सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सामाजिक विभेदीकरण की परिभाषा एवं विशेषताए

सामाजिक विभेदीकरण की परिभाषा एवं विशेषताए 


 सामाजिक विभेदीकरण की परिभाषा - लम्ले (Lamley) के अनुसार, 'विभेदीकरण से हमारा तात्पर्य उस प्रक्रिया से है जिसके द्वारा व्यक्ति भिन्नताओं का पोषण करता है, जिन्हें एक साथ रखने पर आर्केस्ट्रा के विभिन्न वादकों की तरह एक पूर्ण तथा समन्वययुक्त सम्पूर्ण संगीत की रचना होती है।"

न्यूमेयर (Newmeyer) के अनुसार, "सामाजिक विभेदीकरण वह प्रक्रिया है जो अनेक जैवकीय, आनुवंशिक एवं भौतिक विशेषताओं जैसे- आयु, लिंग, प्रजाति, वंश, व्यवसाय सांस्कृतिक पृष्ठिभूमि सामाजिक स्थिति, उपलब्धियों, समूह की रचना तथा सामाजिक सम्बन्ध के आधार पर व्यक्तियों और समूहों के बीच विभिन्नता को स्पष्ट करती है। इस प्रकार सामाजिक विभिन्नतायें विभेदीकरण की प्रक्रिया का आधार भी है और उपज भी है।"

जार्ज लुण्डबर्ग (George Lundberg) के अनुसार, "सामाजिक विभेदीकरण वह प्रक्रिया है जिसके अन्तर्गत सामूहिक रूप से इस तथ्य को मान्यता दी जाती है अथवा ऐसा मान लिया जाता है कि विभिन्न व्यक्तियों, श्रेणियों अथवा समूहों की विशेषताएं एक-दूसरे से भिन्न होती है।"

उपरोक्त परिभाषाओं से यह निष्कर्ष निकलता है कि जब एक समाज में व्यक्तियों तथा समूहों के बीच आयु, लिंग, सम्पत्ति, धर्म, प्रजाति, शिक्षा, संस्कृति अथवा व्यवसाय के आधार पर विभेद तो किया जाता हो किन्तु इन आधारों पर उनके बीच किसी भी प्रकार का संस्थाग स्तरीकरण न हो तो विभाजन की इस प्रक्रिया को हम सामाजिक विभेदीकरण कहते हैं, अथाट समाजिक विभेदीकरण समाज का एक समतल विभाजन है, न कि उदग्र विभाजन।

सामाजिक विभेदीकरण की विशेषतायें :

(1) एक तटस्थ प्रक्रिया (Natural Process)-सामाजिक विभेदीकरण एक सो प्रक्रिया है जिसके द्वारा पूर्ण समाज विभिन्न आधारों पर अनेक छोटे-छोटे समूहों में विभाजित हो. जाता है। जैसे किसी समुदाय के लोगों के बीच आयु अथवा लिंग के आधार पर सरलतापूर्वक विभेदीकरण किया जा सकता है किन्तु यह प्रक्रिया यह नहीं घतलाती कि लिंग के आधार पर स्त्रियों व पुरुषों में से कौन दूसरे से उच्च है अथवा आयु के आधार पर युवां प्रीकृ तथा वृद्ध व्यक्तिक्यों में किसे अधिक महत्व दिया जाय।

(2) एक सर्वव्यापी प्रक्रिया (An Universal Process)- ऐसा कोई भी समय अथवा समाज देखने को नहीं मिलता जिसमें किसी न किसी आधार पर सामाजिक विभेदीकरण को प्रक्रिया न पायी जाती हो। विभेदीकरण का इतिहास उनता ही प्राचीन है जितना कि मानव सभ्यता का सभ्यता के प्रारम्भिक स्तर पर आयु तथा लिंग सामाजिक विभेदीकरण के मुख्य आध र ये जयकि आज प्रजाति, शिक्षा तथा सम्पत्ति की भिन्नता के आधार पर भी सामाजिक विभेदीकरण एक स्पष्ट रूप देखने को मिलता है इसलिये सामाजिक विभेदीकरण को एक म्व्यापी प्रक्रिया के रूप में स्वीकार किया जाता है।

(3) स्वाभाविक प्रक्रिया (Natural Process)-विभेदीकरण की प्रक्रिया इस अर्य में स्वाभाविक है कि इसके अन्तर्गत न तो योजनाबद्ध रूप से विभिन्न समूहों को एक-दूसरे से पृथक किया जा सकता है और न यह किसी प्रकार की सामाजिक नीति पर आधारित होती है। सके अन्तर्गत विभिन्न समूहों के बीच जिन समानता को स्पष्ट किया जाता है वह बहुत कुछ मुतिक और स्वाभाविक होती है।

(4) अवैयक्तिक प्रक्रिया (Impersonal Process)- सामाजिक विभेदीकरण की प्रक्रिया कभी भी वैयक्तिक नहीं होती है। उदाहरणार्थ, संघर्ष एक वैमक्तिक, प्रक्रिया है जिसमें
संपर्क करने वाले दोनों पक्ष एक-दूसरे के व्यवहारों तथा साधों की अधिक से अधिक जानकारी करके उन्हें हानि पहुंचाने का प्रयास करते हैं। जबकि दूसरी ओर विभेदीकरण इस अर्थ में अवैयक्तिक है कि इसके अन्तर्गत हम किसी व्यक्ति विशेष के प्रति ईर्ष्या द्वेप या विरोध प्रदर्शित नहीं करते वरन उन सभी को अपने से कुछ भिन्न समझते हैं जिनकी जैवकीय सामाजिक और आर्थिक विशेषतायें हमसे भिन्न होती हैं। जैसे - विभेदीकरण की प्रक्रिया यह तो स्पष्ट करती है कि शवेत प्रजाति के सभी लोग नीग्रो प्रजाति के लोगों को अपने से निम्न समझें अथवा उनसे संपर्ष करें।

(5) वैयक्तिक चेतना का समावेश (Individual Conciousness)- सामाजिक विभेदीकरण की प्रक्रिया ऐसी है जिसके प्रति सभी व्यक्ति चेतन अधवा जागरूक रहते हैं। इसका अर्थ है कि विभिन्न प्रकार को समानता के लिए व्यक्तियों को कोई निर्देश न मिलने पर भी सभी व्यक्ति यह जानते है कि वे किस श्रेणी में आते हैं। तथा किस प्रकार अन्य लोगों से भिन्न है। क्ति मानसिक रूप से इस तथ्य के प्रति सचेत रहते है कि वे उन लोगों से भिन्न है जिनकी आयु, लिंग, शिक्षा, प्रजाति अथवा वेश-भूषा उससे भिन्न है।

(6) सामाजिक मूल्यों का समावेश (Socially Oriented) सामाजिक विभेदीकरण की एक विशेषता यह है कि इसके प्रमुख आधारों का निर्धारण सामाजिक मूल्यों के अनुसार होता जैसे - आदिम समाजों में आयु और लिंग का अधिक महत्व होने के कारण यहाँ इन्हें सामाजिक विभेदीकरण के सबसे अधिक महत्वपूर्ण आधार के रूप में देखा जाता है, जबकि पशिचमी समाजों के सामाजिक मूल्यों में आयु और लिंग का अधिक महत्व न होने के कारण नीति शिक्षा, धर्म, सामाजिक विभेदीकरण के मुख्य आधार है। जो समाज भौतिक रूप से काफी आगे बढ़ गये हैं यह धन सम्पत्ति के आधार पर एक स्वाभाषिक विभेदीकरण विकसित है।

(7) मूर्त तथा बाह्य आधार (Concrete and External Bases)- सामाजिक दीकरण का निर्धारण केवल उन्हीं आधारों पर हो सकता है जो मूर्ठ, मापनी तथा बाह्य हो। जैसे - आयु, लिंग, प्रजाति, धर्म, शिक्षा, सम्पत्ति तथा सांस्कृतिक व्यवहार ऐसी विशेषताये हैं जिन्हें स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है, जबकि दूसरी और व्यक्तित्व सम्बन्धी भिन्नतायें, योग्यता स्वभाव, शक्ति एवं ज्ञान ऐसे आधार हैं जो बाह्य हैं और न ही इनकी कोई सर्वसम्मत माप की जा सकती है। ये ऐसे आधार हैं जिन पर सामाजिक स्तरीकरण तो सम्भव है किन्तु सामाजिक विभेदीकरण नहीं।

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण  जान लॉक का प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त सत्रहवीं व अठारहवीं शताब्दी में प्राकृतिक अधिकारों का सिद्धांत अत्यन्त प्रचलित था। सामाजिक संविदा सिद्धान्त के प्रवर्तकों ने यह विचार प्रस्तुत किया कुछ अधिकार राज्य के उद्भव अर्थात् उत्पत्ति के पहले विद्यमान थे अर्थात् ये मानव के पास प्राकृतिक अवस्था में भी मौजूद थे। इसी अधिकार को राजनीतिशास्त्र में प्राकृतिक अधिकार के नाम से सम्बोधित किया जाता है। इन प्राकृतिक अधिकारों का सृजनकर्ता राज्य नहीं था वरन् राज्य का जन्म इन अधिकारों के रक्षा के लिए हुआ है। राज्य का यह दायित्त्व है इन अधिकारों को मान्यता प्रदान कर विधि अथवा कानून के रूप में परिवर्तित कर दे। लॉक ने अपने सामाजिक सम्विदा सिद्धान्त के अन्तर्गत जीवन स्वतंत्रता एवं सम्पत्ति सम्बन्धी अधिकार की श्रेणी में रखा है। ये अधिकार व्यक्ति के व्यक्तित्व में निहित होते हैं, ये सर्वव्यापक एवं असीम होते हैं। प्राकृतिक अधिकारों के प्रवल पोषक लॉक के अनुसार यदि राज्य की प्रकृति प्रदत्त अर्थात् प्रकृति के अधिकारों की रक्षा करने में सफल नहीं होता तो ऐसे