सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

दक्षिण अमेरिका के खनिज संसाधन

 दक्षिण अमेरिका के खनिज संसाधन 


दक्षिण अमेरिका में खनिज लौह के अतिरिक्त कई अन्य महत्वपूर्ण खनिज पदार्थ पाये जाते हैं जिनमें मैंगनीज, अभ्रक, टिन, तांबा, बाक्साइट, सीसा, सोना, चाँदी आदि महत्वपूर्ण हैं। शक्ति संसाधनों में पेट्रोलियम और जलविद्युत उल्लेखनीय हैं। (1) लौह अयस्क (Iron ore)-

लौह अयस्क के उत्पादन में चीन के बाद ब्राजील का विश्व में द्वितीय स्थान है। विश्व का लगभग 19 प्रतिशत लौह अयस्क ब्राजील से प्राप्त होता है। इसका औसत वार्षिक उत्पादन 2500 लाख मीटरी टन है। ब्राजील का बृहत लौह भण्डार मिनास जिरास राज्य में है। यहाँ का प्रमुख लौह उत्पादक क्षेत्र में इटावा है। ब्राजील में लोहा-इस्पात -उद्योग का विकास कम हुआ है जिसके कारण यहाँ उत्पादित अधिकांश लौह अयस्क का निर्यात कर दिया जाता है। (2) मैंगनीज (Manganese) विश्व उत्पादन का लगभग 10 प्रतिशत मैंगनीज ब्राजील से प्राप्त होता है। इसका औसत वार्षिक उत्पादन लगभग 2700 लाख मीटरी टन है। ब्राजील में मैंगनीज के भण्डार मुख्यतः पूर्वी तट के समीप पाये जाते हैं। नजारे तथा लाला ब्राजील के प्रमुख मैगनीज खदान है। इसके अतिरिक्ति मिनास जेरेस, बाहिया तथा मांटीग्रासो राज्यों भी मैंगनीज के लघु जमाव पाये जाते हैं। जहाँ से थोड़ी मात्रा में उत्पादन होता है। ब्राजील के अधिकांश मैंगनीज का निर्यात कर दिया जाता है। चिली आदि देशों से भी थोड़ी मात्रा में मैंगनीज का उत्पादन होता है। (3) अभ्रक (Mica) प्राकृतिक अभ्रक के उत्पादन में भारत के पश्चात ब्राजील का दूसरा स्थान है किन्तु कुल अभ्रक (कृत्रिम सहित) के उत्पादन की दृष्टि से ब्राजील का विश्व में सातवां स्थान है और यहाँ से विश्व के 2 प्रतिशत से भी कम अभ्रक प्राप्त होता है। ब्राजील में अभ्रक के निक्षेप अटलांटिक तट के सहारे लगभग 200 किमी0 चौड़ी और 500 किमी0 लम्बी पेटी में पाये जाते हैं। मिनास जिरास ब्राजील का बृहत्तम अभ्रक उत्पादक राज्य है। ब्राजील का अभ्रक मस्कबाइट (गुलाबी अभ्रक) और बायोटाइट (काला अभ्रक) प्रकार का है। अधिकांश अभ्रक का निर्यात किया जाता है। (4) टिन (Tin)- दक्षिणी अमेरिका में टिन के उत्पादन में पेरू, बोलीविया तथा ब्राजील का महत्वपूर्ण स्थान है। विश्व में टिन के उत्पादन में इन देशों का क्रमशः तीसरा, चौथा और पांचवां स्थान है। विश्व का लगभग 27 प्रतिशत टिन दक्षिण अमेरिका के इन्हीं देशों से प्राप्त होता है। लगभग 16 प्रतिशत टिन अकेले पेरू से मिलता है। पेरू में टिन के निक्षेप पूर्वी एण्डीज प्रदेश में समुद्र तल से 4000 से5000 मीटर की ऊँचाई पर स्थित हैं। सान एण्टोनियो दि पालो पेरू का प्रमुख टिन उत्पादक क्षेत्र हैं। बोलीविया पठार के पूर्वी भाग में ओर से लेकर पोटीसी तक टिन का खनन अपेक्षाकृत खर्चीला है। ब्राजील का उत्पादन बोलीविया से कुछ कम रहता है। (5) ताँबा (Copper) चिली विश्व का बृहत्तम ताँबा उत्पादक देश है जहाँ से विश्व का लगभग 37 प्रतिशत और दक्षिण अमेरिका का लगभग 80 प्रतिशत ताँबा प्राप्त होता है। चिली में तांबे का संचित भण्डार एण्डीज पर्वत के पश्चिमी ढाल के सहारे एक संकरी पट्टी में स्थित है। चिली में तांबे का खनन मुख्यतः चार खदानों से किया जाता है जो इस प्रकार है-(|चिक्विकमाता, (i) एल टेनियन्ट, ii) एल सल्वाडोर और (iii) ला अफ्रीकाना। पेरू दक्षिण अमेरिका का दूसरा प्रमुख तांबा उत्पादक देश है जो इस महाद्वीप के 15 प्रतिशत से अधिक तांबे का उत्पादन करता है। पेरू में तांबा का उत्पादन मुख्यतः चार क्षेत्रों में होता है, जो इस प्रकार हैं-()सेरोडी पास्को, (i) टोक्वेपाला, (ii) मोरोकोचा, और (iii) कैसापाल्का । अर्जन्टीना से भी थोड़ी मात्रा में तांबा का उत्पादक किया जाता है। (6) बॉक्साइट (Bauxite) बॉक्साइट एक प्रमुख खनिज पदार्थ है जिसमें अल्युमिना नामक तत्व पाया जाता है जिससे एल्युमिनियम बनाया जाता है। ब्राजील विश्व का द्वितीय बृहत्तम बॉक्साइट उत्पादक देश है जो विश्व के लगभग 12 प्रतिशत बॉक्साइट का उत्पादन करता है। इसका औसत वार्षिक उत्पादन 180 लाख मीटरीटन से अधिक है। दक्षिण अमेरिका का लगभग 70 प्रतिशत बाक्साइट ब्राजील से और लगभग 20 प्रतिशत बॉक्साइट वेनेजुएला से प्राप्त होता है। बाक्साइट के निक्षेप ब्राजील तथा वेनेजुएला के आंतरिक भागों में पाये जाते हैं। ये दोनों बाक्साइट के बड़े निर्यातक देश है। (7) जस्ता (Zinc) दक्षिण अमेरिका में पेरू, कोलंबिया और ब्राजील जस्ता के प्रमुख उत्पादक देश हैं। पेरू विश्व के लगभग 10 प्रतिशत जस्ता का उत्पादन करता है जो इस महाद्वीप का लगभग 75 प्रतिशत है। यहाँ जस्ता सीसे के साथ सेरो दि पास्को, हुआरास तथा आयाकुचो क्षेत्रों से प्राप्त होता है। (8) सीसा (Lead) पेरू विश्व के लगभग 9 प्रतिशत तथा दक्षिणी अमेरिका के 80 प्रतिशत से अधिक सीसे का उत्पादन करता है। इसकी अधिकांश खदानें एण्डीज के उच्चवर्ती भाग में स्थित हैं। अर्जनटीना, बोलीविया, ब्राजील आदि छोटे उत्पादक देश हैं। अर्जेंटीना में जुजुय तथा सानजुआन और बोलीविया में ओरुरू प्रमुख सीसा उत्पादक क्षेत्र है।

(9) सोना (Gold) दक्षिण अमेरिका में पेरू, चिली और ब्राजील सोने के महत्वपूर्ण उत्पादक देश हैं। विश्व का लगभग 5 प्रतिशत सोने का उत्पादन पेरू से प्राप्त होता है। चिली और ब्राजील अलग-अलग पेरू के आधे से कम उत्पादन करते हैं। (10) चाँदी (Silver) पेरू, चिली और बोलीविया चाँदी के प्रमुख उत्पादक देश हैं। पेरू विश्व का लगभग 13 प्रतिशत और दक्षिणी अमेरिका के लगभग 55 प्रतिशत चाँदी की उत्पादन करता है। विश्व की 7 प्रतिशत और अमेरिका की 25 प्रतिशत चाँदी चिली से प्राप्त होती है। इस महाद्वीप की लगभग 10 प्रतिशत चाँदी ब्राजील प्रदान करता है। (11) कोयला (Coal) दक्षिण अमेरिका में कोयला का अभाव है। कोलम्बिया, पेरू, चिली, ब्राजील तथा अर्जनटीना में अल्प मात्रा में कोयला पाया जाता है। कोलम्बिया में बोगोटा के उत्तर-पूर्व में तथा काउना घाटी में कोयले के विशाल भंडार होने का अनुमान है। ब्राजील में पोर्टो अलेग्रे क्षेत्र में कोयला मिलता है। चिली में एण्डियन पठार पर कोयला पाया जाता है। अर्जेंटीना में पुण्टा आरेनाज क्षेत्र में कोयला निकाला जाता है। (12) पेट्रोलियम (petroleum)- वेनेजुएला, ब्राजील, कोलम्बिया तथा अर्जेंटीना दक्षिण अमेरिकी के महत्वपूर्ण पेट्रोलियम उत्पादक देश हैं। इन देशों में पेट्रोलियम के संचित भण्डार अपेक्षाकृत लघु एवं सीमित है। पेरू विश्व के लगभग 5 प्रतिशत पेट्रोलियम का उत्पादन करता है। दक्षिण अमेरिका का लगभग आधा खनिज तेल यहीं से प्राप्त होता है। वेनेजुएला में तेल उत्पादक तीन प्रमुख क्षेत्र () माराकाइबो बेसिन, (ii) ओरिनोको बेसिन और (i) आयुरेबेसिन हैं। देश के उत्पादन का लगभग 90 प्रतिशत पेट्रोलियम संयुक्त राज्य आदि देशों को निर्यात कर दिया जाता है। ब्राजील के पूर्वी तट के समीप सल्वाडोर के निकट कई लघु क्षेत्रों से तेल प्राप्त होता है। कोलम्बिया के दक्षिणी-पश्चिमी माराकाइबो बेसिन (बाकी क्षेत्र तथा मैगडेलीना घाटी में पेट्रोलियम के भण्डार हैं। अर्जेंटीना के पैटागोनिया तट पर पेट्रोलियम पाया जाता है। चिली के धुर दक्षिणी भाग (मैगेलन जल संयोजक क्षेत्र), बोलिविया में पूर्वी एण्डीज क्षेत्र और इक्वेडोर में सांता एलेना प्रायद्वीप खनिज तेल के उल्लेखनीय उत्पादक क्षेत्र हैं। (13) जलविद्युत (Hydro-electricity).

दक्षिण अमेरिका में केवल ब्राजील में ही जलविद्युत का उल्लेखनीय उत्पादन होता है। विश्व में कुल संभाव्य जलशक्ति का 8 प्रतिशत दक्षिण अमेरिका में है किन्तु अभी तक इसके लगभग आधे का ही विकास किया गया है। ब्राजील लगभग 300 अरब किलोवाट घण्टा जलविद्युत का उत्पादन करात है जो विश्व उत्पादन का लगभग 11 प्रतिशत है। एण्डीज पर्वत के ढालों पर अनेक स्थानों पर जलविद्युत केन्द्र स्थापित किये गये हैं। एण्डीज क्षेत्र के अंतर्गत वेनेजुएला, कोलम्बिया, इक्वेडोर, पेरू, चिली आदि जल विद्युत उत्पन्न की जाती है। एण्डीज के पूर्व में पुराना, पारागुए तथा उरुग्वे नदियों के ऊपरी भाग में जलविद्युत उत्पादन हेतु शक्तिगृह स्थित हैं। उल्लेखनीय है कि ब्राजील, पारागुए तथा उरुग्वे में उत्पादित कुल यांत्रिक ऊर्जा का 90 प्रतिशत से अधिक और पेरू, वेनेजुएला, कोलम्बिया तथा इक्वेडोर में 60 प्रतिशत से अधिक जल विद्युत के रूप में प्राप्त होता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam 1857 के महान विद्रोह (1857 के भारतीय विद्रोह, 1857 के महान विद्रोह, महान विद्रोह, भारतीय सेप्पी विद्रोह) को ब्रिटिश शासन के खिलाफ भारत का स्वतंत्रता संग्राम माना जाता है। 1857 आंदोलन एक राष्ट्रीय उभर रहा था, जो भारतीयों के दिल में एक मजबूत आग्रह से प्रेरित था, जिससे देश मुक्त हो गया। यह ब्रिटिश शासन की स्थापना के बाद भारत के इतिहास में सबसे उल्लेखनीय एकल घटना थी। यह भारत में सदी के पुराने ब्रिटिश शासन का नतीजा था। भारतीयों के पिछले विद्रोहों की तुलना में, 1857 का महान विद्रोह एक बड़ा आयाम था और यह समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों की भागीदारी के साथ लगभग अखिल भारतीय चरित्र ग्रहण करता था। यह विद्रोह कंपनी के सिपाही द्वारा शुरू किया गया था। इसलिए इसे आमतौर पर 'सेप्पी विद्रोह' कहा जाता है। लेकिन यह सिर्फ सिपाही का विद्रोह नहीं था। इतिहासकारों ने महसूस किया है कि यह एक महान विद्रोह था और इसे सिर्फ एक सिपाही विद्रोह कहने के लिए अनुचित होगा। हमारे इतिहासकार अब इसे विभिन्न ना

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने