सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

एशिया के क्षेत्रीय विस्तार

एशिया के क्षेत्रीय विस्तार 

 एशिया के मुख्य स्थल मधुर दक्षिणतम बिन्दु मलेशिया में स्थित पिलाई या बुलुस अन्तरीय (116),उत्तरी बिन्दु चिल्युस्किन अन्तरीय (उत्तरी मध्य साइबेरिया, रूस में 743' उत्तर), पश्चिम में केप बाबा (टर्की, 254' पूर्व) तथा पूर्व में क्या देजनोवा या ईस्ट केप (उत्तरी-पूर्वी साइबेरिया, 16040 पश्चिम) है। इसके अतिरिक्त, विशाल एशिया महाद्वीप में अनेक द्वीप भी सम्मिलित हैं, जो प्रशान्त महासागर, हिंदी महासागर तथा आर्कटिक महासागर में स्थित हैं। इनमें प्रमुख द्वीप-सखालीन, क्यूराइल, जापान, रिक्यू ताईवान, हैनान, मलय द्वीप समूह. अण्डमान एवं निकोबार, श्रीलंका, साइप्रस, सेवरनाया कोरिया, दक्षिणी-पूर्वी द्वीप समूह आदि हैं। महाद्वीप के घुर दक्षिणी भाग में पलाऊ दाना (इण्डोनेशिया), पश्चिमी भाग में बाबा अन्तरीय (264' पूर्व). पूर्व में बिग डिओ मेड (रूस) तथा उत्तर में रूडोल्फी द्वीप का फिलिगिलो पाइन्ट स्थित है। एशिया के विशाल आकार का सबसे महत्वपूर्ण पहलू का अक्षांशीय तथा देशान्तरीय विस्तार है। यह 10° दक्षिण से 80° उत्तरी अक्षांशों एवं 26 पूर्व से 170 पश्चिम देशान्तरों के मध्य विस्तृत है। क्षेत्रफल की दृष्टि से एशिया महाद्वीप अफ्रीका से 1.5 गुना, दक्षिण अमेरिका से 2.5 गुना तथा आस्ट्रेलिया से 4 गुना बढ़ा है। एशिया महाद्वीप को प्राचीन सभ्यताओं सिन्ध मेसोपोटामिया,चीनी) का पालना (radle) कहा जाता है, जो विभिन्न नदी बेसिनों में विकसित हुई थी। यहाँ भौतिक तथा सांस्कृतिक विविधताएँ भी दर्शनीय हैं। एशिया की भूमि पर उच्च पर्वत श्रेणियों का क्रम - अनातोलिया के पठार (टर्की) से जापानी आल्प्स तक मिलता है, जिसके मध्य अनेक बेसिन तथा उच्च पठार स्थित है। भूगर्भिक संरचना की दृष्टि से महाद्वीप में अनेक प्राचीन कठोर भूखण्ड स्थित हैं, जिनके किनारे पर भारी मात्रा में अवसादों का निक्षेपण किया गया। इन अवसादों में वलन क्रिया होने से पर्वतों की उत्पत्ति हुई। महाद्वीप पर अनेक निम्न भूमियाँ भी नदी-घाटियों तथा सागर तट के सहारे विस्तृत हैं। इनमें गंगा सिन्यू का मैदान, हांग हो का मैदान, दजला-फरात का मैदान आदि उल्लेखनीय हैं। महाद्वीप की तट रेखा भी बहुत लम्बी (G27 मी०) है। तट रेखा के सहारे, विशेषतः पूर्व एवं दक्षिण-पूर्व में सक्रिय ज्वालामुखी किया, सागरीय लहरों द्वारा अपघर्षण तथा मूँगे के निर्माण जैसी परिघटनाओं से उत्पन्न विशिष्ट शक्तियों दृष्टिगोचर होती हैं। मध्य एशिया की उच्च पर्वतीय दुर्गम भूमि, साइबेरिया के शीतल ध्रुव (cold pole) तथा तीन ओर से घिरे विशाल महासागरों के बावजूद एशिया में विश्व के विभिन्न भागों में प्रवास होता रहा है। मध्य एशिया की शुष्क भूमि से पर्वतों को पार करके भारतीय उपमहाद्वीप मे तथा चीन से दक्षिण एवं दक्षिण-पूर्व एशिया की ओर अनेक ऐतिहासिक प्रवास हुए हैं। प्राचीन काल में पश्चिम एशिया से भारत की ओर आव्रजको (immigrants) की अनेक लहरें आयीं। यह महाद्वीप अनेक धर्मों हिन्दू, यहूदी, बौद्ध, ईसाई. इस्लाम, आदि की जन्म स्थली रहा है। ईसाई तथा इस्लाम धर्म के अपवाद सहित सभी धर्म एशिया में सीमित रहे। ईसाई धर्म का प्रसार पश्चिम की ओर तथा इस्लाम का प्रसार विभिन्न दिशाओं में हुआ। बौद्ध धर्म सुदूर पूर्व तथा दक्षिण-पूर्वी एशिया में व्यापक है। भारत तथा नेपाल में हिन्दू धर्म, इजराइल में यहूदी धर्म तथा इस्लाम दक्षिण-पश्चिम तथा मध्य एशियाई देशों में व्यापक रूप से मिलता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना  रूसो का सामान्य इच्छा सिद्धान्त अवधारणा रूसो की 'सामान्य इच्छा सम्बन्धी सिद्धान्त अथवा अवधारणा आधुनिक राजनीतिक चिन्तन में एक महत्त्वपूर्ण देन है। कुछ विद्वानों के अनुसार वह लोकतन्त्र की आधारशिला है। रूसो के राजनीतिक विचारों में सामान्य इच्छा' का विचार सबसे मौलिक है यद्यपि उसके सम्बन्ध में वह स्वयम् स्पष्ट नहीं है। रूसों के अनुसार प्रारम्भिक समझौते के लिए समाज के समस्त सदस्यों का एक मत होना आवश्यक है, किन्तु बाद में सामान्य इच्छा के अनुसार ही शासन का कार्य होता है। रूसो की सामान्य इच्छा के सन्दर्भ में जोन्स महोदय का कथन उल्लेखनीय है-सामान्य इच्छा का विचार रूसों के सिद्धान्त का न केवल सबसे अधिक केन्द्रिय विचार है, अपितु यह उसका सबसे अधिक और मौलिक व रोचक विचार है। ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह राजनीतिक सिद्धान्त के क्षेत्र में सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण देन है। इसकी उपयोगिता का आधार इसी आधार पर लगाया जा सकता है कांट, हीगल, ग्रीन और बोसांके आदि अंग्रेजी दार्शनिकों की विचारधारा भी इसी पर आधारित थी। रूसो ने अपने सामन्य इच्छा के सन्दर्भ

राज्य की उत्पत्ति के विकासवादी सिद्धांत

राज्य की उत्पत्ति के विकासवादी सिद्धांत  राज्य की उत्पत्ति के ऐतिहासिक विकासवादी सिद्धांत राज्य की उत्पत्ति के सम्बन्ध में अनेक सिद्धान्त प्रचलित हैं। परन्तु गंभीर विवेचना से स्पष्ट होता है कि अन्य सभी सिद्धान्त गलत हैं और उन्होंने राज्य की उत्पत्ति की सही व्याख्या नहीं की है। इस सम्बन्ध में गार्नर का कहना ठीक है कि, "राज्य न तो ईश्वर की कृति है, न किसी उच्च शक्ति का परिणाम, न किसी प्रस्ताव या समझौते की सृष्टि है, न परिवार का विस्तारमात्र" अतः यह प्रश्न उठना स्वाभाविक है कि राज्य की उत्पत्ति का सबसे अच्छा सिद्धान्त कौन है। इस सम्बन्ध में यही कहा जा सकता है कि राज्य विकास का परिणाम है। इसका निर्माण मनुष्य की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए हुआ था और अच्छे जीवन के लिए अब भी चल रहा है। राज्य की उत्पत्ति का सबसे सही और वैज्ञानिक सिद्धान्त विकासवादी या ऐतिहासिक सिद्धान्त को ही कहा जा सकता है। इस सिद्धान्त के अनुसार राज्य की उत्पत्ति एक विकास का परिणाम है। यह विकास धीरे-धीरे क्रम: चलता रहता है। इसी विकास के परिणामस्वरूप राज्य ने वर्तमान का रूप धारण किया है। राज्य की उत्पत्ति और व

तुलनात्मक राजनीति का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth

तुलनात्मक राजनीति  का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth परिचय  राजनीति एक सर्वव्यापी गतिविधि है जो हमारे चारो तरफ हमको देखने को मिल जाती है। प्रारंभ से ही एक  राजनीति व्यवस्था की तुलना दूसरे राजनीति व्यवस्था से की जाती रही है।किसी एक राजनीतिक व्यवस्था की अन्य राजनीतिक व्यवस्था से तुलना करने  के तरीके को सामान्य तुलनात्मक पद्धति कहते है। वास्तव में तुलनात्मक राजनीति का अर्थ और लक्ष्य विभिन्न देशों के मध्य एक राजनीति समस्याओं विषमताओं समानताओं की जानकारी का अध्ययन करना है। इसे हम तुलनात्मक राजनीति कहते हैं। यह समस्या या वह विभिन्नताओं के मिश्रण का परिपेक्ष से विकास करने का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति हमारे समानताओं और विभिन्नताओं का अध्ययन करता है  और उसके द्वारा राज्य के विकास का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति सिद्धांत यह स्पष्ट करता है कि विश्व की सरकार और उनकी क्या परिस्थितियां हैं किस प्रकार से उनका प्रचलन हो रहा है किस प्रकार से सरकारें चल रही हैं। इसके अंतर्गत जो अध्ययन करते हैं पहला राज्य के कार्य दूसरा संगठन, नीति, दबाव समूह का अध्ययन होता है।  अर्थ और