सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

एशिया विसमताओं का महाद्वीप है

एशिया विसमताओं का महाद्वीप है


एशिया के धरातल पर विश्व के उच्चतम तथा न्यूनतम बिंदु स्थित है। इसका उच्चावच बहुत विषम तथा नवीन युवा है, जिसमें उच्च शिखरें तथा निम्न घाटियाँ सम्मिलित है। विश्व का उच्चतम बिंदु माउण्ट एवरेस्ट (सागर तल से 8850 मी. ऊँचा) तथा निम्नतम बिन्दु मृत सागर (सागर तल से 400 मीटर नीचे) इसी महाद्वीप पर स्थित है। इसके अतिरिक्त, विश्व की सबसे गहरी द्रोणी (trough), जिसमें बैकाल झील स्थित है, इसी महाद्वीप पर मिलती है।

एशिया की जलवायु में अतिशयताएँ दृष्टिगोचर होती हैं। यहाँ सबसे गर्म स्थान इजराइल का तिरित जेवी (53.9°C), सबसे ठण्डा स्थान साइबेरिया का ओमीआकोन (-67.7°C) विश्व का आद्रतम स्थान भारत के मेघालय राज्य में मासिनराम (100 सेमी वार्षिक वर्षा) तथा शुष्कतम स्थान अरब प्रायद्वीप के दक्षिण में (औसत वार्षिक वर्षा 3.8 सेमी) स्थित हैं।

विश्व की 35 विशाल नदियों में से 15 नदियाँ एशिया महाद्वीप पर प्रवाहित होती है, जिनमें क्रमशः यांग्त्सी (6380 किमी ), ओब (5750 किमी), वांग हो(4667 किमी ), यनीसी (4506 किमी), इर्तिश (4438 किमी), आमूर (4352 किमी), मीकांग, इरावदी, सिंधु, ब्रह्मपुत्र, फरात आदि उल्लेखनीय है।

महाद्वीप में वनस्पति की अतिशयताएँ भी दृष्टिगोचर होती है। पादप प्रजातियाँ मॉस तथा लाइकेन (शीतल प्रदेश) से लेकर चौड़ी पत्ती के कठोर लकड़ी वाली किस्मों (उष्ण कटिबन्धीय तथा विषुवत रेखीय वनों में) तक मिलती हैं। एशिया में सभी प्रकार की मिट्टियाँ मिलती है; जैसे - जलोढ़ (कॉप), पर्वतीय, लेटराइट, मरुस्थल, चरनोजम (काली), पोडजोली, पीली तथा टुण्ड्रा की मिट्टियाँ

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना  रूसो का सामान्य इच्छा सिद्धान्त अवधारणा रूसो की 'सामान्य इच्छा सम्बन्धी सिद्धान्त अथवा अवधारणा आधुनिक राजनीतिक चिन्तन में एक महत्त्वपूर्ण देन है। कुछ विद्वानों के अनुसार वह लोकतन्त्र की आधारशिला है। रूसो के राजनीतिक विचारों में सामान्य इच्छा' का विचार सबसे मौलिक है यद्यपि उसके सम्बन्ध में वह स्वयम् स्पष्ट नहीं है। रूसों के अनुसार प्रारम्भिक समझौते के लिए समाज के समस्त सदस्यों का एक मत होना आवश्यक है, किन्तु बाद में सामान्य इच्छा के अनुसार ही शासन का कार्य होता है। रूसो की सामान्य इच्छा के सन्दर्भ में जोन्स महोदय का कथन उल्लेखनीय है-सामान्य इच्छा का विचार रूसों के सिद्धान्त का न केवल सबसे अधिक केन्द्रिय विचार है, अपितु यह उसका सबसे अधिक और मौलिक व रोचक विचार है। ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह राजनीतिक सिद्धान्त के क्षेत्र में सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण देन है। इसकी उपयोगिता का आधार इसी आधार पर लगाया जा सकता है कांट, हीगल, ग्रीन और बोसांके आदि अंग्रेजी दार्शनिकों की विचारधारा भी इसी पर आधारित थी। रूसो ने अपने सामन्य इच्छा के सन्दर्भ

राज्य की उत्पत्ति के विकासवादी सिद्धांत

राज्य की उत्पत्ति के विकासवादी सिद्धांत  राज्य की उत्पत्ति के ऐतिहासिक विकासवादी सिद्धांत राज्य की उत्पत्ति के सम्बन्ध में अनेक सिद्धान्त प्रचलित हैं। परन्तु गंभीर विवेचना से स्पष्ट होता है कि अन्य सभी सिद्धान्त गलत हैं और उन्होंने राज्य की उत्पत्ति की सही व्याख्या नहीं की है। इस सम्बन्ध में गार्नर का कहना ठीक है कि, "राज्य न तो ईश्वर की कृति है, न किसी उच्च शक्ति का परिणाम, न किसी प्रस्ताव या समझौते की सृष्टि है, न परिवार का विस्तारमात्र" अतः यह प्रश्न उठना स्वाभाविक है कि राज्य की उत्पत्ति का सबसे अच्छा सिद्धान्त कौन है। इस सम्बन्ध में यही कहा जा सकता है कि राज्य विकास का परिणाम है। इसका निर्माण मनुष्य की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए हुआ था और अच्छे जीवन के लिए अब भी चल रहा है। राज्य की उत्पत्ति का सबसे सही और वैज्ञानिक सिद्धान्त विकासवादी या ऐतिहासिक सिद्धान्त को ही कहा जा सकता है। इस सिद्धान्त के अनुसार राज्य की उत्पत्ति एक विकास का परिणाम है। यह विकास धीरे-धीरे क्रम: चलता रहता है। इसी विकास के परिणामस्वरूप राज्य ने वर्तमान का रूप धारण किया है। राज्य की उत्पत्ति और व

तुलनात्मक राजनीति का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth

तुलनात्मक राजनीति  का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth परिचय  राजनीति एक सर्वव्यापी गतिविधि है जो हमारे चारो तरफ हमको देखने को मिल जाती है। प्रारंभ से ही एक  राजनीति व्यवस्था की तुलना दूसरे राजनीति व्यवस्था से की जाती रही है।किसी एक राजनीतिक व्यवस्था की अन्य राजनीतिक व्यवस्था से तुलना करने  के तरीके को सामान्य तुलनात्मक पद्धति कहते है। वास्तव में तुलनात्मक राजनीति का अर्थ और लक्ष्य विभिन्न देशों के मध्य एक राजनीति समस्याओं विषमताओं समानताओं की जानकारी का अध्ययन करना है। इसे हम तुलनात्मक राजनीति कहते हैं। यह समस्या या वह विभिन्नताओं के मिश्रण का परिपेक्ष से विकास करने का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति हमारे समानताओं और विभिन्नताओं का अध्ययन करता है  और उसके द्वारा राज्य के विकास का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति सिद्धांत यह स्पष्ट करता है कि विश्व की सरकार और उनकी क्या परिस्थितियां हैं किस प्रकार से उनका प्रचलन हो रहा है किस प्रकार से सरकारें चल रही हैं। इसके अंतर्गत जो अध्ययन करते हैं पहला राज्य के कार्य दूसरा संगठन, नीति, दबाव समूह का अध्ययन होता है।  अर्थ और