सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आर्थिक संस्था क्या है

आर्थिक संस्था क्या है


आर्थिक संस्थायें (Economic Institutions)- प्रत्येक समाज का अपना पृथक भौतिक पर्यावरण होता है। वस्तुओं का उत्पादन भौगोलिक पर्यावरण पर निर्भर होता है, अत: प्रत्येक समाज की आर्थिक व्यवस्था उस पर्यावरण से निश्चित होती है, जिसमें वह निवास करता है। पारसन्स (Parsons) ने आर्थिक संस्थाओं को अनुकूलन की उपव्यवस्था के रूप में स्पष्ट किया है। जिन पद्धतियों, नियमों और कार्य प्रणालियों तथा प्रविधियों के द्वारा कोई समाज अपने भौतिक पर्यावरण के साथ अनुकूलन करता है अर्थात अपने अस्तित्व की रक्षा और जीवन के सुख और समृद्धि की वृद्धि करता है, उन्हीं का नाम अर्थव्यवस्था है। भोजन वस्त्र और आवास की मौलिक आवश्यकताओं की पूर्ति तथा सुविधा और आनन्द की वृद्धि से सम्बन्धित सामाजिक क्रियाओं और व्यवहारों की व्यवस्था को आर्थिक संस्था कहते हैं। मनुष्य की भौतिक आवश्यकताओं की पूर्ति के लिये सामाजिक व्यवस्था के अन्तर्गत जिन मानवीय क्रियाओं को स्वीकृति और मान्यता प्रदान की जाती है, उन समस्त नियमों और पद्धतियों के संकलन को हम आर्थिक संस्थायें कह सकते हैं। इस प्रकार आर्थिक संस्थाओं का सम्बन्ध वस्तुओं के उत्पादन, उपभोग, विनिमय और वितरण की पद्धतियों और व्यवस्थाओं से होता है। आर्थिक संस्था की परिभाषा : किंग्सले डेविस के अनुसार "किसी समाज में, चाहे वह आदिम हो अथवा सभ्य सीमित वस्तुओं के वितरण को नियन्त्रित करने वाले मूलभूत विचारों नियमों और स्थिति को हम आर्थिक संस्थायें कहते है।"

इस प्रकार मनुष्य की जो क्रियायें, आदर्श, प्रविधियाँ और विचार उसके भौतिक अस्तित्व और आर्थिक प्रगति से सम्बन्धित होती हैं उनकी समग्रता को आर्थिक संस्था के रूप मे परिभाषित किया जा सकता है। जोन्स ने आर्थिक संस्था की स्पष्ट परिभाषा करते हए लिखा है,

आर्थिक संस्था जीवन निर्वाह की आवश्यकताओं की सन्तुष्टि के लिए पर्यावरण के उपयोग से सम्बन्धित प्रविधियों विचारों तथा प्रथाओं की जटिलता है।"

संक्षेप में आर्थिक संस्था भौतिक आवश्यकताओं की सन्तुष्टि के उद्देश्य से विकसित प्रौद्योगिकी एवं आर्थिक क्रिया-कलापों की व्यवस्था है। आर्थिक संस्था का विकास:

टी.बी. बोटोमोर ने आर्थिक संस्था के विकास से सम्बन्धित दो आधारभूत तत्वों की व्याख्या की है। आर्थिक संस्था का प्रथम तत्व 'सम्पत्ति का विचार है और दूसरा श्रम विभाजन' । मानव जीवन के आदिकाल में श्रमविभाजन नहीं था और सभी मनुष्य अपनी मालिक आवश्यकताओं की सन्तुष्टि के लिए स्वयं प्रत्येक कार्य करते थे। जंगली जीवन होने के कारण निजी-संपत्ति का कोई विचार उत्पन्न नहीं हुआ था इमाइल दुर्खीम ने आर्थिक और समाजिक जीवन के विकास में 'श्रम विभाजन' को मूलभूत कारण बताया है। जैसे-जैसे मनुष्यों की संख्या बढ़ती गयी और एक ही स्थान पर रहने वाले लोग अपने अस्तित्व की रक्षा के लिए इधर-उधर फैलने लगे, वैसे-वैसे एक -एक मौलिक व्यवसाय उप-व्यवसायों में विभाजित हो गया और इस प्रकार श्रम विभजन और विशेषीकरण की प्रक्रिया तेज होती गयी। व्यक्तिगत भिन्नताओं के बढ़ने से व्यक्तियों में विशिष्टता आने लगी। व्यक्तिगत अथवा निजी सम्पत्ति का विचार विकसित होता गया और धीरे-धीरे आर्थिक संस्थाओं के स्वरूप जटिल होते गये। नवीन परिस्थितियों ने नवीन आर्थिक संस्थाओं को जन्म दिया।

आर्थिक अवस्था: कंद-मूल भोगी शिकारी जीवन - मनुष्य के प्रारम्भिक आर्थिक जीवन की अवस्था में किसी प्रकार का उत्पदन कार्य नहीं होता था। घुमक्कड़ जंगली जीवन में मनुष्य जंगल के फल-फूल इकट्ठा करके तथा शिकार करके अप उदर पूर्ति करता था। जंगल सबका था। अत: निजी सम्पत्ति का विचार भी नहीं था। श्रम विभाजन केवल लैंगिक आध र पर था। पुरूष प्राय:शिकार करते थे और स्त्रियाँ कंद-मूल आदि एकत्रित करती थीं। शिकार करने के यंत्र ही व्यक्ति की सम्पत्ति थी। चरवाहा जीवन : धीरे-धीरे मनुष्य ने दूध देने वाले पशुओं को मारने की अपेक्षा उन्हें पालना प्रारम्भ कर दिया, क्योंकि मारने से उनका प्रयोग एक दो बार के भोजन में किया जा सकता था, जबकि पालने से उनके दूध से भूख प्रतिदिन मिटाई जा सकती थी और संतान का भी उपयोग किया जा सकता था। पशु-पालन के आर्थिक स्तर पर निजी सम्पत्ति का विचार उत्पन्न हो गया। पशु स्वयं सम्पत्ति बन गया। पशुओं को बाँधने आदि से सम्बन्धित, दूध रखने तथा उसके द्वारा अन्य भोज्य वस्तुयें बनाने के लिए आवश्यक पात्रों तथा उपकरणों आदि का निर्माण होने लगा, जिसके कारण श्रम-विभाजन भी बढ़ गया। कुछ दस्तकारों अथवा शिल्पियों के कार्यों का विकास हो गया। कृषि जीवन-कार्यवाही अवस्था में मनुष्य निरन्तर घुमक्कड़ जीवन को छोड़ कर कुछ-कुछ स्थाई होने लगा था। पशुओं को हर समय लेकर घुमा नही जा सकता था। इसके पश्चात खेती का कार्य प्रारम्भ हो गया। अच्छी उपजाऊ भूमि पर मनुष्य ने खेती प्रारम्भ की। पहले छोटे-छोटे औजारों से और फिर हल-बैल आदि से। खेती उगाने में भी मनुष्य कुछ दिनों तक जमीन की निरन्तर देखभाल करनी पड़ती थी और फसल प्राप्त होने पर उसकी भी रक्षा करना पड़ती था। इस प्रकार खेती मनुष्य को स्थायी रूप से एक ही स्थान पर रहने के लिए बाध्य कर देती थी। इस प्रकार कृषि के आर्थिक स्तर पर निजी-सम्पत्ति का स्वरूप स्पष्ट हो गया। हल-बैल, पशु, भूमि और मकान आदि सम्पत्ति बन गये श्रम विभाजन का विकास हो गया। समाज में उनके व्यावसायिक कार्यों का विकास होने पर भी मुख्य रूप से जमीदार, किसान और दस्तकार, इन तीन वर्गों का विकास हो गया। सामन्तवादी अर्थव्यवस्था विकसित हो गयी। औद्योगिक जीवन : आज का आर्थिक जीवन औद्योगिक जीवन है। ज्ञान-विज्ञान का विकास होने से प्रौद्योगिकी में परिवर्तन हो गया और वस्तुओं के उत्पादन के लिये नवीन यंत्रों का आविष्कार हो गया। बड़े-बड़े कारखाने प्राकृतिक शक्तियों के उपयोग से चलने लगे। कारखानों म बड़े पैमाने पर उत्पादन होने लगा। श्रम-विभाजन और विशेषीकरण चरम सीमा पर पहुँच गया। पूजी औद्योगिक समाज-रचना का प्रमुख आधार है। अत: इस युग में पूँजीवादी अर्थव्य का विकास हो गया जिसमें निजी-सम्पत्ति आर्थिक जीवन का प्रमुख अंग बन गई। उत्पादनं साधनों पर पूंजीवादियों का प्रभुत्व हो गया और मार्क्स के अनुसार समाज पूंजीपति और श्रमित दो वर्गों में विभाजित हो गया। पूँजीवाद के साथ-साथ औद्योगिक विकास ने ही समाजवादी अर्थव्यवस्था को जन्म दिया है। इस समय पूँजीवाद और समाजवाद से सम्बन्धित अनेक आर्थ संस्थाओं का विकास हो गया है।

श्रम विभाजन: सामाजिक जीवन में अर्थव्यवस्था विशेष महत्व रखती है। भौतिक आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए मनुष्य विभिन्न प्रकार के कार्य करते हैं। प्रत्येक मनुष्य अपनी समस्त आवश्यकताओं को सन्तुष्ट करने के लिए स्वयं अकेला सभी वस्तुओ का उत्पादन नहीं कर सकता। भिन्न-भिन्न मानवीय आवश्यकताओं की सन्तुष्टि करने वाली वस्तुओं का उत्पादन भिन्न-भिन्न लोग करते हैं। प्रारम्भ में जब जनसंख्या कम थी और मनुष्यों के छोटे-छोटे समूह शिकार करके या कंद-मूल इकट्ठा करके अपना जीवन निर्वाह करते थे, तो भिन्न-भिन्न कार्यों को करने के लिए अलग-अलग लोगों की व्यवस्था नही थी। सारा समूह एक ही प्रकार की अथवा सब प्रकार की क्रियाओं में संलग्न रहता था। किन्तु जनसंख्या का आकार और घनत्व बढ़ने से धीरे-धीरे कार्यों का भी विभाजन होने लगा और भिन्न-भिन्न व्यक्ति अपनी रूचि और योग्यता के अनुसार अथवा अपनी आवश्यकता के अनुसार भिन्न-भिन्न प्रकार के व्यवसायों को अपनाने लगे। समाज में श्रम का विभाजन होने लगा। श्रम विभाजन आर्थिक क्रिया का अत्यन्त महत्वपूर्ण तत्व बन गया। आधुनिक समाज में श्रम का अत्यधिक विभाजन हो गया। एक ही कार्य को निरन्तर करते रहने से व्यक्तियों में आर्थिक क्रिया का विशेषीकरण बढ़ गया। समाजशास्त्र में श्रम विभाजन की बुद्धि समाजशास्त्रीय व्याख्या करने वाला प्रथम विद्वान इमाईल दुर्खीम था। जिसने अपने शोध ग्रन्थ 'समाज में श्रम विभाजन ' पर डाक्ट्रेट की डिग्री प्राप्त ही थी। दुर्खीम के विचार से आदिम समाज से आधुनिक समाज तक जो भी विकास हुआ, वह निरन्तर बढ़ते हुए श्रम विभाजन का ही परिणाम है।

सम्पत्ति (Property) समाज में होने वाले अधिकांश व्यक्तिगत संघर्ष का मूल कारण सम्पत्ति को माना जाता है। यदि श्रम-विभाजन आर्थिक वस्तुओं के उत्पादन से सम्बन्धित तथ्य है तो सम्पत्ति आर्थिक वस्तुओं के वितरण से सम्बन्धित है। श्रम-विभाजन का विकास वस्तुओं के विनिमय को आवश्यक बना देता है। इस विनिमय की प्रक्रिया में सभी को समानता प्राप्त नहीं होती है। वस्तुओं की कमी होती है। व्यक्ति अधिक प्राप्त करना चाहता है। इस दशा में मनुष्यों के स्वार्थ परस्पर टकराते हैं। इस टकराव को रोकने की दृष्टि से प्रत्येक समाज में वस्तुओं के वितरण के सम्बन्ध में उन पर अधिकार के सम्बन्ध में कुछ नैतिक नियमों की पारस्परिक सहनशीलता की व्यवस्था की जाती है।आर्थिक संस्था ऐसी वस्तुओं के वितरण से सम्बन्धित नियमों और स्थितियों की व्याख्या करती है,जो कम होती है। सम्पत्ति के उपार्जन, वितरण और अधिकारों की व्यवस्था करना आर्थिक संस्था का मुख्य कार्य है। हॉवहाउस के अनुसार सम्पत्ति को वस्तुओं पर मनुष्य के नियन्त्रण के आधार पर समझा जाना चाहिए। नियन्त्रण जिसे समाज स्वीकृति प्रदान करता है, जो किसी सीमा तक स्थायी होता है। डेविस ने संपत्ति की अधिक स्पष्ट परिभाषा करते हुए लिखा है, अपने स्थायी पक्ष में सम्पत्ति अनिवार्यतः: एक वितरण की व्यवस्था है। इसमें किसी अभावपूर्ण वस्तु के सम्बन्ध में अन्य सभी व्यक्तियों और समूहों के विरूद्ध किसी एक व्यक्ति या समूह (स्वामी) के अधिकार और कर्तव्य निहित होते हैं।

टिप्पणियां

टिप्पणी पोस्ट करें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

तुलनात्मक राजनीति का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth

तुलनात्मक राजनीति  का महत्व,अर्थ | Tulnatmak Rajneeti Mahattav Arth परिचय  राजनीति एक सर्वव्यापी गतिविधि है जो हमारे चारो तरफ हमको देखने को मिल जाती है। प्रारंभ से ही एक  राजनीति व्यवस्था की तुलना दूसरे राजनीति व्यवस्था से की जाती रही है।किसी एक राजनीतिक व्यवस्था की अन्य राजनीतिक व्यवस्था से तुलना करने  के तरीके को सामान्य तुलनात्मक पद्धति कहते है। वास्तव में तुलनात्मक राजनीति का अर्थ और लक्ष्य विभिन्न देशों के मध्य एक राजनीति समस्याओं विषमताओं समानताओं की जानकारी का अध्ययन करना है। इसे हम तुलनात्मक राजनीति कहते हैं। यह समस्या या वह विभिन्नताओं के मिश्रण का परिपेक्ष से विकास करने का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति हमारे समानताओं और विभिन्नताओं का अध्ययन करता है  और उसके द्वारा राज्य के विकास का कार्य करता है। तुलनात्मक राजनीति सिद्धांत यह स्पष्ट करता है कि विश्व की सरकार और उनकी क्या परिस्थितियां हैं किस प्रकार से उनका प्रचलन हो रहा है किस प्रकार से सरकारें चल रही हैं। इसके अंतर्गत जो अध्ययन करते हैं पहला राज्य के कार्य दूसरा संगठन, नीति, दबाव समूह का अध्ययन होता है।  अर्थ और

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना

रूसो के 'सामान्य इच्छा' सिद्धांत की विवेचना  रूसो का सामान्य इच्छा सिद्धान्त अवधारणा रूसो की 'सामान्य इच्छा सम्बन्धी सिद्धान्त अथवा अवधारणा आधुनिक राजनीतिक चिन्तन में एक महत्त्वपूर्ण देन है। कुछ विद्वानों के अनुसार वह लोकतन्त्र की आधारशिला है। रूसो के राजनीतिक विचारों में सामान्य इच्छा' का विचार सबसे मौलिक है यद्यपि उसके सम्बन्ध में वह स्वयम् स्पष्ट नहीं है। रूसों के अनुसार प्रारम्भिक समझौते के लिए समाज के समस्त सदस्यों का एक मत होना आवश्यक है, किन्तु बाद में सामान्य इच्छा के अनुसार ही शासन का कार्य होता है। रूसो की सामान्य इच्छा के सन्दर्भ में जोन्स महोदय का कथन उल्लेखनीय है-सामान्य इच्छा का विचार रूसों के सिद्धान्त का न केवल सबसे अधिक केन्द्रिय विचार है, अपितु यह उसका सबसे अधिक और मौलिक व रोचक विचार है। ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह राजनीतिक सिद्धान्त के क्षेत्र में सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण देन है। इसकी उपयोगिता का आधार इसी आधार पर लगाया जा सकता है कांट, हीगल, ग्रीन और बोसांके आदि अंग्रेजी दार्शनिकों की विचारधारा भी इसी पर आधारित थी। रूसो ने अपने सामन्य इच्छा के सन्दर्भ

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam 1857 के महान विद्रोह (1857 के भारतीय विद्रोह, 1857 के महान विद्रोह, महान विद्रोह, भारतीय सेप्पी विद्रोह) को ब्रिटिश शासन के खिलाफ भारत का स्वतंत्रता संग्राम माना जाता है। 1857 आंदोलन एक राष्ट्रीय उभर रहा था, जो भारतीयों के दिल में एक मजबूत आग्रह से प्रेरित था, जिससे देश मुक्त हो गया। यह ब्रिटिश शासन की स्थापना के बाद भारत के इतिहास में सबसे उल्लेखनीय एकल घटना थी। यह भारत में सदी के पुराने ब्रिटिश शासन का नतीजा था। भारतीयों के पिछले विद्रोहों की तुलना में, 1857 का महान विद्रोह एक बड़ा आयाम था और यह समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों की भागीदारी के साथ लगभग अखिल भारतीय चरित्र ग्रहण करता था। यह विद्रोह कंपनी के सिपाही द्वारा शुरू किया गया था। इसलिए इसे आमतौर पर 'सेप्पी विद्रोह' कहा जाता है। लेकिन यह सिर्फ सिपाही का विद्रोह नहीं था। इतिहासकारों ने महसूस किया है कि यह एक महान विद्रोह था और इसे सिर्फ एक सिपाही विद्रोह कहने के लिए अनुचित होगा। हमारे इतिहासकार अब इसे विभिन्न ना