सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

एशिया के आंतरिक अपवाह क्षेत्र

एशिया के आंतरिक अपवाह क्षेत्र 

.अपवाह तंत्र (Drainage System) - एशिया के मध्यवर्ती भाग पर उच्च पर्वत श्रेणियाँ तथा उच्च पठार स्थित हैं। अधिक नदियाँ इन्हीं उच्च भूमियों से निकलकर ढाल के अनुरूप बहती हुई महासागरों में गिरती हैं। आन्ता भागों में कुछ नदियाँ, झीलों तथा सागरों में गिरती हैं। शुष्क प्रदेशों में अनेक अस्थाई नदियों का जात सूख जाता है तथा वे मरुस्थल में विलुप्त हो जाती हैं। एशिया के अपवाह को पाँच क्षेत्रों में विभाजित किया जाता है - 1. आर्कटिक महासागरी, 2. प्रशान्त महासागरीय, 3. हिन्द महासागरीय, 4. भूमध्य सागरीय तथा 5. आन्तरिक। आर्कटिक महासागर अपवाह - यह अपवाह एशिया महाद्वीप के लगभग एक-तिहाई क्षेत्र पर उत्तरी भाग में विस्तृत है इस
अपवाह क्षेत्र की नदियों का उदगम मध्य एशिया के पर्वतों, उच्च भूमियों तथा झीलों से होता है। ये नदियों उत्तर की ओर बहते हुए आर्कटिक सागर में गिरती है। इसके अन्तर्गत तीन प्रमुख नदी क्रम ओब, यनीसी था लीना हैं, जिनकी गणना विश्व की बड़ी नदियों में की जाती है। इनमें लीना नदी सबसे लम्बी (4220किमी0) है। लीना के पूर्व में इण्डिगिरिका, कोलिमा तथा याना छोटी नदियाँ हैं, जो उत्तर की ओर बहती हैं। आर्कटिक सागर वर्ष के अधिकांश समय हिमाच्छादित रहता है, जिससे नदियों का जल मुहाने तक पहुँचाने के पहले ही जम जाता है। परिणामतः नदियों का जल मैदानी भाग में फैल जाता है तथा विस्तृत दलदल बन जाते हैं। शीतकाल में नौगम्य न होने तथा मुहानों पर कोई पतन स्थित न होने के कारण इन नदियों का कोई व्यापारिक महत्व नहीं है।


प्रशान्त महासागरीय अपवाह यह अपवाह क्षेत्र पूर्वी एशिया तथा दक्षिण-पूर्वी एशिया पर विस्तृत है। इसकी नदियाँ मध्य एशिया की पर्वत श्रेणियों तथा उच्च भूमियों से निकलकर पूर्व की ओर बहती हुई प्रशान्त महासागर में गिरता हा इन नदियों में आमूर, लियाओं, हांग हो, यांग्त्सीक्यांग, मेकांग, मीना आदि उल्लेखनीय हैं। आमूर की सहायक नदियों में- उसुरी, अर्गुन, शिल्पा तथा सुंगारी प्रमुख हैं। चीन की हांग हो नदी बाढ़ों के कारण 'चीन का शोक' (Sorrow of China) कहलाती है। यांग्त्सी (चीन की सबसे लम्बी नदी-5120 मी०) का उर्वर डेल्टा घना आबाद प्रदेश है। मेकांग तथा मीनाग डेल्टा भी घने आबाद हैं। हिन्द महासागरीय अपवाह इस अपवाह क्षेत्र की प्रमुख नदियाँ - दक्षिण-पश्चिमी एशिया में दजला एवं फरात, दक्षिण एशिया में-सिन्धु, गंगा,ब्रह्मपुत्र, महानदी, गोदावरी, कृष्णा,कावेरी, नर्मदा, तापी तथा दक्षिण-पूर्वी एशिया में-इरावदी, सालवीन, चिन्दविन आदि हैं। सिन्धु तथा ब्रह्मपुत्र अपवाह (antecedent drainage) का उदाहरण हैं। हांग हो नदी आयताकार (rectangular)अपवाह प्रस्तुत करती है। हांग हो की प्रमुख सहायक वीहो तथा फेन हो हैं।

यांग्त्सी की सहायक नदियों में हान, मिन, कान, चार्ली तथा सियांग महत्वपूर्ण हैं। इन नदियों ने वृक्षाकार (dentic) तथा आयताकार (rectangular) अपवाह विकसित किया है। दजला एवं फरात नदियाँ अरारात पर्वत से निकलकर दक्षिण को ओर फारस की खाड़ी में प्रवाहित होती हैं। खाड़ी में गिरने से पूर्व इनकी संयुक्त धारा ‘शत्तल अरब' कहलाती हैं। सिन्धु नदी तिब्बत के पठार से निकलकर हिमालय श्रेणियों को पार करके दक्षिण की ओर अरब सागर में विसर्जित होती है। इसकी पाँच प्रमुख सहायक (सतलज, रावी, व्यास, झेलम, चिनाव) है। गंगा हिमालय से निकल कर पहले दक्षिण, फिर पूर्व को ओर बहते हुए बंगाल की खाड़ी में गिरती है। इसकी प्रमुख सहायक यमुना है। ब्रह्मपुत्र नदी भी तिब्बत के पठार से निकलकर पूर्व की ओर बहते हुए फिर दक्षिण में मुड़कर गंगा के साथ डेल्टा बनाती हुई बंगाल की खाड़ी में गिरती है। उल्लेखनीय है कि हिमालय के अपवाह में नदी हरण (river capture)के उदाहरण मिलते हैं। दक्षिण भारत में महानदी, गोदावरी, कृष्णा, कावेरी भी पूर्व से पश्चिम की ओर बढ़ते हुए बंगाल की खाड़ी में गिरती है। भारतीय प्रायद्वीप के पश्चिम भाग में नर्मदा तथा तापी नदियाँ भ्रंश घाटी में बहते हुए अरब सागर में गिरती है। इरावदी नदी म्यांमार में उत्तर से दक्षिण की ओर बहती हुई बंगाल की खाड़ी में गिरती है। भूमध्य सागरीय अपवाह वह एक लघु अपवाह है, जिसमें छोटी नदियों के संकरे बेसिन सम्मिलित है। टर्की में मनीसा तथा मेन्डेरिस एवं सीरिया में ओरेन्ट नदियाँ उल्लेखनीय हैं। आन्तरिक अपवाह इस अपवाह का विस्तार पश्चिम में अनातोलिया के पठार से लेकर पूर्व में मंचूरिया तक, लगभग 80 लाख वर्ग किमी क्षेत्र पर है। जिन नदियों में वर्षा या हिम पिघलने से पर्याप्त जल प्राप्त होता है, वे झीलों या आन्तरिक सागरों में गिरती है, किन्तु अनेक अस्थाई नदियाँ शुष्क मरूस्थल में ही विलीन हो जाती है। प्रमुख नदियों में सर तथा आमू दरिया (जो अरल सागर में गिरती है), इली नदी (जो बालखश झील में गिरती है), तथा तारिम, खोतान, चू आदि सम्मिलित हैं।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

तुलनात्मक राजनीति का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth

तुलनात्मक राजनीति  का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth परिचय  राजनीति एक सर्वव्यापी गतिविधि है जो हमारे चारो तरफ हमको देखने को मिल जाती है। प्रारंभ से ही एक  राजनीति व्यवस्था की तुलना दूसरे राजनीति व्यवस्था से की जाती रही है।किसी एक राजनीतिक व्यवस्था की अन्य राजनीतिक व्यवस्था से तुलना करने  के तरीके को सामान्य तुलनात्मक पद्धति कहते है। वास्तव में तुलनात्मक राजनीति का अर्थ और लक्ष्य विभिन्न देशों के मध्य एक राजनीति समस्याओं विषमताओं समानताओं की जानकारी का अध्ययन करना है। इसे हम तुलनात्मक राजनीति कहते हैं। यह समस्या या वह विभिन्नताओं के मिश्रण का परिपेक्ष से विकास करने का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति हमारे समानताओं और विभिन्नताओं का अध्ययन करता है  और उसके द्वारा राज्य के विकास का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति सिद्धांत यह स्पष्ट करता है कि विश्व की सरकार और उनकी क्या परिस्थितियां हैं किस प्रकार से उनका प्रचलन हो रहा है किस प्रकार से सरकारें चल रही हैं। इसके अंतर्गत जो अध्ययन करते हैं पहला राज्य के कार्य दूसरा संगठन, नीति, दबाव समूह का अध्ययन होता है।  अर्थ और

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना  रूसो का सामान्य इच्छा सिद्धान्त अवधारणा रूसो की 'सामान्य इच्छा सम्बन्धी सिद्धान्त अथवा अवधारणा आधुनिक राजनीतिक चिन्तन में एक महत्त्वपूर्ण देन है। कुछ विद्वानों के अनुसार वह लोकतन्त्र की आधारशिला है। रूसो के राजनीतिक विचारों में सामान्य इच्छा' का विचार सबसे मौलिक है यद्यपि उसके सम्बन्ध में वह स्वयम् स्पष्ट नहीं है। रूसों के अनुसार प्रारम्भिक समझौते के लिए समाज के समस्त सदस्यों का एक मत होना आवश्यक है, किन्तु बाद में सामान्य इच्छा के अनुसार ही शासन का कार्य होता है। रूसो की सामान्य इच्छा के सन्दर्भ में जोन्स महोदय का कथन उल्लेखनीय है-सामान्य इच्छा का विचार रूसों के सिद्धान्त का न केवल सबसे अधिक केन्द्रिय विचार है, अपितु यह उसका सबसे अधिक और मौलिक व रोचक विचार है। ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह राजनीतिक सिद्धान्त के क्षेत्र में सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण देन है। इसकी उपयोगिता का आधार इसी आधार पर लगाया जा सकता है कांट, हीगल, ग्रीन और बोसांके आदि अंग्रेजी दार्शनिकों की विचारधारा भी इसी पर आधारित थी। रूसो ने अपने सामन्य इच्छा के सन्दर्भ

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam 1857 के महान विद्रोह (1857 के भारतीय विद्रोह, 1857 के महान विद्रोह, महान विद्रोह, भारतीय सेप्पी विद्रोह) को ब्रिटिश शासन के खिलाफ भारत का स्वतंत्रता संग्राम माना जाता है। 1857 आंदोलन एक राष्ट्रीय उभर रहा था, जो भारतीयों के दिल में एक मजबूत आग्रह से प्रेरित था, जिससे देश मुक्त हो गया। यह ब्रिटिश शासन की स्थापना के बाद भारत के इतिहास में सबसे उल्लेखनीय एकल घटना थी। यह भारत में सदी के पुराने ब्रिटिश शासन का नतीजा था। भारतीयों के पिछले विद्रोहों की तुलना में, 1857 का महान विद्रोह एक बड़ा आयाम था और यह समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों की भागीदारी के साथ लगभग अखिल भारतीय चरित्र ग्रहण करता था। यह विद्रोह कंपनी के सिपाही द्वारा शुरू किया गया था। इसलिए इसे आमतौर पर 'सेप्पी विद्रोह' कहा जाता है। लेकिन यह सिर्फ सिपाही का विद्रोह नहीं था। इतिहासकारों ने महसूस किया है कि यह एक महान विद्रोह था और इसे सिर्फ एक सिपाही विद्रोह कहने के लिए अनुचित होगा। हमारे इतिहासकार अब इसे विभिन्न ना