2) भौतिक संस्कृति का सम्बन्ध व्यक्ति की बाहरी दशा से होता है, जबकि अभौतिक संस्कृति का सम्बन्ध व्यक्ति की आंतरिक अवस्था से होता है।

(3) भौतिक संस्कृति मानव द्वारा निर्मित वस्तुओं का योग है, जबकि अभौतिक संस्कृति ऐति-रिवाजों, रूढ़ियों, प्रथाओं, मूल्यों, नियम व नियमों का योग है।

(4) भौतिक संस्कृति मूर्त होती है, जबकि अभौतिक संस्कृति अमूर्त होती है।

(5) भौतिक संस्कृति मानव आवश्यकताओं की पूर्ति से सम्बन्धित होने के कारण एक साधन है, जबकि अभौतिक संस्कृति व्यक्ति को जीवन यापन का तरीका बतलाती है।

(6) भौतिक संस्कृति का मापदण्ड उपयोगिता पर आधारित है, जबकि अभीतिक संस्कृति हमारी आंतरिक भावनाओं से सम्बन्धित है।

(7) भौतिक संस्कृति में तीव्रता से परिवर्तन होता रहता है, जयकि अभीतिक संस्कृति धीरे-धीरे परिवर्तित होती है।

(৪) भौतिक संस्कृति का प्रसार तीव्रता से होता है तथा इसे ग्रहण करने हेतु बुद्धि की आवश्यकता नहीं होती, जबकि अभौतिक संस्कृति का प्रसार बहुत धीमी गति से होता है।

(9) भौतिक संस्कृति आविष्कारों से सम्बन्धित है, जबकि अभौतिक संस्कृति आध्यात्मिकता से सम्बन्धित है।

(10) भौतिक संस्कृति का कितना विकास होगा, यह निश्चित अभौतिक संस्कृति ही करती है।

संस्कृति का मानव जीवन पर प्रभाव संस्कृति का मानव जीवन पर पड़ने वाले प्रभाव का विवरण इस प्रकार है

(1) कठिनाइयों में सहायक:-मनुष्य कठिन समय में संस्कृति उसकी सहायता करती है। संस्कृति मनुष्य को कठिन परिस्थितियों के समाधान के आदर्श व्यवहार के ढंग प्रस्तुत करती है। संस्कृति में जिन समूह-आदतों का समावेश होता है वे व्यवहार के आदर्श प्रतिमानों के रूप में विचारगत होते हैं। इसका अभिप्राय यह है कि समूह के सदस्य संस्कृति को व्यवहार का वह आदर्श प्रतिमान मानते हैं, जिसके अनुरूप ही उन्हें आचरण करना पड़ता है। अत: मनुष्य को उन्हें अपनाने में किसी बाह्य शक्ति की आवश्यकता नहीं होती। उसके कार्य स्वचलित बन जाते हैं, जैसे बों का सम्मान करना, उनके हाथ जोड़ना, नमस्कार करना आदि। संस्कृति मनुष्य को मानसिक सुरक्षा प्रदान करती है। संस्कृति के कारण व्यक्ति को कोई कष्ट नहीं उठाना पड़ता है, क्योंकि उसके लिए सब कुछ पूर्व निश्चित करने के लिए मनोवैज्ञानिक झंझट नहीं उठाना पड़ता। केवल निश्चित मार्ग पर चलते रहना ही उसका कार्य होता है।

(2) परम्पराओं और पूर्व ज्ञान का हस्तांतरण:-संस्कृति एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी को हस्तान्तरित की जा सकती है। वास्तव में हम जो कुछ सीखते हैं, अपने पूर्वजों से ही सीखते हैं और अपनी अगली पीढ़ी को सिखाते हैं अत: पूर्वजों के अनुभव और ज्ञान हमें आसानी से प्राप्त होता है और उसे प्रारम्भ से कुछ नहीं सीखना पड़ता है और इस प्रकार हम अनेक परिस्थितियों और परम्पराओं से परिचित होकर अपना व्यवहार निश्चित करते हैं।

(3) संस्कृति मनुष्य को मनुष्यता सिखाती है:-संस्कृति मनुष्य को मनुष्यता सिखाती है। संस्कृति व्यक्ति के व्यवहार एवं आचरण को नियंत्रित व निर्मित करती है तथा उसे सामूहिक जीवन व्यतीत करने के लिए तैयार है। वह उसे जीवन का पूर्ण 'प्रारूप प्रदान करती है। यह बतलाती है कि उसे समाज में किस प्रकार रहना है, कैसे भोजन करना है, कैसे वस्त्र पहनना है, किन लोगों से सम्बन्ध रखना है, यहाँ के साथ कैसा व्यवहार करना आदि है इस प्रकार संस्कृति मनुष्य में मानवोचित गुणों का विकास कर उसे मानव बनाती है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण  जान लॉक का प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त सत्रहवीं व अठारहवीं शताब्दी में प्राकृतिक अधिकारों का सिद्धांत अत्यन्त प्रचलित था। सामाजिक संविदा सिद्धान्त के प्रवर्तकों ने यह विचार प्रस्तुत किया कुछ अधिकार राज्य के उद्भव अर्थात् उत्पत्ति के पहले विद्यमान थे अर्थात् ये मानव के पास प्राकृतिक अवस्था में भी मौजूद थे। इसी अधिकार को राजनीतिशास्त्र में प्राकृतिक अधिकार के नाम से सम्बोधित किया जाता है। इन प्राकृतिक अधिकारों का सृजनकर्ता राज्य नहीं था वरन् राज्य का जन्म इन अधिकारों के रक्षा के लिए हुआ है। राज्य का यह दायित्त्व है इन अधिकारों को मान्यता प्रदान कर विधि अथवा कानून के रूप में परिवर्तित कर दे। लॉक ने अपने सामाजिक सम्विदा सिद्धान्त के अन्तर्गत जीवन स्वतंत्रता एवं सम्पत्ति सम्बन्धी अधिकार की श्रेणी में रखा है। ये अधिकार व्यक्ति के व्यक्तित्व में निहित होते हैं, ये सर्वव्यापक एवं असीम होते हैं। प्राकृतिक अधिकारों के प्रवल पोषक लॉक के अनुसार यदि राज्य की प्रकृति प्रदत्त अर्थात् प्रकृति के अधिकारों की रक्षा करने में सफल नहीं होता तो ऐसे