सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

प्रतिस्पर्धा का अर्थ, परिभाषा, प्रकार एवं स्वरूप

प्रतिस्पर्धा का अर्थ, परिभाषा, प्रकार एवं स्वरूप 


प्रतिस्पर्धा का अर्थ एवं परिभाषा: प्रतिस्पर्धा उस प्रक्रिया को कहते हैं जब एकाधिक व्यक्ति या समूह आपस में बिना संघर्ष किए हुए किसी ऐसी वस्तु को प्राप्त करने का प्रयत्न करते हैं जो सबको समान रूप से प्राप्त नहीं हो सकती। इसीलिए इस प्रक्रिया द्वारा एक व्यक्ति या समूह दूसरे व्यक्ति या समूह को पीछे रखकर उस वस्तु को स्वयं पहले प्राप्त करने का प्रयत्न करता है।

सर्वत्र बोस तथा बीज के अनुसार, " प्रतिस्पर्धा दो या अधिक व्यक्तियों द्वारा  ऐसी एक ही वस्तु को प्राप्त करने के लिए किए गये प्रयल को कहते हैं जो इतनी सीमित है कि सब उसके भागीदार नहीं बन सकते है।

श्री बोगार्डस के शब्दों में, " प्रतिस्पर्धा किसी ऐसी वस्तु को प्राप्त करने के लिए किया गया एक विवाद है जो इतनी मात्रा में नहीं पाई जाती है कि पूरी मांग की पूर्ति हो सके। श्री सदरलैण्ड, वुडवार्ड सीमित हैं, और जिन्हे तथा मैक्सवैल आदि का भी कथन है कि जो 'संनुष्टियां इसी कारण सभी लोग प्राप्त नहीं कर सकते, उनकी प्राप्ति के लिए व्यक्तियों तथा समूहों के बीच होने वाले अवैयक्तिक (impersonal),अचेतन तथा निरन्तर संघर्ष को ही प्रतिस्पर्धा कहते हैं।

प्रतिस्पर्धा के प्रकार :-प्रतिस्पर्धा निम्न दो कारणों की हो सकती है


1.वैयक्तिक प्रतिस्पर्धा - वैयक्तिक प्रतिस्पर्धा उसे कहते हैं, जो एक व्यक्ति और दूसरे व्यक्ति के बीच सचेत रूप से होती है। जब दो विद्यार्थी कक्षा में प्रथम आने के लिए प्रतिस्पर्धा करते हैं या दो खिलाड़ी पुरस्कार जीतने के लिए परस्पर प्रतिस्पर्धा करते हैं तो उसे वैयक्तिक प्रतिस्पर्धा कहते हैं।

2. अवैयक्तिक प्रतिस्पर्धा - अवैयक्तिक प्रतिस्पर्धा वह है जो अनजाने व्यक्तियों या समूहों के बीच होती है। उदाहरणार्थ, 'कामन सेन्स क्रॉसवर्ड्स' , विवाद या हीरो साईकिल पहेली-विवाद' में देश के अनेक लोग भाग ले सकते हैं और लेते भी हैं। इनमें से कोई व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति को पहचानता ही नहीं, फिर भी प्रत्येक व्यक्ति दूसरे पर विजय पाने के लिए सतत प्रयत्नशील रहता है। इसी कारण एक ही वस्तु को बनाने वाले कई उत्पादक एक-दूसरे से परिचित हुए बिना ही आपस में प्रतिस्पर्धा कर सकते हैं। सर्वश्री गिलिन और गिलिन ने वैयक्तिक प्रतिस्पर्धा को 'चेतन प्रतिस्पर्धा तथा अवैयक्तिक प्रतिस्पर्धा को अचेतन प्रतिस्पर्धा' कहा है।

प्रतिस्पर्धा के स्वरूप: सर्वश्री गिलिन और गिलिन ने प्रतिस्पर्धा के चार स्वरूपों का वर्णन किया है। ये स्वरूप निम्नवत है

1. आर्थिक प्रतिस्पर्धा- आर्थिक वस्तुओं की प्राप्ति के लिए व्यक्तियों या समूहों के बीच जो प्रतिस्पर्धा चलती रहती है उसे आर्थिक प्रतिस्पर्धा कहते हैं। समाज या संस्कृति के अनुसार प्रत्येक समाज में कुछ आर्थिक वस्तुओं की इच्छा उस समाज के सभी लोग करते हैं। यदि इन वस्तुओं की पूर्ति सीमित है, तो लोगों में उनकी प्राप्ति के लिए प्रतिस्पर्धा होती है। उद्योगपतियो व्यापारियों आदि में आर्थिक प्रतिस्पर्धा प्रायः: अधिक होती है।

2. सांस्कृतिक प्रतिस्पर्धा - मानव की एक महत्वपूर्ण विशेषता यह होती है कि वह अपनी संस्कृति को अधिक उत्तम समझता है और इसीलिए उसे औरों (Other) पर थोपने का यत्न करता है। किसकी संस्कृति कितनी उत्तम है, इसी होड़ के फलस्वरूप सांस्कृतिक प्रतिस्पर्ध 147 चलती है, व्यवहार के तरीके विश्वासों, आदर्शों, संस्थाओं तथा सांस्कृतिक विधियों के बीच बलने वाली प्रतिस्पर्धा, सांस्कृतिक प्रतिस्पर्धा के अन्तर्गत ही आती है। इसी प्रकार की प्रतिस्पर्धा के लिए पश्चिमी देशों ने प्रायः कितने ही व्यापारिरयों व मशिनरियों को अन्य देशों, विशेषकर भारतवर्ष, अफ्रीका आदि को भेजा है। भारतवर्ष में भारतीय धर्मों के मानने वाले अनेक व्यक्तियों का ईसाई धर्म को स्वीकार कर लेना या भारतवासियों द्वारा अंग्रजी अदब, पोषक, बोलचाल आदि को ग्रहण कर लेना, या भारतवासियों द्वारा अंग्रेजी अदब, पोशाक, बोलचाल आदि को ग्रहण कर लेना, सांस्कृतिक प्रतिस्पर्धा के क्षेत्र में पश्चिमी देशों की विजय का ही द्योतक है।

3. प्रजातीय प्रतिस्पर्धा-विभिन्न प्रजातियों अवधारणा (Race) में भी परस्पर प्रतिस्पर्धा होती है, क्योकि लोगों के दिलों में, यह गलत धारणा घर कर गयी है कि प्रजातियों में भी श्रेष्ठता और हीनता होती है। इस धारणा के अनुसार श्वेत प्रजाति (White Race) सर्वश्रेष्ठ प्रजाति है.

जबकि श्यान प्रजाति (Black Race) अर्थात नीग्रो प्रजाति सबसे हीन प्रजाति है। इन दोनों के मध्य में ही अन्य प्रजातियों का स्थान है। पर चूँकि इस ऊँच-नीच का कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है. इस कारण प्रत्येक प्रजाति अपनी श्रेष्ठता को प्रमाणित करने का प्रयत्न करती है। अमेरिका में आज भी श्वेत लोग नीग्रो को अत्यधिक हेय दृष्टि से देखते हैं।

4. स्थिति या कार्य के लिए प्रतिस्पर्धा - प्रत्येक व्यक्ति सामाजिक तौर पर उच्च स्थिति प्राप्त करना तथा समाज द्वारा मान्य अधिक महत्वपूर्ण कार्य करना चाहता है। विद्यार्थीगण जब आपस में प्रतिस्पर्धा करते हैं, दो प्रेमी या प्रेमिका जब परस्पर प्रतिस्पर्धा करते हैं. कई व्यक्ति जब प्रतियोगी परीक्षाओं में बैठते हैं या खेल-कूद आदि में सबसे आगे होने के लिए जी-जान से भरसक प्रयास करते हैं, तो हमें स्थिति या कार्य के लिए होने वाली प्रतिस्पर्धाओं के विभिन्न रूपों के दर्शन होते हैं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना  रूसो का सामान्य इच्छा सिद्धान्त अवधारणा रूसो की 'सामान्य इच्छा सम्बन्धी सिद्धान्त अथवा अवधारणा आधुनिक राजनीतिक चिन्तन में एक महत्त्वपूर्ण देन है। कुछ विद्वानों के अनुसार वह लोकतन्त्र की आधारशिला है। रूसो के राजनीतिक विचारों में सामान्य इच्छा' का विचार सबसे मौलिक है यद्यपि उसके सम्बन्ध में वह स्वयम् स्पष्ट नहीं है। रूसों के अनुसार प्रारम्भिक समझौते के लिए समाज के समस्त सदस्यों का एक मत होना आवश्यक है, किन्तु बाद में सामान्य इच्छा के अनुसार ही शासन का कार्य होता है। रूसो की सामान्य इच्छा के सन्दर्भ में जोन्स महोदय का कथन उल्लेखनीय है-सामान्य इच्छा का विचार रूसों के सिद्धान्त का न केवल सबसे अधिक केन्द्रिय विचार है, अपितु यह उसका सबसे अधिक और मौलिक व रोचक विचार है। ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह राजनीतिक सिद्धान्त के क्षेत्र में सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण देन है। इसकी उपयोगिता का आधार इसी आधार पर लगाया जा सकता है कांट, हीगल, ग्रीन और बोसांके आदि अंग्रेजी दार्शनिकों की विचारधारा भी इसी पर आधारित थी। रूसो ने अपने सामन्य इच्छा के सन्दर्भ

राज्य की उत्पत्ति के विकासवादी सिद्धांत

राज्य की उत्पत्ति के विकासवादी सिद्धांत  राज्य की उत्पत्ति के ऐतिहासिक विकासवादी सिद्धांत राज्य की उत्पत्ति के सम्बन्ध में अनेक सिद्धान्त प्रचलित हैं। परन्तु गंभीर विवेचना से स्पष्ट होता है कि अन्य सभी सिद्धान्त गलत हैं और उन्होंने राज्य की उत्पत्ति की सही व्याख्या नहीं की है। इस सम्बन्ध में गार्नर का कहना ठीक है कि, "राज्य न तो ईश्वर की कृति है, न किसी उच्च शक्ति का परिणाम, न किसी प्रस्ताव या समझौते की सृष्टि है, न परिवार का विस्तारमात्र" अतः यह प्रश्न उठना स्वाभाविक है कि राज्य की उत्पत्ति का सबसे अच्छा सिद्धान्त कौन है। इस सम्बन्ध में यही कहा जा सकता है कि राज्य विकास का परिणाम है। इसका निर्माण मनुष्य की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए हुआ था और अच्छे जीवन के लिए अब भी चल रहा है। राज्य की उत्पत्ति का सबसे सही और वैज्ञानिक सिद्धान्त विकासवादी या ऐतिहासिक सिद्धान्त को ही कहा जा सकता है। इस सिद्धान्त के अनुसार राज्य की उत्पत्ति एक विकास का परिणाम है। यह विकास धीरे-धीरे क्रम: चलता रहता है। इसी विकास के परिणामस्वरूप राज्य ने वर्तमान का रूप धारण किया है। राज्य की उत्पत्ति और व

तुलनात्मक राजनीति का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth

तुलनात्मक राजनीति  का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth परिचय  राजनीति एक सर्वव्यापी गतिविधि है जो हमारे चारो तरफ हमको देखने को मिल जाती है। प्रारंभ से ही एक  राजनीति व्यवस्था की तुलना दूसरे राजनीति व्यवस्था से की जाती रही है।किसी एक राजनीतिक व्यवस्था की अन्य राजनीतिक व्यवस्था से तुलना करने  के तरीके को सामान्य तुलनात्मक पद्धति कहते है। वास्तव में तुलनात्मक राजनीति का अर्थ और लक्ष्य विभिन्न देशों के मध्य एक राजनीति समस्याओं विषमताओं समानताओं की जानकारी का अध्ययन करना है। इसे हम तुलनात्मक राजनीति कहते हैं। यह समस्या या वह विभिन्नताओं के मिश्रण का परिपेक्ष से विकास करने का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति हमारे समानताओं और विभिन्नताओं का अध्ययन करता है  और उसके द्वारा राज्य के विकास का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति सिद्धांत यह स्पष्ट करता है कि विश्व की सरकार और उनकी क्या परिस्थितियां हैं किस प्रकार से उनका प्रचलन हो रहा है किस प्रकार से सरकारें चल रही हैं। इसके अंतर्गत जो अध्ययन करते हैं पहला राज्य के कार्य दूसरा संगठन, नीति, दबाव समूह का अध्ययन होता है।  अर्थ और