सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

एशिया विसमताओं का महाद्वीप है

एशिया विसमताओं का महाद्वीप है


एशिया के धरातल पर विश्व के उच्चतम तथा न्यूनतम बिंदु स्थित है। इसका उच्चावच बहुत विषम तथा नवीन युवा है, जिसमें उच्च शिखरें तथा निम्न घाटियाँ सम्मिलित है। विश्व का उच्चतम बिंदु माउण्ट एवरेस्ट (सागर तल से 8850 मी. ऊँचा) तथा निम्नतम बिन्दु मृत सागर (सागर तल से 400 मीटर नीचे) इसी महाद्वीप पर स्थित है। इसके अतिरिक्त, विश्व की सबसे गहरी द्रोणी (trough), जिसमें बैकाल झील स्थित है, इसी महाद्वीप पर मिलती है।

एशिया की जलवायु में अतिशयताएँ दृष्टिगोचर होती हैं। यहाँ सबसे गर्म स्थान इजराइल का तिरित जेवी (53.9°C), सबसे ठण्डा स्थान साइबेरिया का ओमीआकोन (-67.7°C) विश्व का आद्रतम स्थान भारत के मेघालय राज्य में मासिनराम (100 सेमी वार्षिक वर्षा) तथा शुष्कतम स्थान अरब प्रायद्वीप के दक्षिण में (औसत वार्षिक वर्षा 3.8 सेमी) स्थित हैं।

विश्व की 35 विशाल नदियों में से 15 नदियाँ एशिया महाद्वीप पर प्रवाहित होती है, जिनमें क्रमशः यांग्त्सी (6380 किमी ), ओब (5750 किमी), वांग हो(4667 किमी ), यनीसी (4506 किमी), इर्तिश (4438 किमी), आमूर (4352 किमी), मीकांग, इरावदी, सिंधु, ब्रह्मपुत्र, फरात आदि उल्लेखनीय है।

महाद्वीप में वनस्पति की अतिशयताएँ भी दृष्टिगोचर होती है। पादप प्रजातियाँ मॉस तथा लाइकेन (शीतल प्रदेश) से लेकर चौड़ी पत्ती के कठोर लकड़ी वाली किस्मों (उष्ण कटिबन्धीय तथा विषुवत रेखीय वनों में) तक मिलती हैं। एशिया में सभी प्रकार की मिट्टियाँ मिलती है; जैसे - जलोढ़ (कॉप), पर्वतीय, लेटराइट, मरुस्थल, चरनोजम (काली), पोडजोली, पीली तथा टुण्ड्रा की मिट्टियाँ

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण  जान लॉक का प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त सत्रहवीं व अठारहवीं शताब्दी में प्राकृतिक अधिकारों का सिद्धांत अत्यन्त प्रचलित था। सामाजिक संविदा सिद्धान्त के प्रवर्तकों ने यह विचार प्रस्तुत किया कुछ अधिकार राज्य के उद्भव अर्थात् उत्पत्ति के पहले विद्यमान थे अर्थात् ये मानव के पास प्राकृतिक अवस्था में भी मौजूद थे। इसी अधिकार को राजनीतिशास्त्र में प्राकृतिक अधिकार के नाम से सम्बोधित किया जाता है। इन प्राकृतिक अधिकारों का सृजनकर्ता राज्य नहीं था वरन् राज्य का जन्म इन अधिकारों के रक्षा के लिए हुआ है। राज्य का यह दायित्त्व है इन अधिकारों को मान्यता प्रदान कर विधि अथवा कानून के रूप में परिवर्तित कर दे। लॉक ने अपने सामाजिक सम्विदा सिद्धान्त के अन्तर्गत जीवन स्वतंत्रता एवं सम्पत्ति सम्बन्धी अधिकार की श्रेणी में रखा है। ये अधिकार व्यक्ति के व्यक्तित्व में निहित होते हैं, ये सर्वव्यापक एवं असीम होते हैं। प्राकृतिक अधिकारों के प्रवल पोषक लॉक के अनुसार यदि राज्य की प्रकृति प्रदत्त अर्थात् प्रकृति के अधिकारों की रक्षा करने में सफल नहीं होता तो ऐसे