सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

दक्षिण एशिया के मिट्टी के प्रकार

दक्षिण एशिया के मिट्टी के प्रकार 


उत्तर. मिट्टियाँ (Soils) - दक्षिण एशिया के विभिन्न भागों में विविध प्रकार की मिट्टियाँ पायी जाती हैं। जिनमें कुछ अधिक उपजाऊ है तो कुछ सामान्य उपजाऊ और कुछ अल्प उपजाऊ या अनुपजाऊ हैं। दक्षिणी एशिया में पायी जाने वाली मिट्टियों में जलोढ़ काली, लैटेराइट, लाल-पीली, मरूस्थलीय क्षारीय, पर्वतीय आदि प्रमुख हैं। इन मिट्रियों का क्षेत्रीय वितरण अग्रांकित है :


जलोढ़ मिट्टी (Alluvial Soil)- इस प्रकार की मिट्टी सामान्यतः नदियों की घाटियों तथा डेल्टाओं में पायी जाती है। पश्चिम में सिन्धु नदी घाटी से लेकर पूर्व में गंगा एवं ब्रह्मपुत्र के निचले मैदान तक और दक्षिण भारत में महानदी, गोदावरी, कृष्णा, कावेरी, नर्मदा, ताप्ती आदि नदी घाटियों में जलोढ़ मिट्टी का विस्तार है। नदियों के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में प्रतिवर्ष बाढ़ के दौरान मिट्टी की नयी परत जम जाती है जिससे मिट्टी की उपजाऊपन बना रहता है। इसे नवीन जलोढ़ या खादर के नाम से जाना जाता है। बाढ़ की पहुँच से अधिक ऊँचाई पर स्थित पुरानी मिट्टी को पुरातन जलोढ़ कहते हैं। पुरातन जलोढ़ में सामान्यतः शुष्क ऋतु में फसलों की सिंचाई आवश्यक होती है। यह नवीन जलोढ़ की तुलना में कम उपजाऊ होती है। काली मिट्टी (Black Soil)

इसकी उत्पत्ति लावा निर्मित बेसाल्ट (आग्नेय) शैल के अपक्षय द्वारा हुआ है। इसे रेगड़ (Regur) और काली कपास मिट्टी भी कहते हैं। इस मिट्टी का विस्तार पश्चिमी मध्य प्रदेश, सम्पूर्ण महाराष्ट्र, गुजरात, पश्चिमी आन्ध्रप्रदेश, कर्नाटक और उत्तरी-पश्चिमी तमिलनाडु पर है। काले रंग की यह मिट्टी अत्यन्न उपजाऊ है जो कपास, तम्बाकू, मूंगफली, गन्ना आदि फसलों के लिए विशेष रूप से उपजाऊ है।


लैटराइट मिट्टी (Laterite Soil) इस प्रकार की मिट्टी मौसमी रूप से अधिक वर्षा वाले क्षेत्रों में विकसित होती है। निक्षालन द्वारा वर्षा जल के साथ घुलनशील पदार्थ निचले संस्तर में चले जाते हैं और ऊपरी संस्तर में लौह ऑक्साइड की अधिकता के कारण इसका रंग लाल हो जाता है। दक्षिणी प्रायद्वीपीय पठार के उच्चवर्ती भागों में इस प्रकार की मिट्टी मिलती है। पश्चिमी घाट, पूर्वी घाट, राजमहल, विन्ध्य, सतपुड़ा आदि पहाड़ियों पर और श्रीलंका में मध्यवर्ती उच्च भूमि में लेटराइट मिट्टी का विकास हुआ है।

4. लाल-पीली मिट्टी (Red-Yellow Soil) इस मिट्टी का विस्तार प्रायद्वीपीय पठार पर कच्छ से राजमहल पहाड़ियों तक और तमिलनाडु से बुन्देलखण्ड तक काली मिट्टी के किनारे-किनारे चौड़ी पेटी में पाया जाता है। यह मिट्टी पश्चिमी
तमिलनाडु, कर्नाटक, दक्षिणी महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़, उड़ीसा तथा छोटा नागपुर पठार और श्रीलंका में मध्यवर्ती उच्चभूमि के चारों ओर पायी जाती है। उर्वरता की दृष्टि से यह सामान्य उपजाऊ होती है। मरुस्थलीय मिट्टी (Desert Soil)- पश्चिमोत्तर भारत (राजस्थान, सौराष्ट्र, कच्छ, दक्षिणी पंजाब) और दक्षिणी पाकिस्तान में रेतीली से बजरी युक्त मिट्टी पायी जाती है जिसमें जैव पदार्थों तथा नाइट्रोजन की कमी पायी जाती हैं। इसका विकास शुष्क जलवायु दशाओं में हुआ है। सिंचाई का प्रबन्ध होने पर इसमें गेहूँ, मोटे अनाज, दलहन, तिलहन आदि की कृषि की जा सकती है। क्षारीय या लवणीय मिट्टी (Alkaline or Saline Soil)- लवण प्रधान यह मिट्टी बिखरे रूप में राजस्थान, उत्तर प्रदेश, बिहार, पंजाब, महाराष्ट्र राज्यों के शुष्क क्षेत्रों में पायी जाती है। रेह, ऊसर, कल्लर,धुर आदि नामों से जानी जाने वाली यह मिट्टी प्रायः अनुपजाऊ होती है। पर्वतीय मिट्टी (Mountain Soil) यह मिट्टी अत्यन्त छिछली और परिपक्व होती है। यह मिट्टी अल्प अम्लीय से साधारण अम्लीय है और कम उपजाऊ होती है। इसके अन्तर्गत पाडजाल, पाडजालिक, भूरी मिट्टी, रेडजीना आदि सम्मिलित हैं। हिमालय पर्वत श्रेणी में कश्मीर से अरुणाचल प्रदेश तक पर्वतीय ढालों पर इस प्रकार की मिट्टियाँ पायी जाती हैं।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण  जान लॉक का प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त सत्रहवीं व अठारहवीं शताब्दी में प्राकृतिक अधिकारों का सिद्धांत अत्यन्त प्रचलित था। सामाजिक संविदा सिद्धान्त के प्रवर्तकों ने यह विचार प्रस्तुत किया कुछ अधिकार राज्य के उद्भव अर्थात् उत्पत्ति के पहले विद्यमान थे अर्थात् ये मानव के पास प्राकृतिक अवस्था में भी मौजूद थे। इसी अधिकार को राजनीतिशास्त्र में प्राकृतिक अधिकार के नाम से सम्बोधित किया जाता है। इन प्राकृतिक अधिकारों का सृजनकर्ता राज्य नहीं था वरन् राज्य का जन्म इन अधिकारों के रक्षा के लिए हुआ है। राज्य का यह दायित्त्व है इन अधिकारों को मान्यता प्रदान कर विधि अथवा कानून के रूप में परिवर्तित कर दे। लॉक ने अपने सामाजिक सम्विदा सिद्धान्त के अन्तर्गत जीवन स्वतंत्रता एवं सम्पत्ति सम्बन्धी अधिकार की श्रेणी में रखा है। ये अधिकार व्यक्ति के व्यक्तित्व में निहित होते हैं, ये सर्वव्यापक एवं असीम होते हैं। प्राकृतिक अधिकारों के प्रवल पोषक लॉक के अनुसार यदि राज्य की प्रकृति प्रदत्त अर्थात् प्रकृति के अधिकारों की रक्षा करने में सफल नहीं होता तो ऐसे