सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सामाजिक विभेदीकरण की परिभाषा एवं विशेषताए

सामाजिक विभेदीकरण की परिभाषा एवं विशेषताए 


 सामाजिक विभेदीकरण की परिभाषा - लम्ले (Lamley) के अनुसार, 'विभेदीकरण से हमारा तात्पर्य उस प्रक्रिया से है जिसके द्वारा व्यक्ति भिन्नताओं का पोषण करता है, जिन्हें एक साथ रखने पर आर्केस्ट्रा के विभिन्न वादकों की तरह एक पूर्ण तथा समन्वययुक्त सम्पूर्ण संगीत की रचना होती है।"

न्यूमेयर (Newmeyer) के अनुसार, "सामाजिक विभेदीकरण वह प्रक्रिया है जो अनेक जैवकीय, आनुवंशिक एवं भौतिक विशेषताओं जैसे- आयु, लिंग, प्रजाति, वंश, व्यवसाय सांस्कृतिक पृष्ठिभूमि सामाजिक स्थिति, उपलब्धियों, समूह की रचना तथा सामाजिक सम्बन्ध के आधार पर व्यक्तियों और समूहों के बीच विभिन्नता को स्पष्ट करती है। इस प्रकार सामाजिक विभिन्नतायें विभेदीकरण की प्रक्रिया का आधार भी है और उपज भी है।"

जार्ज लुण्डबर्ग (George Lundberg) के अनुसार, "सामाजिक विभेदीकरण वह प्रक्रिया है जिसके अन्तर्गत सामूहिक रूप से इस तथ्य को मान्यता दी जाती है अथवा ऐसा मान लिया जाता है कि विभिन्न व्यक्तियों, श्रेणियों अथवा समूहों की विशेषताएं एक-दूसरे से भिन्न होती है।"

उपरोक्त परिभाषाओं से यह निष्कर्ष निकलता है कि जब एक समाज में व्यक्तियों तथा समूहों के बीच आयु, लिंग, सम्पत्ति, धर्म, प्रजाति, शिक्षा, संस्कृति अथवा व्यवसाय के आधार पर विभेद तो किया जाता हो किन्तु इन आधारों पर उनके बीच किसी भी प्रकार का संस्थाग स्तरीकरण न हो तो विभाजन की इस प्रक्रिया को हम सामाजिक विभेदीकरण कहते हैं, अथाट समाजिक विभेदीकरण समाज का एक समतल विभाजन है, न कि उदग्र विभाजन।

सामाजिक विभेदीकरण की विशेषतायें :

(1) एक तटस्थ प्रक्रिया (Natural Process)-सामाजिक विभेदीकरण एक सो प्रक्रिया है जिसके द्वारा पूर्ण समाज विभिन्न आधारों पर अनेक छोटे-छोटे समूहों में विभाजित हो. जाता है। जैसे किसी समुदाय के लोगों के बीच आयु अथवा लिंग के आधार पर सरलतापूर्वक विभेदीकरण किया जा सकता है किन्तु यह प्रक्रिया यह नहीं घतलाती कि लिंग के आधार पर स्त्रियों व पुरुषों में से कौन दूसरे से उच्च है अथवा आयु के आधार पर युवां प्रीकृ तथा वृद्ध व्यक्तिक्यों में किसे अधिक महत्व दिया जाय।

(2) एक सर्वव्यापी प्रक्रिया (An Universal Process)- ऐसा कोई भी समय अथवा समाज देखने को नहीं मिलता जिसमें किसी न किसी आधार पर सामाजिक विभेदीकरण को प्रक्रिया न पायी जाती हो। विभेदीकरण का इतिहास उनता ही प्राचीन है जितना कि मानव सभ्यता का सभ्यता के प्रारम्भिक स्तर पर आयु तथा लिंग सामाजिक विभेदीकरण के मुख्य आध र ये जयकि आज प्रजाति, शिक्षा तथा सम्पत्ति की भिन्नता के आधार पर भी सामाजिक विभेदीकरण एक स्पष्ट रूप देखने को मिलता है इसलिये सामाजिक विभेदीकरण को एक म्व्यापी प्रक्रिया के रूप में स्वीकार किया जाता है।

(3) स्वाभाविक प्रक्रिया (Natural Process)-विभेदीकरण की प्रक्रिया इस अर्य में स्वाभाविक है कि इसके अन्तर्गत न तो योजनाबद्ध रूप से विभिन्न समूहों को एक-दूसरे से पृथक किया जा सकता है और न यह किसी प्रकार की सामाजिक नीति पर आधारित होती है। सके अन्तर्गत विभिन्न समूहों के बीच जिन समानता को स्पष्ट किया जाता है वह बहुत कुछ मुतिक और स्वाभाविक होती है।

(4) अवैयक्तिक प्रक्रिया (Impersonal Process)- सामाजिक विभेदीकरण की प्रक्रिया कभी भी वैयक्तिक नहीं होती है। उदाहरणार्थ, संघर्ष एक वैमक्तिक, प्रक्रिया है जिसमें
संपर्क करने वाले दोनों पक्ष एक-दूसरे के व्यवहारों तथा साधों की अधिक से अधिक जानकारी करके उन्हें हानि पहुंचाने का प्रयास करते हैं। जबकि दूसरी ओर विभेदीकरण इस अर्थ में अवैयक्तिक है कि इसके अन्तर्गत हम किसी व्यक्ति विशेष के प्रति ईर्ष्या द्वेप या विरोध प्रदर्शित नहीं करते वरन उन सभी को अपने से कुछ भिन्न समझते हैं जिनकी जैवकीय सामाजिक और आर्थिक विशेषतायें हमसे भिन्न होती हैं। जैसे - विभेदीकरण की प्रक्रिया यह तो स्पष्ट करती है कि शवेत प्रजाति के सभी लोग नीग्रो प्रजाति के लोगों को अपने से निम्न समझें अथवा उनसे संपर्ष करें।

(5) वैयक्तिक चेतना का समावेश (Individual Conciousness)- सामाजिक विभेदीकरण की प्रक्रिया ऐसी है जिसके प्रति सभी व्यक्ति चेतन अधवा जागरूक रहते हैं। इसका अर्थ है कि विभिन्न प्रकार को समानता के लिए व्यक्तियों को कोई निर्देश न मिलने पर भी सभी व्यक्ति यह जानते है कि वे किस श्रेणी में आते हैं। तथा किस प्रकार अन्य लोगों से भिन्न है। क्ति मानसिक रूप से इस तथ्य के प्रति सचेत रहते है कि वे उन लोगों से भिन्न है जिनकी आयु, लिंग, शिक्षा, प्रजाति अथवा वेश-भूषा उससे भिन्न है।

(6) सामाजिक मूल्यों का समावेश (Socially Oriented) सामाजिक विभेदीकरण की एक विशेषता यह है कि इसके प्रमुख आधारों का निर्धारण सामाजिक मूल्यों के अनुसार होता जैसे - आदिम समाजों में आयु और लिंग का अधिक महत्व होने के कारण यहाँ इन्हें सामाजिक विभेदीकरण के सबसे अधिक महत्वपूर्ण आधार के रूप में देखा जाता है, जबकि पशिचमी समाजों के सामाजिक मूल्यों में आयु और लिंग का अधिक महत्व न होने के कारण नीति शिक्षा, धर्म, सामाजिक विभेदीकरण के मुख्य आधार है। जो समाज भौतिक रूप से काफी आगे बढ़ गये हैं यह धन सम्पत्ति के आधार पर एक स्वाभाषिक विभेदीकरण विकसित है।

(7) मूर्त तथा बाह्य आधार (Concrete and External Bases)- सामाजिक दीकरण का निर्धारण केवल उन्हीं आधारों पर हो सकता है जो मूर्ठ, मापनी तथा बाह्य हो। जैसे - आयु, लिंग, प्रजाति, धर्म, शिक्षा, सम्पत्ति तथा सांस्कृतिक व्यवहार ऐसी विशेषताये हैं जिन्हें स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है, जबकि दूसरी और व्यक्तित्व सम्बन्धी भिन्नतायें, योग्यता स्वभाव, शक्ति एवं ज्ञान ऐसे आधार हैं जो बाह्य हैं और न ही इनकी कोई सर्वसम्मत माप की जा सकती है। ये ऐसे आधार हैं जिन पर सामाजिक स्तरीकरण तो सम्भव है किन्तु सामाजिक विभेदीकरण नहीं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना  रूसो का सामान्य इच्छा सिद्धान्त अवधारणा रूसो की 'सामान्य इच्छा सम्बन्धी सिद्धान्त अथवा अवधारणा आधुनिक राजनीतिक चिन्तन में एक महत्त्वपूर्ण देन है। कुछ विद्वानों के अनुसार वह लोकतन्त्र की आधारशिला है। रूसो के राजनीतिक विचारों में सामान्य इच्छा' का विचार सबसे मौलिक है यद्यपि उसके सम्बन्ध में वह स्वयम् स्पष्ट नहीं है। रूसों के अनुसार प्रारम्भिक समझौते के लिए समाज के समस्त सदस्यों का एक मत होना आवश्यक है, किन्तु बाद में सामान्य इच्छा के अनुसार ही शासन का कार्य होता है। रूसो की सामान्य इच्छा के सन्दर्भ में जोन्स महोदय का कथन उल्लेखनीय है-सामान्य इच्छा का विचार रूसों के सिद्धान्त का न केवल सबसे अधिक केन्द्रिय विचार है, अपितु यह उसका सबसे अधिक और मौलिक व रोचक विचार है। ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह राजनीतिक सिद्धान्त के क्षेत्र में सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण देन है। इसकी उपयोगिता का आधार इसी आधार पर लगाया जा सकता है कांट, हीगल, ग्रीन और बोसांके आदि अंग्रेजी दार्शनिकों की विचारधारा भी इसी पर आधारित थी। रूसो ने अपने सामन्य इच्छा के सन्दर्भ

राज्य की उत्पत्ति के विकासवादी सिद्धांत

राज्य की उत्पत्ति के विकासवादी सिद्धांत  राज्य की उत्पत्ति के ऐतिहासिक विकासवादी सिद्धांत राज्य की उत्पत्ति के सम्बन्ध में अनेक सिद्धान्त प्रचलित हैं। परन्तु गंभीर विवेचना से स्पष्ट होता है कि अन्य सभी सिद्धान्त गलत हैं और उन्होंने राज्य की उत्पत्ति की सही व्याख्या नहीं की है। इस सम्बन्ध में गार्नर का कहना ठीक है कि, "राज्य न तो ईश्वर की कृति है, न किसी उच्च शक्ति का परिणाम, न किसी प्रस्ताव या समझौते की सृष्टि है, न परिवार का विस्तारमात्र" अतः यह प्रश्न उठना स्वाभाविक है कि राज्य की उत्पत्ति का सबसे अच्छा सिद्धान्त कौन है। इस सम्बन्ध में यही कहा जा सकता है कि राज्य विकास का परिणाम है। इसका निर्माण मनुष्य की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए हुआ था और अच्छे जीवन के लिए अब भी चल रहा है। राज्य की उत्पत्ति का सबसे सही और वैज्ञानिक सिद्धान्त विकासवादी या ऐतिहासिक सिद्धान्त को ही कहा जा सकता है। इस सिद्धान्त के अनुसार राज्य की उत्पत्ति एक विकास का परिणाम है। यह विकास धीरे-धीरे क्रम: चलता रहता है। इसी विकास के परिणामस्वरूप राज्य ने वर्तमान का रूप धारण किया है। राज्य की उत्पत्ति और व

तुलनात्मक राजनीति का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth

तुलनात्मक राजनीति  का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth परिचय  राजनीति एक सर्वव्यापी गतिविधि है जो हमारे चारो तरफ हमको देखने को मिल जाती है। प्रारंभ से ही एक  राजनीति व्यवस्था की तुलना दूसरे राजनीति व्यवस्था से की जाती रही है।किसी एक राजनीतिक व्यवस्था की अन्य राजनीतिक व्यवस्था से तुलना करने  के तरीके को सामान्य तुलनात्मक पद्धति कहते है। वास्तव में तुलनात्मक राजनीति का अर्थ और लक्ष्य विभिन्न देशों के मध्य एक राजनीति समस्याओं विषमताओं समानताओं की जानकारी का अध्ययन करना है। इसे हम तुलनात्मक राजनीति कहते हैं। यह समस्या या वह विभिन्नताओं के मिश्रण का परिपेक्ष से विकास करने का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति हमारे समानताओं और विभिन्नताओं का अध्ययन करता है  और उसके द्वारा राज्य के विकास का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति सिद्धांत यह स्पष्ट करता है कि विश्व की सरकार और उनकी क्या परिस्थितियां हैं किस प्रकार से उनका प्रचलन हो रहा है किस प्रकार से सरकारें चल रही हैं। इसके अंतर्गत जो अध्ययन करते हैं पहला राज्य के कार्य दूसरा संगठन, नीति, दबाव समूह का अध्ययन होता है।  अर्थ और