सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

समाज शास्त्रीय अध्ययन की समाजमिति पद्धति का वर्णन

समाज शास्त्रीय अध्ययन की समाजमिति पद्धति का वर्णन 

समाजमिति का अर्थ - समाजमिति सामाजिक समूह तथा संस्थाओं के व्यवहार एवं पारस्परिक सम्बन्धे को नापने का एक विधिवत् पैमाना है। इस अर्थ में यह एक ऐसा साधन है जिसके द्वारा हम एक विशेष परिस्थिति में व्यक्तियों या समूह के वयवहारों को जान सकते है। श्री.एच० एच० जेनिंग्स के शब्दों में," समाजमिति किसी समूह-विशेष के सदस्यों के बीच किसी निश्चित समय पाए जाने वाले सम्बन्धों की सम्पूर्ण संरचना को सरल तथा रेखाचित्र में 44 प्रदर्शित करने का एक साधन है।" श्री ब्रांनफेन्द्रेनर के अनुसार, " समाजमिति समूह में व्यक्तियों के बीच स्वीकृति और अस्वीकृति की सीमा को नाप के द्वारा सामाजिक स्थिति,संरचना तथा प्रगति का ज्ञान प्राप्त करने, वर्णन करने तथा मूल्यांकन करने की पद्धति है।" श्री0 जे0 जी0 होम का कहना है कि समाजमिति एक समूह में व्यक्तियों के बीच आकर्प एवं विकर्षण के नाप के द्वारा सामाजिक स्वरूपों की खोज एवं विश्लेषण के लिए एक पद्धति के रूप में प्रयोग की जाती है।

समाजमिति की विशेषताएँ : 

(1) समाजमिति के द्वारा परिमाणत्मक तथा गुणात्मक दोनों ही प्रकार की घटनाओं का अध्ययन किया जा सकता है।

(2) इसमें अध्ययन-विषय की प्रकृति के अनुसार अध्ययनकर्ता कुछ निश्चित पैमानों को तय करता है और फिर उन पैमानों की सहायता से सामाजिक व्यवहारों तथा सम्बन्धों को नापने का प्रयत्न करता है।

(3) इसके द्वारा सामाजिक सम्बन्धों की विशिष्ट प्रकृति को नापा जा सकता है।

(4) यह एक ऐसा पैमाना है जिसके द्वारा सामूहिक स्वीकृति अथवा अस्वीकृति, प्रेम अथवा घृणा की सीमा को नापा जा सकता है।

 (5) इसके द्वारा सामाजिक तथा संस्थागत व्यवहारों तथा सम्बन्धों का प्रदर्शन सरल सारणी, रेखाचित्र अथवा सरल विन्दु-रेखा द्वारा किया जाता है।

(6) अतः स्पष्ट है कि जिस प्रकार शरीर के ताप के उतार-चढ़ाव को नापने के लिए हम थर्मामीटर का प्रयोग करते है उसी प्रकार किसी व्यक्ति या समूह के प्रति किसी अन्य व्यक्ति या समूह के भावनात्मक एवं सम्बन्ध 1-सूचक चढ़ाव-उतार को मापने के लिए समाजमिति का प्रयोग होता है।

(7) यह पद्धति अधि मान्य व्यवस्था (Preferential System) पर आधारित है अर्थात् विभिन्न व्यक्तियों द्वारा प्रदर्शित प्राथमिकता या अधिमानों के द्वारा हम एक निष्कर्ष पर पहुँचते है। उदाहरणार्थ, यदि राम को श्याम की अपेक्षा एक मित्र के रूप में अधिक लोग प्राथमिकता देते है तो हम इस पैमाने के द्वारा यह निष्कर्ष निकाल सकते है कि राम सबसे अधिक लोकप्रिय मित्र है। समाजमिति की प्रविधि इस विधि में अध्ययन के उद्देश्य के अनुसार बहुत ही सरल ढग का एक पैमाना बनाया जाता है और उसी पैमाने को सम्बन्धित व्यक्तियों पर लागू किया जाता है और उनसे जो प्रत्युत्तर मिलता है उसी के आधार पर प्राथमिकताओं की गणना करके निष्कर्ष निकाला जाता है। उदाहरण के लिए श्री मोरेनो ने एक स्टेट ट्रेनिंग स्कूल की पाँच सौ छात्राओं में से प्रत्येक से यह कहा कि वह ऐसी पाँच छात्राओं को चुने, जिनको वह खेल में, घर मे या काम में अपने साथ रखना सबसे अधिक पसन्द करती हों, तथा पाँच ऐसी छात्राएँ चुने जिनको कि वह उपरोक्त सम्बन्धों में सम्मिलित करना कम-से-कम चाहती हों। श्री मोरेनो का कथन है कि इस अध्ययन से यह पता चला कि कौन सी छात्रा सर्वाधिक लोकप्रिय है और कौन सी कम। वास्तव में उपरोक्त कार्यों में किसी को सम्मिलित करने की इच्छा रखना उसके प्रति आकर्षण का प्रतीक है और नहीं चुनना उसके प्रति विकर्षण का। जितने अधिक लोग किसी को चुनते है उसकी लोकप्रियता उतनी ही अधिक होगी, और कम चुने जाने वालों की उतनी ही कम। वास्तव में इस पद्धति की प्रक्रिया में सर्वप्रथम उन आधारों एवं क्रियाओं को निश्चित करना पड़ता है, जिन पर किसी समूह (अध्ययन करने वाला)के सदस्य मिलकर किया करते है। इसके उपरांत उन्हें दूसरों पर सदस्यों के आकर्षण और विकर्षण की इस भाँति परीक्षा की जाती है कि कौन-कौन व्यक्ति किस-किसको, किस मात्रा में प्राथमिकता अथवा अस्वीकृत  है। इस प्रकार प्राप्त है निष्कर्षों की यदि सत्यता की परीक्षा करनी हो तो सम्बन्धित व्यक्तियों स साक्षात्कार भी किया जा सकता है क्योंकि आकार्षण और विकर्षण के बारे में सम्बन्धित व्यक्ति स प्रत्यक्ष रूप में ही पूछताछ हो सकती है। निष्कर्ष निकलने पर उन्हें और मेटिक्स सारणी (Matrix Table) प्रमुख हैं। उपरोक्त के अतिरिक्त निगमन पद्धति सांख्यिकी पद्धति ऐतिहासिक प्रयोगात्मक पद्धति एवं तुलनात्मक पद्धति का भी प्रयोग समाजशास्त्र में किया जाता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण  जान लॉक का प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त सत्रहवीं व अठारहवीं शताब्दी में प्राकृतिक अधिकारों का सिद्धांत अत्यन्त प्रचलित था। सामाजिक संविदा सिद्धान्त के प्रवर्तकों ने यह विचार प्रस्तुत किया कुछ अधिकार राज्य के उद्भव अर्थात् उत्पत्ति के पहले विद्यमान थे अर्थात् ये मानव के पास प्राकृतिक अवस्था में भी मौजूद थे। इसी अधिकार को राजनीतिशास्त्र में प्राकृतिक अधिकार के नाम से सम्बोधित किया जाता है। इन प्राकृतिक अधिकारों का सृजनकर्ता राज्य नहीं था वरन् राज्य का जन्म इन अधिकारों के रक्षा के लिए हुआ है। राज्य का यह दायित्त्व है इन अधिकारों को मान्यता प्रदान कर विधि अथवा कानून के रूप में परिवर्तित कर दे। लॉक ने अपने सामाजिक सम्विदा सिद्धान्त के अन्तर्गत जीवन स्वतंत्रता एवं सम्पत्ति सम्बन्धी अधिकार की श्रेणी में रखा है। ये अधिकार व्यक्ति के व्यक्तित्व में निहित होते हैं, ये सर्वव्यापक एवं असीम होते हैं। प्राकृतिक अधिकारों के प्रवल पोषक लॉक के अनुसार यदि राज्य की प्रकृति प्रदत्त अर्थात् प्रकृति के अधिकारों की रक्षा करने में सफल नहीं होता तो ऐसे