सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

एशिया के आंतरिक अपवाह क्षेत्र

एशिया के आंतरिक अपवाह क्षेत्र 

.अपवाह तंत्र (Drainage System) - एशिया के मध्यवर्ती भाग पर उच्च पर्वत श्रेणियाँ तथा उच्च पठार स्थित हैं। अधिक नदियाँ इन्हीं उच्च भूमियों से निकलकर ढाल के अनुरूप बहती हुई महासागरों में गिरती हैं। आन्ता भागों में कुछ नदियाँ, झीलों तथा सागरों में गिरती हैं। शुष्क प्रदेशों में अनेक अस्थाई नदियों का जात सूख जाता है तथा वे मरुस्थल में विलुप्त हो जाती हैं। एशिया के अपवाह को पाँच क्षेत्रों में विभाजित किया जाता है - 1. आर्कटिक महासागरी, 2. प्रशान्त महासागरीय, 3. हिन्द महासागरीय, 4. भूमध्य सागरीय तथा 5. आन्तरिक। आर्कटिक महासागर अपवाह - यह अपवाह एशिया महाद्वीप के लगभग एक-तिहाई क्षेत्र पर उत्तरी भाग में विस्तृत है इस
अपवाह क्षेत्र की नदियों का उदगम मध्य एशिया के पर्वतों, उच्च भूमियों तथा झीलों से होता है। ये नदियों उत्तर की ओर बहते हुए आर्कटिक सागर में गिरती है। इसके अन्तर्गत तीन प्रमुख नदी क्रम ओब, यनीसी था लीना हैं, जिनकी गणना विश्व की बड़ी नदियों में की जाती है। इनमें लीना नदी सबसे लम्बी (4220किमी0) है। लीना के पूर्व में इण्डिगिरिका, कोलिमा तथा याना छोटी नदियाँ हैं, जो उत्तर की ओर बहती हैं। आर्कटिक सागर वर्ष के अधिकांश समय हिमाच्छादित रहता है, जिससे नदियों का जल मुहाने तक पहुँचाने के पहले ही जम जाता है। परिणामतः नदियों का जल मैदानी भाग में फैल जाता है तथा विस्तृत दलदल बन जाते हैं। शीतकाल में नौगम्य न होने तथा मुहानों पर कोई पतन स्थित न होने के कारण इन नदियों का कोई व्यापारिक महत्व नहीं है।


प्रशान्त महासागरीय अपवाह यह अपवाह क्षेत्र पूर्वी एशिया तथा दक्षिण-पूर्वी एशिया पर विस्तृत है। इसकी नदियाँ मध्य एशिया की पर्वत श्रेणियों तथा उच्च भूमियों से निकलकर पूर्व की ओर बहती हुई प्रशान्त महासागर में गिरता हा इन नदियों में आमूर, लियाओं, हांग हो, यांग्त्सीक्यांग, मेकांग, मीना आदि उल्लेखनीय हैं। आमूर की सहायक नदियों में- उसुरी, अर्गुन, शिल्पा तथा सुंगारी प्रमुख हैं। चीन की हांग हो नदी बाढ़ों के कारण 'चीन का शोक' (Sorrow of China) कहलाती है। यांग्त्सी (चीन की सबसे लम्बी नदी-5120 मी०) का उर्वर डेल्टा घना आबाद प्रदेश है। मेकांग तथा मीनाग डेल्टा भी घने आबाद हैं। हिन्द महासागरीय अपवाह इस अपवाह क्षेत्र की प्रमुख नदियाँ - दक्षिण-पश्चिमी एशिया में दजला एवं फरात, दक्षिण एशिया में-सिन्धु, गंगा,ब्रह्मपुत्र, महानदी, गोदावरी, कृष्णा,कावेरी, नर्मदा, तापी तथा दक्षिण-पूर्वी एशिया में-इरावदी, सालवीन, चिन्दविन आदि हैं। सिन्धु तथा ब्रह्मपुत्र अपवाह (antecedent drainage) का उदाहरण हैं। हांग हो नदी आयताकार (rectangular)अपवाह प्रस्तुत करती है। हांग हो की प्रमुख सहायक वीहो तथा फेन हो हैं।

यांग्त्सी की सहायक नदियों में हान, मिन, कान, चार्ली तथा सियांग महत्वपूर्ण हैं। इन नदियों ने वृक्षाकार (dentic) तथा आयताकार (rectangular) अपवाह विकसित किया है। दजला एवं फरात नदियाँ अरारात पर्वत से निकलकर दक्षिण को ओर फारस की खाड़ी में प्रवाहित होती हैं। खाड़ी में गिरने से पूर्व इनकी संयुक्त धारा ‘शत्तल अरब' कहलाती हैं। सिन्धु नदी तिब्बत के पठार से निकलकर हिमालय श्रेणियों को पार करके दक्षिण की ओर अरब सागर में विसर्जित होती है। इसकी पाँच प्रमुख सहायक (सतलज, रावी, व्यास, झेलम, चिनाव) है। गंगा हिमालय से निकल कर पहले दक्षिण, फिर पूर्व को ओर बहते हुए बंगाल की खाड़ी में गिरती है। इसकी प्रमुख सहायक यमुना है। ब्रह्मपुत्र नदी भी तिब्बत के पठार से निकलकर पूर्व की ओर बहते हुए फिर दक्षिण में मुड़कर गंगा के साथ डेल्टा बनाती हुई बंगाल की खाड़ी में गिरती है। उल्लेखनीय है कि हिमालय के अपवाह में नदी हरण (river capture)के उदाहरण मिलते हैं। दक्षिण भारत में महानदी, गोदावरी, कृष्णा, कावेरी भी पूर्व से पश्चिम की ओर बढ़ते हुए बंगाल की खाड़ी में गिरती है। भारतीय प्रायद्वीप के पश्चिम भाग में नर्मदा तथा तापी नदियाँ भ्रंश घाटी में बहते हुए अरब सागर में गिरती है। इरावदी नदी म्यांमार में उत्तर से दक्षिण की ओर बहती हुई बंगाल की खाड़ी में गिरती है। भूमध्य सागरीय अपवाह वह एक लघु अपवाह है, जिसमें छोटी नदियों के संकरे बेसिन सम्मिलित है। टर्की में मनीसा तथा मेन्डेरिस एवं सीरिया में ओरेन्ट नदियाँ उल्लेखनीय हैं। आन्तरिक अपवाह इस अपवाह का विस्तार पश्चिम में अनातोलिया के पठार से लेकर पूर्व में मंचूरिया तक, लगभग 80 लाख वर्ग किमी क्षेत्र पर है। जिन नदियों में वर्षा या हिम पिघलने से पर्याप्त जल प्राप्त होता है, वे झीलों या आन्तरिक सागरों में गिरती है, किन्तु अनेक अस्थाई नदियाँ शुष्क मरूस्थल में ही विलीन हो जाती है। प्रमुख नदियों में सर तथा आमू दरिया (जो अरल सागर में गिरती है), इली नदी (जो बालखश झील में गिरती है), तथा तारिम, खोतान, चू आदि सम्मिलित हैं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण  जान लॉक का प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त सत्रहवीं व अठारहवीं शताब्दी में प्राकृतिक अधिकारों का सिद्धांत अत्यन्त प्रचलित था। सामाजिक संविदा सिद्धान्त के प्रवर्तकों ने यह विचार प्रस्तुत किया कुछ अधिकार राज्य के उद्भव अर्थात् उत्पत्ति के पहले विद्यमान थे अर्थात् ये मानव के पास प्राकृतिक अवस्था में भी मौजूद थे। इसी अधिकार को राजनीतिशास्त्र में प्राकृतिक अधिकार के नाम से सम्बोधित किया जाता है। इन प्राकृतिक अधिकारों का सृजनकर्ता राज्य नहीं था वरन् राज्य का जन्म इन अधिकारों के रक्षा के लिए हुआ है। राज्य का यह दायित्त्व है इन अधिकारों को मान्यता प्रदान कर विधि अथवा कानून के रूप में परिवर्तित कर दे। लॉक ने अपने सामाजिक सम्विदा सिद्धान्त के अन्तर्गत जीवन स्वतंत्रता एवं सम्पत्ति सम्बन्धी अधिकार की श्रेणी में रखा है। ये अधिकार व्यक्ति के व्यक्तित्व में निहित होते हैं, ये सर्वव्यापक एवं असीम होते हैं। प्राकृतिक अधिकारों के प्रवल पोषक लॉक के अनुसार यदि राज्य की प्रकृति प्रदत्त अर्थात् प्रकृति के अधिकारों की रक्षा करने में सफल नहीं होता तो ऐसे