सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

क्रमबद्ध भूगोल एवं प्रादेशिक भूगोल एक दूसरे के पूरक है ?

क्रमबद्ध भूगोल एवं प्रादेशिक भूगोल एक दूसरे के पूरक है ?

क्रमबद्ध एवं प्रादेशिक भूगोल वेड अंतर्सम्तर्य (Inter-relationship between Systematic and Regional Geography) भौगोलिक अध्ययन की क्रमबद्ध विधि और प्रादेशिक विधि परस्पर घनिष्ठ रूप से सम्बंधित तथा एक दूसरे की पूरक हैं। अधिकांश भौगोलिक अध्ययनों में दोनों ही विधियों प्रयुक्त होती हैं। भौगोलिक अध्ययन में तथ्यों के सम्मिश्र को कम जटिल समूहों में और अध्ययन क्षेत्र को छोटे छोटें समरूप उप क्षेत्रों (लघु क्षेत्रों) में विभक्त किया जाता है। इस प्रकार किसी सुसंगठित भौगोलिक अध्ययन में क्रमबद्ध और प्रादेशिक दोनों विधियों के पारस्परिक सम्बंध काफी महत्वपूर्ण होते हैं।

हेटनर का समर्थन करते हुए हार्टशोर्न ने क्रमबद्ध भूगोल तथा प्रादेशिक भूगोल के समन्वय को ही भौगोलिक की सर्वाधिक उपयुक्त विधि बताया है। उनके अनुसार क्रमबद्ध तथा प्रादेशिक भूगोल में केवल विषयों और प्रदेशों के चुनाव के तरीकों का ही अंतर है। एक बृहत प्रदेश के पूर्ण क्रमबद्ध अध्ययनों के योग में वे सभी तथ्य और सम्बंध समाहित होते हैं जो उसके प्रादेशिक भूगोल में अंतर्लिप्त होते हैं। क्रमबद्ध भूगोल में सम्पूर्ण अध्ययन क्षेत्र को एक पूर्ण इकाई मानकर उसके विभिन्र उसके विभिन्न तत्वों (विषयों) का अध्ययन किया जाता है। प्रादेशिक भूगोल में भी लगभग उन्हीं विषयों का अध्ययन किया जाता है किन्तु अंतर यह है कि इसमें इनका अध्ययन विभिन्न उपविभागों (उपक्षेत्रों या प्रदेशों) के अनुसार अलग-अलग किया जाता है। विश्व के क्रमबद्ध भूगोल के अन्तर्गत विश्व की स्थिति एवं विस्तार से आरम्भ करके उसकी संरचना, उच्चावच, अपवाह, जलवायु, मिट्टी एवं खनिज, प्राकृतिक वनस्पति, जीवजन्तु, कृषि, उद्योग, व्यापार, परिवहन, जनसंख्या तथा अधिवास का क्रमशः अध्ययन किया जाता है। विश्व के प्रादेशिक भूगोल के अन्तर्गत पहले-विश्व को समान विशेषताओं वाले प्रदेशो (यहाँ महाद्वीपों) में विभक्त किया जाता है और तदन्तर एक-एक प्रदेश (महाद्वीप) के विभिन्न भौगोलिक तत्वों (प्रकरणों) का अध्ययन किया जाता है यद्यपि इसमें प्रकरणों या उपादानों का वर्णन क्रमिक रूप में होना आवश्यक नहीं माना जाता है और उनके महत्व के अनुसार ऊपर-नीचे किया जा सकता है। इस प्रकार सभी उपक्षेत्रों का भौगोलिक अध्ययन पूरा हो जाने पर सम्पूर्ण विश्व का अध्ययन पूर्ण हो जाता है। इसी प्रकार प्रत्येक प्रदेश) के अध्ययन संपन्न हो जाने के पश्चात सम्पूर्ण अध्ययन क्षेत्र का भौगोलिक अध्ययन पूर्ण हो जाता है। अतः यह कहा जा सकता है कि क्रमबद्ध और प्रादेशिक भूगोल एक-दूसरे से भिन्न या प्रतियोगी नहीं बल्कि एक-दूसरे के पूरक और परस्पर घनिष्ठ रूप से सम्बंधित है। क्रमबद्ध भूगोल और प्रादेशिक भूगोल के अंतर्सम्बंध और अन्तर्निर्भरता को देखते हुए भूगोल को दो भाग में विभक्त करना उचित नहीं है। लेखराज सिंह (1972) के शब्दों में, अध्ययन क्षेत्र का जो भी विस्तार हो, हम दृश्य घटनाओं को असंगत जटिल समाकलन का विश्लेषण करते हैं जिसमें अत्यंत जटिल क्षेत्रीय विभेदशीलता होती है। इस दोहरी जटिलता को सुविधापूर्वक अध्ययन करने के लिए भूगोल में यह वांक्षनीय है कि विश्लेषण की दोनों विधियों को यथा आवश्यकता विभिन्न अंशों में प्रयोग किया जाय। जितना अधिक महत्व वर्गीकृत (क्रमबद्ध) विधि को दिया जाता है उतना ही कम प्रादेशिक विधि की आवश्यकता पड़ती है। क्रमबद्ध अध्ययन में जितनी अधिक जटिलता होती है, उसके सूक्ष्म स्तर के लिए प्रादेशिक विधि की उतनी ही अधिक आवश्यकता। भौगोलिक अध्ययनों को दो वर्गों में विभाजित नहीं किया जा सकता है क्योंकि दोनों में अटूट निरन्तरता होती है, जिसमें प्रारंभिक स्तर पर वर्गीकृत अध्ययन तथा समाकलन के उच्चतर स्तर पर प्रादेशिक अध्ययन की यथा आवश्यकता पर बल दिया जाता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त

 राज्य की उत्पत्ति के सामाजिक समझौता सिद्धान्त   राज्य की उत्पत्ति संबंधित सामाजिक समझौते के सिद्धांत का प्रतिपादन सत्रहवीं एवं अठराहवीं शताब्दी में हुआ। इस सिद्धांत पर विश्वास करने वाले विचारकों का यह मानना है कि राज्य एक मनुष्यकृत संस्था है और समझौते का परिणाम है। इस विद्वानों का कहना है कि राज्य की उत्पत्ति के पूर्व की अवस्था को अराजक अवस्था या प्राकृतिक अवस्था कहा जायेगा। इस अवस्था में मनुष्य को कुछ ऐसी दिक्कतें हुई। जिनके कारण उसे राज्य का निर्माण करना पड़ा। विभिन्न कठिनाइयों के कारण ही लोगों ने आपस में समझौता कर राज्य की स्थापना की और अपने प्राकृतिक-अधिकारों का तयाग कर राज्य द्वारा रक्षित नागरिक अधिकारों को प्राप्त किया। इसी को राज्य की उत्पत्ति का सामाजिक समझौता -सिद्धान्त कहते हैं। राज्य को समाज के उन व्यक्तियों द्वारा किये गये समझौते का परिणाम मानता है, जो उन संगठन निर्माण के पूर्व सब प्रकार के राजनीतिक नियंत्रण से पूर्णतः मुक्त थे।" सामाजिक समझौते सिद्धांत की व्याख्या-सामाजिक समझौते के सिद्धांत का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है। इस सिद्धांत का प्रतिपादन सबसे पहले भारतवास

मानव एवं पशु समाज में अन्तर

मानव एवं पशु समाज में अन्तर  सृष्टि में मानव ही एक ऐसा जैविकीय प्राणी है, जिसमें अनेकों ऐसी विशेषताएँ हैं जिसकी सहायता से उसे एक विकसित संस्कृति का निर्माण किया। इसके विपरीत पशु एकजैविकीय प्राणी हेर्ने के बावजूद मानवों से सर्वचा भिन्न है। यह भिन्नता चाहे शारीरिक हो अथवा वैद्धिक। अब यहाँ मानव एवं पशु की शारीरिक भिन्नताओं का वर्णन करना समीचीन लगता है। मानव तथा पशु समाज में जैविकीय अन्तर- (1) मस्तिष्क का विकास-मानव और पशु के मस्तिष्क में बड़ा अन्तर पाया जाता है। मनुष्य का मस्तिष्क जहाँ पूर्ण विकसित होता है, वहीं पशु का मस्तिष्क बहुत छोय होता है। मनुष्य के मस्तिष्क में लगभग 19 अरव नाड़ियों के सिरे प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े होते हैं, जिनकी सहायता से मनुष्य विभिन्न कार्यों एवं व्यवहारों को सम्पादित करता है। इसी विकसित मस्तिष्क की सहायता से मनुष्य ने एक विकसित संस्कृति को जन्म दिया। (2) सीधे खड़े होने की क्षमता-मनुष्य अपने पैरों के बल सीधे खड़ा हो सकता है,जबकि पशु खड़ी मुद्रा में नहीं आ सकता। इस प्रकार मनुष्य अपने स्वतंत्र हाथों से कोई भी कार्य कर सकता है, जबकि पशु को अपने

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण

लॉक के प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त का आलोचनात्मक परीक्षण  जान लॉक का प्राकृतिक अधिकार सिद्धान्त सत्रहवीं व अठारहवीं शताब्दी में प्राकृतिक अधिकारों का सिद्धांत अत्यन्त प्रचलित था। सामाजिक संविदा सिद्धान्त के प्रवर्तकों ने यह विचार प्रस्तुत किया कुछ अधिकार राज्य के उद्भव अर्थात् उत्पत्ति के पहले विद्यमान थे अर्थात् ये मानव के पास प्राकृतिक अवस्था में भी मौजूद थे। इसी अधिकार को राजनीतिशास्त्र में प्राकृतिक अधिकार के नाम से सम्बोधित किया जाता है। इन प्राकृतिक अधिकारों का सृजनकर्ता राज्य नहीं था वरन् राज्य का जन्म इन अधिकारों के रक्षा के लिए हुआ है। राज्य का यह दायित्त्व है इन अधिकारों को मान्यता प्रदान कर विधि अथवा कानून के रूप में परिवर्तित कर दे। लॉक ने अपने सामाजिक सम्विदा सिद्धान्त के अन्तर्गत जीवन स्वतंत्रता एवं सम्पत्ति सम्बन्धी अधिकार की श्रेणी में रखा है। ये अधिकार व्यक्ति के व्यक्तित्व में निहित होते हैं, ये सर्वव्यापक एवं असीम होते हैं। प्राकृतिक अधिकारों के प्रवल पोषक लॉक के अनुसार यदि राज्य की प्रकृति प्रदत्त अर्थात् प्रकृति के अधिकारों की रक्षा करने में सफल नहीं होता तो ऐसे