सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

नेपोलियन फ्रांसीसी क्रांति का शिशु था ?

 नेपोलियन फ्रांसीसी क्रांति का शिशु था ?


अथवा 'नेपोलियन बोनापार्ट ने फ्रांसीसी क्रांति का पुत्र माना जाता है। इस कथन की कारण सहित विवेचना कीजिए। उत्तर- नेपोलियन क्रांति पुत्र अथवा उसका विनाशक नेपोलियन ने एक बार कहा था कि “मैं ही क्रान्ति हूँ" (I am the revolution) तथा दूसरे अवसर पर पुनः उसने कहा था कि “मैंने उसे नष्ट कर दिया।" I have destroyed it)। यदि उसके कार्यों का मूल्यांकन किया जाय तो उसकी दोनों बातें सत्य प्रतीत होती हैं। वह क्रान्ति की उपज क्रान्ति का पुत्र था। साथ ही वह क्रान्ति विरोधी भी था, प्रतिक्रान्ति का प्रतीक था तथा क्रांति के विरुद्ध होने वाली प्रतिक्रिया का वास्तविक उत्तराधिकारी था। स्वतन्त्रता, समानता तथा बन्धुत्त्व फ्रांसीसी क्रांति के ये तीन प्रमुख नारे थे। इनमें से नेपोलियन सीमित अर्थ में केवल 'समानता' का प्रतीक था वह एक साधारण परिवार में पैदा हुआ था। यदि क्रांति नहीं हुई रहती, समानता के सिद्धान्त का प्रतिपादन नहीं हुआ रहता, फ्रांस में सामंती पद्धति ही प्रचलित रहती तो सभी योग्यताओं के बावजूद भी नेपोलियन उस पद पर नहीं पहुँचता जिस पद पर (सम्राट के पद पर) वह 1804 में पहुँच गया था। उसका यह दावा था कि "मैंने फ्रांस के राजमुकुट को धूल में पड़ा हुआ पाया और तलवार की नोक से उठाकर अपने सिर पर रख लिया।" बिल्कुल ठीक था। वास्तविकता भी यही है कि वह सम्राट इसलिए नहीं बन सका कि वह किसी सम्राट का पुत्र था अथवा ऐसे किसी परिवार में पैदा हुआ था, वरन् वह सम्राट इसलिए बन गया था कि उसमें योग्यता थी और सबसे बड़ा सुअवसर यह कि फ्रांस में 'समानता' कायम हो चुकी थी। वह समानता के सिद्धान्त का ज्वलंत प्रतीक था और इस दृष्टिकोण से उसे क्रान्ति पुत्र कहा जा सकता है। लेकिन साथ ही उसके प्रति क्रांतिकारी या क्रांति को नष्ट करने वाला भी कहा जाता है। 'समानता' के अलावा फ्रांसीसी क्रांति के दो और नारे थे-स्वतन्त्रता या बन्धुत्त्व और नेपोलियन इन दोनों सिद्धान्तों का हनन किया। उसने अपनी स्थिति को सुदृढ़ करने के लिए सभी को राजनीतिक स्वतन्त्रता से वंचित कर दिया। समाचार पत्रों पर तरह-तरह के प्रतिबन्ध लगाए गए, विरोधियों को बिना उन पर मुकदमा चलाए जेल में बन्द कर दिया गया, तथा जनता को अभी तक जो स्वतन्त्रता प्राप्त थी वह सब छीन ली गयी। इस स्वतन्त्रता के नाम पर फ्रांस में कितने ही व्यक्तियों का खून हुआ। कांस्युलेट के समय जो संविधान बनाने में वैयक्तिक स्वतन्त्रता को बड़ी खूबी के साथ समाप्त किया गया। वह स्वयं कहा करता था कि फ्रांस के लोगों ने स्वतन्त्रता से अधिक समानता को महत्त दिया है। अपनी विदेश नीति के फलस्वरूप उसने फ्रांस का गौरव बढ़ाया और देश के अन्दर शान्ति और व्यवस्था स्थापित की। जनता ये ही दोनों बातें चाहती थी। इसीलिए उसके स्वतन्त्रता छीनने के अधिकार को क्षमा कर दिया गया। अपने को 'क्रान्तिपुत्र' कहने वाले नेपोलियन ने मानवाधिकार की घोषणा की एक प्रमुख धारा को नष्ट करने में किसी प्रकार का संकोच नहीं किया। 1810 के लगभग उसने फ्रांस को एक पुलिस राज्य का स्वरूप दे दिया था। उस समय एक कानून लागू किया जिसके अनुसार राज्य परिषद् के आदेश पर किसी भी व्यक्ति को बिना मुकदमा चलाए जेल में बंद किया जा सकता था। थामसन के अनुसार यह पुरातन व्यवस्था के 'लातरे द लाशे' को फिर से चालू करने के समान था उसने दो सेंसर नियुक्त किए जिनकी पूर्व स्वीकृति के बिना फ्रांस में किसी भी पुस्तक का प्रकाशन, नाट्यशाला में अभिनय, पुस्तकों तथा समाचार-पत्रों का मुद्रण नहीं हो सकता था। पुरातन व्यवस्था के अन्तर्गत फ्रांस में स्वायत्त शासन के स्थानीय शासकों का सर्वथा अभाव था सारे देश पर केन्द्रीय सरकार का पूर्ण नियन्त्रण था। क्रान्तिकारियों ने इस व्यवस्था को नष्ट कर दिया था और यह निश्चय किया था कि प्रान्तों, जिलों तथा कम्यूनों के अधिकारियों का निर्वाचन जनता करे। किन्तु स्वतन्त्रतावादी नेपोलियन ने इस व्यवस्था का अन्त कर दिया और राज्य के सभी अधिकारियों की नियुक्ति कौंसल तथा बाद में सम्राट द्वारा होने लगी। सारा अधिकार एक व्यक्ति में केन्द्रित हो गया। सम्राट के रूप में जिस दिन नेपोलियन का राज्याभिषेक हुआ उस दिन को पेरिस की दीवारों पर एक पोस्टर छपा मिला जिसमें लिखा था, "फ्रांसीसी क्रान्ति का अन्तिम प्रतिनिधित्त्व निर्धन कोर्सिवान परिवार के लिए।" नेपोलियन के इस दावे पर कि वह क्रान्ति का सच्चा उत्तराधिकारी था, यह सबसे अच्छी टिप्पणी थी। नेपोलियन एक निरंकुश शासक था। वस्तु: जनता की 'सार्वभौम सत्ता' तथा 'सामान्य इच्छा के सिद्धान्तों में नेपोलियन का कतई विश्वास नहीं था। इन सम्बन्धों में उसकी धारणा ही भिन्न थी। वह जनता की सार्वभौमिकता की दुहाई अवश्य देता था, लेकिन वह यह मानता था कि सार्वभौमिकता वाल्टेयर के ईश्वर के समान है। सम्राट बनकर नेपोलियन ने क्रान्ति की अन्त्येष्टि ही कर डाली। फ्रांस में गणराज्य की स्थापना क्रान्ति की बहुत बड़ी सफलता थी और इस महान् सफलता का नेपोलियन ने अपनी महत्त्वाकाँक्षा की पूर्ति के लिए सफाया कर डाला। क्या रॉसपियर और दांते जैसे देशभक्तों ने इसलिए अपनी जान दे दी थी कि कोर्सिका का यह नवयुवक गणराज्य का अन्त कर बू्बो राजवंश के स्थान पर अपना राजवंश काम करेगा। इस दृष्टि से नेपोलियन घोर प्रतिक्रियावादी था। विश्व बन्धुत्त्व क्रान्ति का तीसरा सिद्धान्त था। क्रान्ति के आरम्भ में ही कहा गया था कि

"फ्रांसीसी राष्ट्र प्रादेशिक लाभों के लिए युद्ध का सहारा लेने के सिद्धान्त का परित्याग करता है और संसार के सभी लोगों के साथ भाई-चारे के सिद्धान्त पर आधारित जीवन बसर करने का ऐलान करता है।" लेकिन नेपोलियन ने क्या किया जब तक फ्रांस का अधिपति रहा, यूरोप को युद्ध में फसाये रहा। वेस्टफेलिया की संधि के पश्चात् यूरोप में इस सिद्धान्त को मान्यता मिल गई थी कि कोई भी राज्य किसी दूसरे सार्वभौमिक राज्य के मामले में हस्तक्षेप नहीं करेगा (यद्यपि नेपोलियन से पहले ही शुरू किए जा चुके थे लेकिन ये कारण नहीं थे-क्रान्ति को सुरक्षित रखने के लिए ये आवश्यक थे। युद्ध शुरू करने की जिम्मेदारी हम क्रांतिकारियों पर नहीं मढ़ सकते)। फ्रांस की जनता अपने राजा की हत्या कर रही थी, अपनी शासन पद्धति बदल रही थी, इसमें आस्ट्रिया के सम्राट को हस्तक्षेप करने का क्या अधिकार था। फिलनिप्स की घोषणा या बुन्सविक के ड्यूक की घोषणा किसी भी राष्ट्र को उत्तेजित कर सकते थे। यदि फ्रांस की क्रांति से यूरोप के निरंकुशतन्त्र को भय था तो उसके विरोध में उपाय करने का उन्हें पूरा अधिकार था लेकिन अपनी सीमाओं के अन्दर ही बाहर नहीं। नेपोलियन द्वारा किया जाने वाला युद्ध प्रथमतः साम्राज्यवादी था जिसका उद्देश्य लुई चौदहवें की नीति का अनुसरण करके फ्रांस को एक प्राकृतिक सीमा प्रदान करना था।

द्वितीयतः

यह नेपोलियन की गलत महत्त्वाकाँक्षा का परिणाम भी था वह विश्व-विजयी बनने का स्वंसे भी देखा करता था तथा आधुनिक युग का सीजर व सिकन्दर बनना चाहता था। 18020में नेपोलियन ने कहा था "फ्रांस या तो यूरोप का सर्वश्रेष्ठ देश बनेगा अथवा धूल में मिल जायेह। मैं तभी तक शान्ति बनाये रखें जब तक मेरे पड़ोसी शान्ति बनाये रखेंगे परन्तु मुझे विश्वास है कि शस्त्रों पर जंग लगने के पहले ही वह मुझे उन्हें धारण करने के लिए विवश करेंगे। पुरे राजतंत्र एवं नवीन गणतंत्र में सदा संघर्ष चलता रहेगा। इन परिस्थितियों में मेरे लिए सभी संधि युद्ध विराम का समझौता मात्र है। मेरा विश्वास है कि इस पद से मैं सदा संघर्ष करता रहूंगा।" नेपोलियन के मन में स्थायी अथवा स्थिर शान्ति का विचार कभी आया ही नहीं। यद्यपि कि जहां-जहां नेपोलियन ने अपना अधिकार किया वहां सुधार भी किया गया जिससे यूरोप की जनता को कुछ लाभ हुआ। सामन्ती प्रथा का अन्त, तथा अर्द्धदासों का उद्धार किया गया। इन स्थानों पर नेपोलियन का स्वागत मुक्तिदाता के रूप में हुआ। इन सबके बावजूद भी जनता की भावनाओं तथा क्रान्ति के सिद्धान्तों को कुचला गया। समानता के सिद्धान्त का भी अक्षरशः पालन नहीं किया गया। अपने ही परिवार के अयोग्य व्यक्तियों को ऊंचे-ऊंचे पद दिए गए। उसके भाई राजा बने तथा बहनें रानी। विधान-संहिता में उसने पूंजीपतियों और सर्वहारा मजदूर वर्ग की स्थिति में विभेद किया। उसने अपने पुराने सेनापतियों, साथियों तथा सगे सम्बन्धियों को उच्च पदों पर नियुक्त किया। गणराज्य के सेनापति मार्शल बना दिए गए। महलों को सुन्दर चित्रों, मूर्तियों तथा विदेशों से प्राप्त कलाकृतियों से सजाया गया। दरबार में उपस्थित रहने वाले अधिकारियों तथा सेवकों को सुन्दर पोशाकें पहनने के लिए प्रोत्साहित किया गया। इस प्रकार उसने जीवों वंश का ऐश्वर्य और वैभव पुनः स्थापित करने का प्रयत्न किया। इस सन्दर्भ में ग्रांट एवं टेम्परेल ने ठीक ही लिखा है

"नेपोलियन क्रांति का शिशु था, परन्तु उसने उन आन्दोलनों और उद्देश्यों को जिससे उसका जन्म हुआ था उलट दिया था। वह क्रान्ति का पुत्र था परन्तु-ऐसा पुत्र जिसने अपनी माता (क्रान्ति) की हत्या कर दी थी।

इस प्रकार यह निष्कर्ष निकलता है कि सीमित अर्थ में नेपोलियन क्रान्ति की उपज था, लेकिन व्यापक अर्थ में वह एक बहुत बड़ा प्रतिक्रान्तिवादी या प्रतिक्रियावादी था। फिर भी यह तो मानना ही पड़ेगा कि उसने सामन्तवाद को एकदम नष्ट कर दिया, जनसाधारण में प्रतिभा और योग्यता के आधार पर पदों का आवंटन किया था, मध्यवर्ग को सामाजिक और नागरिक एकता प्रदान की थी। उसने किसानों से उन जमीनों को वापस नहीं लिया जो क्रान्ति के समय उन्हें कुलीनों से मिली । ये सारे कार्य उसने क्रान्ति के कार्यों को जीवित रखने के लिए ही किए थे। अतएव ये दोनों कथन कि नेपोलियन ने पुरातन व्यवस्था को संगठित किया तथा क्रान्ति को सुदृढ़ और सुरक्षित किया जो सत्य प्रतीत होता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam

1857 के विद्रोह का कारण, प्रकृति, महत्व, परिणाम 1857 ke Vidhroh ka karaan,prakriti,mahattv aur parinaam 1857 के महान विद्रोह (1857 के भारतीय विद्रोह, 1857 के महान विद्रोह, महान विद्रोह, भारतीय सेप्पी विद्रोह) को ब्रिटिश शासन के खिलाफ भारत का स्वतंत्रता संग्राम माना जाता है। 1857 आंदोलन एक राष्ट्रीय उभर रहा था, जो भारतीयों के दिल में एक मजबूत आग्रह से प्रेरित था, जिससे देश मुक्त हो गया। यह ब्रिटिश शासन की स्थापना के बाद भारत के इतिहास में सबसे उल्लेखनीय एकल घटना थी। यह भारत में सदी के पुराने ब्रिटिश शासन का नतीजा था। भारतीयों के पिछले विद्रोहों की तुलना में, 1857 का महान विद्रोह एक बड़ा आयाम था और यह समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों की भागीदारी के साथ लगभग अखिल भारतीय चरित्र ग्रहण करता था। यह विद्रोह कंपनी के सिपाही द्वारा शुरू किया गया था। इसलिए इसे आमतौर पर 'सेप्पी विद्रोह' कहा जाता है। लेकिन यह सिर्फ सिपाही का विद्रोह नहीं था। इतिहासकारों ने महसूस किया है कि यह एक महान विद्रोह था और इसे सिर्फ एक सिपाही विद्रोह कहने के लिए अनुचित होगा। हमारे इतिहासकार अब इसे विभिन्न ना

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने