सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

समाजशास्त्र की विषय वस्तु का विवेचना

 समाजशास्त्र की विषय वस्तु का विवेचना 


समाजशास्त्र की विषय वस्तु समाजशास्त्र की वास्तविक विषयवस्तु क्या है? इसके अन्तर्गत किन-किन विषयों का अध्ययन किया जाता है? आदि पर विद्वानों ने अलग-अलग मत दिये हैं परन्तु वर्तमान में अधिकांशतः

विद्वान समाजशास्त्र को समाज का एक सामान्य अध्ययन मानते हैं। वस्तुतः समाजशास्त्र की विषयवस्तु उसकी परिभाषा से ही सम्बद्ध है। ये दोनों ही एक-दूसरे से इतनी गहराई से जुड़े हैं कि विचारकों ने इन्हें एक ही मान लिया। इस प्रकार जब हम यह कहते हैं कि "सामाजिक सम्बन्धों के जाल' से निर्मित समाज का जो अध्ययन करता है, वही समाजशास्त्र है, तब इसका अर्थ यह भी होता है कि "सामाजिक सम्बन्धों के जाल' से निर्मित समाज का अध्ययन ही समाजशास्त्र की विषय-वस्तु है। उसी प्रकार, जॉनसन के अनुसार, समूह को उसकी संपूर्णता में समझना है समाजशास्त्र की विषय-वस्तु है। दूसरे शब्दों में, समाजशास्त्र की परिभाषाएँ हो विषय-वस्तु को भी स्पष्ट करती हैं। ऑगस्त काम्टे ने समाजशास्त्र को दो भागों में विभक्त किया है-सामाजिक स्थिरता और सामाजिक गतिशीलता। प्रथम भाग में उन्होंने परिवार, सामाजिक संरचना तथा आर्थिक एवं सामाजिक संस्थाओं को रखा है। उनके अनुसार, इन विभिन्न संस्थाओं के पारस्परिक सम्बन्धों का अध्ययन समाजशास्त्र की विषय-वस्तु है। उनके अनुसार, समाज के प्रत्येक हिस्से आपस में जुड़े हुए हैं। दूसरे भाग में उन्होंने समाज की परिवर्तनशीलता को रखा है। अर्थात् सामाजिक परिवर्तन की प्रक्रिया भी काम्टे के अनुसार, समाजशास्त्र को विषय-वस्तु है। समाजशास्त्र की विषय वस्तु के विषय में हरबर्ट स्पेन्सर ने विस्तृत एवं स्पष्ट प्रकाश डाला है। स्पेन्सर के अनुसार, समाजशास्त्र की विषय-वस्तु के अंतर्गत परिवार, राजनीतिक संगठन, धार्मिक संस्थाएँ, औद्योगिक संरचना आदि को रखा जा सकता है। ये विभिन्न समूह एवं संस्थाएँ समाज को किसी-न-किसी रूप में अवश्य प्रभावित करते हैं। दूसरी ओर, ये संस्थाएँ आदि स्वयं भी समाज से प्रभावित होती हैं। सामाजिक संरचना की चर्चा करते हुए स्पेन्सर ने यह भी दर्शाया है कि समाज के विभिन्न अंग किस प्रकार एक-दूसरे से सम्बद्ध रहते हैं। समाजशास्त्र की अन्य विषय-वस्तुओं में समाज के विभिन्न हिस्सों के सम्बन्ध को दर्शाना भी समाजशास्त्र का ही कार्य है। मैक्स वेबर ने भी समाजशास्त्र की विषय-वस्तु का बड़ा स्पष्ट उल्लेख किया है। सर्वप्रथम, वेबर के अनुसार, सामाजिक क्रिया की वैज्ञानिक व्याख्या समाजशास्त्र की मुख्य विषय-वस्तु है। इसके अतिरिक्त उन्होंने जाति, वर्ग,सामाजिक असमानता, आर्थिक व्यवस्था, धर्म, नेतृत्व के प्रकार आदि को भी समाजशास्त्र की विषय-वस्तु माना है। दुर्खीम ने समाजशास्त्र के अध्ययन में सम्मिलित किये जाने वाले सभी विषयों को तीन भागों में विभाजित किया है।

 (i) सामाजिक दैहिकी-दैहिकी का तात्पर्य उन इकाइयों से हैरान केवल समाज का निर्माण करती है बल्कि अपने-अपने कार्यों के द्वारा समाजरूपी देह अथवा शरीर को व्यवस्थित भी बनाये रखती है। उदाहरण के लिए, कानून, धर्म, भाषा, परिवार, नैतिकता तथा लोकाचार इसी प्रकार के विषय हैं। सामाजिक जीवन के लिए ये सभी भाग उसी प्रकार महत्त्वपूर्ण हैं जिस प्रकार मानव जीवन के लिए रक्त संचालन, नाड़ी, तन्त्र तथा स्नायुविक व्यवस्था का होना आवश्यक है।

(ii) सामान्य समाजशास्त्र- इसके अंतर्गत वे सभी विषय आ जाते हैं जो सामाजिक जीवन के अन्य सभी पहलुओं से सम्बन्धित हैं। इसी कारण इस विभाग को सामान्य समाजशास्त्र कहा गया

(1) सामाजिक अकारिकी- इसके अन्तर्गत उन सभी विषयों का अध्ययन किया जाता है जो सामाजिक जीवन के आकार तथा स्वरूप का निर्धारण करती है। इस प्रकार भौगोलिक दशाएं, सामाजिक जीवन पर उनका प्रभाव, जनसंख्या के गुण, जनसंख्या का घनत्व तथा उनका स्थानीय वितरण, आदि समाजशास्त्र की अध्ययन-वस्तु के अन्तर्गत आते हैं। गिन्सबर्ग महोदय ने समाजशास्त्र की विषय-वस्तु को चार भागों में विभाजित किया है () सामाजिक प्रक्रियाएं-सामाजिक प्रक्रिया का अर्थ व्यक्तियों के बीच पाये जाने वाले सम्बन्यों के विभिन्न स्वरूपों से है। इस प्रकार समाजशास्त्र की विषय-वस्तु में सहयोग, संघर्ष, अनुकरण, अनुकूल, सात्मीकरण,प्रतिस्पर्धा, प्रभुत्व, अधीनता आदि सम्बन्धों को सम्मिलित किया जाता है।

(2) सामाजिक आकारिकी- इसमें जनसंख्या सम्बन्धी विशेषताओं के अतिरिक्त उन सभी समूह,संस्थाओं और समितियों को सम्मिलित किया गया है जो समाज के आकार तथा सामाजिक ढाँचें का निर्माण करने में महत्त्वपूर्ण है। (3) सामाजिक व्याधिकी-सामाजिक सम्बन्ध हमेशा संगठित ही नहीं होते बल्कि विघटित भी होते हैं। इस प्रकार सम्पूर्ण समाज का अध्ययन करने के लिए इन रोगग्रस्त (व्याधिपूर्ण) अथवा विघटित दशाओं का अध्ययन करना भी आवश्यक है। इस दृष्टिकोण से अपराध, वाल अपराध, बेकारी, बीमारी, निर्धनता, आत्महत्या, अनैतिकता, भ्रष्टाचार आदि सामाजिक समस्याएं भी समाजशास्त्र के अध्ययन के प्रमुख विषय हैं।


(4) सामाजिक नियन्त्रण-अनेक ऐसे विषय हैं जो सामाजिक जीवन में नियन्त्रण बनाये रखने से सम्बन्धित हैं। इस प्रकार समाजशास्त्र में धर्म, परम्परा, नैतिकता, कानून, जनमत, प्रचार, आदि का अध्ययन किया जाता है। सोरोकिन का मत-सोरोकिन ने समाजशास्त्र की विषय वस्तु में न्म्नि बातों को शामिल किया है। उनके अनुसार, निम्नलिखित सामाजिक तथ्य समाजशास्त्र की विषय-वस्तु हो सकते हैं (i) धार्मिक, राजनीतिक, सामाजिक, आर्थिक आदि घटनाएँ और उनके बीच पाए जाने वाले सह-सम्बन्ध, (ii) भौगोलिक घटनाएँ और सामाजिक जीवन पर उनके प्रभाव, (iii) समाज में घटनेवाली प्रत्येक घटनाओं की आम विशेषताएँ। ईगल्स महोदय ने समाजशास्त्र की विषय-वस्तु की एक लम्बी रूपरेखा प्रस्तुत की है जिनमें सामाजिक जीवन से सम्बद्ध लगभग प्रत्येक पहलू को शामिल किया गया है, जो निम्नवत् है समाजशास्त्री विश्लेषण- इसके अंतर्गत समाज विज्ञानों में वैज्ञानिक विधि एवं समाजशास्त्रीय दृष्टिकोणों को शामिल किया जाता है। समाज की प्राथमिक इकाइयाँ-इसके अंतर्गत समुदाय, जनसंख्या, सामाजिक सम्बन्ध एवं सामाजिक क्रिया आदि को शामिल किया जाता है। सामाजिक संस्थाएं-सामाजिक संस्थाओं के अंतर्गत परिवार एवं बन्धुत्व, धर्म, आर्थिक-संस्था, राजनीतिक संस्थाएँ एवं शैक्षिक संस्थाएँ शामिल हैं। सामाजिक प्रक्रिया-सामाजिक प्रक्रियाओं में सहयोग, संघर्ष, सामाजिक स्तरीकरण, सामाजिक विचलन, समाजीकरण एवं सामाजिक नियंत्रण को शामिल किया जाता है। सामाजिक व्यवस्था एवं परिवर्तन-इस पहलू के अंतर्गत सामाजिक मूल्य एवं प्रतिमान एवं सामाजिक परिवर्तन को शामिल किया जाता है। इस प्रकार उपर्युक्त सूची में लगभग समस्त सामाजिक पहलू में शामिल हैं, परन्तु सामाजिक परिवर्तनशीलता को देखते हुए विषय-वस्तु की सूची में बदलाव भी किया जा सकता है।

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam 1857 के महान विद्रोह (1857 के भारतीय विद्रोह, 1857 के महान विद्रोह, महान विद्रोह, भारतीय सेप्पी विद्रोह) को ब्रिटिश शासन के खिलाफ भारत का स्वतंत्रता संग्राम माना जाता है। 1857 आंदोलन एक राष्ट्रीय उभर रहा था, जो भारतीयों के दिल में एक मजबूत आग्रह से प्रेरित था, जिससे देश मुक्त हो गया। यह ब्रिटिश शासन की स्थापना के बाद भारत के इतिहास में सबसे उल्लेखनीय एकल घटना थी। यह भारत में सदी के पुराने ब्रिटिश शासन का नतीजा था। भारतीयों के पिछले विद्रोहों की तुलना में, 1857 का महान विद्रोह एक बड़ा आयाम था और यह समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों की भागीदारी के साथ लगभग अखिल भारतीय चरित्र ग्रहण करता था। यह विद्रोह कंपनी के सिपाही द्वारा शुरू किया गया था। इसलिए इसे आमतौर पर 'सेप्पी विद्रोह' कहा जाता है। लेकिन यह सिर्फ सिपाही का विद्रोह नहीं था। इतिहासकारों ने महसूस किया है कि यह एक महान विद्रोह था और इसे सिर्फ एक सिपाही विद्रोह कहने के लिए अनुचित होगा। हमारे इतिहासकार अब इसे विभिन्न ना

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने