सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

राज्य की परिभाषा एवं महत्व

 राज्य की परिभाषा एवं महत्व 

"राज्य' शब्द अंग्रेजी के "स्टेट' शब्द का रूपान्तर है, जो कि लैटिन भाषा के "स्टेटस' शब्द से व्युत्पन्न है। "स्टेटस' शब्द का शाब्दिक आशय है-"किसी व्यक्ति का समाजिक स्तर/पद। स्थिति।' धीरे-धीरे "राज्य' शब्द का अर्थ बदलता गया। सिसरो के समय राज्य का सम्बन्ध सम्पूर्ण समाज के स्तर से माना जाने लगा। इंग्लैण्ड में "राज्य' शब्द का प्रयोग एक प्रभुत्वशाली सांसारिक रूप में किया गया। राज्य का विश्लेषण तथा उसकी परिभाषा कई आधारों पर विद्वानों ने की है।

1.गिलक्राइस्ट के अनुसार- "राज्य उसे कहते हैं, जहाँ कुछ लोग एक निश्चित प्रदेश में एक सरकार के अधीन संगठित होते हैं। यह सरकार आन्तरिक मामलों में अपनी जनता की सम्प्रभुता को प्रकट करती है तथा बाह्य मामलों में अन्य सरकारों से स्वतन्त्र होती है।

2. विलोबी ने लिखा कि- "राज्य एक ऐसा कानूनी व्यक्ति या स्वरूप है, जिसके कानून-निर्माण का अधिकार प्राप्त है।"

3.लास्की ने कहा है कि-"राज्य एक ऐसा प्रादेशिक समाज है, जो कि शासन तथा जनता में विभाजित होता है, जिसमें जनता व्यक्ति या व्यक्ति समुदाय के रूप में होती है तथा शासक सर्वोपरि बल प्रयोग पर आधारित अपनी शक्ति द्वारा जनता के साथ अपने सम्बन्ध निर्धारित करता है।"

4.वेदों के अनुसार-"राज्य कुटुम्बों और उसके सामूहिक अधिकार की वस्तुओं का एक ऐसा समुदाय है,जो कि सर्वश्रेष्ठ शक्ति और तर्क-बुद्धि से शासित होता है।"

5. गार्नर के शब्दों में-"राज्य बहुसंख्यक लोगों का एक ऐसा समुदाय है, जो किसी प्रदेश के निश्चित भाग में स्थायी रूप से रहता हो, बाह्य शक्ति के नियन्त्रण से पूर्णत: अथवा अंशतः स्वतन्त्र हो तथा जिसमें ऐसी सरकार विद्यमान हो, जिसके आदेश का पालन नागरिकों के विशाल समुदाय के द्वारा स्वाभाविक रूप से किया जाता है। 

राज्य के तत्व- राज्य के तत्व को निम्नलिखित रूप से स्पष्ट किया गया है 

(1) जनसंख्या-बिना जनसंख्या के राज्य की कल्पना करना व्यर्थ है। यह राज्य के संगठन के निर्वाह के लिए संख्या में पर्याप्त होनी चाहिए तथा यह उपलब्ध भू-भाग तथा राज्य के साधनों से अधिक प्रकार न हो।

(2) निश्चित भू-भाग-व्लुशली ने कहा है, जैसे राज्य का वैयक्तिक आधार जनता है उसका भौतिक आधार है भूमि,जनता उस समय तक राज्य का रूप धारण नहीं कर सकती जब तक उसका कोई निश्चित प्रदेश न हो।" एक राज्य के पास निश्चित भूमि का आकार इतना होना चाहिए, जितना कि एक राज्य रक्षा कर सकता हो। (3) सरकार-किसी निश्चित भू-भाग के वाशिन्दे तब तक राज्य का रूप धारण नहीं करते जब तक कि उसका एक राजनीतिक संगठन न हो। यह राजनीतिक संगठन अथवा सरकार एक ऐसा साधन है जिसके द्वारा राज्य के लक्ष्य एवं नीतियों का कार्यान्वित किया जाता है। सरकार राज्य का व्यवहारिक पहलू है।

(4) प्रभुसत्ता-यह राज्य का प्राणी है जिसके अभाव में राज्य का अस्तित्व कायम नहीं रह सकता है। इसका अर्थ है आन्तरिक और बाहा मामलों में राज्य अन्य शक्ति के अधीन नहीं है। उसे नागरिकों एवं समुदायों पर सर्वोच्च कानूनी अधिकार प्राप्त हैं। राज्य पर किसी प्रकार का बाहरी नियंत्रण नहीं है। राज्य के महत्व-राज्य के निम्नलिखित महत्व है 

(1)शान्ति एवं व्यवस्था का स्थापक-समाज में शान्ति और व्यवस्था की स्थापना राज्य तथा उसकी प्रभुत्व शक्ति द्वारा ही होती है। ऐसे व्यक्ति जो समाज के विरुद्ध कार्य करते हैं, राज्य उनको दंडित करता है। यह कार्य समाज के किसी अन्य समुदाय के सामर्थ्य के बाहर है। अरस्तु का कहना था,"राज्य मनुष्य के लिए उसी प्रकार अनिवार्य है, जिस प्रकार एक मछली के लिए जल।

(2) अधिकारों और कर्तव्यों का रक्षक-व्यक्ति के अधिकारों का अस्तित्व राज्य में ही सम्भव है। राज्य नागरिकों के अधिकारों को सुरक्षित रखता है और कर्तव्यपालन भी लोग राज्य के कारण दी करते हैं। 

(3) बाह्य आक्रमणों से सुरक्षा-राज्य बाह्य आक्रमणों से देश की रक्षा कर लोगों की स्वतंत्रता को सुरक्षित रखता है। यदि राज्य बाह्य आक्रमणों से देश की रक्षा न करे, तो मानव सभ्यता विनाश तक हो सकता है। 

(4) शक्तिशालियों से निर्बलों की रक्षा-राज्य निर्बल व्यक्तियों की शक्तिशालियों से रक्षा करता है। यदि राज्य निर्बलों की रक्षा न करे तो समाज में मत्स्य न्याय (जिसकी लाठी उसकी भैंस) स्थापित हो जाएगा और दुर्बलों का अस्तित्व मिट जाएगा। इससे देश में अराजकता और अशान्ति का बोलबाला हो जाएगा।

(5) आर्थिक उन्नति में सहायक-राज्य मनुष्यों की आर्थिक उन्नति में सहायक होता है। राज्य सड़कों, रेल, तार, टेलीफोन, नहरों, बाँधों आदि का निर्माण करता है तथा इनके द्वारा कृषि और व्यापार का विकास होता है। राज्य विशाल कारखानों तथा औद्योगिक शिक्षा का प्रबन्ध करके भी अपने नागरिकों की आर्थिक दशा में सुधार करता है।

सामाजिक नियंत्रण में राज्य की भूमिका सामाजिक नियंत्रण में राज्य निम्न भूमिका निभाता है

1. राज्य समाज में आन्तरिक व्यवस्था एवं शांति कायम रखता है। वहदंगे-फसादों/उपद्रो का दमन करता है, अपराधियों को दण्डित करके उनका सुधार भी करता है। विभिन्न समूहों/समुदायों के बीच संघर्ष की रोकथाम करता है। आंतरिक शांति एवं व्यवस्था के लिए वह जेल, पुलिस, न्यायालय, सेना की सहायता लेता है।

2. राज्य आर्थिक व्यवस्था का नियन्त्रण करता है। वह नागरिकों की मूलभूत आवश्यकताओं की व्यवस्था करता है। राज्य उत्पत्ति, उपभोग, वितरण, विनिमय, कर, आयात-निर्यात, व्यवसाय, उद्योग आदि के बारे में नीति-निर्धारण, कानून बनाकर अर्थव्यवस्था को नियंत्रित करता है।

3. राज्य अनेक उद्योगों की स्थापना और उनका संचालन करता है, लोगों के श्रम को शोषण से बचाता है, यातायात संचार की व्यवस्था करता है। राज्य उद्योग, व्यापार, शिक्षादि के माध्यम से समाज में प्रत्यक्ष रूप से सामाजिक नियंत्रण को बनाए रखता है।

4.राज्य व्यक्ति के कार्यों का नियन्त्रण और निर्देश भी करता है। वह सामाजिक करीतियों, अंधविश्वास को प्रतिबन्धित करता है। वह लोगों के सम्मुख नये मूल्य,आदर्श, नैतिकता प्रस्तुत करके उन्हें प्रगतिशील जीवन के प्रति प्रेरित करता है।

5. राज्य अपंग, वृद्ध,रुग्ण, असहाय, बच्चों, स्त्रियों की सहायता की व्यवस्था करता है। नागरिकों के लिए नई-नई कल्याणकारी योजनाओं का निर्माण करता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam 1857 के महान विद्रोह (1857 के भारतीय विद्रोह, 1857 के महान विद्रोह, महान विद्रोह, भारतीय सेप्पी विद्रोह) को ब्रिटिश शासन के खिलाफ भारत का स्वतंत्रता संग्राम माना जाता है। 1857 आंदोलन एक राष्ट्रीय उभर रहा था, जो भारतीयों के दिल में एक मजबूत आग्रह से प्रेरित था, जिससे देश मुक्त हो गया। यह ब्रिटिश शासन की स्थापना के बाद भारत के इतिहास में सबसे उल्लेखनीय एकल घटना थी। यह भारत में सदी के पुराने ब्रिटिश शासन का नतीजा था। भारतीयों के पिछले विद्रोहों की तुलना में, 1857 का महान विद्रोह एक बड़ा आयाम था और यह समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों की भागीदारी के साथ लगभग अखिल भारतीय चरित्र ग्रहण करता था। यह विद्रोह कंपनी के सिपाही द्वारा शुरू किया गया था। इसलिए इसे आमतौर पर 'सेप्पी विद्रोह' कहा जाता है। लेकिन यह सिर्फ सिपाही का विद्रोह नहीं था। इतिहासकारों ने महसूस किया है कि यह एक महान विद्रोह था और इसे सिर्फ एक सिपाही विद्रोह कहने के लिए अनुचित होगा। हमारे इतिहासकार अब इसे विभिन्न ना