सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

भूमिका का अर्थ, परिभाषा एवं प्रमुख विशेषताए

भूमिका का अर्थ, परिभाषा एवं प्रमुख विशेषताए  


भूमिका/कार्य का अर्थ :-सामाजिक-सांस्कृतिक व्यवस्था में व्यक्ति अपनी आयु, लिंग, जाति, प्रजाति, पेशा, धन या अन्य व्यक्तिगत योग्यता के आधार पर जिस स्थान या पद को प्राप्त है वह उसकी स्थिति है और इस स्थिति के सन्दर्भ में सामाजिक परम्पस, प्रथा, नियम या कानून के अनुसार, उसे जो भूमिका निभानी है वह उसका कार्य है। अर्थात् प्रत्येक स्थिति का एक क्रिया-पक्ष होता है और उसी को कार्य कहते हैं। इस प्रकार यह स्पष्ट है कि कार्य की अवधारणा में दो तत्व होते हैं-एक तो प्रत्याशाएँ और दूसरा क्रियाएँ। स्थिति का निर्धारण समाज द्वारा होता है। उसी समाज की कुछ प्रत्याशाएं प्रत्येक स्थिति के सम्बन्ध में होती हैं और वह यह आशा करता है कि उस स्थिति पर जो भी व्यक्ति है। वह उन प्रत्याशाओं के अनुरूप क्रिया करेगा अर्थात् अपनी भूमिका निभाएगा। यही क्रिया या भूमिका उस स्थिति विशेष का कार्य होगा। उदाहरण के लिए पिता की स्थिति के साथ समाज की कुछ प्रत्याशाएं जुड़ी हुई हैं अर्थात् पिता की स्थिति में आसीन व्यक्ति के कुछ निश्चित प्रकार की प्रक्रियाओं को करने को आशा की जाती है, उस व्यक्ति से समाज यह आशा करता है कि वह परिवार की देख-रेख करेगा, बच्चों के पालन-पोषण की व्यवस्था करेगा, उनके लिए आवश्यकतानुसार त्याग स्वीकार करेगा, उनके व्यवहारों पर नियंत्रण रखेगा, इत्यादि। समाज की आशा या प्रत्याशा के अनुरूप पिता द्वारा की जाने वाली इन क्रियाओं को र्य या भूमिका कहा जाता है।

भूमिका अथवा कार्य की परिभाषा:-श्री लिण्टन के अनुसार,"कार्य शब्द का प्रयोग किसी स्थिति से सम्बन्धित सांस्कृतिक प्रतिमान की समग्रता के लिए किया जाता है। इस प्रकार कार्य के अन्तर्गत हम उन सभी मनोवृत्तियों, मूल्यों तथा व्यवहारों को सम्मिलित करते है जिन्हें कि समाज एक स्थिति विशेष पर आसीन प्रत्येक एवं सभी व्यक्तियों के लिए निर्धारित करता है।"

श्री सार्जेण्ट के शब्दों में, किसी व्यक्ति का कार्य सामाजिक व्यवहार का वह प्रतिमान अथवा एक परिस्थिति विशेष में अपने समूह के सदस्यों की मांगों एवं प्रत्याशाओं के अनुरूप प्रतीत होता है।"

श्री फिचर के अनुसार, "जब बहुत से अन्तर्सम्बन्धित व्यवहार-प्रतिमान एक सामाजिक प्रकार्य के चारों ओर एकत्रित हो जाते है तो उसी सम्मिलन को हम सामाजिक कार्य कहते हैं।" इसका तात्पर्य यह हुआ कि "स्थिति का एक कार्य' पक्ष भी होता है और एक ही कार्य के अन्तर्गत बहुत से अन्त:सम्बन्धित व्यवहार-प्रतिमानों का समावेश होता है। जैसे पिता की "स्थिति को लीजिए। इस स्थिति एक कार्य-पक्ष है और उसके अन्तर्गत बच्चों का पालन पोषण, बच्चों की सुरक्षा, परिवार की देखरेख बच्चों पर नियंत्रण आदि अनेक व्यवहार-प्रतिमान आ जाते हैं।
वे सभी व्यवहार-प्रतिमान एक-दूसरे से सम्बन्धित न्धित है और वेसब एक साथ मिलकर पिता की स्थिति से सम्बन्धित "स्थिति का बोध कराते हैं। इसीलिए की फिचर ने बहुत से अन्तर्सम्बन्धित व्यवहार-प्रतिमानों के स्वरूप को "कार्य"या भूमिका कहा है। कार्य या भूमिका की प्रमुख विशेषताएं उपरोक्त विवेचना के आधार पर अब हम कार्य को निम्नलिखित विशेषताओं का उल्लेख कर सकते हैं

(1) कार्य एक स्थिति विशेष का एक क्रियात्मक पक्ष है। दोनों ही इस कारण साथ-साथ बलते हैं। एक के सन्दर्भ में दूसरे को समझा जा सकता है।

(2) एक स्थिति विशेषज्ञ पर आसीन एक व्यक्ति के अनेक प्रकार के परस्पर बच्चों व्यवहारों को करने की समाज द्वारा आशा की जाती है। इन्हीं अन्तःसम्बन्धित व्यवहार-प्रतिमानों के एक सम्मिलित रूप को कार्य कहा जाता है।

(3) अतः: स्पष्ट है कि “कार्य में अन्तर्निहित व्यवहार-समूह समाज की प्रत्याशाओं के नुसार होते हैं। अर्थात् "कार्य' के अन्तर्गत एक व्यक्ति किस प्रकार के व्यवहारों को करेगा यह हमारे आपकी इच्छा पर नहीं अपितु समाज की स्वीकृति पर निर्भर होता है। इसलिए हम कह सकते हैं कि त्येक कार्य का एक सामाजिक सांस्कृतिक आधार होता है।

(4) सामाजिक मूल्य, आदर्श तथा उद्देश्य "कार्य' के स्वरूप को परिभाषित करते हैं। अतः सामाजिक मूल्य, आदर्श व उद्देश्य के विपरीत कार्यों को सहन नहीं किया जाता है।

(5) चूंकि इन सामाजिक मूल्य, आदर्श तथा उद्देश्यों में समय-समय पर परिवर्तन होता रहता अतः "कार्य' भी एक परिवर्तनशील धारणा है। सामाजिक मूल्यों तथा आदर्शों में परिवर्तन हो जाने

"कार्य' भी बदल जाते हैं। उदाहरणार्थ, परम्परागत हिन्दू परिवार में पत्नी के जो कार्य थे आज उनमें नेक परिवर्तन हो गए हैं क्योंकि वर्तमान समय में परिवार तथा विवाह एवं साथ ही स्त्रियों की स्थिति-संबंधी मूल्यों तथा आदर्शों में भी अनेक परिवर्तन देखने को मिलते हैं।

(6) प्रत्येक कार्य का एक क्षेत्र होता है और प्रत्येक कार्य को उसी क्षेत्र के अन्दर रहना होता जैसे दफ्तर में एक व्यक्ति "अफसर' से सम्बन्धित कार्य करता है अतः उस कार्य का क्षेत्र दफ्तर तक मित है, अगर वह परिवार या क्लब में भी अपनी अफसरी झाड़ने लगे तो क्लेश होने की सम्भावना रहती है।

(7) सामाजिक प्रत्याशाओं के शत-प्रतिशत अनुरूप कार्यों को सभी लोग नहीं निभाते हैं निभा नहीं पाते हैं। पिता के रूप में एक व्यक्ति से तो समाज बहुत-कुछ आशाएँ करता है, पर सभी उन आशाओं को पूरा नहीं कर पाते हैं। कुछ पिता अधिकांश आशाओं के अनुसार कार्य करते हैं, पिता आशाओं को पूरा कर पाते हैं और कुछ पिता आशाओं के विपरीत भी क्रियाशील रहते हैं।

(8) अन्त में,सामाजिक-सांस्कृतिक दृष्टिकोण से सभी कार्य समाज रूप से महत्वपूर्ण नहीं हैं। अत: महत्वपूर्ण कार्यों को प्रमुख कार्य तथा साधारण कार्यों का सामान्य कार्य कहा जाता है। कार्य सामाजिक अस्तित्व व संगठन के लिए आवश्यक होते हैं जबकि सामान्य कार्य दैनिक जीवन आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए जरूरी माने जाते हैं।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

तुलनात्मक राजनीति का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth

तुलनात्मक राजनीति  का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth परिचय  राजनीति एक सर्वव्यापी गतिविधि है जो हमारे चारो तरफ हमको देखने को मिल जाती है। प्रारंभ से ही एक  राजनीति व्यवस्था की तुलना दूसरे राजनीति व्यवस्था से की जाती रही है।किसी एक राजनीतिक व्यवस्था की अन्य राजनीतिक व्यवस्था से तुलना करने  के तरीके को सामान्य तुलनात्मक पद्धति कहते है। वास्तव में तुलनात्मक राजनीति का अर्थ और लक्ष्य विभिन्न देशों के मध्य एक राजनीति समस्याओं विषमताओं समानताओं की जानकारी का अध्ययन करना है। इसे हम तुलनात्मक राजनीति कहते हैं। यह समस्या या वह विभिन्नताओं के मिश्रण का परिपेक्ष से विकास करने का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति हमारे समानताओं और विभिन्नताओं का अध्ययन करता है  और उसके द्वारा राज्य के विकास का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति सिद्धांत यह स्पष्ट करता है कि विश्व की सरकार और उनकी क्या परिस्थितियां हैं किस प्रकार से उनका प्रचलन हो रहा है किस प्रकार से सरकारें चल रही हैं। इसके अंतर्गत जो अध्ययन करते हैं पहला राज्य के कार्य दूसरा संगठन, नीति, दबाव समूह का अध्ययन होता है।  अर्थ और

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना  रूसो का सामान्य इच्छा सिद्धान्त अवधारणा रूसो की 'सामान्य इच्छा सम्बन्धी सिद्धान्त अथवा अवधारणा आधुनिक राजनीतिक चिन्तन में एक महत्त्वपूर्ण देन है। कुछ विद्वानों के अनुसार वह लोकतन्त्र की आधारशिला है। रूसो के राजनीतिक विचारों में सामान्य इच्छा' का विचार सबसे मौलिक है यद्यपि उसके सम्बन्ध में वह स्वयम् स्पष्ट नहीं है। रूसों के अनुसार प्रारम्भिक समझौते के लिए समाज के समस्त सदस्यों का एक मत होना आवश्यक है, किन्तु बाद में सामान्य इच्छा के अनुसार ही शासन का कार्य होता है। रूसो की सामान्य इच्छा के सन्दर्भ में जोन्स महोदय का कथन उल्लेखनीय है-सामान्य इच्छा का विचार रूसों के सिद्धान्त का न केवल सबसे अधिक केन्द्रिय विचार है, अपितु यह उसका सबसे अधिक और मौलिक व रोचक विचार है। ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह राजनीतिक सिद्धान्त के क्षेत्र में सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण देन है। इसकी उपयोगिता का आधार इसी आधार पर लगाया जा सकता है कांट, हीगल, ग्रीन और बोसांके आदि अंग्रेजी दार्शनिकों की विचारधारा भी इसी पर आधारित थी। रूसो ने अपने सामन्य इच्छा के सन्दर्भ

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam 1857 के महान विद्रोह (1857 के भारतीय विद्रोह, 1857 के महान विद्रोह, महान विद्रोह, भारतीय सेप्पी विद्रोह) को ब्रिटिश शासन के खिलाफ भारत का स्वतंत्रता संग्राम माना जाता है। 1857 आंदोलन एक राष्ट्रीय उभर रहा था, जो भारतीयों के दिल में एक मजबूत आग्रह से प्रेरित था, जिससे देश मुक्त हो गया। यह ब्रिटिश शासन की स्थापना के बाद भारत के इतिहास में सबसे उल्लेखनीय एकल घटना थी। यह भारत में सदी के पुराने ब्रिटिश शासन का नतीजा था। भारतीयों के पिछले विद्रोहों की तुलना में, 1857 का महान विद्रोह एक बड़ा आयाम था और यह समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों की भागीदारी के साथ लगभग अखिल भारतीय चरित्र ग्रहण करता था। यह विद्रोह कंपनी के सिपाही द्वारा शुरू किया गया था। इसलिए इसे आमतौर पर 'सेप्पी विद्रोह' कहा जाता है। लेकिन यह सिर्फ सिपाही का विद्रोह नहीं था। इतिहासकारों ने महसूस किया है कि यह एक महान विद्रोह था और इसे सिर्फ एक सिपाही विद्रोह कहने के लिए अनुचित होगा। हमारे इतिहासकार अब इसे विभिन्न ना