सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संघर्ष की परिभाषा तथा स्वरूप

संघर्ष की परिभाषा तथा स्वरूप 

संघर्ष का अर्थ एवं परिभाषा- अपने उद्देश्यों की पूर्ति के लिए हिंसात्मक तरीके अपनाकर या उनको धमकी देकर दूसरे की इच्छाओ को दबाना ही संघर्ष है। प्रो0 ग्रीन के शब्दों में उसके आड़े आने, या उसे दबाने के लिए किया जाता है।

"संघर्ष जानबूझकर किया गया वह प्रयत्न है जो कि किसी की इच्छा का विरोध करता है

सर्वहारा गिलिन और गिलिन ने भी संघर्ष की परिभाषा करते हुए लिखा है कि"संघर्ष वह सामाजिक प्रक्रिया है जिसमें व्यक्ति का समय अपने विरोधी के प्रति प्रत्यक्षतः हिंसात्मक तरीके अपनाकर या ऐसे हिंसात्मक तरीका अपनाने की धमकी देकर अपने उद्देश्यों की पूर्ति करना चाहता है। इस प्रकार अपने उद्देश्यों की पूर्ति के लिए हिंसात्मक तरीके अपनाकर दूसरे की इच्छाओं को दबाना ही संघर्ष है।

संघर्ष के स्वरूप- सर्वश्री गिलिन और गिलिन ने संघर्ष के निम्नलिखित पांच स्वरूपों का वर्णन किया है

1.वैयक्तिक संघर्ष - जय संघर्ष दो व्यक्तियों के बीच होता है, तो उसे हम वैयक्तिक संघर्ष कहते हैं। घृणा, द्वेष, क्रोध, शत्रुता आदि के कारण इस प्रकार का संघर्ष हो सकता है। हम अक्सर दो व्यक्तियों के बीच हाथा-पाई होते, लाठी या चाकू या छुरी चलते देखते हैं। इसके पहले कि दो व्यक्ति हिंसात्मक उपायों को अपनाएं, वे एक-दूसरे की दुर्बलताओं का चित्रण करते है, एक दूसरे को डराते है गाली गलौज करते हैं, एक दूसरे की दुर्बलताओं का चित्रण करते हैं। एक दुसरे को डराते धमकाते है और फिर कहीं शारीरिक बल चा अस्त्र का प्रयोग करते हैं।

2. प्रजातीय संघर्ष -वैयक्तिक संघर्ष के अतिरिक्त सामूहिक संघर्ष भी हो सकता है।पृजातीय संघर्ष भी इसमें से एक है। प्रातीय संघर्ष का आधार है प्रजातीय श्रेष्ठता व हीनता जैसी अवैज्ञानिक धारणा है। अमेरिका में नीग्रो व श्वेत प्रजाति के बीच तथा श्वेत प्रजाति व जापानियों (पीत प्रजाति) के बीच और आफ्रीका में श्वेत तथा श्याम प्रजातियों के बीच अक्सर जो संघर्ष रोता है, वह प्रजातीय संघर्ष का ही अनुपम उदाहरण है विभिन प्रजातियों में वास्तविक अन्तर तो कुछ विशिष्ठ शरीरिक लक्षणों का ही होता है, पर प्रजातीय संघर्ष के कारण के रूप में यह शारीरिक अन्तर उतने महत्वपूर्ण नहीं है जितने की सांस्कृतिक भेद या स्वार्थो की भिन्नता। इससे भी महत्वपूर्ण कारण प्रजातीय या हीनता की गलत धारणा है अमेरिका में आज भी यह धारण अपने पूर्ण रूप में विद्यमान है।

3. वर्ग-संघर्ष- सामाजिक जीवन में वर्ग-संघर्ष भी एक उल्लेखनीय घटना है। श्री कार्ल मार्क्स ने इस प्रकार के संघर्ष पर अधिक बल दिया है। आपके अनुसार समाज में ही दो विरोधी वर्ग-'शोषण और शोभित'-होते हैं। जब शोषित वर्ग की शोषण नीति असहनीय हो जाती है, तब एक स्तर पर इन दोनों वर्गों में संघर्ष स्पष्ट हो उठता है। कम्युनिस्ट घोपणा-पत्र में सर्वहारा मार्क्स और एंजिल ने लिखा है कि "अभी तक के सभी समाजों का इतिहास वर्ग-संघर्ष का हो इतिहास है स्वतंत्र व्यक्ति तथा दास, कुलीन वर्ग तथा साधारण जनता , सामन्त तथा अरदास-किसान, गिल्ड का स्वामी और उसके कार्य करने वाले कारीगर संक्षेप में शोषक और शोभित, सदा एक-दूसरे के विरोधी होकर कभी प्रत्यक्षत: अनवरत रूप से आपस में संघर्ष करते रहे हैं इस संघर्ष का अन्त प्रत्येक बार या दो समग्र समाज के क्रान्तिकारी पुनर्निमाण में हाता है या संघर्षरत वर्गों की आम वादी में"

4.राजनीतिक संघर्ष - राजनीतिक संघर्ष एक राष्ट्र या देश के विभिन्न राजनीतिक दलों के बीच होता है। इसका कारण भी स्पष्ट है। प्रत्येक राजतीतिक पार्टी या दल के अपने कुछ पृथक आदर्श, सिद्धान्त और उद्देश्य होते हैं। जो दूसरी पार्टी के बिल्कुल विरोधी हो सकते हैं आर होते भी है ।ऐसी अवस्था में राजनीतिक संघर्ष स्वाभाविक हो जाता है। उदाहरणार्थ, भारतवर्ष में कांग्रेस तथा अन्य पार्टियों के बीच राजनीतिक संघर्ष निरन्तर चलता रहता है। परन्तु स्मरण रहे कि यह संघर्ष सिंहात्मक उपार्यों तथा साधनों द्वारा उतना नहीं चलाया जाता जितना कि संवैधातिक तरीकों के द्वारा। हाँ, यदि कोई राजनीतिक पार्टी शासक -वर्ग यन जाती है अर्थात् चुनावों में अधिक स्थान पाकर सत्ता हथिया लेती है तो वह सरकारी सत्ता के आधार पर विरोधी दल के नेताओं को कैद करके नजरबंद रखकर या उनकी गति विधि को सीमित करके ठन पर नियन्त्रण रखने का प्रयोग कर सकती है।

5. अन्तर्राष्ट्रीय संघर्ष- यह भी राजनीतिक संघर्ष का ही एक विस्तृत रूप है। राजनीतिक संघर्ष का क्षेत्र जय एक राष्ट्र की सीमा पार करके अन्य राष्ट्रो तक फैल जाता है तो उसे अन्तर्राष्ट्रीय संघर्ष कहते है। दूसरे शब्दों में अब दो या दो से अधिक राष्ट्रों के बीच संघर्ष होता है तो वह अन्तर्राष्ट्रीय संघर्ष कहलाता है। इसका सबसे स्पष्ट रूप युद्ध है जैसा कि भारत और चीन के बीच या भारत व पाकिस्तान के बीच युद्ध । उपरोक्त प्रकारों के अतिरिक्त संघर्ष के अग्रलिखित दो रूप और हो सकते है

प्रत्यक्ष संघर्ष-प्रत्यक्ष संघर्ष वह संघर्ष है जिसमें कि संघर्ष करने वाले व्यक्ति प्रत्यक्ष रूप से देखे जा सकते हैं। दो सेनाओं मारपीट प्रत्यक्ष की लड़ाई दो व्यक्तियों या समूहों में दंगा-फसाद अथवा में संघर्ष के अति उत्तम उदाहरण है। समाज में हो यदि एक और लड़ाई, इरगाड़ा, वर्ग-संघर्ष आदि पाया जाता है। तो दूसरी ओर पति-पत्नी की मधुर कलह भी होता है। वास्तव मैं यह सभी प्रत्यक्ष संघर्ष के रूप है।वास्तव में इस प्रकार का संघर्ष समाज की उन्नति के लिए अति आवश्यक है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण  जान लॉक का प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त सत्रहवीं व अठारहवीं शताब्दी में प्राकृतिक अधिकारों का सिद्धांत अत्यन्त प्रचलित था। सामाजिक संविदा सिद्धान्त के प्रवर्तकों ने यह विचार प्रस्तुत किया कुछ अधिकार राज्य के उद्भव अर्थात् उत्पत्ति के पहले विद्यमान थे अर्थात् ये मानव के पास प्राकृतिक अवस्था में भी मौजूद थे। इसी अधिकार को राजनीतिशास्त्र में प्राकृतिक अधिकार के नाम से सम्बोधित किया जाता है। इन प्राकृतिक अधिकारों का सृजनकर्ता राज्य नहीं था वरन् राज्य का जन्म इन अधिकारों के रक्षा के लिए हुआ है। राज्य का यह दायित्त्व है इन अधिकारों को मान्यता प्रदान कर विधि अथवा कानून के रूप में परिवर्तित कर दे। लॉक ने अपने सामाजिक सम्विदा सिद्धान्त के अन्तर्गत जीवन स्वतंत्रता एवं सम्पत्ति सम्बन्धी अधिकार की श्रेणी में रखा है। ये अधिकार व्यक्ति के व्यक्तित्व में निहित होते हैं, ये सर्वव्यापक एवं असीम होते हैं। प्राकृतिक अधिकारों के प्रवल पोषक लॉक के अनुसार यदि राज्य की प्रकृति प्रदत्त अर्थात् प्रकृति के अधिकारों की रक्षा करने में सफल नहीं होता तो ऐसे