सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

लोकाचार की अवधारणा की विवेचना

 लोकाचार की अवधारणा की विवेचना 


रूढ़ियाँ या लोकाचार - रूढ़ियाँ भी जनजातियों की भांति ही अनौपचारिक सामाजिक मानदंड हैं, अर्थात रूढ़ियों के पीछे भी समाज की स्वीकृति होती है। जनरीतियों से ही रूढ़ियों का निर्माण होता है। जब कोई जनजाति बहुत अधिक व्यवहार में आने पर समूह के लिए आवश्यक समझ ली जाती है तब वह रूढ़ि का रूप ले लेती है। समनर के अनुसार "जय जनजातियों में जीवन को उचित रूप से व्यतीत करने का दर्शन और उनमें समूह के कल्याण की भावना जुड़ जाती है, तब जनरीतियाँ ही रूढ़ियों का रूप ले लेती हैं।

" ग्रीन (Green) ने रूढ़ियों को समझते हुए उनके पालन न करने पर दण्ड दिये जाने की बात को महत्वपूर्ण माना है। ग्रीन के शब्दों में ही "कार्य करने के वे सामान्य तरीके जो जनरीतियों की अपेक्षा अधिक निश्चित व उचित समझे जाते हैं तथा जिनका उल्लंघन करने पर गम्भीर व निर्धारित दण्ड दिया जाता है, रूढ़ियाँ कहलाती है। रूढ़ियाँ भी दो प्रकार के सामाजिक मानदण्ड प्रस्तुत करती हैं- एक तो सकारातमक रूढ़ियों के रूप में दूसरे निषेधात्मक रूढ़ियों के रूप में। सकारात्मक रूढ़ियाँ हमसे विशेष प्रकार का व्यवहार चाहती हैं, जैसे माता-पिता का आदर करो, जीवन में ईमानदारी रखो, आदि।

 इसके विपरीत निषेधात्मक रूढ़ियाँ वर्जना' (Taboo) के रूप में हमें कुछ विशिष्ट व्यवहार करने से रोकती है, जैसे - चोरी नहीं करना चाहिये, वेश्यावृत्ति से दूर रहना चाहिये या जुआं नही खेलना चाहिए, और। रूढ़ियों में नैतिकता पर्याप्त प्रभाव रहता है और उनका पालन सामाजिक दृष्टिकोण से अधिक महत्वपूर्ण माना गया है। मेहमान का आदर करना, स्त्रियों से शिष्टाचारपूर्वक व्यवहार करना, परिवार के सदस्यों के भरण-पोषण के दायित्व का निर्वाह करना, इत्यादि रूढ़ियों के वे उदाहरण हैं, जिनका पालन सांस्कृतिक मान्यताओं के अनुरूप हमारे लिए महत्वपूर्ण माना गया है। कानून हमारे जीवन के व्यवहार के प्रत्येक पक्ष की व्याख्या नहीं करता है, अत: रूढ़ियाँ हमारे व्यवहार को विशेष एवं मान्य रूप में संचालित करने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करती हैं। इसी दृष्टिकोण से वे सामाजिक संरचना के दायित्व में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करती हैं रुढ़ियों की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि वे प्राय: गतिहीन होती हैं और समाजीकरण की प्रक्रिया में व्यक्ति उनको आत्मसात् करके उनके अनुरूप व्यवहार करते हैं। रूढ़ियों की निरन्तरता की विशेषता कभी-कभी उनको इतना स्थायित्व प्रदान कर देती है कि सामाजिक परिवर्तन के संदर्भ में भी कतिपय रूढ़ियां समाज में बनी रहती हैं ऐसे समय में ये रूढ़ियाँ परिवर्तित संदर्भ में नये लक्ष्यों की प्राप्ति में बाधक सिद्ध हो सकती है किन्तु नैतिक-सामाजिक प्रभाव के कारण व्यक्ति उनको मान्यता प्रदान करते हुए जीवन के कार्यकलापों को रूढ़ियों के अनुसार संचालित करते हैं। ग्रामीण, आदिम एवं सरल समाजों में रूढ़ियों का आधुनिक समाज की अपेक्षा अधिक महत्व रहा है।

 औपचारिकता, परिचय-बौद्ध, समाज की जटिलता शहरों, वृहतु समाजों (Mass Society) के फलस्वरूप विकसित हुई है। इन समाजों में कानून ने शनैः शनैः अधिकांश रूढ़ियों का स्थान ले लिया है। यह तथ्य इस बात का द्योतक है कि समाज में व्यवहार के प्रतिमानों के प्रकार का नि गरिण समाज की प्रकृति, आकार एवं संरचना पर निर्भर करता है। रूढ़ियों के पीछे यद्यपि कानून की सहमति नहीं होती है, फिर भी उनका प्रभाव व्यवहार में कानून से अधिक होता है। कानून का उल्लंघन करने वाला व्यक्ति सिर्फ उन संस्थाओं से बचने की कोशिश करता है, जो कानून की रक्षा करती है, जैसे- पुलिस, न्यायालय, आदि। किन्तु रूढ़ियों की अवहेलना करने वाला व्यक्ति समाज की दृष्टि से नहीं बच सकता क्योकि समाज का प्रत्येक व्यक्ति एक सतर्क सिपाही है, जो रूढ़ियों की डटकर सतत् रक्षा करता है। रूढ़ियों में नैतिकता का पर्याप्त अंश होता है, इसलिए उनका पालन धार्मिक कर्तव्य के रूप में भी होता है। गरीबों की सहायता करना , अपंगों की रक्षा करना, स्त्रियों से न लडना मेहमानों का आदर करना, कुछ ऐसी ही रूढ़ियाँ है, जिनका पालन हम समाज के भय से नहीं, बल्कि अपनी स्वयं की प्रेरणा से करते हैं। वे हमारे जीवन की महत्वपूर्ण आवश्यकताओं की पूर्ति करती है। इसीलिए समनर ने लिखा है कि "रूढ़ियाँ जीवन की समस्याओं के लिए प्रश्न न रखकर उत्तर प्रस्तुत करती है", अर्थात रूड़ियां इतनी बलशाली होती है कि वे किसी भी व्यवहार को उचित अथवा उनुचित घोषित कर सकती हैं। आदिम समाजों में रूढ़ियों का आधुनिक समाजों की अपेक्षा अधिक महत्व है। वहाँ रूढ़ियाँ सामान्य व्यवहार के मानदण्ड निर्धारित करती है तथा सामाजिक एकता बनाये रखती हैं। इसके विपरीत, आधुनिक समाजों में व्यक्तिवाद के कारण रूढ़ियाँ की अपेक्षा कानून अधिक महत्वपूर्ण है, यद्यपि यहाँ भी रूढ़ियाँ किसी सीमा तक व्यवहार की एकरूपता बनाये रखती हैं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना  रूसो का सामान्य इच्छा सिद्धान्त अवधारणा रूसो की 'सामान्य इच्छा सम्बन्धी सिद्धान्त अथवा अवधारणा आधुनिक राजनीतिक चिन्तन में एक महत्त्वपूर्ण देन है। कुछ विद्वानों के अनुसार वह लोकतन्त्र की आधारशिला है। रूसो के राजनीतिक विचारों में सामान्य इच्छा' का विचार सबसे मौलिक है यद्यपि उसके सम्बन्ध में वह स्वयम् स्पष्ट नहीं है। रूसों के अनुसार प्रारम्भिक समझौते के लिए समाज के समस्त सदस्यों का एक मत होना आवश्यक है, किन्तु बाद में सामान्य इच्छा के अनुसार ही शासन का कार्य होता है। रूसो की सामान्य इच्छा के सन्दर्भ में जोन्स महोदय का कथन उल्लेखनीय है-सामान्य इच्छा का विचार रूसों के सिद्धान्त का न केवल सबसे अधिक केन्द्रिय विचार है, अपितु यह उसका सबसे अधिक और मौलिक व रोचक विचार है। ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह राजनीतिक सिद्धान्त के क्षेत्र में सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण देन है। इसकी उपयोगिता का आधार इसी आधार पर लगाया जा सकता है कांट, हीगल, ग्रीन और बोसांके आदि अंग्रेजी दार्शनिकों की विचारधारा भी इसी पर आधारित थी। रूसो ने अपने सामन्य इच्छा के सन्दर्भ

राज्य की उत्पत्ति के विकासवादी सिद्धांत

राज्य की उत्पत्ति के विकासवादी सिद्धांत  राज्य की उत्पत्ति के ऐतिहासिक विकासवादी सिद्धांत राज्य की उत्पत्ति के सम्बन्ध में अनेक सिद्धान्त प्रचलित हैं। परन्तु गंभीर विवेचना से स्पष्ट होता है कि अन्य सभी सिद्धान्त गलत हैं और उन्होंने राज्य की उत्पत्ति की सही व्याख्या नहीं की है। इस सम्बन्ध में गार्नर का कहना ठीक है कि, "राज्य न तो ईश्वर की कृति है, न किसी उच्च शक्ति का परिणाम, न किसी प्रस्ताव या समझौते की सृष्टि है, न परिवार का विस्तारमात्र" अतः यह प्रश्न उठना स्वाभाविक है कि राज्य की उत्पत्ति का सबसे अच्छा सिद्धान्त कौन है। इस सम्बन्ध में यही कहा जा सकता है कि राज्य विकास का परिणाम है। इसका निर्माण मनुष्य की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए हुआ था और अच्छे जीवन के लिए अब भी चल रहा है। राज्य की उत्पत्ति का सबसे सही और वैज्ञानिक सिद्धान्त विकासवादी या ऐतिहासिक सिद्धान्त को ही कहा जा सकता है। इस सिद्धान्त के अनुसार राज्य की उत्पत्ति एक विकास का परिणाम है। यह विकास धीरे-धीरे क्रम: चलता रहता है। इसी विकास के परिणामस्वरूप राज्य ने वर्तमान का रूप धारण किया है। राज्य की उत्पत्ति और व

तुलनात्मक राजनीति का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth

तुलनात्मक राजनीति  का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth परिचय  राजनीति एक सर्वव्यापी गतिविधि है जो हमारे चारो तरफ हमको देखने को मिल जाती है। प्रारंभ से ही एक  राजनीति व्यवस्था की तुलना दूसरे राजनीति व्यवस्था से की जाती रही है।किसी एक राजनीतिक व्यवस्था की अन्य राजनीतिक व्यवस्था से तुलना करने  के तरीके को सामान्य तुलनात्मक पद्धति कहते है। वास्तव में तुलनात्मक राजनीति का अर्थ और लक्ष्य विभिन्न देशों के मध्य एक राजनीति समस्याओं विषमताओं समानताओं की जानकारी का अध्ययन करना है। इसे हम तुलनात्मक राजनीति कहते हैं। यह समस्या या वह विभिन्नताओं के मिश्रण का परिपेक्ष से विकास करने का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति हमारे समानताओं और विभिन्नताओं का अध्ययन करता है  और उसके द्वारा राज्य के विकास का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति सिद्धांत यह स्पष्ट करता है कि विश्व की सरकार और उनकी क्या परिस्थितियां हैं किस प्रकार से उनका प्रचलन हो रहा है किस प्रकार से सरकारें चल रही हैं। इसके अंतर्गत जो अध्ययन करते हैं पहला राज्य के कार्य दूसरा संगठन, नीति, दबाव समूह का अध्ययन होता है।  अर्थ और