सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

समाजशास्त्र की प्रकृति कैसी है?

 समाजशास्त्र की प्रकृति कैसी है? 


समाजशास्त्र की प्रकृति कैसी है? इस बात को लेकर विचारकों में मतभेद है। कतिपय विचारक जहाँ समाजशास्त्र की प्रकृति को वैज्ञानिक मानते हैं तो वहीं कतिपय विचारक समाजशास्त्र को अवैज्ञानिक सुनते हैं। ऐसा प्रतीत होता है कि जिन विचारकों ने समाजशास्त्र को विज्ञान नहीं माना है, वे सम्भवतःविज्ञान को संकुचित रूप में ही जानते हैं। इनके विचारों में समाजशास्त्र भौतिक शास्त्र अथवा रसायन शास्त्र की तरह नहीं है, अत: यह विज्ञान नहीं है। इस संदर्भ में बाँटीमोर कामत उचित प्रतीत होता है कि समाज विज्ञान की वैज्ञानिक प्रकृति के विरुद्ध एक तर्क यह दिया जाता है कि ये विज्ञान प्राकृतिक नियम से मिलती-जुलती कोई चीज पैदा नहीं कर पाए हैं। यह सही है कि भौतिकी एवं रसायनशास्त्र आदि समाजशास्त्र से अधिक विकसित है लेकिन इसके साथ हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि समाजशास्त्र का इतिहास, एक वैज्ञानिक अन्वेषण के रूप में लगभग दो सौ वर्ष पुराना है और इसकी अध्ययन पद्धति का वास्तविक विकास तो प्रथम विश्वयुद्ध के बाद आरंभ होता है। इसकी तुलना में भौतिकशास्त्र का इतिहास काफी पुराना है। ऐसी स्थिति में समाजशास्त्र और प्राकृतिक विज्ञानों की परिपक्वता एक जैसी नहीं हो सकती।

को विज्ञान का अर्थ-वस्त्र: विज्ञान एक दृष्टिकोण है। किसी समस्या परिस्थिति या तथ्य व्यवस्थित ढंग से समझने के प्रयास को हम वैज्ञानिक दृष्टिकोण कह सकते हैं। इससे यह स्पष्ट होता है कि विज्ञान अपने-आप में एक विषय-वस्तु नहीं है, बल्कि समझने या विश्लेषण की एक विधि है। स्टुअर्ट चेज कार्ल पियर्सन आदि ने भी स्पष्ट रूप से यह कहा है कि विज्ञान का सम्बन्ध पद्धति से है, न कि विषय-वस्तु से। बर्नाड ने विज्ञान को परिभाषित करते हुए इसकी छः क्रियाओं का उल्लेख किया है-परीक्षा, सत्यापन, परिभाषा वर्गीकरण संगठन तथा अभिविन्यास, जबकि लुंडवर्ग ने समस्या का चुनाव, उपकल्पना का निर्माण,अवलोकन, वर्गीकरण एवं निरूपण, विश्लेषण एवं व्याख्या, सामान्यीकरण, परीक्षण तथा भविष्यवाणी के चरणों का उल्लेख किया है। समाजशास्त्र की वास्तविक प्रकृति क्या है? इस बात का स्पष्टीकरण राबर्ट वीर स्टीड ने इस प्रकार दिया है

(I) समाजशास्त्र एक सामाजिक विज्ञान है, जो सामाजिक घटनाओं, समूहों, सम्बन्धों, प्रक्रियाओं एवं सामाजिक समस्या का अध्ययन करता है। (ii) समाजशास्त्र एक अमूर्त विज्ञान है क्योंकि यह सामाजिक सम्बन्ध का अध्ययन करता है, जो कि अमूर्त है।

(iii) सामाजिक घटनाओं का अध्ययन करने के कारण समाजशास्त्र एक निरपेक्ष विज्ञान है। (iv) समाजशास्त्र सामाजिक घटनाओं का अध्ययन, विश्लेषण एवं निरूपण करता है अत:

समाजशास्त्र को एक विशुद्ध विज्ञान माना जा सकता है। (v) वैज्ञानिक एवं तार्किक आधारों का अध्ययन करने के कारण समाजशास्त्र को वैज्ञानिक दृष्टिकोण का माना जाता है। अत: उपरोक्त विवरण से यह स्पष्ट रूप में कहा जा सकता है कि समाशास्त्र की प्रकृति वैज्ञानिक है।

समाजशास्त्र को विज्ञान मानने में पत्तियां- समाजशास्त्र को विज्ञान मानने में कुछ विचारकों द्वारा पत्तियों की जाती हैं, जिनका विवरण निम्नलिखित है

 (1) घटनाओं की जटिलता एवं परिवर्तनशीलता-सामाजिक घटनाएँ अमूर्त होती हैं। इन घटनाओं में जटिलता भी पायी जाती है, क्योंकि समाज सदैव परिवर्तनशील रहता है। अत: इनका वैज्ञानिक अध्ययन सम्भव नहीं है।

(2) निष्पक्षता (वस्तुनिष्ठता) का अभाव-किसी भी शास्त्र को वैज्ञानिक होने के लिए यह आवश्यक होता है कि उसमें वस्तुनिष्ठता हो, परन्तु समाजशास्त्र में इसका अभाव दिखाई पड़ता है।

(3) घटनाओं के माप में कठिनाई-सामाजिक घटनाओं की प्रवृत्ति अमूर्त एवं गुणात्मक है, जिसके कारण उनके माप नहीं की जा सकती है। अत: समाजशास्त्र को विज्ञान के रूप में स्वीकार नहीं किया जा सकता है। (4) प्रयोगशाला का अभाव-समाजशास्त्र में कोई भी निष्कर्ष अनुमान द्वारा निकाले जाते हैं। इसके लिए उनको किसी प्रयोगशाला की आवश्यकता नहीं होती है। जबकि कोई भी वैज्ञानिक निष्कर्ष प्रयोगशाला के बिना नहीं निकला जा सकता है। अनुमान द्वारा निकाले गये निष्कर्ष कई बार गलत भी साबित हो जाते हैं, जबकि प्रयोगशाला में सदैव सही निष्कर्ष प्राप्त होता है । अत: समाजशास्त्र को विज्ञान नहीं माना जा सकता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण  जान लॉक का प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त सत्रहवीं व अठारहवीं शताब्दी में प्राकृतिक अधिकारों का सिद्धांत अत्यन्त प्रचलित था। सामाजिक संविदा सिद्धान्त के प्रवर्तकों ने यह विचार प्रस्तुत किया कुछ अधिकार राज्य के उद्भव अर्थात् उत्पत्ति के पहले विद्यमान थे अर्थात् ये मानव के पास प्राकृतिक अवस्था में भी मौजूद थे। इसी अधिकार को राजनीतिशास्त्र में प्राकृतिक अधिकार के नाम से सम्बोधित किया जाता है। इन प्राकृतिक अधिकारों का सृजनकर्ता राज्य नहीं था वरन् राज्य का जन्म इन अधिकारों के रक्षा के लिए हुआ है। राज्य का यह दायित्त्व है इन अधिकारों को मान्यता प्रदान कर विधि अथवा कानून के रूप में परिवर्तित कर दे। लॉक ने अपने सामाजिक सम्विदा सिद्धान्त के अन्तर्गत जीवन स्वतंत्रता एवं सम्पत्ति सम्बन्धी अधिकार की श्रेणी में रखा है। ये अधिकार व्यक्ति के व्यक्तित्व में निहित होते हैं, ये सर्वव्यापक एवं असीम होते हैं। प्राकृतिक अधिकारों के प्रवल पोषक लॉक के अनुसार यदि राज्य की प्रकृति प्रदत्त अर्थात् प्रकृति के अधिकारों की रक्षा करने में सफल नहीं होता तो ऐसे